सुधीर चौधरी बोले- ‘नो नानसेंस कंटेंट’ है हमारी सफलता का राज

सुधीर चौधरी
सुधीर चौधरी
लाइव इंडिया न्यूज चैनल अगर टीआरपी के हिसाब से लगातार आगे बढ़ रहा है तो किस वजह से बढ़ रहा है. कैसा कंटेंट दिखाया जा रहा है इस चैनल पर. क्या रणनीति अपनाई है इस न्यूज चैनल ने. ऐस ही कुछ सवालों का जवाब पाने के लिए चैनल के सीईओ और एडिटर इन चीफ सुधीर चौधरी को भड़ास4मीडिया ने पकड़ा.

सुधीर ने साफगोई से सब कुछ बता दिया. उन्होंने बधाई स्वाकारी, टीआरपी चार्ट में चैनल को चार नंबर की कुर्सी पर बिठा पाने में सफल होने की, और जवाब में थैंक्यू के साथ कहा- बहुत मेहनत करते हैं हम लोग, यह सफलता किसी एक की नहीं बल्कि इसके लिए लाइव इंडिया की पूरी टीम बधाई की पात्र है.

पहला सवाल सुधीर से- लोग कह रहे हैं कि डीटीएच प्लेटफार्म को टैम वालों ने टीआरपी मीटर के दायरे में ला दिया है, इस कारण लाइव इंडिया को अचानक बहुत फायदा मिलने लगा? कितनी सच्चाई है इसमें??

जवाब में सुधीर कहते हैं- सारे बड़े खिलाड़ी पहले से ही डीटीएच प्लेटफार्म्स पर हैं. तो फायदा सिर्फ हमें कैसे मिलेगा, या तो सभी को मिलेगा या किसी को नहीं मिलेगा. हम बराबरी पर लड़ रहे हैं. फील्ड वही है. पिच वही है. अगर देखा जाए तो मुश्किल ज्यादा हम लोगों के सामने है क्योंकि हम लोग तो टाटा स्काई पर नहीं है, सन टीवी पर नहीं हैं, दूरदर्शन के सबसे बड़े नेटवर्क डीडी डायरेक्ट पर नहीं हैं. इन तीन नेटवर्क पर अगर हम लोग आ गए तो फिर नंबर दो की पोजीशन पर आने में भी देर नहीं लगेगा.

दूसरा सवाल था- किस तरह का कंटेंट दिखाकर आप सफल हो पा रहे हैं? टीआरपी चार्ट में लगातार सक्सेस होते रहने का राज क्या है?

सुधीर कहते हैं- मैं अपनी टीम के वरिष्ठों को सिर्फ एक बात ब्रीफ करता हूं, वह भी एक लाइन में- नो नानसेंस कंटेंट. बस, यही हम लोगों का नारा है. कुछ भी ऐसा मत दिखाओ जो लाजिकल न हो, साइंटिफिक न हो. भूत प्रेत दिखाओ लेकिन उसके पीछे एक सचेत दिमाग होना चाहिए, साइंटिफिक एप्रोच होना चाहिए. और ऐसा नहीं है कि अच्छे चैनल भूतप्रेत नहीं दिखाते. डिस्कवरी और नेशनल ज्योग्राफिक चैनल भी भूत प्रेत दिखाते हैं, पर उनका विजन व एप्रोच देखिए. आपको स्तरीय कार्यक्रम मिलेगा, इनफारमेटिव प्रोग्राम दिखेगा. पर कुछ न्यूज चैनलों ने भूतप्रेत से जुड़ी वाहियात किस्म की स्टोरीज दिखा के पूरे न्यूज चैनल जगत को बदनाम कर दिया. हम लोग ऐसा नहीं करते. धरती के विनाश की खबर दिखाइए लेकिन इनफारमेशन भी तो दीजिए, साइंस की खोजों से भी तो इसे कनेक्ट करिए, एक आशावादी नजरिया भी तो पेश करिए.

लोगों को डराना मकसद नहीं होना चाहिए. लोगों को किसी भी तरह से ब्लैकमेल किया जाना ठीक नहीं, वो चाहे इमोशनल हो या डराकर हो. लोगों को ज्यादा लाजिकल व इनफारमेटिव बनाने की कोशिश करना चाहिए. हम सबकी आंखों के सामने आब्जेक्ट सेम है. केवल देखने व दिखाने के तरीके अलग हैं, एप्रोच अलग हैं. डिस्कवरी का एप्रोच देखिए. आपको लगता है कि शानदार कार्यक्रम दिखा रहे हैं ये लोग. पर उसी विषय पर कोई घटिया चैनल प्रोग्राम बनाता है तो लोग टिककर नहीं देखते. ऐसा सिर्फ एप्रोच के कारण होता है. नानसेंस कंटेंट नहीं होना चाहिए. मैंने अपने साथियों से कह रखा है कि जो भी करो, ईमानदारी से करो और जबरदस्त होमवर्क करके करो.

