हिंदुस्‍तान के कैंपस सलेक्‍शन के दौरान आपस में भिड़े छात्र

माखनलाल चतुर्वेदी राष्‍ट्रीय पत्रकारिता विश्‍वविद्यालय में चल रहे हिंदुस्‍तान के कैंपस सलेक्‍शन के दौरान विवाद हो गया. इससे नाराज छात्रों ने वहां रखी कई कुर्सियों को तोड़ डाला. बाद में अध्‍यापकों के बीच बचाव करने तथा समझाने पर छात्र शांत हुए तथा दुबारा सलेक्‍शन शुरू हुआ. हालांकि इस मामले को लेकर छात्रों के गुटों में काफी देर तक तनाव बना रहा.

आज विश्‍वविद्यालय में हिंदुस्‍तान द्वारा कैंपस सलेक्‍श्‍ान आयोजित किया गया था. इसमें भाग लेने के लिए काफी संख्‍या में पत्रकारिता के छात्र भी मौजूद थे. इसी बीच कुछ छात्रों का समूह वहां पहुंचा तथा आरोप लगाने लगा कि उनलोगों को कैंपस सलेक्‍शन की जानकारी नहीं दी गई थी. कुछ छात्रों ने डिपार्टमेंट के अध्‍यापकों पर भी सिर्फ अपने चहेतों को इसकी जानकारी देने का आरोप लगाया.

इसी बीच छात्रों के दोनों गुटों के बीच विवाद बढ़ गया. हाथापाई की नौबत आ गई. कुछ छात्रों ने वहां पड़ी कुर्सियों तथा अन्‍य सामानों को तोड़फोड़ दिया. जिससे कुछ समय के लिए वहां अफरा-तफरी जैसी स्थिति पैदा हो गई. बाद में अध्‍यापकों के हस्‍तक्षेप के बाद छात्र शां‍त हुए तथा दुबारा से कैंपस सलेक्‍शन शुरू हो सका.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “हिंदुस्‍तान के कैंपस सलेक्‍शन के दौरान आपस में भिड़े छात्र

  • Rajesh Yadav says:

    अथ श्री कैंपस कथा

    नौकरी के लिए युवाओं का आपस में यूं लड़ जाना डार्विन के उस सिद्धांत की पुष्टि करता है जिसमें योग्यत्तम की उत्तरजीविता की बात कहीं गई थी। योग्य ही सफल होता है लेकिन इस विवि में ये सब आजकल कुछ ज्यादा हो रहा है जो डराने वाली बात लगती है। ये जानकर अच्छा लगा कि हिंदुस्तान जैसे ख्यात समाचार पत्र का कैंपस विवि में आया लेकिन इसके लिए आपस में छात्रों का यूं लड़ जाना बेहद गंभीर बात है। दरअसल विवि अपनी पुरानी पहचान खोता जा रहा है और ऐसा ही रहा तो वह दिन दूर नहीं जब यहां से पत्रकार कम नेता टाइप के लोग ज्यादा निकलेंगे। चलो हर बात के कुछ फायदे होते है , कम से कम राजनीति क्षेत्र की खबरों की कवरेज तो कर सकेंगे।

    राजेश यादव, पूर्व छात्र[b][/b][b][/b]:)

    Reply
  • "EK VIDROHI" says:

    Makhanlal Noida Campus ki ye kahani nayi nahin purani hai..
    Patrakarita me chatukarita baad me shuru hoti hai CAMPUS me pehle ho jati hai..
    fees k naam par 80,000 liye jaate hai or naukri k naam par 1 mahine ki enternship karake students ko chutiya banaya jata hai..
    50 students k batch me bamushkil 10 ki job lagti hai.. 20 bhatakte rehte hai or 20 profession change kar lete hai..
    mere kuch saathi english medium k the jo aaj tak is nirnay par aansoo bahate hai k Q unhone yahan 2 saal barbaad kiye.. ek bhi professor aisa nahin jise english (A,B.C.D) aati hai.. Student k english me sawal karne par weh aise react karte hai jaise unke paanv tale zameen khisak gayi ho.. or student ko puri tarah se neglect dete hai. isko lekar students k sawaal karne par jawab milta hai k hum mix padhayenge.. par hoti hai wahi rati-ratayi baasi klisht bojhil bhasha..
    Ijjat k naam par 100 baar dandwat pranaam karo toh wo student ka naam jaanne kI jehmat uthaye..
    journalism k naam par 2 saal tak patsikhaya k sidhant padhaye jate hai jinka practically koi use nahin..
    MAMC k students 2 saal electronic media k equipments talashate rehte hai par milta hai 10 saal purana toota phoota camera..
    Makhanlal ki sabse badhi trasadi ye hai k yahan se passout seniors apne juniors ki kisi tarah ki koi madad nahin karte. or ye maloom hone par k saamne wala student makhanlal ka hai usse nazare churate hai.. jabki IIMC me stithi iske ulat hai.. mere iimc k sathiyon ko apne seniors se mile athaah prem or sneh ko dekhkar kab kab irsha hoti hai..
    Campus me Jitna jaldi ho Hindi Journalism k alawa anya cources hata dene chahiye.. taaki english medium students apni zindagi ka keemti samay wahan Barbaad karne se bach jaye…
    “EK VIDROHI”

    Reply
  • आशुतोष शुक्ल says:

    यादव जी की शुरूआती लाइनों से सहमत हूं….. लेकिन आप जिस डरावना कह रहे है …उसकी आग बहुत पहले से हमारे सीने में जल रही थी …… आपको शायद पता होगा कि किस तरह से एम जे में चोरी छिपे प्लेसमेंट दिला दिया जाता है…वो भी विश्वविद्यालय के नाम पर ……लोग अब जान ले कि माखनलाल विश्वविद्यालय में एक दशक से जो दादागीरी चली आ रही थी अब उसका खात्मा हो चुका है …….

    जय हिंद

    Reply
  • rajput vidrohi says:

    khna tho bhout kuch chata hoon iss mare hue patkarita ke samaj ke bare me lakin khin ekbargi sochta hoon ki main bhi tho issi ka hisha hoon.mainne bade hi aarmanoo ke sath makhnlal ke noida campus me addmission liya tha.suru ke dino me mainne aapne aap ko puri trha se bhula kar patrkarita naam thik se aatmsaat kiya.suru ke 2 semster tho kafi aache gujre magar baad ke dono semster me college ke aandar jamkar rajniti hone lagi.college ke jyadatar programo me whan ke ek mhan prof… ne mujhse bhout kaam nikala.college ka aagar koi kaam na ho toh mujhe hi sabhi log yaad karte.magar jab college salaction ki baat aayi tho us mhan prof…ne aapne kuch chete student ko humehsa pramukhta di.main ek hindustani hone ke nate desh ke sabhi logo se pyar karta hoon.magar ek mhan state ke kuch mhan student whan mere guru banne ki firhak me the.magar wo sayad ye bhul gaye ki samandar me rhakar magarmach se bar nhi kiya ja sakta.dosto ek rochak baat yhe thi ki wo mhan prof…bhi usi mhan stat ke rhne wale hain.pure do saal wo mhan prof…aapne upar meri nukri lagane ka natik dabav hona khate rhe.magar anth me aakar unke chare se nakab utar gaya.khar me sabhi aapne jouniors ko ye khana chunga ki kisi ke dabav me na aate hue ache se sikhe thodi derr se hi sahi manjil sabhi ko miil jayegi.mari makhanlal univercity ke manegment se apil he ki wo baccho ke bhvishy ke sath khilwad hone ke khel ko jald se jald roke. warna wo din door nhi jab noida campus bhi aam college ki tarha gandi rajniti aur pith piche sadyantra rachne ki barikiyaan sikane ka aadda ban jayega.
    dosto chalte hue ek baat aur keh du…Manjil tho mil hi jayegi, bhatak kar ke hi sahi, gumrah tho wo hain, jo ghar se nikle hi nhi.
    makhanlal ke noida campus ke sabhi student ko mera pyar or un mhan prof…pandit ji ko bhi pe.. ke..yaar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *