झारखंड के ब्‍यूरो कार्यालयों से हटा दिए जाएंगे कम्‍प्‍यूटर ऑपरेटर

हिंदुस्‍तान प्रबंधन खर्च घटाने के नाम पर रोज-रोज नए फरमान जारी करता रहता है. नई खबर है कि झारखंड में अगले महीने से सभी ब्‍यूरो कार्यालयों से कंपोजिटरों को हटाने का आदेश दे दिया गया है. अमूमन हर अखबार के ब्‍यूरो कार्यालयों में रिपोर्टरों की खबरों को टाइप करने के लिए कंपोजिटर यानी कम्‍प्‍यूटर ऑपरेटर रखे जाते हैं, पर हिंदुस्‍तान अब इनको हटाकर अपना खर्च कम करने जा रहा है.

गुमराह करने वाले विज्ञापनों पर रोक के लिए नियामक ईकाई गठित करेगी सरकार!

गुमराह करने वाले विज्ञापनों को लेकर ग्राहकों की बढ़ती शिकायतों के मद्देनजर सरकार टेलीविजन, केबल तथा प्रिंट मीडिया पर आने वाले ऐसे प्रचार पर रोक लगाने के लिए नियामकीय इकाई गठित करने पर विचार कर रही है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हम गुमराह करने वाले विज्ञापनों पर अंकुश लगाने के लिए नियामकीय एजेंसी गठित करने पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं।

हिंदुस्‍तान से अमित कुमार का इस्‍तीफा, दो सीनियर रिपोर्टरों को लेकर उहापोह

हिंदुस्‍तान, रांची से खबर है कि क्राइम रिपोर्टर अमित कुमार से जबरदस्‍ती इस्‍तीफा ले लिया गया है. अमित की गलती बस इतनी थी कि उनसे क्राइम की एक खबर छूट गई थी. अमित की गिनती हिंदुस्‍तान के तेजतर्रार रिपोर्टरों में होती थी. अमित काफी समय से हिंदुस्‍तान को अपनी सेवाएं दे रहे थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने वाले हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. इसके पहले भी वे कई अखबारों में कार्यरत रहे हैं.

इंडिया टुडे से विदा हो गए ए‍सोसिएट एडिटर ओम सर्राफ

: आबिद मंसूरी ने प्रज्ञा से इस्‍तीफा दिया : नाराज नीरज सक्‍सेना अवकाश पर : ढाई दशक की लम्‍बी सेवा के बाद इंडिया टुडे से ओम सर्राफ विदा हो गए. वे एसोसिएट एडिटर के पद पर कार्यरत थे. ओम सर्राफ तीन साल पहले ही इंडिया टुडे से रिटायर हो चुके थे, परन्‍तु प्रबंधन ने इनके अनुभव तथा सेवाओं को देखते हुए इन्‍हें एक्‍सटेंशन दिया था.

हिंदुस्‍तान : रायबरेली के पत्रकार हड़ताल पर, सर्वेश को औरैया भेजा गया

हिंदुस्‍तान के वरिष्‍ठ लोग अपने यूनिटों में एक रोग का इलाज कर रहे हैं, तभी दूसरा रोग निकलकर सामने आ जा रहा है. कानपुर यूनिट को लेकर परेशान आला हाकिम इस यूनिट से जुड़े जिलों के दौरों पर हैं. हिंदुस्‍तान के कार्यकारी संपादक नवीन जोशी भी कानपुर में चार दिनों से कैंप करके समाचार संपादक अंशुमान तिवारी की जमकर क्‍लास ले रहे हैं, पर उनके लखनऊ यूनिट से जुड़े रायबरेली जिले में ही बवाल खड़ा हो गया है.

बिहार ही नहीं चार अन्‍य प्रदेशों में भी फैला है हिंदुस्‍तान का अवैध प्रकाशन और विज्ञापन फर्जीवाड़ा

मुंगेर। भारत में प्रजांतत्र है। भारतीय संविधान में कानून की नजर में सभी समान हैं, परन्तु संविधान की यह अवधारणा केवल कानून की कितबों तक ही सीमित है। उपलब्ध सरकारी दस्तावेज उजागर करते हैं कि मेसर्स हिन्दुस्तान टाइम्स लिमिटेड की प्रमुख शोभना भरतीया की कारपोरेट हस्ती के कारण केन्द्र सरकार का प्रेस रजिस्ट्रार और दृष्य एवं प्रचार निदेशालय (डीएवीपी) के कार्यालय के साथ-साथ बिहार का सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय का कार्यालय नपुंसक बनकर काम कर रहा है।

अमित चोपड़ा एवं शशि शेखर इटावा पहुंचे, कांशीराम आवासों की तरह चमकाए गए हिंदुस्‍तान के कार्यालय

यूपी की सीएम मायावती जब किसी जिले में निरीक्षण-परीक्षण करने जाती हैं तो अधिकारियों के हलक सूखे रहते हैं, जिस जगह पर उनका निरीक्षण कार्यक्रम होता है उन जगहों को रंग पोतपात के चमका-दमका दिया जाता है. ऐसा ही हाल हिंदुस्‍तान, कानपुर यूनिट का है. हिंदुस्‍तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड के सीईओ अमित चोपड़ा तथा हिंदुस्‍तान के प्रधान संपादक शशि शेखर कानपुर यूनिट से जुड़े जिलों के दौरे पर हैं और यहां के वरिष्‍ठों के गले सूखे हुए हैं.

सीटिंग प्‍लान बदलकर गलतियों को सुधारेगा हिंदुस्‍तान, बरेली

पिछले एक महीने से हिन्दुस्तान, बरेली ने गलतियां करने का रिकार्ड कायम कर दिया है। बरेली और उसके आसपास के जिला एडिशनों में प्रकाशित गलतियों के चलते हिन्दुस्तान की बहुत किरकिरी हुई। गलतियों की पुनरावृत्ति ना हो इसको लेकर हिन्दुस्‍तान के प्रभात नगर कार्यालय में मैराथन बैठक हुई। बैठक में गलतियों के सुधार को लेकर दिग्गजों के सुझाव आयें, लेकिन जिन्होंने गलतियां की उनको बचाने के पूरे प्रयास इस बैठक में हुए।

वरुण गांधी के समर्थकों ने पीलीभीत में हिंदुस्‍तान की होली जलाई

पीलीभीत में भाजपा सांसद वरुण गांधी के समर्थकों ने हिंदुस्‍तान अखबार की जमकर होली जलाई तथा सड़क जाम किया. उन्‍होंने अखबार विरोधी नारे लगाते हुए स्‍थानीय स्‍टाफ पर भ्रष्‍टाचार का भी आरोप लगाया. वरुण समर्थकों ने हिंदुस्‍तान अखबार की जमकर फजीहत और लानत मनानत की. इन्‍होंने अखबार के बहिष्‍कार का निर्णय भी लिया है.

हिंदुस्‍तान के कन्‍नौज कार्यालय में भिड़े ब्‍यूरोचीफ एवं असिस्‍टेंट मैनेजर

: ब्‍यूरोचीफ कानपुर अटैच किए गए : हिंदुस्‍तान, कन्‍नौज का कार्यालय तीन दिन पहले रणभूमि बन गया. इत्र नगरी में स्थित हिंदुस्‍तान के कार्यालय में ब्‍यूरोचीफ बृजेश श्रीवास्‍तव और असिस्‍टेंट सेल्‍स मैनेजर राजेन्‍द्र अवस्‍थी के बीच जमकर गाली-ग्‍लौज और धक्‍का मुक्‍की भी हुई. सूत्रों ने बताया कि ब्‍यूरो चीफ ने सेल्‍स के लोगों की खूब मां बहन की. इसके बाद नाराज असिस्‍टेंट मैनेजर ने इसकी सूचना वरिष्‍ठों को दी, जिसके बाद ब्‍यूरोचीफ को कानपुर अटैच कर दिया गया है.

कुलदीप ने महुआ न्‍यूज ज्‍वाइन किया, सुमित एवं सुधीर हिंदुस्‍तान से जुड़ेंगे

कशिश न्‍यूज, रांची से कुलदीप भारद्वाज ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर रिपोर्टर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी रांची में ही महुआ न्‍यूज के साथ शुरू की है. इन्‍हें यहां भी रिपोर्टर बनाया गया है. कुलदीप ने करियर की शुरुआत बीएजी के साथ की थी. इसके एसवन तथा एनएनआई होते हुए कशिश पहुंचे थे. बताया जा रहा है कि कुलदीप राजनीतिक बीट कवर करेंगे. उनका जाना कशिश के लिए झटका माना जा रहा है.

हिंदुस्‍तान, अलीगढ़ के चीफ रिपोर्टर बने सीपी सिंह, जागरण में ओपी सक्‍सेना का तबादला

हिंदुस्‍तान, बरेली से खबर है कि चीफ क्राइम रिपोर्टर सीपी सिंह का तबादला अलीगढ़ के लिए कर दिया गया है. उन्‍हें अलीगढ़ में सिटी चीफ बनाया गया है. मूल रूप से अलीगढ़ के रहने वाले सीपी सिंह ने यहीं से अपने करियर की शुरुआत अमर उजाला के साथ की थी. काफी समय तक यहां रहने के बाद वे दिल्‍ली में पब्लिक एशिया के एसोसिएट न्‍यूज एडिटर बन गए. 2003 में इन्‍होंने बरेली में दैनिक जागरण ज्‍वाइन कर लिया. बरेली में वे अमर उजाला को अपनी सेवाएं देने के बाद हिंदुस्‍तान से जुड़ गए थे. सीपी सिंह की पहचान एक तेज तर्रार क्राइम रिपोर्टर की है. हिंदुस्‍तान प्रबंधन ने उनकी कार्यक्षमता को देखते हुए ही यह नई जिम्‍मेदारी सौंपी है.

डीजीपी के बयान के बाद आर्थिक भ्रष्‍टाचार में लिप्‍त कारपोरेट मीडिया मालिकों की नींद उड़ी

मुंगेर। बिहार के पुलिस महानिदेशक अभयानंद के मुंगेर मुख्यालय पर 12 अक्‍टूबर को राज्य के आर्थिक अपराधियों के विरुद्ध एक पखवाड़ा में बड़ी मुहिम शुरू करने की घोषणा से पूरे राज्य के बड़े-बड़े मीडिया कारपोरेट सेक्टर के मालिकों और भ्रष्ट सरकारी पदाधिकारियों की गठजोड़ की नींद मानो उड़ सी गई है। इस बयान के बाद से अरबों-खरबों रुपये के सरकारी विज्ञापन प्रकाशन घोटाला में शामिल बिहार के प्रतिष्ठित अखबार दैनिक हिन्दुस्तान के मालिक और घोटाला में संलग्न सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय के वरिष्ठ अधिकारी परेशान हैं।

गलतियां करनी हिंदुस्‍तान, बरेली की आदत बनी, जागरण दे रहा कड़ी टक्‍कर

गलतियां करना इंसान की फितरत होती है. हर कोई गलती करता है. पर जब यह गलती आदत बन जाए तब स्थितियां दुखदाई हो जाती है. कुछ ऐसा ही हिंदुस्‍तान, बरेली में हो रहा है. अमूमन हर अखबार में गलतियां होती हैं क्‍योंकि वहां इंसान काम करते हैं. कभी मात्रा छूट जाता है तो कभी शब्‍द बदल जाते हैं, पर आजकल सभी अखबार इस तरह की गलतियां करने लगे हैं और हिंदुस्‍तान इस मामले में तेजी से इनका लीडर बनता जा रहा है.

हिंदुस्तान, बदायूं के एक खबर की हेडिंग देखिये

हिंदुस्‍तान वैसे तो लगातार ऐसे ऐसे कार्य करने के लिए जाना जाता है जिसे कोई नहीं कर पाता है. दशहरा पर भी हिंदुस्‍तान ने सदियों पुरानी परम्‍परा को बदलकर एक नए परम्‍परा का आगाज किया. अभी तक छोटी-मोटी गलतियों के लिए अपनी पहचान बनाने वाला अखबार अब बड़ी गलतियों से अपनी पहचान बनाने में जुटा है. और उसके इस कार्य को अंजाम दिया है हिंदुस्‍तान का बदायूं संस्‍करण.

आह! हिंदुस्‍तान : सक्‍सेस किसी की, फोटो किसी और का

यशवंतजी, हिंदुस्तान में इन दिनों बड़ी-बड़ी गल्तियां हो रही हैं, जैसे लोग नींद में काम कर रहे हों। 5 अक्तूबर 2011 को हिंदुस्तान के नई दिशाएं सप्लीमेंट में ऐसी ही एक गलती देखने को मिली। हुआ यों कि नई दिशाएं के पृष्ठ चार पर मोबाइल रिपेयरिंग पर एक अर्टिकल छपा। इसमें सक्सेस स्टोरी में जिस व्यक्ति की फोटो दिखती है, उसे मोबाइल मैकनिक बताया गया है। मगर सच्चाई यह है फोटा वाला व्यक्ति, एक वेब डिजाइनर है।

हिंदुस्‍तान से इस्‍तीफा देकर विवेक एवं राम प्रकाश राष्‍ट्रीय सहारा पहुंचे

हिंदुस्‍तान, औरैया से खबर है कि विवेक पोरवाल और राम प्रकाश शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. दोनों यहां पर रिपोर्टर थे तथा शुरुआत से ही जुड़े हुए थे. दोनों ने अपनी नई पारी औरैया में ही राष्‍ट्रीय सहारा के साथ शुरू की है. खबर है कि इन लोगों के तीसरे साथी विवेक विश्‍नोई भी छुट्टी पर चले गए हैं. इसके चलते औरैया कार्यालय की हालत काफी खराब हो गई है. बताया जा रहा है कि तीनों लोग औरैया के नए ब्‍यूरोचीफ अनिल शुक्‍ला के रवैये से खफा थे.

ईएमएस के यूपी हेड बने धीरेंद्र श्रीवास्‍तव, संजीव गौतम हिंदुस्‍तान, मथुरा के नए ब्‍यूरोचीफ

: अखिलेश तिवारी मथुरा से आगरा बुलाए गए : बिहार के रीजनल चैनल देश लाइव के एडिटर पद से इस्‍तीफा देने वाले वरिष्‍ठ पत्रकार धीरेंद्र श्रीवास्‍तव अपनी नई पारी शुरू करने जा रहे हैं. वे एमपी बेस्‍ड हिंदी न्‍यूज एजेंसी एक्‍सप्रेस मीडिया सर्विस यानी ईएमएस के साथ जुड़ रहे हैं. उन्‍हें यूपी का हेड बनाया जा रहा है. खबर है कि वे नौ अक्‍टूबर को अपनी जिम्‍मेदारी संभाल लेंगे.

भदोही में हिंदुस्‍तान के ब्‍यूरोचीफ एवं संवाददाता में धक्‍का-मुक्‍की व गाली ग्‍लौज

: दोनों ने अपने इस्‍तीफे भेजे : हिंदुस्‍तान के ज्ञानपुर-भदोही कार्यालय में मंगलवार को ब्‍यूरोचीफ एवं एक रिपोर्टर के बीच जमकर वाकयुद्ध तथा धक्‍कामुक्‍की हुई. गुस्‍सा में दोनों लोगों ने अपने-अपने इस्‍तीफे भी भेज दिए. इसके बावजूद संवाददाता तो बुधवार को कार्यालय आए पर नाराज ब्‍यूरोचीफ छुट्टी पर रहे. आज दशहरा के चलते कार्यालय बंद है. हालांकि इस खबर की चर्चा पूरे ज्ञानपुर-भदोही में जोरशोर से है.

हिंदुस्‍तान, इटावा से प्रभात, मधुर एवं रमाकांत का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, इटावा से खबर है कि तीन लोगों ने यहां से इस्‍तीफा देकर जनसंदेश टाइम्‍स का दामन थाम लिया है. यहां से प्रभात उपाध्‍याय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे क्राइम बीट कवर करते थे. इन्‍होंने इटावा में ही जनसंदेश टाइम्‍स का दामन थाम लिया है. जनरल बीट पर काम करने वाले मधुर जैन ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. वे वापस जनसंदेश टाइम्‍स लौट गए हैं. मधुर एक महीने पहले ही जनसंदेश से हिंदुस्‍तान आए थे.

हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद के लिए इंटरव्‍यू कल से

हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद के लिए मंगलवार से बरेली में इंटरव्‍यू होने जा रहे हैं. बरेली के सीबीगंज में स्थित होटल आम्रपाली क्‍लार्क इन में इंटरव्‍यू लिए जाएंगे. इसके लिए खासतौर पर एचआर के नेशनल हेड शहबर अपनी टीम के साथ मौजूद रहेंगे. संपादकीय विभाग के उम्‍मीदवारों का इंटरव्‍यू आगरा के संपादक केके उपाध्‍याय, कार्यकारी संपादक सुधांशु श्रीवास्‍तव की मौजूदगी में लिया जाएगा.

पराग शर्मा बने सीनियर सर्कुलेशन मैनेजर, अनुराग, चंदन एवं जितेन्‍द्र की नई पारी, विवेक का तबादला

दैनिक जागरण, बरेली से खबर है कि पराग शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सर्कुलेशन मैनेजर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी बरेली में ही हिंदुस्‍तान के साथ शुरू की है. इन्‍हें सीनियर सर्कुलेशन मैनेजर बनाया गया है. वे काफी समय से जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

इंडियन एक्‍सप्रेस से जसनीत एवं गौतम का इस्‍तीफा, आशीष की नई पारी

अंग्रेजी दैनिक इंडियन एक्‍सप्रेस के पंजाब ब्‍यूरो से जसनीत बिंद्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे काफी समय से ब्‍यूरो का प्रभार देख रही थीं. उनके इस्‍तीफा देने के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू कर रही हैं इसकी जानकारी भी नहीं मिल पाई है. चंडीगढ़ में ही इंडियन एक्‍सप्रेस से जुड़े गौतम धीर ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. गौतम अपनी नई पारी डेक्‍कन हेराल्‍ड के साथ शुरू की है.

हिंदुस्‍तान के विज्ञापन फर्जीवाड़ा की जांच रिपोर्ट सूचना निदेशालय के लिए गले की हड्डी बनी

मुंगेर। बिना रजिस्‍ट्रेशन के स्वतंत्र प्रकाशन घोषित कर नाजायज और अनियमित ढंग से वित्तीय वर्ष 2002-03 और 2003-04 में एक करोड़ 32 हजार 272 रुपए और 16 पैसे के दैनिक हिन्दुस्तान को भगुतान करने के मामले में वित्त (अंकेक्षण) दल ने ज्यों ही रिपोर्ट सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग को सुपुर्द की, पटना स्थित सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय में मानो ‘‘तूफान’’ आ गया।

जी24 घंटे में सोमेश की वापसी, खोज इंडिया से इस्‍तीफा देंगे पंकज, हिंदुस्‍तान पहुंचे प्रदीप

जी24 घंटे छत्‍तीसगढ़ में सोमेश सिंह सेंगर ने प्रोड्यूसर के रूप में ज्‍वाइन किया है. सामेश जी24 छत्‍तीसगढ़ की लांचिंग टीम के सदस्‍य थे. परन्‍तु बीच प्रबंधन से न जमने के कारण वो अलग हो गए थे. दुबारा उन्‍होंने वापसी की है. बताया जा रहा है कि सोमेश के व्‍यवहार से उनके जूनियर परेशान हैं.

अमित हिंदुस्‍तान पहुंचे, राकेश एवं सरोज अपने संस्‍थानों से कार्यमुक्‍त

आई-नेक्‍स्‍ट, गोरखपुर से खबर है कि अमित श्रीवास्‍तव ने हिंदुस्‍तान का दामन थाम लिया है. वे डेस्‍क पर कार्यरत थे. उन्‍होंने अभी आई-नेक्स्‍ट से इस्‍तीफा नहीं दिया है, पर छुट्टी पर चल रहे हैं. अमित इसके पहले अमर उजाला को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

3.71 करोड़ पाठकों के साथ भास्‍कर को पीछे छोड़ हिंदुस्‍तान दूसरे नम्‍बर पर

हिन्दुस्तान एक बार फिर पाठकों का चहेता अखबार बन कर सामने आया है। पिछले एक वर्ष में इसके पाठकों का भरोसा और बढ़ा है। हिन्दुस्तान ने देश के अग्रणी अखबारों की पंक्ति में अपना दूसरा स्थान बरकरार रखते हुए अपनी स्थिति को और मजबूत किया है। इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस क्यू-2 2011) के ताजा परिणाम के मुताबिक आपके प्रिय अखबार हिन्दुस्तान की कुल पाठक संख्या 3.71 करोड़ हो गई है।

एस टीवी के ब्‍यूरोचीफ बने कुमार सौवीर, सोनभद्र में आवेश तिवारी हिंदुस्‍तान से जुड़े

महुआ न्‍यूज से इस्‍तीफा देने वाले वरिष्‍ठ पत्रकार कुमार सौवीर ने अपनी नई पारी शुरू कर दी है. उन्‍होंने यूपी ब्‍यूरोचीफ के रूप में जल्‍द लांच होने जा रहे एस टीवी को ज्‍वाइन कर लिया है. यूपी के बेदाग और बेबाक पत्रकारों में शुमार कुमार सौवीर इसके पहले महुआ न्‍यूज में यूपी के ब्‍यूरोचीफ थे. नए प्रबंधन से जम नहीं पाने के चलते उन्‍होंने इस्‍तीफा दे दिया था.

हिंदुस्‍तान के संपादक अकु श्रीवास्‍तव समेत चार पत्रकारों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

पटना से एक बड़ी खबर आ रही है. हिंदुस्‍तान, पटना के संपादक अकु श्रीवास्‍तव सहित चार पत्रकारों के खिलाफ नॉन बेलबल वारंट जारी हुआ है. अक्‍कु श्रीवास्‍तव के अलावा जो तीन अन्‍य पत्रकार हैं उनमें हिंदुस्‍तान के चीफ रिपोर्टर कमलेश कुमार, हिंदुस्‍तान में पूर्व में कार्यरत वरीय संवाददाता विनायक विजेता व एक अन्‍य संवाददाता राकेशधारी का नाम शामिल है.

बिना प्रसार संख्‍या जांचे बिहार में अखबारों को दिया गया विज्ञापन

: वित्‍त आयुक्‍त ने की थी मंत्रिमंडल निगरानी विभाग से जांच कराने की संतुष्टि : मुंगेर। पटना स्थित सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय में विगत एक दशक से दैनिक अखबारों को विज्ञापन आबंटित करने में किस प्रकार की लूट मची है, इसका खुलासा बिहार सरकार के वित्त (अंकेक्षण) विभाग के अंकेक्षकों के दल ने किया है। वित्‍तीय जांच दल ने उजागर किया है कि किस प्रकार सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय अखबरों की प्रसार-संख्या की जांच कराए बिना ही अखबारों को सरकारी विज्ञापन जारी कर रहा है।

कासगंज में हिंदुस्‍तान की हालत खराब, बिना सेलरी दिए स्ट्रिंगर को हटाया गया

कासगंज में हिंदुस्‍तान के हालात खराब हैं. बीते दिनों पटियाली में ट्रेन हादसे की खबर में कुछ गल्तियां होने के बाद प्रबंधन ने यहां का प्रभार देख रहे स्ट्रिंगर अवधेश द‍ीक्षित समेत सभी को हटा दिया था. इसके बाद किसी तरह एक महीने तक कासगंज में इधर-उधर से खबरें लेकर काम चलाया गया. इसके बाद पीलीभीत से बुलाकर संजय अग्रवाल का प्रभार दे दिया गया है. उन्‍हीं के नेतृत्‍व में कासगंज कार्यालय का संचालन हो रहा है.

हिंदुस्‍तान के खिलाफ चल रहे मुकदमे में गवाही टली

भागलपुर। औद्योगिक विवाद अधिनियम, 1947 की विभिन्न धाराओं के तहत मेसर्स एचटी मीडिया लिमिटेड के विरुद्ध श्रम न्यायालय में चल रहे मुकदमे (रेफरेन्स केस नं0- 05 ।2008) में पीठासीन पदाधिकारी न्यायाधीश अशोक कुमार पांडेय ने 26 सितंबर, 2011 को संवाददाता श्रीकृष्ण प्रसाद के दो गवाहों क्रमशः नरेश कुमार गुप्ता और मन्टू शर्मा की गवाही और जिरह आगामी तीन नवंबर तक के लिए स्थगित कर दी।

शशि शेखर जी, क्या मेरे साथ इंसाफ होगा

: अब तो जी में आता है कि आत्महत्या कर लूं : आदरणीय प्रधान संपादक जी, प्रणाम! मैं धनंजय कुमार पिछले दो वर्षों से हिन्दुस्तान, मोतिहारी में बतौर स्ट्रिंगर कार्यरत रहा हूं. आप हिन्दुस्तान परिवार के सर्वोच्च अभिभावक हैं इसलिए मेरे साथ जो कुछ घटित हुआ है, उस मामले में आपको पूरी जानकारी देने के साथ इंसाफ की आस में आपसे गुहार भी लगा रहा हूं.

अवैध चैनल चलाने के आरोप में केबल संचालक गिरफ्तार

गुड़गांव में बिना परमिट अवैध चैनल चलाने के आरोप में सीआईए सेक्टर 31 पुलिस ने एक केबल संचालक को गिरफ्तार किया है। उसके खिलाफ सिविल लाईन्स थाने में कॉपीराईट एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक दिल्ली निवासी मनोज कुमार ने गुड़गांव पुलिस को शिकायत दी थी कि पेवन केबल नेटवर्क का संचालक चंद्रिका प्रसाद साहू बिना परमिट के कई अवैध चैनल गुड़गांव के कई क्षेत्रों में प्रसारित कर रहा है।

हिंदुस्‍तान के पत्रकार को घपले की खबर लिखना महंगा पड़ा

हिंदुस्‍तान, मोतिहारी के पत्रकार धनंजय कुमार के लिए घपले के खिलाफ खबर लिखना परेशानी का सबब बन गया है. अखबार मैनेजमेंट उनके खिलाफ जांच करा रहा है. धनंजय ने अपने अखबार में एक पार्षद द्वारा बनवाए जा रहे नाली में की गई घालमेल की खबर लिख दी, खबर से बौखलाया पार्षद अखबार के कार्यालय पहुंच गया. उसने रिपोर्टर से बहस की तथा बाहर निकल गया. इसी बीच किसी ने उसे सुझाव दे दिया कि पटना जाकर संपादक से शिकायत करो.

पत्रिका संग जुड़े मुकेश तिवारी, संतोष शितोले, संतोष रंजन एवं गौरव की नई पारी

राज एक्‍सप्रेस, इंदौर से इस्‍तीफा देकर मुकेश तिवारी पत्रिका से जुड़ गए हैं. राज एक्‍सप्रेस में मुकेश न्यूज एडिटर के पद पर कार्यरत थे. मुकेश दैनिक जागरण में भी सिटी चीफ रह चुके हैं.

राहुल श्रीवास्‍तव का हिंदुस्‍तान से नाता टूटा, संपादक ने किया इनकार

ये खबर बनारस हिंदुस्‍तान की है. सोनभद्र ब्यूरो की जिम्‍मेदारी संभाल रहे राहुल श्रीवास्‍तव से अखबार का नाता टूट गया है. खबर है कि उन्‍हें बर्खास्‍त कर दिया गया है. यह कार्रवाई लखनऊ और दिल्‍ली में की गई शिकायतों के आधार पर हाईकमान ने किया है. राहुल पिछले पन्‍द्रह सालों से अखबार को अपनी सेवाएं दे रहे थे. राहुल की बनारस ऑफिस में तूती बोलती थी, वहां सब लोग उनकी ओबलाइज करने की नीति से खुश रहते थे.

हाल-ए-हिंदुस्‍तान, बनारस : एनई बनाए गए इनपुट हेड, डीएनई देखेंगे आउटपुट

ऐसा दैनिक हिंदुस्‍तान में ही हो सकता है कि एनई खबरों को झाड़ने-पोछने का काम करे और डीएनई अखबार में खबरों को लगाए जाने का स्‍थान तय करे. और ये हो रहा है हिंदुस्‍तान, वाराणसी में. खबर है कि कुछ दिन पहले ही दैनिक जागरण से इस्‍तीफा देकर हिंदुस्‍तान पहुंचे एनई रजनीश त्रिपाठी को इनपुट हेड का प्रभार सौंपा गया है, जबकि डीएनई अनिल मिश्रा आउटपुट हेड बना दिए गए हैं. यानी एनई की जिम्‍मेदारी डीएनई के हवाले कर दी गई है.

हिंदुस्‍तान ने इस पत्रकार परिवार की हालत बुरी कर दी है

मुंगेर। द हिन्दुस्तान टाइम्स लिमिटेड के अखबार ‘हिन्दुस्तान’ द्वारा बिना रजिस्‍ट्रेशन के अवैध तरीके से अखबार का प्रकाशन कर अरबों रुपयों के सरकारी विज्ञापन छापने के घपले को उजागर करने के कारण मुझे और मेरे परिवार को बहुत परेशानी झेलनी पड़ी। हिंदुस्‍तान अखबार के चलते मुझे और मेरे परिवार के अन्‍य पत्रकार सदस्‍यों को लगभग नौ वर्षों तक अनकही सामाजिक, प्रशासनिक और मानसिक उत्पीड़न के दौर से गुजरना पड़ा।

बिहार में गलत तरीके से हिंदुस्‍तान एवं एचटी ने सरकार से वसूले थे 23 लाख से ज्‍यादा की रकम

: सरकार ने की थी वसूली की कार्रवाई, पर दर्ज नहीं कराया कोई मामला : न्यायाधीश, मंत्री, सांसद, आईएएस और आईपीएस पदाधिकारियों के भ्रष्टाचार में शामिल होने और जेल जाने की खबरें आए दिन अखबारों में छपती रहती है। परन्तु अखबार भी भ्रष्टाचार में लिप्त रहता है, यह सुनना पाठकों को अटपटा सा लगेगा। पर यह सच्चाई है। सरकार की जांच एजेंसियां मामलों को सामने लाती हैं, परन्तु सरकार शक्तिशाली अखबार मालिकों के विरुद्ध केवल राशि-वसूली की काररवाई कर संतोष कर लेती है।

कृष्‍णा शुक्‍ला ने दैनिक भास्‍कर ज्‍वाइन किया, हिंदुस्‍तान में फेरबदल

नवभारत, मुंबई के कार्यालय संवाददाता कृष्णा शुक्ला ने इस संस्थान से इस्तीफा देकर दैनिक भाष्कर (नागपुर) के मुंबई व्यूरों में बतौर स्टाफ रिपोर्टर ज्वाईन किया है. मुंबई विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढ़ाई करने के बाद शुक्ला इंटर्नशिप के लिए ‘नवभारत’ आए थे और बाद में उन्हें यहीं पर बतौर कार्यालय संवाददाता नौकरी मिल गई थी. कृष्णा तीन सालों से नवभारत के साथ थे और शिक्षा, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर व कोर्ट बीट कवर करते थे. विधि स्नातक कृष्णा शुक्ला मूलरुप से मध्य प्रदेश के सतना जिले के रहने वाले हैं.

न्‍यूज एक्‍सप्रेस से प्रदीप का इस्‍तीफा, सैयद हुसैन एव कुंवर संजय की नई पारी

न्‍यूज एक्‍सप्रेस से खबर है कि प्रदीप कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर ग्राफिक्‍स डिजाइनर थे. वे जल्‍द ही किसी संस्‍थान के साथ अपनी नई पारी शुरू करने वाले हैं. वे न्‍यूज एक्‍सप्रेस ज्‍वाइन करने से पहले मौर्य टीवी के साथ जुड़े हुए थे. प्रदीप ने करियर की शुरुआत अपना न्‍यूज के साथ की थी, इसके बाद साकाल ग्रुप के चैनल शाम मराठी से जुड़ गए. यहां से इस्‍तीफा देने के बाद ईटीवी बिहार झारखंड को अपनी सेवाएं दी. फिर मौर्य ज्‍वाइन कर लिया था. प्रदीप ने इस्‍तीफा देने के कारणों के बारे में बताया कि डिपार्टमेंट के अंदर की राजनीति के चलते उन्‍हें इस्‍तीफा देने को मजबूर होना पड़ा.

हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद के यूनिट हेड योगेन्‍द्र सिंह तथा संपादक मनीष मिश्रा बनाए गए

हिंदुस्‍तान अब यूपी में अपने विस्‍तार की तैयारियां तेज कर दी है. अलीगढ़ के बाद अब मुरादाबाद यूनिट के लिए भी वरिष्‍ठों की टीम तय कर दी गई है. इस यूनिट का हेड योगेन्‍द्र सिंह को बनाया गया है. योगेन्‍द्र फिलहाल बरेली में हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए हैं. इस यूनिट का संपादकीय प्रभारी हिंदुस्‍तान, नोएडा के एनई मनीष मिश्रा को बनाया गया है. मनीष पिछले तीन सालों से हिदुस्‍तान के साथ जुड़े हुए हैं. 20 सितम्‍बर से दोनों लोग अपनी जिम्‍मेदारियां संभाल लेंगे.

हिंदुस्‍तान में बदलाव, जनवाणी से अमित का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान के एचआर डिपार्टमेंट में कुछ परिवर्तन किया गया है. एचआर डिपार्टमेंट में मैगजीन और आर्थिक कार्यों को देखने वाली संगीता ठाकुर अब कार्यालय के बाहर की जिम्‍मेदारियां संभालेंगी. वे अब एडिटोरियल टीम के साथ बैठेंगी तथा शहबर को रिपोर्ट करेंगी. एचआर डिपार्टमेंट में सीनियर मैनेजर सुदीप बनर्जी को ग्रेटर नोएडा भेज दिया गया है. वे मोनिका अग्रवाल को रिपोर्ट करेंगे.

जमशेदपुर में यूनिट हेड को जूनियर सहकर्मी ने थप्‍पड़ जड़ा

जमशेदपुर में एक बड़े अखबार के यूनिट हेड के थप्‍पड़ खाने को लेकर चर्चाओं का बाजार गरम है. खबर है कि दो-तीन दिन पहले यूनिट हेड मार्केटिंग के अपने सहकर्मियों की मीटिंग ले रहे थे. कांफ्रेंस रूम में बैठक चल रही थी. एक जूनियर लेबल के सहकर्मी से उनकी कुछ बात हो गई. उसने आव देखा ना ताव, यूनिट हेड महोदय को तड़ाक से उठकर एक थप्‍पड़ जड़ दिया. इस घटना से सभी लोग एकदम से आवाक रह गए.

न्‍यायालय के आदेश के बावजूद प्रेस पंजीयक नहीं कर रहा हिंदुस्‍तान मामले की जांच

मुंगेर। भारत सरकार के प्रेस पंजीयक कार्यालय, नई दिल्ली ने न्यायालय के आदेशों का सम्मान करना पूरी तरह छोड़ ही दिया है। केन्द्रीय सूचना आयोग के केस नं0 – सीआईसी/ओके/सी/2008/657/एडी में 10 दिसंबर, 2008 को पारित आदेश को भी प्रेस पंजीयक कार्यालय, नई दिल्ली ने दो वर्ष सात माह के अधिक समय से कूड़ादान में डाल रखा है। प्रेस पंजीयक के हाथ न्यायालय के आदेश के पालन में कांप रहे हैं क्योंकि जांच की कार्रवाई देश के शक्तिशाली मीडिया हाउस मेसर्स एचटी मीडिया लिमिटेड के दैनिक हिन्दुस्तान के अवैध प्रकाशन और अरबों रुपयों के सरकारी राजस्व के घपले से जुड़ा है।

हिंदुस्‍तान : अनिल शुक्‍ला बने औरैया के ब्‍यूरोचीफ, प्रमोद की नई पारी

हिंदुस्‍तान, औरैया से खबर है कि अनिल शुक्‍ला को यहां का नया ब्‍यूरोचीफ बना दिया गया है. वे अभी तक कानपुर में अपनी सेवाएं दे रहे थे. अभी तक आनंद कुशवाहा औरैया के ब्‍यूरोचीफ के रूप में जिम्‍मेदारी निभा रहे थे. उन्‍हें वहीं बनाए रखा गया है. वे अनिल शुक्‍ला को रिपोर्ट करेंगे. आनंद काफी समय से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए हैं.

सीएम के हस्‍तक्षेप के बाद पत्रकार को फंसाने की साजिश नाकाम

: हिंदुस्‍तान के भ्रष्‍टाचार से लड़ना पड़ा महंगा : भ्रष्टाचार के विरुद्ध जंग का एलान करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भ्रष्टाचारियों से लड़ने वाले पत्रकारों की रक्षा किस प्रकार करते हैं, मुंगेर के वरीय पत्रकार श्रीकृष्ण प्रसाद के साथ घटित घटना के दस्तावेज स्वतः खुलासा करते हैं। पुलिस दस्तावेज यह भी उजागर करता है कि बिहार में भ्रष्टाचार की जड़ काफी मजबूत हो चुकी है और इस जड़ को काटने का प्रयास करने वाले लोगों को अपनी जान भी गंवानी पड़ सकती है।

बरेली में खराब है अमर उजाला का हाल, नीचे देखिए सबूत

अमर उजाला, बरेली का बुरा हाल है. अपने को सबसे तेज रफ्तार बताने वाला अमर उजाला हिन्दुस्तान अखबार की पुरानी खबरें छापकर अपना काम चला रहा है, वह भी एक या दो दिन पुरानी नहीं बल्कि एक-एक महीने पुरानी खबरें हैं. पाठकों की आंखों में धूल झोंकने के लिए हिन्दुस्तान में छपी खबरों में हल्का सा फेरबदल करने की कोशिश की गई है, लेकिन रिपोर्टर सफल नहीं हो सके हैं.

हिंदुस्‍तान के तहसील प्रतिनिधियों को प्रबंधन का फरमान, लैपटॉप खरीदो या नौकरी छोड़ो

हिंदुस्‍तान ने बिहार में तहसील स्‍तर के पत्रकारों के लिए नया फरमान जारी किया है. अब तक फोन-फैक्‍स के सहारे अपनी खबरों को ब्‍यूरो कार्यालय भेजने वाले पत्रकारों को स्‍पष्‍ट कह दिया गया है कि अब वे लैपटॉप और इंटरनेट की व्‍यवस्‍था करें अथवा कहीं और नौकरी की तलाश कर लें. प्रबंधन के इस फरमान के बाद से ही तहसील स्‍तर के पत्रकार परेशान हैं. उनके लिए एक तरफ कुंआ है तो दूसरी तरफ खाई बन गई है.

हिदुस्‍तान : डीएनई नरेंद्र मिश्रा ने दिया इस्‍तीफा, आशीष की नई पारी

हिंदुस्‍तान, मेरठ से नरेंद्र मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे नोटिस पीरियड पर चल रहे हैं. नरेंद्र यहां पर डीएनई के पोस्‍ट पर कार्यरत थे. सूत्रों का कहना है कि नरेंद मिश्रा पीएचडी के लिए संस्‍थान से डेढ़ महीने का अवकाश चाह रहे थे, परन्‍तु संस्‍थान की तरफ से इतनी लम्‍बी छुट्टी स्‍वीकृत करने में असमर्थता जता दी गई. पीएचडी पूरा करने के लिए छुट्टी की मजबूरी को देखते हुए नरेंद्र मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया.

निरंजन शुक्‍ला बने कलस्‍टर हेड, एक दिन में ही घर वापसी कर ली कुंदन ने

दैनिक भास्‍कर, झुंझनू का कलस्‍टर हेड का पद निरंजन शुक्‍ला ने संभाल लिया है. शुक्‍ला इसके पूर्व दैनिक भास्‍कर जोधपुर में कार्यरत थे. मांगू सिंह शेखावत के भास्‍कर छोड़कर जाने के बाद से यह पद खाली पड़ा था. झुंझनू कलस्‍टर के अंतर्गत झुंझनू व चुरू ब्‍यूरो कार्यालय आते हैं.

हिंदुस्‍तान, अलीगढ़ की लांचिंग जल्‍द, दीपक चौहान बने यूनिट हेड, मनोज पमार संपादक

हिंदुस्‍तान अब यूपी में और विस्‍तार की तैयारियों में जुट गया है. हिंदुस्‍तान अब अलीगढ़ और मुरादाबाद यूनिट की लांचिंग करने जा रहा है. पहले अलीगढ़ यूनिट को लांच किया जाएगा. यह यूनिट आगरा के उप यूनिट के रूप में काम करेगा. इस यूनिट का इंचार्ज दीपक चौहान को बनाया गया है. मनोज सिंह पमार इस यूनिट के संपादकीय प्रभारी होंगे. एक सितम्‍बर से दोनों लोगों ने अपनी जिम्‍मेदारी संभाल ली है.

हिंदुस्‍तान : जमशेदपुर के एनई अरविंद शर्मा का तबादला मेरठ, आगरा में ज्‍वाइन करेंगे संजीव कुमार

हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर से अरविंद शर्मा का तबादला मेरठ यूनिट के लिए कर दिया गया है. वे यहां पर एनई के पोस्‍ट पर कार्यरत थे. बताया जा रहा है कि उन्‍हें अब सीनियर एनई बनाकर मेरठ लाया गया है. मूल रूप से रांची के रहने वाले अरविंद शर्मा ने अपने करियर की शुरुआत 1995 में दैनिक भास्‍कर, भोपाल से की थी. इसके बाद वे अमर उजाला के साथ लखनऊ और नोएडा में रहे. फिर रांची में दैनिक जागरण के साथ जुड़ गए थे. यहां पर स्‍टेट ब्‍यूरो हेड की भूमिका निभा रहे थे. इसके बाद इन्‍होंने न्‍यूज एडिटर के रूप में हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन कर लिया था.

उधमसिंह नगर एवं नैनीताल के लिए अलग एडिशन लांच करेगा हिंदुस्‍तान

उत्‍तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव तथा पिछले वित्‍तीय वर्ष में पहाड़ से मिले बेहतर रिस्‍पांस के बाद हिंदुस्‍तान अब अपने एडिशनों की संख्‍या दो करने की तैयारी कर रहा है. अब तक पूरे उत्‍तराखंड में हिंदुस्‍तान का केवल एक ही एडिशन प्रकाशित होता है. जिसमें किसी जिले की खबर किसी जिले में पढ़ी जा सकती है यानी आप उधमसिंह नगर की खबर रानीखेत में भी पढ़ सकते हैं. वो भी सेम टू सेम.

मामला हल न हुआ तो पांच सितम्‍बर से देवरिया में नहीं उठेगा हिंदुस्‍तान

देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान और हॉकरों के बीच लांचिंग के समय से जारी परेशानियां अब तक खतम नहीं हुई हैं. वितरक हिंदुस्‍तान प्रबंधन द्वारा किए गए वादा को पूरा न किए जाने से परेशान हैं. वे अखबार के प्रबंधन एवं सर्कुलेशन विभाग को पत्र देकर अपनी परेशानियों को हल करने की मांग कर रहे हैं, परन्‍तु हिंदुस्‍तान की तरफ से कोई रुचि नहीं दिखाई जा रही है. देवरिया के हॉकर एक बार फिर कड़ा रुख अख्तियार करने की कोशिशों में हैं.

हिंदुस्‍तान, वाराणसी में एनई बनेंगे रजनीश त्रिपाठी

दैनिक जागरण, वाराणसी से रजनीश त्रिपाठी जल्‍द ही इस्‍तीफा दे देंगे. वे यहां डीएनई हैं. खबर है कि वे जल्‍द हिंदुस्‍तान, बनारस के साथ अपनी नई पारी शुरू करने जा रहे हैं. वहां वे न्‍यूज एडिटर के पद पर ज्‍वाइन कर रहे हैं. पिछले 23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय रजनीश त्रिपाठी को तेजतर्रार पत्रकार माना जाता है.

”बारह साल की सेवा का यही सिला है तो मेरा इस्‍तीफा स्‍वीकार करें”

: हिंदुस्‍तान की नौकरी के चलते हो गई मेरे पुत्र की हत्‍या : हिंदुस्‍तान, श्रावस्‍ती के ब्‍यूरोचीफ कुमार पंकज ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे बारह साल से हिंदुस्‍तान, लखनऊ को अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे थे. सन 2000 में उन्‍हें श्रावस्‍ती का जिला संवाददाता बनाया गया था तथा 2009 में उन्‍हें श्रावस्‍ती का प्रभारी बना दिया गया.  कुमार पंकज ने अपना इस्‍तीफा रुद्रशिव मिश्रा को श्रावस्‍ती का नया प्रभारी बनाए जाने के बाद दिया है.

हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद यूनिट के लिए दो सितम्‍बर को होगा भूमि पूजन

मुरादाबाद में हिंदुस्‍तान को लांच करने की तैयारियों की शुरुआत आने वाले शुक्रवार से होने वाली है. मुरादाबाद यूनिट के लिए भूमि पूजन शुक्रवार यानी दो सितम्‍बर को की जाएगी. इस मौके पर हिंदुस्‍तान मीडिया वेंचर लिमिटेड के सीईओ अमित चोपड़ा एवं वेस्‍ट यूपी के एडिटोरियल हेड केके उपाध्‍याय मौजूद रहेंगे. इसके लिए मुरादाबाद के लकड़ी फजलपुर में जमीन खरीदी जा चुकी है.

गुरमीत सिंह बने फोर्ब्‍स इंडिया के सीईओ, भारत मलिक बने ओएमजी में कंट्री मैनेजर

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स, मुंबई गुरमीत सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे एचटी, मुंबई में सेकेंड मैन थे और बिजनेस हेड कर रहे थे. अब वे फोर्ब्स इंडिया के साथ सीईओ के रूप में जुड़ गए हैं. वे नेटवर्क18 के ग्रुप सीओओ बी साई कुमार को रिपोर्ट करेंगे. गुरमी‍त सिंह ने करियर की शुरुआत मारीको से शुरू की. इसके बाद सोनी म्‍यूजिक, इंडिया टुडे ग्रुप को भी अपनी सेवाएं दीं.

संजीव ने हिंदुस्‍तान, सूरज ने प्रज्ञा एवं शैलेष ने पत्रिका ज्‍वाइन किया

[caption id="attachment_21034" align="alignleft" width="85"]संजीव[/caption]दैनिक जागरण, समस्‍तीपुर से संजीव कुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर रिपोर्टर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी समस्‍तीपुर में ही हिंदुस्‍तान के साथ शुरू की है. संजीव पिछले पांच सालों से पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं. बताया जा रहा है प्रभात खबर से परेशान जागरण एवं हिंदुस्‍तान एक दूसरे के रिपोर्टरों को तोड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं. हालांकि जागरण अब भी संजीव को वापस बुलाने की कोशिश में लगा हुआ है.

हिंदुस्‍तान, जमुई में मोडम प्रभारी एवं रिपोर्टर में घमासान, रिपोर्टर हटाया गया

हिंदुस्‍तान, जमुई में पिछले दिनों खबर को लेकर घमासान हुआ, जिसके बाद कार्रवाई करते हुए प्रबंधन ने बरहट के रिपोर्टर को हटा दिया है. बरहट के रिपोर्टर राणा संजय ने जमुई के मोडम प्रभारी मोहन कुमार मंगलम को उनके फोन पर पन्‍द्रह अगस्‍त के झंडोत्‍तोलन की खबर नोट कराई थी, परन्‍तु किसी कारण वह खबर प्रकाशित नहीं हो सकी.

प्रेमप्रकाश बने द सी एक्‍सप्रेस में डिप्‍टी मैनेजर, हिंदुस्‍तान, मोतिहारी के प्रभारी बने मनीष

आगरा से प्रकाशित होने जा रहे सीटीवी नेटवर्क के दैनिक अखबार द सी एक्सप्रेस के सर्कुलेशन विभाग प्रेमपाल सिंह ने ज्वाइन किया है। उन्‍हें डिप्टी मैनेजर बनाया गया है। इसके पहले वे हिन्दुस्तान में थे तथा अलीगढ़-हाथरस और मथुरा का प्रभार संभाल रहे थे। प्रेमपाल ने अमर उजाला मेरठ से करियर की शुऱुआत 1990 में की थी। अमर उजाला के लिए एटा, अलीगढ़ और राजस्थान में काम किया। डीएलए, गाजियाबाद और नोएडा को भी अपनी सेवाएं दीं। फिर हिन्दुस्तान में करीब दो साल तक सेवा देने के बाद द सी एक्सप्रेस से जुड़ गए।

ऋषभ बने एचटी में असिस्‍टेंट मैनेजर, अविनाश दैनिक अंबर के सर्कुलेशन मैनेजर बने

दैनिक जागरण, हलद्वानी से ऋषभ अग्रवाल ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर असिस्‍टेंट मैनेजर थे तथा सिटी मार्केटिंग टीम को हेड कर रहे थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी एचटी मीडिया के साथ मेरठ में शुरू की है. इन्‍हें यहां भी असिस्‍टेंट मैनेजर बनाया गया है. वे हिंदुस्‍तान तथा हिंदुस्‍तान टाइम्‍स दोनों के लिए रिटेल मार्केटिंग की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. ऋषभ मार्केटिंग में पिछले आठ सालों से सक्रिय हैं. इसके पहले वे अमर उजाला को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. मीडिया मार्केटिंग के बाहर वे स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक, मारुति सुजुकी और रिलायंस को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

राजकुमार शर्मा आगरा गए, अखिलेश तिवारी होंगे मथुरा के नए ब्‍यूरोचीफ

हिंदुस्‍तान, मथुरा का नया ब्‍यूरोचीफ अखिलेश तिवारी को बना दिया गया है. अखिलेश को राजकुमार शर्मा के स्‍थान पर ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. प्रबंधन ने राजकुमार का तबादला उनके आग्रह पर हिंदुस्‍तान, आगरा के लिए कर दिया है. राजकुमार ने अपने पिता की बीमारी के चलते आगरा भेजे जाने के लिए प्रबंधन से लिखित निवेदन …

गलती के लिए सहकर्मी से क्षमा मांगकर बड़प्‍पन दिखाया संपादक ने

अब कहां मिलते हैं ऐसे सम्‍पादक। ठीक है, हो गयी गलती, लेकिन बड़प्‍पन तो इस बात का है कि गलती को फौरन महसूस भी कर लिया। और इतना ही नहीं, मौका तलाशा और वक्‍त आते ही सबके सामने अपनी गलती मानी और बाकायदा क्षमा-याचना कर ली। जाहिर है, ऐसी क्षमायाचना ने पत्रकारिता के इतिहास में आत्‍मशुद्धि की लगभग खो चुकी परम्‍परा को प्राणवायु तो दे ही दी है,  जिसे आजकल के पत्रकार किसी हादसे की तरह देख सकते हैं।

कार्यालय में सोते इस पत्रकार को देखिए

हिंदुस्‍तान, लखनऊ में इस समय खबरों पर काम करने के अलावा कुर्सियों पर बैठे-बैठे सो लेने का काम भी जारी है. काम के दौरान किसी कार्यालय में सोना हालांकि उचित नहीं है परन्‍तु एक भागदौड़ करने वाले पत्रकार के काम की अवधि नहीं होती, लिहाजा कार्यालय में सो लेने कोई गुनाह नहीं माना जा सकता, फिर भी इससे अन्‍य काम करने वाले लोगों को परेशानी तो होती ही है. इससे इनकार भी नहीं किया जा सकता.

हिंदुस्‍तान के खिलाफ श्रम न्‍यायालय में अदालती कार्रवाई शुरू

भागलपुर। अंततः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर बिहार सरकार ने उच्च न्यायालय की सहमति से भागलपुर स्थित श्रम न्यायालय के पीठासीन पदाधिकारी न्यायाधीश के पद पर अशोक कुमार पांडेय को पदस्थापित कर दिया है। लगभग एक वर्ष सात माह तक एकमात्र न्यायाधीश के पद खाली रहने से एक हजार श्रमिक सहित मुंगेर के पांच पत्रकारों के औद्योगिक विवाद के मुकदमों की अदालती कार्रवाई पूरी तरह ठप रही।

नकाबपोश बदमाशों ने सरे बाजार पत्रकार का अपहरण किया

पाकिस्तान के उत्तरी वजीरिस्तान में वरिष्ठ पत्रकार रहमतुल्लाह दरपखेल का कुछ हथियारबंद लोगों ने अपहरण कर लिया। उर्दू दैनिक औसफ के साथ जुड़े दरपखेल का मिरनशाह से मंगलवार को अपहरण कर लिया गया था। उस समय वह बाजार से खरीददारी कर रहे थे और अपहरण कर्ताओं के चेहरे ढके हुये थे।

मिशन एडमिशन के नाम पर हिंदुस्‍तान में बड़ा घोटाला!

बरेली में लांचिंग के बाद नंबर वन का दावा करने वाले हिंदुस्तान अखबार में अंदरखाने एक बडा घोटाला हुआ है. कापियां बुक कर मिशन एडमिशन के नाम पर यहां सभी ब्यूरो कार्यालय में हर रोज एक स्कूल का आधा पेज कवरेज छापा जाता है. इसके लिए संबंधित स्कूल को बच्चों की संख्या के मुताबिक कापियां बुक करानी पड़ती है. खबर ये है कि स्कूलों को कापियां का भुगतान रिटेल रेट पर करना पडता है, जबकि सर्कुलेशन टीम कागजों में कापियों का भुगतान थोक रेट यानी रिटेल से लगभग डेढ़ रुपए कम का दिखाती है.

हिंदुस्‍तान के कार्यकारी संपादक गोविंद सिंह इस्‍तीफा देकर प्रोफेसर बनेंगे

वरिष्‍ठ पत्रकार तथा हिंदुस्तान के कार्यकारी संपादक गोविंद सिंह अब मुख्‍यधारा की पत्रकारिता को अलविदा कहने वाले हैं. लगभग तीन दशक के अपने करियर में गोविंद सिंह ने पत्रकारिता के अलावा अनुवादक एवं हिंदी अधिकारी के रूप में भी काम किया. बेहद सरल स्‍वभाव के गोविंद सिंह अब उत्‍तराखंड मुक्‍त विश्‍वविद्यालय के साथ प्रोफेसर के रूप में जुड़ने जा रहे हैं. अभी ज्‍वाइन करने की तिथि एवं अन्‍य औपचारिकताएं बाद में तय होंगी.