आखिरी सवाल था- सुधीर चौधरी ने जमीन से शुरुआत की है और धीरे धीरे करके आज इस स्थिति में आ गए हैं कि उनकी टीवी इंडस्ट्री में अलग साख है. और ये जो सफलता है, उससे सुधीर चौधरी का ग्राफ काफी ऊंचा हो गया है. कुल कितने दिनों की यात्रा है आपकी मीडिया की?

सुधीर का जवाब- निजी यात्रा की बात करूं तो 17 साल से मीडिया इंडस्ट्री में हूं और लाइव इंडिया के यात्रा की बात करूं तो सिर्फ तीन साल में हम लोग टीआरपी चार्ट में शून्य से 10.3 तक पहुंचे हैं. मैंने वर्ष 2007 में जनमत चैनल ज्वाइन किया था जो डिस्कशन बेस्ड चैनल था. बाद में उस चैनल को बंद करके न्यूज बेस्ड चैनल लाइव इंडिया लांच किया. उसके पहले की बात करूं तो शुरुआत वर्ष 1994 से जी न्यूज से की. वहां 2002 तक रहा. असिस्टेंट एडिटर था. प्राइम टाइम नामक शो का एंकर था. उसके बाद वर्ष 2002 में सहारा में गया. सहारा समय लांच कराया. वर्ष 2004 में इंडिया टीवी आया. एक्जीक्यूटिव एडिटर था. रजत शर्मा के साथ ब्रेकिंग न्यूज नामक शो करता था. ये तीन घंटो का शो था.

Comments on “सुधीर चौधरी बोले- ‘नो नानसेंस कंटेंट’ है हमारी सफलता का राज

  • ek aur bat yashwant bhaiya.aap khud subah 8 se 9 dopahar me 2 se 3 aur rat me 11 se 12 zara sudhir sir ka channel dekh lijiye.pata chal jayega no nonsense kya hota hai? iske alawa aur samay bhi bhai sahan bhoot pishach ki patang udaate rahte hain.bas aap ek bar dekhiye aur agar sache yashwant ho to sach likh kar dikhaiye.sudhir jaise log patrakar aur patrakarita ke liye pap hain.[b][/b]

    Reply
  • SHAHID KHAN says:

    MANZIL UNHIN KO MILTI HAI ,JINKE IRAADO ME JAAN HOTI HAI,
    PANKHO SE KUCHH NAHI HOTA HAUSLE SE UDAN HOTI HAI !!
    SHIKHAR TAK PAHUNCHNE KE LIYE ,MERA SALAAM ……..

    Reply
  • rajkumar gautam says:

    Sir,it is shocking.live india always show all kind of bhoot-pret and editor is claiming it is no nonsense news. very ineresting.keep it up.

    Reply
  • कंटेंट शब्द तो अब रह ही नहीं गया है , सब जानते है की इस हमाम में सब ………… हैं तो सारा खेल सेटिंग और चेनल दिखने का है टी आर पि तो अपने आप आ जायगी , ;D

    Reply
  • निमिष कुमार says:

    सुधीर चौधरी जैसे जर्नलिस्ट को अब मौका मिला अपनी काबिलियत दिखाने का। वैसे सुधीरजी की जनमत जाने की कहानी बढ़ी दिलचस्प है। सबसे अच्छे से बात करना, हर नए आदमी को सम्मान देना, उसकी सुनना, और सफलता के बाद भी घमंड से दूर रहना, इसीलिए मिला ये ऑफर। वरना किस्मत किसी दूसरे चौधरी की चमकने वाली थी। उसे तो अब भी मालूम नहीं होगा कि उसने क्या खोया और सुधीर चौधरी ने क्या पाया।

    Reply
  • syed mohd sauban says:

    sudhir ji k show ne jo bulandiya haasil ki hai usse koi bhi inkar nahi kar sakta par no nonsense aisa to nahi hai kisi bhi channel me kuch ko chodh k …kyunki ki live india par bhi sher haathi ko marta hai….:D..par ye zaroor hai live india me jo kaam hota hai usi ke badaulat ….aj uski istithi achiii hoti ja rahi hai

    Reply
  • sanjay choudhary says:

    sudhir ji ,hmne appke sath sahra national,starting me rahul ji ke sath kam kiya hi….appka sath mujhe hmesha yad rahega……
    sanjay choudhary jabalpur m.p.

    Reply
  • parveen chauhan says:

    सुधीर जी को यहॉ तक पहंचाने में जिस टीम का साथ उन्होने लिया वो तो बात अलग है लेकिन उस टीम से काम लेने की कला सिर्फ सुधीर जी मे ही हो सकती है बस सुधीर जी एक बात जरुर कहना चाहुंगा आपके स्टिंगर भी आपके लिए ही उतनी महनत करते है उनके भविष्य के बारे में भी कुछ अलग सोचो ताकि अपका

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *