सांसों की डोर टूटने के बाद चिरनिद्रा में आलोक तोमर

कल तक जो सांसों सा था, आज वही सांसें बंद किए सोया है. आलोक जी की कुछ तस्वीरें मिली हैं. चिरनिद्रा में लीन. शोक-संतप्त परिजन. दूसरों के चुप रहने, लेटे रहने और शांत रहने को चुनौती देते रहने वाले, कुछ नया करने लिखने भिड़ने को उकसाते रहने वाले आलोक तोमर को चिरनिद्रा में देखकर स्वीकार कर पाना मुश्किल है. लेकिन कुछ कड़वे सत्य ऐसे होते हैं जिन्हें सबको मजबूरन या प्यार से, मानन ही पड़ता है. कुछ तस्वीरें यूं हैं.

 

आलोकजी

आलोकजी

आलोकजी

आलोकजी

आलोकजी

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “सांसों की डोर टूटने के बाद चिरनिद्रा में आलोक तोमर

  • एक निष्पक्ष आवाज खामोश हो गयी . प्रभु उनकी आत्मा को शांति दे , उनके परिवार और उनके चाहने वालो को इस दुख को सहने की क्षमता दे

    Reply
  • Ishwar Unkii Divangat aatma ko shanti pradan kare.
    Unke Pariwar ko aseem saahas pradan kare Dukh ki is vedna se ubarne ke liye..
    Shanti Shanti Shanti.

    Reply
  • Anand Bharti says:

    Alokji ke saath mera saath chhota tha. 1981-82 me hum delhi me milte rahe, phir jansatta ke samay mulaquat hoti rahi thi…lekin TIMES TRAINEE ke interview me hum delhi se mumbai saath gaye the…lekin pata nahi kaise hum dono ka hi chayan nahin ho paaya. Mujhe apna dukh nahin tha, alok tomar ka chayan nahin hona hairan kar gaya tha. Aaj ve nahin rahe lekin bahut saari yaaden hain jo unki kaamyabi batane ke liye kaafi hai. Unke honsle ko salaam…

    Reply
  • Anita Gautam says:

    आलोक जी का असमय जाना अत्यंत दुखद है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.