सीवीबी से आशुतोष और अभिषेक गए, अखबारों में कई के तबादले

सीवीबी न्‍यूज से आशुतोष पांडेय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर शिफ्ट इंचार्ज थे. आशुतोष को आउटपुट हेड प्रसेनजीत डे का करीबी माना जाता था. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. सीवीबी न्‍यूज से ही अभिषेक रंजन ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. उन्होंने अपनी नई पारी साप्‍ताहिक चौथी दुनिया के साथ शुरू की है. आईआईएमसी से पास आउट अभिषेक ने अपने करियर की शुरुआत सकाल मीडिया समूह के साथ शुरू की थी.

वर्षगांठ के बहाने हिंदुस्‍तानियों को नसीहत दी अमित चोपड़ा एवं शशि शेखर ने

: फतेहपुर के ब्‍यूरोचीफ का होगा तबादला : हिंदुस्‍तान के उच्‍च प्रबंधन का पूरा ध्‍यान कानपुर यूनिट को सुधारने पर लगा हुआ है. पिछले कुछ दिनों में दिल्‍ली और लखनऊ के वरिष्‍ठ लोग कानपुर का दौरा करके रौंद डाले हैं. खबर है कि अभी हिंदुस्‍तान के सीईओ अमित चोपड़ा और प्रधान संपादक शशि शेखर, लखनऊ के संपादक नवीन जोशी कानपुर में कैम्‍प किए हुए हैं. हालांकि बहाना हिंदुस्‍तान यूनिट के पांचवीं सालगिरह का है.

हिंदुस्‍तान के फोटोग्राफर एवं ब्‍यूरोचीफ ने मांगे पैसे, व्‍यापारियों ने की नारेबाजी

हिन्दुस्तान बदायूं से खबर है कि यहां नगर पालिका प्रशासन के खिलाफ धरना दे रहे व्यापारियों में हिन्दुस्तान के प्रति उस समय रोष फैल गया जब फोटो खींचने गये अखबार के एक फोटोग्राफर ने व्यापारियों से एक हजार रुपये की मांग कर डाली। गुस्साए व्यापारियों ने फोटोग्राफर को वहां से भगा दिया और हिन्दुस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

अजमेर से बरेली पहुंचे अभिषेक एवं सादिक, साजिद का तबादला

दैनिक भास्‍कर, अजमेर से अभिषेक यादव एवं सादिक अली ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे लोग यहां पर रिपोर्टर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान, बरेली के साथ शुरू की है. दोनों को सीनियर रिपोर्टर बनाया गया है. दोनों लोग काफी समय से दैनिक भास्‍कर को अपनी सेवाएं दे रहे थे. कहा जा रहा है इन दोनों लोगों को हिंदुस्‍तान, बरेली के संपादक आशीष व्‍यास लेकर आए हैं. उल्‍लेखनीय है कि हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन करने से पहले श्री व्‍यास दैनिक भास्‍कर अजमेर के संपादक थे.

हिंदुस्‍तान से घनश्‍याम श्रीवास्‍तव का इस्‍तीफा, भास्‍कर में संजय चौधरी की जिम्‍मेदारी बदली गई

हिंदुस्‍तान, रांची से घनश्‍याम श्रीवास्‍तव ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर फीचर एडिटर थे. संभावना है कि वे अपनी पारी दिल्‍ली में तहलका मैगजीन के साथ शुरू कर सकते हैं. उन्‍हें यहां सीनियर न्‍यूज एडिटर बनाया जा सकता है. घनश्‍याम श्रीवास्‍तव पिछले 22 सालों से सक्रिय पत्रकारिता में हैं. करियर की शुरुआत सन 88 में रांची से प्रभात खबर अंग्रेजी के साथ करने वाले घनश्‍याम 91 में प्रभात खबर हिंदी से जुड़ गए थे. सन 2000 में इन्‍होंने हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन कर लिया था. 2007 में यहां से इस्‍तीफा देने के बाद ये अमर उजाला, नोएडा के साथ जुड़ गए.   2008 में इन्‍होंने फिर से हिंदुस्‍तान, रांची का दामन थाम लिया था.

दस दिन पुरानी खबर को हिंदुस्‍तान ने लीड बना दी

छोटे-बड़े अखबारों में छोटी-मोटी गल्तियां होना कोई आश्‍चर्य या अजूबे की बात नहीं है,  परन्‍तु किसी बड़े अखबार की दस दिन पुरानी खबर किसी दूसरे अखबार लीड बन जाए तो इसे गलती माना जाए,  लापरवाही या फिर चोरी माना जाए। इसकी एक बानगी देखिए- वर्ल्ड मेयर्स नाम की एक संस्था ने सर्वे किया था। जिसके 100 शहरों की सूची में भारत के लगभग एक चौथाई शहर थे। राजस्थान पत्रिका ने ऑल एडिशन खबर अपने 21 जुलाई के अंक में प्रकाशित की थी।

सदर विधायक जिंदा हैं, पर हिंदुस्तान में छप गई सांसद की शोक संवेदना

हिंदुस्‍तान, लखीमपुर अखबार किसी को जीते जी मार सकता है, किसी से संवेदना व्‍यक्‍त करवा सकता है. अभी तक कुछेक खबरों के रिपीटेशन का दौर ही हिंदुस्‍तान, लखीमपुर में देखने को मिल रहा था,  पर अब उससे भी दो कदम आगे बढ़ते हुए अखबार ने विधायक को जीते जी मार डाला तथा उनके निधन का संवेदना संदेश सांसद के मुंह से कहवा दिया. इसे लेकर अखबार की खूब छिछालेदर हुई.

हिंदुस्‍तान, पटना से मैनेजर ट्रेनिंग अरविंद युनूस का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, पटना को एक और झटका लगा है. खबर है कि हिंदुस्‍तान में मैनेजर ट्रेनिंग के पद पर कार्यरत अरविंद युनूस ने इस्‍तीफा दे दिया है. अरविंद हिन्दुस्तान की लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. वे प्रशासन का भी काम देखने के साथ-साथ वाइस प्रेसीडेंड कार्यालय का भी काम संभाल रहे थे. अरविंद को वाइस प्रेसीडेंट वाईसी अग्रवाल का नजदीकी माना जाता था.

हिंदुस्‍तान जॉब्‍स का अंग्रेजी संस्‍करण भी लांच

हिंदुस्‍तान जॉब्‍स हिंदी को मिले बेहतर रिस्‍पांस के बाद प्रबंधन ने अब हिंदुस्‍तान जॉब्‍स का अंग्रेजी संस्‍करण भी लांच कर दिया है. अंग्रेजी संस्‍करण के पेज और मूल्‍य भी हिंदी जॉब्‍स जितना ही रखे गए हैं. गौरतलब है कि इसी साल मई माह में लांच हुए हिंदी जॉब्‍स के 32 पेज के अखबार की कीमत सात रुपये हैं. इस अखबार की ऑन लाइन संस्‍करण भी लांच किया गया है.

हिंदुस्‍तान में बदलाव जारी, नवीन जोशी ने कइयों को इधर-उधर किया

यूपी में अखबार की लगातार पतली होती हालत के बीच हिंदुस्‍तान प्रबंधन ने कई फेरबदल किए हैं. हिंदुस्‍तान, लखनऊ के संपादक नवीन जोशी अपने अधिकार क्षेत्र के भीतर आने वाले यूनिटों को कस रहे हैं. उनकी खास नजर कानपुर तथा बनारस यूनिट पर है. कई नई नियुक्तियों और तबादलों के बाद भी यूनिटों को लगातार झाड़ने पोछने का काम जारी है.

जौनपुर में रविकांत शुक्‍ला, आनंद एवं नीरज समेत कई को नई जिम्‍मेदारी, गुरुदास ने भास्‍कर छोड़ा

जौनपुर के पत्रकारिता जगत में इस समय हलचल है. यहां के अखबारों में कई फेरबदल हुए हैं. राष्ट्रीय सहारा के ब्यूरो चीफ के पद पर पुनः रविकान्त शुक्ला को नियुक्त किया गया है. ब्यूरो चीफ का काम देख रहे सहारा समय के रिपोर्टर हसनैन कमर को जिला न्यूज को-आर्डिनेटर बनाया गया है. रविकांन्त शुक्ला सहारा के आल इन आल स्वतन्त्र मिश्र के खास माना जाता है.

जीएन मोहन बने ‘समय कन्‍नड़’ के एडिटर इन चीफ, साजल मुखर्जी इमामी के मीडिया वाइस प्रेसिडेंट

रामोजी राव ग्रुप के कन्‍नड न्‍यूज चैनल से जुड़े रहे वरिष्‍ठ पत्रकार जीएन मोहन ने अपनी नई पारी ‘समय कन्‍नड़’ न्‍यूज चैनल से शुरू की है. उन्‍हें एडिटर इन चीफ बनाया गया है. वे फिलहाल अपने मेफ्लोवर मीडिया हाउस से जुड़े हुए थे. जीएन मोहन ईटीवी ग्रुप से लगभग आठ सालों तक जुड़े रहे वहां से इस्‍तीफा देने के बाद अपना मीडिया हाउस लांच कर लिया था. इसके अलावा वे चीफ एडिटर के रूप में कन्‍नड़ ई मैगजीन अवधी के साथ भी जुड़े रहे हैं.  प्रिंट, इलेक्‍ट्रानिक और न्‍यू मीडिया में दो दशक गुजार चुके जीएन मोहन ने करियर की शुरुआत डेक्‍कन हेराल्‍ड ग्रुप के अखबार प्रज्ञावाणी के साथ की थी.

प्रशांत का इस्‍तीफा, शोभित का प्रमोशन

हिंदुस्‍तान, मैनपुरी प्रशांत मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर रिपोर्टर थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. इसके पहले यहां से क्राइम रिपोर्टर अशोक वाजपेयी और विज्ञापन प्रतिनिधि कौशल यादव भी इस्‍तीफा दे चुके हैं. बताया जा रहा है कि ये सभी लोग ब्‍यूरोचीफ हृदयेश कुमार की कार्यशैली से नाराज होकर इस्‍तीफा दिया है.

अनूप कर्णवाल एवं तृप्त चौबे हिंदुस्‍तानी बने

अमर उजाला, वाराणसी के दो लोगों ने हिंदस्‍तान से अपनी नई पारी की शुरुआत की है. दोनों लोगों को दो जिलों का ब्‍यूरोचीफ बनाए जाने की संभावना है. अमर उजाला, वाराणसी में डेस्‍क पर तैनात अनूप कर्णवाल अब हिंदुस्‍तानी हो गए हैं. बीएचयू से पत्रकारिता की पढ़ाई करने वाले अनूप ने करियर की शुरुआत अमर उजाला से की थी. उन्‍हें मुगलसराय ब्‍यूरो ऑफिस में नियुक्ति दी गई थी. अमर उजाला, चंदौली के ब्‍यूरोचीफ पवन तिवारी का स्‍थानांतरण सोनभद्र हो जाने के बाद अनूप को चंदौली का ब्‍यूरोचीफ बना दिया गया था. कुछ महीने पहले प्रबंधन ने मिथिलेश दुबे को चंदौली का ब्‍यूरोचीफ बना दिया तथा अनूप को वाराणसी बुला लिया था. अनूप के अनुभवों को देखते हुए उन्‍हें हिंदुस्‍तान, चंदौली का ब्‍यूरोचीफ बनाया जा रहा है. फिलहाल हिंदुस्‍तान के ब्‍यूरोचीफ की जिम्‍मेदारी आनंद सिंह संभाल रहे हैं.

हिंदुस्‍तान में चंद्रशेखर एवं वंदना का तबादला, आई-नेक्‍स्‍ट से नरेंद्र नाथ का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, मेरठ से दो लोगों का तबादला हुआ है. यहां प्रादेशिक डेस्‍क पर काम देख रहेचंद्र शेखर बुणाकुट्टी का स्‍थानान्‍तरण देहरादून किया गया है. उन्‍हें उत्‍तराखंड स्‍टेट ब्‍यूरों में जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. चंद्रशेखर को कुछ दिन पहले ही सहारनपुर से मेरठ बुलाया गया था, वो सहारनपुर में ब्‍यूरोचीफ थे. दूसरी तरफ चीफ सब एडिटर वंदना को दिल्‍ली बुला लिया गया है. वंदना पिछले दो सालों से यहां चीफ सब एडिटर के रूप में अपनी जिम्‍मेदारी निभा रही थीं. उन्‍हें दिल्‍ली में कौन सी जिम्‍मेदारी सौंपी जाएगी इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

जागरण में अशोक सिंह एवं रविंद्र शर्मा का तबादला, हिंदुस्‍तान ने शंभूनाथ को मोतिहारी का प्रभार सौंपा

दैनिक जागरण ने पंजाब में दो जिलों के प्रभारियों का तबादला किया है. कपूरथला के प्रभारी अशोक सिंह भरत का तबादला नवांशहर के लिए कर दिया गया है. उनकी जगह नवांशहर के जिला प्रभारी रविंद्र शर्मा को कपूरथला का प्रभारी बना दिया गया है. इसके साथ्‍ा ही चार साल तक बाहर रहे रविंद्र शर्मा की घर वापसी भी हो गई है. दोनों जिला प्रभारी एक अगस्‍त से कार्यभार संभालेंगे. बताया जा रहा है कि सुनील राणा ने काम संभालने के बाद से सिस्‍टम को पटरी पर लाने की कवायद शुरू कर दी है, इसलिए आशंका जताई जा रही है कि और लोगों के तबादले भी किए जाएंगे.

हिंदुस्‍तान, कानपुर में लखनऊ का दखल बढ़ा, विशेश्‍वर कुमार को लेकर चर्चाएं

हिंदुस्‍तान, कानपुर यूनिट की स्थिति को लेकर यहां काम करने वाले पत्रकारों में असमंजस है. यहां रोज समीक्षाएं चल रही हैं. लखनऊ के संपादक नवीन जोशी और यूनिट हेड रजत कुमार आए दिन यहां डेरा जमा रहे हैं. कानपुर के संपादक विशेश्‍वर कुमार तथा यूनिट हेड नरेश पांडेय के भविष्‍य को लेकर भी कई तरह के कयास लगने शुरू हो गए हैं. दिल्‍ली की टीम भी लगातार इस यूनिट का दौरा कर रही है.

तहसील संवाददाताओं को बाहर निकाल दिया हिंदुस्‍तान!

: नये लोगों की नियुक्तियों पर धंधा, लैपटॉप रखना जरूरी : हिन्‍दुस्‍तान में एक नया हंगामा खड़ा हो गया है। काशी से छपने वाले इस अखबार के सम्‍पादकीय कर्ताधर्ताओं ने अपने संस्‍करण से जुड़े सभी जिलों के तहसील स्‍तर के संवादसूत्रों को उनके पदों से हटा दिया है। इन सभी संवादसूत्रों को महज 605 रूपयों का मासिक भुगतान किया जाता था। इतना ही नहीं, प्रबंधन के फैसलों के अनुसार नयी नियुक्तियों में सभी को अपना लैपटॉप और ब्राडबैंड कनेक्‍शन रखना जरूरी होगा।

हिंदुस्‍तान पहुंचे सुधांशु, अमर उजाला से रविकांत का इस्‍तीफा

सुधांशु सिंह ने ईटीवी से इस्‍तीफा दे दिया है. वे आगरा और बरेली के मार्केटिंग इंचार्ज थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान, वाराणसी के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां पर मार्केटिंग विभाग में एक्‍जीक्‍यूटिव बनाया गया है. मूल रूप से इलाहाबाद के रहने वाले सुधांशु ने अपने करियर की शुरुआत रेड एफएम और न्‍यूज24 के साथ की थी. इसके बाद वे ईटीवी से जुड़ गए थे.

मीडिया की भी लक्ष्मण रेखा है

शशि शेखरलक्ष्मण रेखा के उस पार सफलता का उजाला नहीं बल्कि असफलता का जिल्लत भरा अंधेरा है। क्या हमारे देश के पत्रकार और मीडिया संस्थान ‘न्यूज ऑफ द वर्ल्ड’  के अंजाम से कुछ सबक लेंगे? एक चौथाई से ज्यादा सदी बीत चुकी है। उन दिनों मैं नया-नया पत्रकार हुआ था और जमीन-आसमान एक कर देने का जोश तन-मन में हर दम हिलोरें लेता रहता था। उन्हीं इलाहाबादी दिनों में एक किताब हाथ लगी- द आलमाइटी।

शमी अहमद, अमरेंद्र कुमार, राजेश क्षितिज एवं विमल इधर से उधर

हिंदुस्‍तान, मुजफ्फरपुर के डीएनई शमी अहमद का तबादला मुख्‍यालय पटना के लिए कर दिया गया है. पटना से डीएनई के पोस्‍ट पर गंगाशरण झा को पहले ही भेजा जा चुका है. जब इस संदर्भ में शमी अहमद से पूछा गया तो उन्‍होंने अपना तबादला पटना होने की जानकारी नहीं मिलने की बात कही. हालांकि जब मुजफ्फरपुर हिंदुस्‍तान कार्यालय फोन किया गया तो वहां से पता चला कि उनका तबादला हो गया है, वे कार्यालय नहीं आ रहे हैं.

सरिता सिंह व सतीश मिश्रा पर गिरेगी गाज!

हिन्दुस्तान, पटना के संपादक अकु श्रीवास्तव इन दिनों काफी बौखलाए हुए हैं। उन्हें जब से यह पता चला है कि गया में प्रभात खबर का प्रसाद हिन्दुस्तान  से मात्र साढ़े चार हजार नीचे है तब से उनकी बेचैनी और बढ़ गई है। शनिवार को गया गए हुए अकु ने वहीं से प्रोवेंशियल डेस्क पर गया का पेज देखने वाली सरिता सिंह को फोन कर हड़काया और उन्हें अन्यत्र तबादला करने की भी धमकी दी। ऐसी ही धमकी गया के माडम प्रभारी सतीश मिश्रा को भी दी गई।

हिंदुस्‍तान के ब्रांडिंग हेड बने अनुमप मिश्र, अतुल बरतरिया ने अमर उजाला ज्‍वाइन किया

हिंदुस्‍तान, वाराणसी के सीनियर मैनेजर मार्केटिंग अनुपम मिश्र का प्रमोशन कर दिया गया है. उन्‍हें ब्रांडिंग हेड बनाकर बिहार भेजा जा रहा है. मूलत: बिहार के रहने वाले अनुपम की पढ़ाई बनारस, बंगलुरु और कोलकाता से हुई है. प्रबंधन ने उन्‍हें पिछले साल के अंत में सीनियर मार्केटिंग मैनेजर बनाकर लखनऊ से  बनारस भेजा था. वे इसके पहले डेक्‍कन हेराल्‍ड समेत कई कंपनियों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

प्रभात खबर से हिंदुस्‍तान में बेचैनी, संपादक ने किया गया में कैंप

बिहार में हिन्दुस्तान छोड़कर प्रभात खबर ज्वाइन करने वालों के मामले को लेकर पटना हिन्दुस्तान में खलबली और बेचनी है। पटना के संपादक अकु श्रीवास्तव शनिवार को गया कैंप कर रहे हैं। सनद रहे कि गया हिन्दुस्तान कार्यारय में कार्यरत एक अनुभवी पत्रकार शिवशंकर ने पिछले दिनों हिन्दुस्तान छोड़कर प्रभात खबर ज्वाइन कर लिया था। बताया जाता है कि अकु श्रीवास्तव शिवशंकर को मनाने के लिए ही गया में कैंप कर रहे हैं।

बेतिया भेजे गए अमिताभ रंजन, हितेंद्र एवं संदीप की नई पारी

हिंदुस्‍तान, मोतिहारी के ब्‍यूरोचीफ के पद से इस्‍तीफा देने वाले अमिताभ रंजन का इस्‍तीफा प्रबंधन ने स्‍वीकार नहीं किया है. बताया जा रहा है कि प्रबंधन ने उनकी क्षमता को देखते हुए उन्‍हें मोतिहारी से हटाकर बेतिया की जिम्‍मेदारी सौंपीं है. प्रबंधन ने अमिताभ रंजन से वेतन बढ़ाने का अपना वादा भी पूरा कर दिया है. गौरतलब है कि हिंदुस्‍तान, बगहा के प्रभारी रहे अमिताभ को बेहतर वेतन बढ़ाने का वादा करके प्रबंधन ने मोतिहारी प्रभारी बनाकर भेज दिया था, परन्‍तु छह महीना बीत जाने के बाद भी उनके वेतन में वृद्धि नहीं की गई, जिससे खफा होकर उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा प्रबंधन को भेज दिया था.

गर्दन में हाथ डाल निकालने की धमकी देते हैं ब्‍यूरोचीफ

पटना के एक बड़े हिन्दी अखबार में काम करने वाले पत्रकार इन दिनों बेबसी का घूंट पीकर काम कर रहे हैं। कारण उनके ब्यूरो चीफ की तुगलकी अदा है। इसी अखबार के एक दूसरे एडिशन में कभी संपादक रहे इस ‘बंधु’ को पटना बुला लिया गया और ब्यूरो चीफ की उस कुर्सी पर बैठा दिया गया जो पूर्व में एक कद्दावर ब्यूरो चीफ के रिजाइन देने से खाली पड़ा था।

पुनीत खंडेलिया का हिन्दुस्तान छोड़ने का राज?

हिन्दुस्तान पटना में कभी जीएम, विज्ञापन के रुप में कार्यरत और काम के प्रति काफी मेहनती माने जाने वाले पुनीत खंडेलिया ने आखिर हिन्दुस्तान को छोड़कर प्रभात खबर क्यों ज्वाइन किया? यह जगजाहिर है कि पुनीत हिन्दुस्तान में विज्ञापन विभाग की रीढ़ माने जाते थे। पुनीत ने हिन्दुस्तान क्यों छोड़ा इसे जानकर हर कोई दांतों तले उंगली दबा रहा हैं।

हिंदुस्‍तान की पूर्व महिला पत्रकार ने जहर खाकर आत्‍महत्‍या की!

बनारस से खबर आ रही है हिंदुस्‍तान की स्ट्रिंगर रह चुकी ज्‍योति श्रीवास्‍तव ने जहर खाकर आत्‍महत्‍या कर लिया है. इस मामले में ज्‍योति के परिवार वालों ने चुप्‍पी साध रखी है. अपुष्‍ट खबरों के अनुसार ज्‍योति ने मरने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा है. ज्‍योति ने हिंदुस्‍तान अखबार से निकाले जाने से कुछ समय पहले अपने एक वरिष्‍ठ सहयोगी पर शारीरिक शोषण का आरोप भी लगाया था.

गौरव, अखिलेश, अनुज, संजीव एवं वीरेंद्र के बारे में नई जानकारियां

हिंदुस्‍तान, रायबरेली से खबर है कि ब्‍यूरोचीफ गौरव अवस्‍थी का तबादला सीतापुर के लिए कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि प्रबंधन को उनके खिलाफ कुछ शिकायतें मिली थी. इनकी जगह सीतापुर के ब्‍यूरोचीफ अखिलेश ठाकुर को रायबरेली भेजा गया है. बताया जा रहा है कि गौरव वापस रायबरेली आने की कोशिशों में जुटे हुए हैं.

प्रज्ञा एवं प्रवीण ने शुरू की नई पारी

लाइव इंडिया से प्रज्ञा सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पीआर डिपार्टमेंट में असिस्‍टेंट मैनेजर के पद पर कार्यरत थीं. उन्‍होंने अपनी नई पारी एनडीटीवी के साथ शुरू की है. उन्‍हें असिस्‍टेंट प्रोग्रामिंग कोआर्डिनेटर बनाया गया है. वे पिछले ढाई सालों से लाइव इंडिया को अपनी सेवाएं दे रही थीं. इसके पहले वे जैन टीवी से भी जुड़ी रही हैं.

कहानी पटना के एक बड़े अखबार की : आओ मंदिर-मंदिर खेलें

यह कहानी है पटना के एक ऐसे बड़े अखबार की जो खुद को बिहार का सबसे बड़ा हिन्दी दैनिक बताता है। मामला कुछ साल पूर्व का है। पटना के बुद्ध मार्ग में सरकारी जमीन पर एक बकरी बाजार हुआ करता था। पटना नगर निगम ने तब बकरी बाजार खत्म कर उस जमीन पर छोटे दुकानदारों के लिए सौ से अधिक छोटी-छोटी दुकान बनाने का फैसला लिया।

हिंदुस्तान, मुजफ्फरपुर का यूनिट हेड बनाया गया मुकेश रंजन को

दैनिक जागरण, रांची से इस्‍तीफा देने वाले मुकेश रंजन को हिंदुस्‍तान, मुजफ्फरपुर का यूनिट हेड बना दिया गया है. जागरण में वे एरिया मैनेजर के पोस्‍ट पर कार्यरत थे. एचआर की तरफ से भेजे गए मेल में बताया गया है कि मुकेश रंजन बिहार के बिजनेस हेड संजय शुक्‍ला को रिपोर्ट करेंगे. बीएचयू से ग्रेजुएट …

एनई बने प्रमोद मिश्रा, अश्‍वनी का तबादला

अमर उजाला, देहरादून से प्रमोद कुमार मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर डीएनई थे. लगभग आठ वर्षों से वे अमर उजाला को देहरादून में अपनी सेवाएं दे रहे थे. उनके बारे में खबर है कि वे हिंदुस्‍तान, दिल्‍ली में एनई बनकर जा रहे हैं. उन्‍हें कहां पोस्टिंग मिलेगी इसकी जानकारी नहीं हो पाई है. प्रमोद ने अपने करियर की शुरुआत अमर उजाला, कानपुर से की थी. इसके बाद प्रबंधन ने इनका तबादला देहरादून के लिए कर दिया था. इस संदर्भ में जानकारी के लिए प्रमोद मिश्र के नम्‍बर पर बात करने की कोशिश की गई परन्‍तु वो स्‍वीच ऑफ बताता रहा, जिससे उनके पोस्टिंग की जानकारी नहीं मिल पाई.

हिंदुस्‍तान से ब्‍यूरोचीफ अमिताभ एवं रिपोर्टर सुमित का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान को मोतिहारी में झटका लगा है. यहां से अमिताभ रंजन ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर ब्‍यूरोचीफ थे.  मोतिहारी हिंदुस्‍तान के मुजफ्फरपुर यूनिट के अंतर्गत आता है. माना जा रहा है कि संस्‍थान द्वारा वादाखिलाफी से नाराज होकर अमि‍ताभ रंजन ने अपना इस्‍तीफा दिया है. वे सात जुलाई से कार्यालय नहीं जा रहे हैं.

हिंदुस्‍तान, पटना से तीन लोग मुजफ्फरपुर भेजे गए

दैनिक हिन्दुस्तान के पटना कार्यालय में कार्यरत तीन लोगों का अचानक मुजफ्फरपुर तबादला कर दिया गया है। यह तबादला वैसे समय में किया गया जब हिन्दुस्तान प्रबंधन बिहार और खासकर पटना में अपने गिरते साख और प्रसार संख्या के प्रति चिंतित है। विदित हो कि एक माह पूर्व एचटीएमएल के प्रमुख विनय राय चौधरी भी पटना गए थे और गिरते सर्कुलेशन के प्रति गहरी चिंता प्रकट की थी। उसके बाद प्रधान संपादक शशि शेखर ने भी पटना का दौरा किया।

आलोक का हिंदुस्‍तान से इस्‍तीफा, जनसंदेश टाइम्‍स के चीफ रिपोर्टर बने

आलोकहिंदुस्‍तान, लखनऊ से आलोक पराड़कर ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां चीफ रिपोर्टर बनाया गया है. साहित्‍य‍िक पत्रकारिता में पहचान रखने वाले आलोक पिछले छह सालों से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. पिछले दिनों ही उनका तबादला वाराणसी के लिए कर दिया गया था.

हिंदुस्‍तान, भागलपुर के अवैध प्रकाशन मामले की जांच नहीं करेंगे डीएम

भागलपुर में हिंदुस्‍तान के अवैध प्रकाशन को लेकर लगाए गए आरोप तथा उस पर कार्रवाई के संबंध में अधिवक्‍ता कृष्‍णा प्रसाद द्वारा दिए गए आवेदन पर कार्रवाई करने से जिलाधिकारी ने पल्‍ला झाड़ लिया है. भागलपुर के अधिवक्‍ता कृष्‍णा प्रसाद ने जिलाधिकारी के यहां दिए गए अपने पत्र में आरोप लगाया था कि हिंदुस्‍तान भागलपुर से गलत एवं फर्जी तरीके से अखबार का प्रकाशन कर रहा है.

हिंदुस्‍तान, कानपुर से जुड़े जिलों से कई का इस्‍तीफा

: संपादक एवं जीएम के रवैये से पत्रकार नाराज : हिंदुस्‍तान, कानुपर यूनिट से जुड़े कई जिलों के पत्रकार संपादक और जीएम के रवैये से आहत होकर अखबार को बाय बोल रहे हैं. खबर है कि ललितपुर जिले का प्रभार देख रहे डा. प्रदीप त्रिपाठी ने हिंदुस्‍तान को नमस्‍कार कर दिया है. इसके पहले यहां से राहुल शुक्‍ला, सत्‍येंद्र प्रताप सिंह सिसोदिया और मोनू झा भी इस्‍तीफा देकर जा चुके हैं. फिलहाल अखबार की जिम्‍मेदारी संजीव बजाज संभाल रहे हैं.

”सत्‍तापरस्‍त हो गए हैं बिहार के अखबार”

बिहार मीडिया वाच ने राज्‍य के फारबिसगंज में हुए गोलीकांड की घटना में मीडिया की भूमिका पर सवाल उठाए हैं. बिहार मीडिया वाच की तरफ से प्रेस काउंसिल के अध्‍यक्ष को भेजे गए पत्र में आरोप लगाया गया है कि हिंदुस्‍तान, जागरण और अन्‍य कई अखबारों ने जन पक्षधर होने की बजाय सत्‍तापरस्‍त की भूमिका निभाई. घटना में पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी को सही ठहराने की भी कोशिशें की गई.

हिंदुस्‍तान के पत्रकार सुबोध कुमार को मिला राहुल सांकृत्‍यायन पुरस्‍कार

बिहार के युवा पत्रकार सुबोध कुमार नंदन को उनके पुस्‍तक ‘बिहार के पर्यटन स्‍थल और सांस्‍कृतिक धरोहर’ को पर्यटन मंत्रालय की ओर से राहुल सांकृत्‍यायन पर्यटन पुरस्‍कार योजना 2009-10 के तहत प्रथम पुरस्‍कार मिला है. पिछले वर्ष यह पुरस्‍कार उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को उनकी पुस्‍तक  ‘हिमालय का महाकुम्‍भ नन्‍दा राजजात’ को प्रथम पुरस्‍कार मिला था. नंदन की पुस्‍तक का प्रकाशन प्रभात प्रकाशन नई दिल्‍ली ने किया है.

बिहार में प्रभात खबर से खतरा महसूस कर रहा है हिंदुस्तान

: सुपारी स्कीम – प्रभात खबर से आदमी लाइए, 10 से 25 हजार पाइए : हिंदुस्तान प्रभात खबर से आशंकित है। उसे अब लगने लगा है कि भास्कर जब आएगा, तब आएगा लेकिन प्रभात खबर जिस आक्रामक और गठी हुई रणनीति से मजबूत होता जा रहा है, उसे नहीं रोका गया तो भास्कर आने से पहले ही बिहार में हिंदुस्तान की एकछत्र लीडरशिप ढह जाएगी। पिछले दिनों दिल्ली में एचटी मीडिया और हिंदुस्तान मीडिया वेंचर्स के शीर्ष लोगों की बैठक हुई। बैठक में प्रभात खबर को लेकर चिंता जाहिर की गई।

हिंदुस्‍तान से अजीत का इस्‍तीफा, मंगलम का तबादला

हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर से अजीत कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर वे चीफ ग्राफिक्‍स डिजायनर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी दिल्‍ली में एक एड एजेंसी के साथ शुरू की है. अजीत इसके पहले इंडियन एक्‍सप्रेस, टाइम्‍स ऑफ इंडिया, इकनॉमिक्‍स टाइम्‍स को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. बताया जा रहा है कि हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर की स्थितियों से तंग आकर उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा दिया है.

हिंदुस्‍तान, कांशीरामनगर से अवधेश दीक्षित को हटाया गया

: विरोध में सभी कर्मचारियों ने काम बंद किया : कार्यालय पर लटका ताला : हिंदुस्‍तान, कांशीरामनगर के प्रभारी अवधेश दीक्षित को हटा दिया गया है. अवधेश पिछले एक साल से हिंदुस्‍तान को अपनी सेवाएं दे रहे थे. उन्‍हें किस आरोप में हटाया गया है इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. अवधेश इसके पहले डीएनए, दैनिक जागरण एवं हिंदुस्‍तान को कई स्‍थानों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करेंगे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

धर्मेंद्र सिंह फिर भास्‍कर से जुड़े, आलोक का बनारस तबादला

पत्रिका, ग्‍वालियर में समाचार संपादक रहे धर्मेन्‍द्र सिंह भदौरिया ने पत्रिका से अपना नाता तोड़ लिया है. सात महीने की पत्रिका की नौकरी उन्‍हें रास नहीं आई. पत्रिका ने धर्मेंद्र का तबादला चेन्‍नई के लिए कर दिया था. जिसके बाद से वे काफी परेशान हो गए थे. धर्मेंद्र भास्‍कर में विशेष संवाददाता के रूप में अपनी जमी जमाई नौकरी छोड़कर आए थे. उन्‍होंने फिर से भास्‍कर का दामन थाम लिया है. वे बिजनेस भास्‍कर, भोपाल से जुड़ गए हैं. उन्‍हें फिर विशेष संवाददाता बनाया गया है.

बिहार में हिंदुस्तान अखबार के मोडम प्रभारियों का मेहनताना मनरेगा मजदूरों से भी कम!

जी हां, खबर कुछ चौकाने वाला मगर सच है. ढाई दशक पहले जिस बिहार की मिट्टी में यह अखबार पला-बढ़ा और जवां हुआ. जहां के पत्रकारों ने अपने खून-पसीने से सिंचाई कर शुरू से ही अखबार के नम्बर एक के पोजिशन को बरकरार रखा. और हिन्दुस्तान से एचटी मीडिया व एचएमवीएल की ऊंचाई तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी. जिसका मार्केट शेयर व टर्न ओवर अरबों रुपये है.

‘हिंदुस्तान’ जैसा बड़ा अखबार स्ट्रिंगरों का बेरहमी से करता है शोषण

: कई वर्षों से न तनख्वाह और न परिचयपत्र, जैसे तैसे चल रही है इनके जीवन की गाड़ी : ये बात है लखनऊ हिन्दुस्तान यूनिट की, यहाँ हर आदमी परेशान है,  अपने प्रमोशन को लेकर फिक्रमंद है.  स्टाफर की तो चलो ठीक है,  पैसा बढ़ा नहीं तो कुछ लोगों को प्रमोशन देकर काम चल गया,  मगर दिन भर धूप में मोटर साइकिल दौड़ाने वालों व जगह-जगह कवरेज करने जाने वाले इन स्ट्रिंगरों की क्या कोई नहीं सुनेगा?  क्या इन्हें इस संस्थान में काम करने का कोई सिला नहीं मिलेगा?

विदेशों में भी कारोबार तलाशेगा एबीसी

नई दिल्‍ली : ऑडिट ब्‍यूरो ऑफ सर्कुलेशन (एबीसी) के प्रबंधतंत्र का पहली बार बैठक देश के बाहर दुबई में होने जा रही है. 63 साल में विदेश में बैठक होने का यह पहला मौका है. यह बैठक संस्‍था के अध्‍यक्ष विजय दर्दा के नेतृत्‍व में होगी. श्री दर्दा लोकमत मीडिया लिमिटेड के अध्‍यक्ष हैं.

प्रभाकर कुमार का तबादला, संजीव द्विवेदी को प्रमोशन, सुधीर, सचिन एवं अ‍रविंद की नई पारी

हिंदुस्‍तान, बरेली के डीएनई प्रभाकर कुमार का तबादला जमशेदपुर के लिए कर दिया गया है. वे वहां एनई बनाकर भेजे गए हैं. माना जा रहा है कि जमशेदपुर में अखबार को तेवर देने के लिए प्रभाकर का तबादला किया गया है. दूसरी बरेली में ही तैनात चीफ रिपोर्टर संजीव द्विवेदी का भी प्रमोशन कर दिया गया है. वे अब डीएनई बना दिए गए हैं. प्रभाकर कुमार की जगह लेने के साथ वे सिटी इंचार्ज की जिम्‍मेदारी भी संभालते रहेंगे.

हिंदुस्‍तान से अभय, सिलाश एवं विकास का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, गिरीडिह से अभय वर्मा और सिलाश सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. दोनों लोग रिपोर्टिंग से जुड़े हुए थे. पिछले आठ वर्षों से हिंदुस्‍तान को अपनी सेवाएं दे रहे थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी प्रभात के साथ शुरू की है. इन्‍हें यहां भी रिपोर्टर बनाया गया है. बताया जा रहा है कि ये लोग इंक्रीमेंट और प्रमोशन न मिलने से नाराज चल रहे थे. इन दोनों का अलविदा कहना हिंदुस्‍तान के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

राम कुमार एवं राकेश चौधरी की नई पारी

हिंदुस्‍तान, मथुरा से राम कुमार रौतेला ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सेकेंड ब्‍यूरो इंचार्ज की भूमिका में थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी मथुरा में ही अमर उजाला के साथ शुरू की है. वे पिछले चार सालों से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. अमर उजाला संग यह उनकी दूसरी पारी है. रौतेला के जाने से खाली हुई जगह पर हिंदुस्‍तान प्रबंधन ने बरेली से एक रिपोर्टर को भेजा है.

जागरण ने सिटी चीफ प्रवीण को डेस्‍क पर भेजा, हिंदुस्‍तान में सत्‍येंद्र का तबादला

दैनिक जागरण, बरेली में सिटी चीफ के पद पर कार्यरत प्रवीण शर्मा को वहां से हटा दिया गया है. उनकी जगह मुहम्‍मद वसीम को तात्‍कालिक तौर पर सिटी चीफ बनाया गया है. प्रवीण को प्रबंधन ने डेस्‍क पर भेज दिया है. बताया जा रहा है कि पिछले आठ महीने से सिटी चीफ की जिम्‍मेदारी निभा रहे प्रवीण शर्मा से प्रबंधन नाराज चल रहा था. एक महिला रिपोर्टर के साथ भी उनका नाम जुड़ा था. माना जा रहा है इन्‍हीं सब कारणों के चलते उनसे यह जिम्‍मेदारी ली गई है. वसीम को अस्‍थायी तौर पर सिटी की इंचार्जी दी गई है. प्रबंधन जल्‍द ही एक स्‍थाई सिटी चीफ नियुक्‍त करने की तैयारी कर रहा है.

पीके कार का इस्‍तीफा, मृत्‍युंजय जाएंगे बेतिया

हिंदुस्‍तान, मुजफ्फरपुर से पीके कार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सेल्‍स मैनेजर थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने वाले हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. उनके इस्‍तीफा देने के कारणों का भी खुलासा नहीं हो पाया है. चर्चा है कि अपने कुछ दूसरे सहकर्मियों की तरह वे भी प्रभात खबर से जुड़ सकते हैं. पीके काफी समय से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है सेल्‍स से कुछ और लोग भी इस्‍तीफा दे सकते हैं. मुजफ्फरपुर में हिंदुस्‍तान की हालत ठीक नहीं है.

और आगे बढ़ा देश का नम्‍बर 2 अखबार

2011 की पहली तिमाही के इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस) के ताजा नतीजों के मुताबिक हिन्दुस्तान ने दैनिक भास्कर पर बढ़त और बढ़ा ली है। साथ ही हिन्दुस्तान ने देश के प्रमुख अखबारों में नंबर दो के पायदान पर अपनी स्थिति और मजबूत कर ली है। दैनिक भास्कर के कुल 3.34 करोड़ पाठकों के मुकाबले हिन्दुस्तान की कुल पाठक संख्या 3.66 करोड़ दर्ज की गई है।  2010 की चौथी तिमाही के बाद से हिन्दुस्तान ने 14 लाख और पाठक जोड़े हैं।

कौशल राष्‍ट्रीय सहारा पहुंचे, किशन की छुट्टी

हिंदुस्‍तान, मैनपुरी के रिपोर्टर कौशल यादव ने संस्‍थान से इस्‍तीफा दे दिया है. वे काफी समय से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. वे अपनी नई पारी राष्‍ट्रीय सहारा के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें राष्‍ट्रीय सहारा का जिला संवाददाता बनाया जा रहा है. वे काफी समय से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं तथा कई अखबारों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

हिंदुस्‍तान से संजय अभिज्ञान का इस्‍तीफा, अमर उजाला पहुंचे

दैनिक हिंदुस्तान से एक बड़ी खबर है. यहां से संजय अभिज्ञान ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे न्‍यू मीडिया के आरई के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे. फीचर भी उनके जिम्‍मे थे. वे अपनी नई पारी अमर उजाला के साथ शुरू करने जा रहे हैं. यहां भी उन्‍होंने आरई के पद ज्‍वाइन किया है. वे एडिटोरियल में अपनी भूमिका निभाएंगे.

हिंदुस्‍तान, एटा के ब्‍यूरोचीफ बने अनुज, नीरज की नई पारी

 

हिंदुस्‍तान, आगरा में तैनात अनुज शर्मा का तबादला एटा कर दिया गया है. वे एटा के ब्‍यूरोचीफ होंगे. अनुज पिछले तीन सालों से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए हैं. इसके पहले वे फीरोजाबाद में भी जिले का प्रभार संभाल चुके हैं. अनुज ने अपने करियर की शुरुआत जागरण, आगरा के साथ की थी. इसके बाद वे जागरण के कई यूनिटों के साथ जुड़े रहे. अमर उजाला को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

उपेंद्र बदायूं एवं धर्मेश लखीमपुर के ब्‍यूरोचीफ बने, संजीव का बरेली तबादला, राजेश जुड़े

अपडेट : हिंदुस्‍तान लखीमपुर खीरी के ब्‍यूरोचीफ उपेंद्र द्विवेदी को हटा दिया गया है. प्रबंधन ने उपेंद्र को बदायूं का ब्‍यूरोचीफ बना दिया है.  लखीमपुर खीरी का इंचार्ज सेकेंड मैन रहे धर्मेश शुक्‍ला को बना दिया गया है. अब ब्‍यूरो की जिम्‍मेदारी धर्मेश संभालेंगे. उपेंद्र का तबादला ऑफिस में दारूबाजी करने के कारण की गई है. दूसरी तरफ बदायूं के ब्‍यूरोचीफ संजीव गंभीर को बरेली बुला लिया गया है.


प्रबंधन को उपेंद्र के बारे में जानकारी मिली थी कि वे आफिस में शराब पीते-पिलाते हैं. प्रबंधन ने इसकी जांच कराई. जांच में आरोप जिसके बाद प्रबंधन ने उपेंद्र को हटाने का निर्णय लिया तथा धर्मेश को प्रमोट कर दिया. उपेंद्र को बदायूं का ब्‍यूरोचीफ बना दिया गया है. उन्‍हें आज जीएम अशोक सम्राट एवं संपादक आशीष व्‍यास  ने बदायूं जाकर पद भार ग्रहण कराया. बदायूं के ब्‍यूरोचीफ रहे संजीव गंभीर को उनके अनुरोध पर बरेली बुला लिया गया है.

फिलहाल संजीव गंभीर एक सप्‍ताह तक उपेंद्र को सहयोग देंगे. उसके बाद वे बरेली ज्‍वाइन करेंगे. अमर उजाला, बदायूं के साथ जुड़े रहे राजेश मिश्रा को भी हिंदुस्‍तान की टीम में शामिल कर लिया गया है. उन्‍हें पिछले दिनों एक रिपोर्टर के जाने के बाद खाली हुए स्‍थान पर रखा गया है. पिछले कुछ समय में हिंदुस्‍तान, बदायूं के कई ब्‍यूरोचीफ बदले जा चुके हैं, जिसमें सौरभ सक्‍सेना, तौकीर हैदर, अखिलेश शर्मा और इसके बाद संजीव गंभीर. अब देखना है कि उपेंद्र कितने दिनों तक बदायूं को संभाल पाते हैं.

दिल का दौरा पड़ने से हिंदुस्‍तान के वरिष्‍ठ पत्रकार प्रदीप संगम का निधन

दैनिक हिन्दुस्तान के दिल्ली संस्करण में कार्यरत वरिष्ठ सहायक संपादक प्रदीप संगम का मंगलवार सुबह हिमाचल प्रदेश में निधन हो गया। वह 51 वर्ष के थे। जानकारी के अनुसार वह अपने परिवार के साथ हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला में स्थित चिंतपूर्णी देवी मंदिर के दर्शन के लिए गए थे। आज सुबह वह जब वहां सैर कर रहे थे तभी उन्‍हें अचानक दिल का दौरा पड़ा। अभी लोग कुछ समझ पाते या उन्‍हें अस्‍पताल पहुंचाते उसके पहले ही उनकी मौत हो गई।

सौदामिनी एचटी की कम्‍यूनिकेशन मैनेजर बनीं, सुनील प्रभात खबर पहुंचे

सौदामिनी बागई हिंदुस्‍तान टाइम्‍स का हिस्‍सा बनी हैं. उन्‍होंने कम्‍यूनिकेशन मैनेजर के पोस्‍ट पर ज्‍वाइन किया है. इससे पहले वे ओगिलवी एंड माथेर के साथ कम्‍यूनिकेशन कंसलटेंट और एडिटर के रूप में जुड़ी हुई थीं. वे कंपनी के लिए कम्‍यूनिकेशन स्‍ट्रेटजी मैनेज कर रही थीं. हिंदुस्‍तान टाइम्‍स में वे मार्केटिंग, एचआर और इंवेस्‍टर रिलेशन के बीच सेतु का काम करेंगी. सौदामिनी की शिक्षा शिकागो यूनिवर्सिटी से हुई है.


हिंदुस्‍तान, रांची से सुनील कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे खेल पेज देखते थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी प्रभात खबर, रांची के साथ शुरू की हैं. वहां भी वे खेल पेज पर अपनी जिम्‍मेदारी निभाएंगे. बताया जा रहा है कि पूर्व संपादक अशोक पांडेय के नजदीकियों में शुमार किए जाने वाले सुनील नए प्रबंधन से परेशान थे. अशोक पांडेय के आदेश पर ही सुनील दैनिक भास्‍कर में सिर्फ सात दिन की नौकरी के बाद हिंदुस्‍तान वापस आए गए थे.

मोहम्‍मद वकार का इस्‍तीफा, अरविंद शरण का प्रमोशन, प्रीति एवं कनिष्‍क की नई पारी

हिंदुस्‍तान से खबर है कि दिल्‍ली ब्‍यूरो में तैनात न्‍यूज एडिटर मोहम्‍मद वकार को हटा दिया गया है. हालांकि यह भी कहा जा रहा है तालमेल ना बैठ पाने के कारण उन्‍होंने खुद संस्‍थान से इस्‍तीफा दे दिया है. अब वे कहां जा रहे हैं, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. दूसरी तरफ न्‍यूज एडिटर अरविंद शरण को प्रमोट करके सीनियर न्‍यूज एडिटर बना दिया गया है.

हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर से संजय और अभिलाष का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर में संपादक के रवैये परेशान पत्रकार संस्‍थान को अलविदा कह रहे हैं. अभी चीफ सब एडिटर आलोक कुमार के बारे में खबर थी कि उन्‍होंने संपादक के कार्यप्रणाली से आजिज आकर प्रबंधन को अपना तबादला सेंट्रल यूपी में करने अथवा इस्‍तीफा स्‍वीकार करने का नोटिस दे दिया था. ताजा खबर है कि दो और लोगों ने हिंदुस्‍तान को बाय कर दिया है. अभी कई और लोगों के जाने की संभावना है.

सुधीर का इस्‍तीफा, आनंद की नई पारी

हिंदुस्‍तान, हरदोई से जुड़े बघौली के संवाददाता सुधीर अवस्‍थी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे काफी समय से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि सुधीर ने हिंदी पत्रकारिता दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम का प्रकाशन न होने से नाराज होकर अखबार को बाय कर दिया. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

कार्यालय नहीं आ रहे आलोक पांडेय, मनीष, उदय एवं राम कुमार का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर में इन दिनों घमासान मचा हुआ है. आतंरिक परिस्थितियों से नाराज चीफ सब आलोक पांडेय कई दिनों से कार्यालय नहीं आ रहे हैं. सूत्रों का कहना है संपादक के साथ पटरी नहीं बैठ पाने के बाद वे इस्‍तीफा देने का मूड बना चुके हैं. चर्चा है कि उन्‍होंने इस्‍तीफे का नोटिस दे दिया है, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है. बताया जा रहा है कि जमशेदपुर में स्‍टाफ की कमी के चलते आलोक पांडेय यह कदम उठाने को मजबूर हुए.

28 को खत्‍म होगा हिंदुस्‍तानियों के इंक्रीमेंट और प्रमोशन का इंतजार

अन्‍य संस्‍थानों की तरह हिंदुस्‍तान के कर्मचारियों को भी अपने इंक्रीमेंट और प्रमोशन का बेसब्री से इंतजार है. खबर है कि इस महीने का जो वेतन आएगा वो इंक्रीमेंट के साथ आएगा, लिहाजा इसे लेकर हिंदुस्‍तान के सभी यूनिटों में कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं. सूत्रों ने बताया है कि इस बार दो श्रेणियों में इंक्रीमेंट के लिए अप्रेजल फार्म भरवाए गए थे. इसलिए इन दो कटेगरी में ही इंक्रीमेंट होगा.

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स से सिटी इंचार्ज शिल्‍पी रस्‍तोगी का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स, बरेली से शिल्‍पी रस्‍तोगी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सिटी इंचार्ज थीं. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रही हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. दो महीने पहले ही शिल्‍पी को भावना बल की जगह सिटी इंचार्ज बनाया गया था. शिल्‍पी बरेली में एचटी की लांचिंग …

पटना में रंगरेलियां मनाते पकड़ा गया ‘हिंदुस्‍तानी’

‘एक ही उल्लू काफी है बरबाद गुलिस्ता करने को जहां हर साख पर उल्लू बैठा हो तो अंजामें गुलिस्ता क्या होगा।’  यह वाक्य पटना हिन्दुस्तान पर बिल्कुल फिट बैठता दिखायी पड रहा है। पूर्व से ही कई कारणों को लेकर चर्चा में आया पटना हिन्दुस्तान की शनिवार को देर रात तब और भद्द पिट गई जब हिन्दुस्तान में काम करने वाले सज्जन राजधानी पटना के एक रेस्टोरेंट में बार बालाओं के साथ रंगरेलिया मनाते पटना पुलिस द्वारा दबोच लिए गए।

हिंदुस्‍तान ने लांच किया “हिंदुस्‍तान जॉब्‍स”

हिंदुस्‍तान ग्रुप ने आज से एक नया हिंदी रोजगार समाचार पत्र ‘हिंदुस्‍तान जॉब्‍स’ की शुरुआत की है. यह टैबलाइड साइज का साप्‍ताहिक अखबार प्रत्‍येक रविवार को प्रकाशित होगा. इसे युवाओं को लक्ष्‍य करते हुए बाजार में उतारा गया है. हिंदुस्‍तान के इस नए अखबार की कीमत रखी गई है 7रुपये.  32 पेज के इस अखबार में देशभर के सरकारी, गैर-सरकारी नौकरियों की जानकारी उपलबध होगी.

मॉडल के पिछवाड़े देवी दर्शन कराने पर बवाल

हिंदुस्‍तान लखनऊ के संस्‍करण में छपे एक फोटो को लेकर लोगों में उबाल है. फोटो सिडनी में आयोजित फैशन शो में एक मॉडल का है. इस मॉडल ने फैशन शो में स्‍वीम ड्रेस में जो बिकनी पहन रखा है उसके पीछे भारत में पूजे जाने वाली देवी लक्ष्‍मी की तस्‍वीर बनी हुई है. इसको लेकर हिंदुवादी संगठनों में जहां उबाल हैं वहीं फैजाबाद जिले के रूदौली निवासी डा. नेहाल रजा ने भी इस फोटो के प्रकाशन पर अपनी आपत्ति जताई है.

चेतन पहुंचे जागरण, गुलशन ने जनसंदेश ज्‍वाइन किया

हिंदुस्‍तान, कानपुर से इस्‍तीफा देने वाले चेतन गुप्‍ता ने अपनी नई पारी दैनिक जागरण के साथ शुरू की है. उन्‍हें जागरण, कानपुर के साउथ सिटी में सहयोगी बनाया गया है. चेतन हिंदुस्‍तान में लोकल डेस्‍क पर रिपोर्टर थे. वे क्राइम देख रहे थे. माना जा रहा है जागरण में भी वो क्राइम बीट संभालेंगे.

बड़े अखबार की छोटी सोच ने शशि शेखर को गायब कर दिया

खुद को दुनिया का सबसे बड़ा अखबार बताने वाले दैनिक जागरण की सोच कितनी छोटी है इसका अंदाजा चार मई को दैनिक जागरण के आगरा एडिशन में प्रकाशित एक समाचार से ही लगाया जा सकता है। वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे पर आगरा में आयोजित एक कार्यक्रम में भी दैनिक जागरण समूह अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी हिंदुस्तान के साथ अपनी प्रतिस्पर्द्धा को अनदेखा नहीं कर पाया।

मनोज पमार-अनुराधा प्रकरण : हिंदुस्‍तान के खिलाफ पत्र युद्ध शुरू

हिंदुस्तान, आगरा के न्यूज एडिटर मनोज पमार के मुद्दे पर अब हिंदुस्तान प्रबंधन को घेरने के लिए आगरा के पत्रकारों के बीच मुहिम शुरू हो गई है। जिस तरह से हिंदुस्तान प्रबंधन ने हिंदुस्तान की महिला पत्रकार अनुराधा श्रीवास्तव के आरोपों की अनदेखी कर और सतही जांच कर मनोज को क्लीन चिट दे दी उससे सिर्फ हिंदुस्तान के ही नहीं अन्य संस्थानों के पत्रकार भी उद्वेलित हैं।

साढ़े तीन साल बाद फिर बनारस पहुंचे योगेश

तेजतर्रार पत्रकार योगेश यादव साढ़े तीन साल बाद फिर वाया चंडीगढ़-इलाहाबाद होते हुए वाराणसी पहुंच गए हैं. सन 2001 में अमर उजाला, वाराणसी से अपने करियर की शुरुआत करने वाले योगेश लगभग सात सालों तक यहां रहे. इन्‍होंने अमर उजाला में फर्स्‍ट पेज इंचार्ज और सिटी चीफ के रूप में सेवाएं देने के बाद हिंदुस्‍तान, चंडीगढ़ चले गए. वहां अक्‍कु श्रीवास्‍तव के साथ लांचिंग टीम में शामिल रहे.

वेद प्रकाश का आज समाज से इस्‍तीफा, अमरेश, संजीव इधर-उधर

वरिष्ठ पत्रकार व लेखक वेद प्रकाश मिश्रा ने भी आज समाज अखबार से इस्‍तीफा दे दिया है.  आज समाज में पूर्व संपादक मधुकर उपाध्याय के नजदीकी माने जाने वाले श्री मिश्रा को जब नई टीम के लोगों ने निशाना बनाना शुरू किया तो इन्‍होंने इस्‍तीफा देना ही बेहतर समझा.  वेद प्रकाश अपनी नई पारी जर्नलिस्‍ट टुडे नेटवर्क की सहायक कंपनी गंगा मीडिया सोल्‍यूशंस की शीघ्र लांच होने वाली पत्रिका आज की दिल्‍ली से शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें न्‍यूज को-आर्डिनेटर बनाया गया है. वे लेखकों और पत्रकारों से को-आर्डिनेशन करते हुए लेख और खबरों के चयन की महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारी संभालेंगे.

हिंदुस्‍तान ने सपाइयों से चने बिकवाया

हिंदुस्‍तानइस बार तो हिन्दुस्तान ने गलतियों की सारी सीमाएं ही पार कर दी हैं। मेल को फीमेल और फीमेल को मेल बना दिया तो सपा जिलाध्यक्ष और पूर्व विधायकों से चने बिकवा दिये। वाकया है हिन्दुस्तान के बदायूं के 24 अप्रैल के अंक का। पेज तीन पर एक खबर छपी है जिसका हेडिंग है पालिका प्रशासन के खिलाफ भड़का गुस्सा। इस खबर में वार्ड 12 के सदस्य समर हारून के नेतत्व में धरना प्रदर्शन दिखाया गया है।

बसंत पाल, प्रवीण और रूचि का अपने-अपने संस्‍थानों से इस्‍तीफा

राज एक्‍सप्रेस, इंदौर बसंत पाल ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर बिजनेस एडिटर थे. वे पिछले बीस सालों से बिजनेस और कारपोरेट क्षेत्र से जुड़े हुए हैं. उन्‍होंने अपनी नई पारी दबंग दुनिया से की है. उन्‍हें यहां बिजनेस एडिटर बनाया गया है.

कृष्‍ण कुमार कन्‍हैया का न्‍यूज एक्‍सप्रेस से इस्‍तीफा, अजीत की नई पारी

कृष्‍ण कुमार कन्‍हैया ने न्‍यूज एक्‍सप्रेस से इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर प्रोड्यूसर थे. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा चैनल हेड मुकेश कुमार को दिया है. वे दो महीना भी न्‍यूज एक्‍सप्रेस के साथ नहीं रह पाए. कृष्‍ण कुमार साधना न्‍यूज से इस्‍तीफा देकर न्‍यूज एक्‍सप्रेस पहुंचे थे. वे दस सालों से टीवी पत्रकारिता में सक्रिय हैं.

कोयलांचल के मिजाज को समझ पाने में फेल रहा दैनिक भास्कर धनबाद

17 अप्रैल से धनबाद कोयलांचल के बाजार में पूरे ताम-झाम के साथ दैनिक भास्कर उतरा और पूरी तरह से फ्लॉप हो गया. यह एकदम सही है. इसकी  एक बड़ी वजह यह है कि दैनिक भास्कर धनबाद कोयलांचल के मिजाज को समझ पाने में एकदम फेल रहा. न तो पहले दिन और न ही अंतिम दिन भास्कर की जो टीम बनी है, वह भी एकदम डी ग्रेड की है. हिंदुस्तान और प्रभात खबर से जो लोग भास्कर में गये, वे एक तरह से दोनों अखबारों में रिजेक्‍ट श्रेणी में थे.

नवाज और विनोद की नई पारी

राज एक्‍सप्रेस भोपाल से नवाज शरीफ ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सब एडिटर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी की शुरुआत हिंदुस्‍तान, मुजफ्फरपुर से करने जा रहे हैं. उन्‍हें यहां भी सब एडिटर बनाया गया है. नवाज ने अपने करियर की शुरुआत नई दुनिया, भोपाल के साथ की थी. वे ईटीवी से भी जुड़े रहे.

मनोज, श्रुति, नीलाभ, मनोरंजन, आशीष, कृष्‍णकांत और फरहत के बारे में नई जानकारी

हिंदुस्‍तान, कोलकाता ब्‍यूरो बंद होने के बाद बेरोजगार हुए मनोज सिंह ने अपनी नई पारी शुरू कर दी है. उन्‍होंने राजस्‍थान पत्रिका ज्‍वाइन ज्‍वाइन कर लिया है. मनोज काफी समय तक हिंदुस्‍तान कोलकाता के ब्‍यूरोचीफ रहे हैं. इसके पहले भी इन्‍होंने कई अखबारों में काम किया है.

हिंदुस्‍तान, कानुपर में पत्रकारों का टोटा, साप्‍ताहिक अवकाश बंद

हिंदुस्‍तान, कानपुर की हालत इन दिनों ठीक नहीं चल रही है. अंदरखाने से मिल रही सूचनाओं पर भरोसा किया जाए तो संस्‍थान पत्रकारों की कमी से जूझ रहा है. पिछले तीन महीने में दर्जनों लोग संस्‍थान छोड़कर दूसरे संस्‍थानों में चले गया या इस्‍तीफा देकर खाली बैठे हैं. खबर है कि इन सब मामलों को लेकर प्रबंधन ने कानपुर से जुड़े पन्‍द्रह जिलों के ब्‍यूरोचीफों की मीटिंग बुलाई थी, जिसमें तमाम मुद्दों पर चर्चा की गई.

रेनु का बीबीसी से इस्‍तीफा, संदीप एवं पूनम की नई पारी

बीबीसी से रेनु अगाल का नाता अब खतम हो गया है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा दे दिया है. वे पिछले पन्‍द्रह वर्षों से बीबीसी के साथ स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट के रूप में जुड़ी हुई थीं. उन्‍होंने भारत के साथ ब्रिटेन में भी बीबीसी को अपनी सेवाएं दीं. उन्‍होंने बीबीसी के लिए कई प्रोग्राम तथा इंटरव्यू किए. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने वाली हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. उल्‍लेखनीय है कि बीबीसी में पिछले कई महीने से उठा-पटक तथा जाने का दौर चल रहा है.

हिंदुस्‍तान ने खोली सहारा के फर्जीवाड़े की पोल

: सेबी ने लगा रखी हैं सहारा की दो फर्मों पर रोक,  7 अप्रैल को हट चुका है सहारा को मिला स्‍टे : पूंजी बाजार नियामक सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) के प्रतिबंध के बावजूद सहारा इंडिया परिवार समूह की दो कंपनियां सहारा हाउसिंग इनवेस्टमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड व सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन लिमिटेड अभी भी आम लोगों से पैसा एकत्र कर रही हैं।

ऊषा श्रीवास्‍तव ने पायनीयर तथा अ‍रविंद सिंह ने हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन किया

अमर उजाला, नेशनल ब्‍यूरो से ऊषा श्रीवास्‍तव ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट थीं. इन्‍होंने अपनी नई पारी पायनीयर हिंदी के साथ दिल्‍ली में शुरू किया है. इन्‍हें यहां भी सीनियर स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बनाया गया है. बताया जा रहा है कि पायनीयर का ब्‍यूरो स्‍थापित होने के बाद उसे ऊषा ही हेड करेंगी. ऊषा पिछले चौबीस साल से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. बीएचयू से पत्रकारिता का कोर्स करने के बाद कुछ समय तक बीएचयू की पत्रिका के लिए काम किया इसके बाद बनारस में दैनिक आज ज्‍वाइन कर लिया. सन 96 में यहां से इस्‍तीफा देने के बाद वे अमर उजाला से दिल्‍ली में जुड़ गईं. यहां इन्‍होंने कारोबार सेगमेंट के लिए काम किया. यहां से इस्‍तीफा देकर दैनिक जागरण से जुड़ी. इसके बाद राजस्‍थान पत्रिका के ब्‍यूरोचीफ के रूप में दिल्‍ली में ज्‍वाइन किया. 2009 में यहां से इस्‍तीफा देने के बाद दुबारा अमर उजाला पहुंची थीं. ऊषा की पॉलिटिकल बीट पर अच्‍छी पकड़ मानी जाती है. ये रेल मंत्रालय में हिंदी सलाहकार समिति तथा लोकसभा हिंदी कमेटी की मेंबर भी हैं.

मंगलवार से बदल जाएगी हिंदुस्‍तान की शक्‍ल और सूरत

मंगलवार को जो हिंदुस्‍तान अखबार आपके हाथ में होगा उसकी शक्‍ल, सूरत और सीरत तीनों बदली होगी. हिंदुस्‍तान प्रबंधन सिर्फ ले आउट ही नहीं कांसेप्‍ट में भी बदलाव करने जा रहा है. ये बदलाव हिंदुस्‍तान के सभी एडिशनों और सेंटरों पर एक साथ लागू होगा. अखबार के मास्‍ट हेड के साथ ले एलाइनमेंट को भी बदला गया है.

कमीशन बढ़ाने की मांग : हलद्वानी के हॉकर हड़ताल पर

: जागरण, उजाला और हिंदुस्‍तान की प्रतियां नहीं बंटी : उत्‍तराखंड के हलद्वानी सेंटर से जुड़े कुमाऊ मंडल के हॉकर कमीशन बढ़ाने की मांग को लेकर हड़ताल पर हैं. हॉकरों ने अमर उजाला, दैनिक जागरण तथा हिंदुस्‍तान की प्रतियां नहीं बांटी. उनकी मांग है कि अमर उजाला और दैनिक जागरण कमीशन बढ़ाकर एक रुपये करे. कल से शुरू हड़ताल आज भी जारी रहा. दोनों अखबारों का प्रबंधन स्थितियों को संभालने की कोशिश में लगा हुआ है.

गायब पत्रकार राकेश सुरक्षित, आज लौटेंगे चंडीगढ़ से मऊ

मऊ से पिछले छह दिनों से गायब हिंदुस्‍तान के पत्रकार राकेश सिंह सकुशल घर लौट रहे हैं. राकेश चंडीगढ़ से अपने परिजनों से फोन करके बताया कि अपहरणकर्ताओं ने उन्‍हें एक हजार रुपये देकर छोड़ दिया है. वे घर लौट रहे हैं. सभांवना है कि आज किसी समय वे मऊ पहुंच जाएंगे. हालांकि कुछ लोग अपहरण की इस कहानी को संदिग्‍ध मान रहे हैं.

हिंदुस्‍तान, रांची के दो पत्रकारों का दिल्‍ली तबादला

: रिपोर्टर अशोक कुमार का भी दिल्‍ली तबादला : हिंदुस्‍तान के प्रमुख संपादक शशि शेखर के दौरे की गाज दो लोगों पर गिरी है. दो दिन पहले शशि शेखर के रांची पहुंचने के बाद से ही हड़बड़ी मची हुई है. सभी लोग घबराए हुए हैं. रांची से सीनियर न्‍यूज एडिटर संदीप कमल और कार्यालय संवाददाता अशोक कुमार को दिल्‍ली भेज दिया गया है. खबर है कि कुछ और लोगों पर तलवार लटक रही है.

तीन दिन बाद भी पत्रकार राकेश का कोई सुराग नहीं

: परिजन अनहोनी की आशंका से परेशान : मऊ के दैनिक हिंदुस्‍तान के कार्यालय से मंगलवार की रात से रहस्यमय परिस्थितियों में लापता हुए पत्रकार राकेश सिंह का 60 घंटे बाद भी पता नहीं चल सका है. पुलिस उनकी तलाश में हाथ-पैर मार रही है. पुलिस की एक टीम कानपुर रवाना की गयी है. उधर अपहरण व हत्या किये जाने की आशंका से तीसरे दिन भी राकेश के परिजन व शुभचिंतक परेशान रहे.

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स में वेंकी वेंकटेश, राजन भल्‍ला और राजीव बत्रा को नई जिम्‍मेदारियां

: विवेक गौर देंगे इस्‍तीफा : हिंदुस्‍तान टाइम्‍स में उच्‍चस्‍तर पर कुछ फेरबदल किए गए हैं. वेंकी वेंकटेश, राजन भल्‍ला और राजीव बत्रा को नए रोल दिए गए हैं. उनकी जिम्‍मेदारियों को बढ़ा दिया गया है. वहीं अब तक नार्थ ईस्‍ट रीजन के बिजनेस हेड के रूप में काम कर रहे विवेक गौर संस्‍थान को अलविदा कहने वाले हैं. वे खुद का वेंचर लाने जा रहे हैं.

बिहार-झारखंड के कई यूनिटों में हिंदुस्‍तान ने किया फेरबदल

हिंदुस्‍तान, जमशेदपुर से सूचना है कि यहां के यूनिट हेड अमिताभ कुमार को रांची भेज दिया गया है. वे पिछले एक दशक से जमशेदपुर यूनिट को देख रहे थे. रांची में उन्‍हें मार्केटिंग हेड बनाया गया है.  भागलपुर यूनिट से प्रशांत कुमार को जमशेदपुर भेजा जा रहा है. रांची के मार्केटिंग हेड इंद्रजीत सिंह को पटना का मार्केटिंग हेड बना दिया गया है. अब वे पटना की जिम्‍मेदारी संभालेंगे.

हिंदुस्‍तान का पत्रकार गायब, परिजनों ने जताई अपहरण की आशंका

मऊ में हिंदुस्‍तान के पत्रकार राकेश सिंह मंगलवार की रात करीब साढ़े नौ बजे रहस्‍यमय परिस्‍ि‍थतियों में लापता हो गए. परिजनों ने उनके अपहरण की आशंका जताई है. पुलिस ने पूरी रात उनकी तलाश की लेकिन उनका कोई पता बुधवार को पुलिस अधीक्षक ओंकार सिंह और सीओ सिटी श्रवण कुमार सिंह ने मौका मुआयना किया और परिजनों से जानकारी ली. अभी तक पत्रकार का कोई पता नहीं चल पाया है.

हिंदुस्‍तान, आगरा से मनोज वार्ष्‍णेय का तबादला बरेली

हिंदुस्‍तान, आगरा से मनोज वार्ष्‍णेय का तबादला बरेली के लिए किया जा रहा है. उन्‍हें बरेली में चीफ कॉपी एडिटर के पद पर भेजा जा रहा है. मनोज आगरा में रीजनल डेस्‍क इंचार्ज थे. सूचना है कि वे बरेली पहुंचकर वहां की स्थितियों से अवगत हो रहे हैं. इसके पहले दीपक अग्रवाल को भी आगरा से बरेली भेजा गया था.

हिंदुस्‍तान, पटना से भागलपुर भेजे गए राजेश रंजन, संजय का लोकदशा से इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, पटना में ज्‍वाइंट न्‍यूज एडिटर राजेश रंजन का तबादला भागलपुर यूनिट के लिए कर दिया गया है. यहां भी वे ज्‍वाइंट न्‍यूज एडिटर की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. माना जा रहा है कि प्रभात खबर, भागलपुर से रणनीतिक मुकाबला करने के लिए राजेश को वहां भेजकर टीम मजबूत करने की कोशिश की गई है. राजेश पिछले 15 सालों से मुख्‍य धारा की पत्रकारिता कर रहे हैं. उन्‍होंने 2009 में हिंदुस्‍तान, पटना ज्‍वाइन किया था. इसके पहले वे अमर उजाला और दैनिक जागरण जैसे अखबारों में पंजाब, हिमाचल प्रदेश और दिल्‍ली में महत्‍वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं.

राजकुमार ने एक कदम आगे ज्‍वाइन किया, सुजीत जाएंगे धनबाद

समय सारांश से राजकुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां रिपोर्टर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक एक कदम आगे के साथ शुरू की है. यहां भी उन्‍हें रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. राजकुमार ने अपने करियर की शुरुआत अमर उजाला, दिल्‍ली के साथ 2002 में की थी. कुछ समय बाद वे ईटीवी, हैदराबाद के हिस्‍से बने. फिर एस1 से चार सालों तक जुड़े रहे. इसके बाद हमार टीवी ज्‍वाइन कर लिया था. हमार टीवी से इस्‍तीफा देने के बाद समय सारांश के साथ जुड़ गए थे.

हिंदुस्‍तान के कैंपस सलेक्‍शन के दौरान आपस में भिड़े छात्र

माखनलाल चतुर्वेदी राष्‍ट्रीय पत्रकारिता विश्‍वविद्यालय में चल रहे हिंदुस्‍तान के कैंपस सलेक्‍शन के दौरान विवाद हो गया. इससे नाराज छात्रों ने वहां रखी कई कुर्सियों को तोड़ डाला. बाद में अध्‍यापकों के बीच बचाव करने तथा समझाने पर छात्र शांत हुए तथा दुबारा सलेक्‍शन शुरू हुआ. हालांकि इस मामले को लेकर छात्रों के गुटों में काफी देर तक तनाव बना रहा.

धीरज मेट्रो7 तथा आशुतोष हिंदुस्‍तान पहुंचे

धीरज सिंह ने हमारा महानगर, मुंबई से इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी मुंबई में मेट्रो7 से जुड़ गए हैं. खबर है कि हमारा महानगर से कई लोग इस्‍तीफा देकर मेट्रो7 से जुड़ सकते हैं. धीरज काफी समय से हमारा महानगर को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

हिंदुस्‍तान, बरेली से मई में इस्‍तीफा देंगे कई हिंदुस्‍तानी!

बरेली, हिन्दुस्तान से खबर है कि यहां तैनात कई रिपोर्टर और सब एडिटर सम्भवत: अप्रैल में होने वाले इन्क्रीमेंट और प्रमोशन के इंतजार में बैठे हैं। अंदर की खबर है कि इन लोगों को यदि काम के हिसाब से इन्क्रीमेंट और प्रमोशन नहीं मिला तो मई में तमाम लोग हिन्दुस्तान को अलविदा कह देंगे।

संजय ने हिंदुस्‍तान, विनीत ने मौर्य टीवी ज्‍वाइन किया

दैनिक जागरण, देहरादून से संजय कुशवाहा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर थे. वे अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान, गुड़गांव से शुरू कर रहे हैं. उन्‍हें यहां का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. संजय ने अपने करियर की शुरुआत अमर उजाला, इलाहाबाद से की थी. इसके बाद दैनिक भास्‍कर, सोनीपत से जुड़ गए. इसके बाद अमर उजाला, देहरादून पहुंचे. फिर दैनिक जागरण ज्‍वाइन कर लिया था. संजय का क्राइम रिपोर्टिंग पर अच्‍छा पकड़ माना जाता है.

ईटीवी के साथ जुड़ सकते हैं अरुण अशेष!

हिंदुस्‍तान से एक खबर और है. हिंदुस्‍तान, पटना के ब्‍यूरोचीफ रहे तथा वर्तमान में दिल्‍ली में काम कर रहे अरुण अशेष संस्‍थान को अलविदा कह सकते हैं. कुछ महीने पहले ही अरुण का तबादला पटना से दिल्‍ली के लिए कर दिया गया था. इनके बारे में खबर है कि ये ईटीवी के साथ जुड़ सकते हैं.

हिंदुस्‍तान में छंटनी की तैयारी, वरिष्‍ठों की ली परीक्षा

: सहायक संपादक से लेकर जूनियर लेबल तक के लोग रहे शामिल : हिंदुस्‍तान, पटना से खबर है कि यहां बड़े पैमाने पर मोटी सेलरी वालों को निपटाने की तैयारियां चल रही हैं. वर्षों से जमे और मोटी सेलरी वालों की जगह कम वेतन पर युवा पत्रकारों को लाए जाने की रणनीति पर काम चल रहा है. इसी रणनीति पर अमल करते हुए प्रबंधन ने शनिवार को अपने कुछ साथियों की परीक्षा ली.

हिंदुस्‍तान, बरेली से अमित और राजकुमार का आगरा तबादला

हिंदुस्‍तान, बरेली से खबर है कि रीजनल डेस्‍क के इंचार्ज अमित गुप्‍ता का तबादला आगरा के लिए कर दिया गया है. माना जा रहा है कि आगरा की टीम को मजबूत करने के लिए अमित को यहां लाया जा रहा है. आगरा के संपादक केके उपाध्‍याय बरेली में उनके काम को देख चुके हैं. मूलत: बनारस के रहने वाले अमित आईआईएमसी पास आउट हैं. हिंदुस्‍तान से पहले वे अमर उजाला, आई-नेक्‍स्‍ट को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

जयंती रंगराजन बनीं हिंदुस्तान की सीनियर फीचर एडिटर

जयंतीवरिष्‍ठ पत्रकार जयंती रंगनाथ हिंदुस्‍तान के साथ जुड़ गई हैं. उन्‍होंने यहां सीनियर फीचर एडिटर के पोस्‍ट पर ज्‍वाइन किया है. ये पिछले ढाई दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में हैं. जयंती ने अपने करियर की शुरुआत 1985 में धर्मयुग से की थी. नौ साल तक यहां काम करने के पश्‍चात 1994 में सोनी टीवी से मुंबई में जुड़ गईं.

हिन्दुस्तान का यह कैसा स्टिंग?

हिन्दुस्तान, आगरा ने अपने 16 मार्च के अंक में हिन्दुस्तान स्टिंग लोगो लगाते हुए पेज-एक पर एक खबर छापी है। इसका शीर्षक है- बिक रही हैं बोर्ड की कॉपियां। स्टिंग है तो जाहिर है कि बाईलाइन खबर होनी चाहिए सो नासिर हुसैन का नाम दिया गया है। मिढ़ाकुर पेट्रोल पंप के पास कॉपियां बेचने आए एक कर्मचारी का फोटो भी है। यह खबर अपने आप में बड़ा धमाका है।

नम्‍बर दो का जश्‍न : मिठाई-गुलाल से हिंदुस्‍तान ने मनाई खुशी

वाराणसी से एक खबर यह है कि भास्कर को पीछे छोड़ हिन्दुस्तान के भारत का दो नंबर का अखबार हो जाने की खुशी में शुक्रवार को सुबह अखबार वितरण सेंटरों पर हिंदुस्तान की ओर से न सिर्फ बैनर लगाए गए थे, अपितु वितरकों को मिठाइयां खिलायी गयीं और गुलाल उड़ाए गए। ज्ञात हो कि दैनिक भास्कर को पीछे छोड़ कर हिन्दुस्तान देश का दूसरा सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला अखबार बन गया है।

पहले अपने गिरेबान में देखें शोषण करने वाले ये अखबार

आजकल मीडिया जगत के कई अखबारों में न्यूनतम वेतनमान के नाम पर कई विभागों एवं कंपनियों के खिलाफ काफी कुछ लिखा जाता है. छापा जाता है कि मजदूरों का शोषण किया जा रहा है, और भी ना जाने क्‍या-क्‍या? पर क्‍या अखबारों में नौकरी करने वाले लोगों को न्यूनतम वेतनमान मिलता है? शायद ज्‍यादातर अखबारों में हालत कमोवेश एक जैसा ही है. सभी जगह जिला स्‍तरीय पत्रकारों और स्ट्रिंगरों को न्‍यूनतम वेतनमान तक नहीं दिया जाता है.

हिंदुस्‍तान ने चुराई कॉम्‍पैक्‍ट की खबर!

हिंदुस्‍तान आगरा में न जाने क्या हो रहा है। पहले यहां भास्कर, भोपाल की खबरें एक महिला रिपोर्टर के नाम से छापी जा रही थीं। इसके सबूत भड़ास को दिए जा चुके हैं। लेकिन अब तो हद ही हो गई है। आगरा के अखबारों की खबरें भी चोरी करके छापी जा रही हैं और वो भी बाईलाइन यानी रिपोर्टर के नाम से।

उपेंद्र एवं महेश का हिंदुस्‍तान तथा शशि का लोकदशा से इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, मथुरा से दो रिपोर्टरों ने इस्‍तीफा दे दिया है. बताया जा रहा है कि इन लोगों ने जिला प्रभारी से अनबन होने के बाद संस्‍थान को अलविदा कहा है. इस्‍तीफा देने वाले में उपेंद्र त्रिपाठी एवं महेश शर्मा शामिल हैं. ये दोनों लोग अपनी नई पारी कहां से शुरू करने वाले हैं, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. उपेंद्र पिछले ढाई दशक से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. जबकि महेश शर्मा हिंदुस्‍तान की मथुरा में लांचिंग के समय इसका हिस्‍सा बने थे. खबर है कि एक कम्‍प्‍यूटर ऑपरेटर भी हिंदुस्‍तान को अलविदा कह दिया है.

हिंदुस्‍तान से चेतन का इस्‍तीफा, हरेराम जी न्‍यूज पहुंचे

हिंदुस्‍तान, कानपुर से चेतन गुप्‍ता ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर लोकल डेस्‍क पर रिपोर्टर थे. वे क्राइम देख रहे थे. उन्‍होंने अभी अपनी पारी नहीं शुरू की है, लेकिन माना जा रहा है कि कुछ अच्‍छे ऑफर उनके पास हैं. वे हिंदुस्‍तान की भीतरी परेशानियों से आहत होकर इस्‍तीफा दिए हैं.

भास्कर को पीछे छोड़ हिन्दुस्तान बना नम्‍बर दो

दैनिक भास्कर को पीछे छोड़ कर हिन्दुस्तान देश का दूसरा सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला अखबार बन गया है। ताजा आकड़ों के अनुसार हिन्दुस्तान की कुल रीडरशिप 3.52 करोड़ हो गई है जो दैनिक भास्कर की कुल रीडरशिप से 12 लाख ज्यादा है। हिन्दुस्तान, देश का इकलौता बड़ा अखबार है जो आईआरएस के पिछले सात चक्र (आर1- 2008 से) में निरंतर आगे बढ़ा है। इस वृद्धि दर से हिन्दुस्तान ने चौथे नंबर से आगे बढ़ते हुए दूसरा स्थान हासिल कर लिया है।

हिंदुस्‍तान, बदायूं से ओमप्रकाश एवं राजीव की छुट्टी

हिंदुस्‍तान, बदायूं में उठापटक का दौरा जारी है. खबर है कि यहां तैनात सुपर स्ट्रिंगर ओमप्रकाश ओमी और फोटोग्राफर राजीव पाल को बाहर का रास्‍ता दिखा दिया गया है. बताया जा रहा है कि यह सारी कवायद नए ब्‍यूरोचीफ संजीव गंभीर द्वारा अपने लोगों को सेट करने के लिए किया जा रहा है. ओमप्रकाश एवं राजीव हिंदुस्‍तान, बदायूं की लांचिंग से जुड़े हुए थे. अभी इन लोगों कहीं ज्‍वाइन नहीं किया है.

सौ रुपये में बिक गए बनारस के पत्रकार

अजयवाराणसी से खबर है कि शुक्रवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस में हिंदुस्तान के रिपोर्टर को छोड़ सभी पत्रकार महज एक-एक सौ रुपये में बिक गए। इस तरह हिंदुस्तान के रिपोर्टर ने एक मिसाल कायम की। हुआ यह कि कारमाइकल लाइब्रेरी में एक प्रेस कान्फ्रेंस रखी गयी थी। ओलंपियन लक्ष्मीकांत पांडेय उर्फ चिक्कन गुरु की स्मृति में 13 मार्च को दिन में 12 बजे से कुश्ती दंगल का आयोजन किया गया है। चिक्कन गुरु के बेटे कपिल पांडेय ने यह पीसी बुलाई थी।

एटा में बेलगाम पुलिस ने की दो फोटोग्राफरों की पिटाई

: पत्रकारों ने की कोतवाल के निलंबन की मांग : एटा में सपाइयों के प्रदर्शन को कवर कर रहे पत्रकारों एवं फोटोग्राफरों को पुलिस ने गालियां दी तथा दुर्व्‍यवहार किया. दो फोटोग्राफरों को कोतवाल समेत कई पुलिसकर्मियों ने जमकर पीटा. एक फोटोग्राफर के कपड़े भी फट गए. घटना से नाराज पत्रकार एसपी से मिलकर आरोपी कोतवाल को निलंबित करने की मांग की.

एचटी सिटी की जिम्‍मेदारी शिल्‍पी को, भावना हटीं

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स, बरेली में आंतरिक फेरबदल किए गए हैं. एचटी सिटी की इंचार्ज भावना बल से जिम्‍मेदारी ले ली गई है. उनकी जगह एचटी सिटी की जिम्‍मेदारी शिल्‍पी रस्‍तोगी को सौंप दी गई है. अब से अंकित यादव, वैशाली और फोटोग्राफर रोहित जाट भावना की जगह शिल्‍पी को रिपोर्ट करेंगे. अब भावना बल केवल एचटी के लिए लिखेंगी.

हिंदुस्‍तान ने फिर उधेड़ी भास्‍कर के डीबी पावर की बखियां

हिंदुस्‍तान ने अब खुल्‍लम-खुल्‍ला डीबी पावर के खिलाफ अपना मोर्चा खोल लिया है. बुधवार को एक रिपोर्ट प्रकाशित करने के बाद आज दूसरे दिन भी हिंदुस्‍तान के सिपहसलार सुहैल हामिद ने एक स्‍टोरी लिखी है. इसे संपादकीय के बाद वाले पेज पर प्रमुखता के साथ छापा गया है. ‘डीबी पावर के प्रस्‍ताव पर भड़के लोग’ शीर्षक से मुख्‍य स्‍टोरी के साथ एक दूसरी स्‍टोरी भी प्रकाशित की गई है.

ललित ने बंसल न्‍यूज तथा रजत ने हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन किया

सहारा समय, इंदौर से ललित शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे सीनियर कैमरामैन थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी बंसल न्‍यूज के साथ शुरू की हैं. उन्‍होंने टेक्निकल इंचार्ज के पद पर ज्‍वाइन किया है. वे पिछले काफी समय से सहारा समय के साथ जुड़े हुए थे तथा कई शहरों में काम कर चुके हैं.

आगरा की महिला रिपोर्टर के उत्‍पीड़न के मामले में सोया है हिंदुस्‍तान

: एक वरिष्‍ठ पत्रकार पर दैहिक शोषण का आरोप : शहर भर में जागो आगरा का नारा बुलंद करने वाला हिन्दुस्तान का प्रबंध तंत्र महिला उत्पीड़न के मामले में सोया हुआ है। एक स्ट्रिंगर महिला पत्रकार न्याय की आस में है, लेकिन उसकी फरियाद को सुना नहीं जा रहा है। इस महिला पत्रकार का दैहिक शोषण करने वाले हिन्दुस्तान आगरा के वरिष्ठ पत्रकार की जांच में हिन्दुस्तान प्रबंधतंत्र ने सिर्फ औपचारिकता ही निभाई है।

डीबी पॉवर के खिलाफ हिंदुस्‍तान ने भी खोला मोर्चा

: सुहैल हामिद ने छापी बड़ी रिपोर्ट : यकीन करना मुश्किल है कि देश के मीडिया घराने अब पत्रकारिता की आड़ में संपत्ति हथियाने की लड़ाई में उतर गए हैं. दैनिक भास्‍कर ग्रुप का कारनामा अक्‍सर सुर्खियों में रहता है. इस समय सुर्खी छत्‍तीसगढ़ के धर्मजयगढ़ में डीबी पॉवर को मिले कोल ब्‍लॉक के ठेके को लेकर है. हिंदु के बाद हिंदुस्‍तान ने भी डीबी पॉवर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इसके लिए सुहेल हामिद को तैनात किया गया है. अब इस खबर को जनहित में लिखा गया है या फिर व्‍यवसायिक प्रतिद्वंद्वता में, यह तो हिंदुस्‍तान जाने पर इस खबर ने इस प्रोजेक्‍ट के पीछे चल रहे गोरखधंधे को जरूर उजागर किया है.

दो सरकारी विज्ञान पत्रिकाएं बंद

केंद्र सरकार वैसे तो विज्ञान के प्रचार-प्रसार के दावे खूब करती है, लेकिन विज्ञान विषयों में लंबे अरसे से निकल रही दो सरकारी पत्रिकाएं बंद पड़ी हैं. कारण सिर्फ इतना है कि जो सरकारी संस्‍था इन पत्रिकाओं का प्रकाशन करती है, उसके प्रबंध निदेशक भ्रष्‍टाचार के मामले में निलंबि‍त हो चुके हैं और नए निदेशक की नियुक्ति दो माह से नहीं हो पाई है.

नितिन ने प्रदेश टुडे, अखिलेश ने जागरण ज्‍वाइन किया

पीपुल्‍स समाचार, भोपाल से नितिन दुबे ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर करेस्‍पांडेंट थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी प्रदेश टुडे के साथ शुरू की है. इन्‍हें स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बनाया गया है. नितिन को रिसर्च एवं इन्‍वेस्‍टीगेशन सेल की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. वे पिछले तेरह सालों से सक्रिय पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं. इन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत राज एक्‍सप्रेस के साथ की थी. सहारा समय को भी अपनी सेवाएं दीं. इसके बाद ये पीपुल्‍स से जुड़ गए थे.

हिंदुस्‍तान, इलाहाबाद से संदीप का तबादला वाराणसी

हिंदुस्‍तान इलाहाबाद से संदीप त्रिवेदी का तबादला वाराणसी के लिए कर दिया गया है. वे यहां पर मार्केटिंग विभाग में असिस्‍टेंट डिप्‍टी मैनेजर थे. संदीप काफी समय से हिंदुस्‍तान, इलाहाबाद को अपनी सेवाएं दे रहे थे. वे यहां पर सरकारी विभाग, शिक्षा विभाग एवं इंजीनियरिंग कॉलेज से जुड़ी मार्केटिंग डिविजन को संभाल रहे थे. माना …

महबूब हिंदुस्‍तान से जुड़े, रवि का अमर उजाला से इस्‍तीफा

दैनिक जागरण, बागपत से महबूब अली ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां रिपोर्टर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान, बागपत के साथ शुरू की है. यहां भी उन्‍हें रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी दी गई है. यह हिंदुस्‍तान संग उनकी दूसरी पारी है. महबूब ने अपने करियर की शुरुआत 2005 में दैनिक जागरण के साथ की थी. उसके बाद हिंदुस्‍तान चले आए थे. फिर इन्‍होंने जागरण का दामन थाम लिया था.

भास्‍कर से इस्‍तीफा देकर हिंदुस्‍तान, बरेली के संपादक बने आशीष व्‍यास

आशीषदैनिक भास्‍कर, अजमेर के संपादक आशीष व्‍यास ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे पिछले डेढ़ दशक से भास्‍कर के साथ जुड़े हुए थे. वे अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान के साथ शुरू कर रहे हैं. उन्‍हें हिंदुस्‍तान, बरेली का आरई बनाया जा रहा है. अगले कुछ दिनों में वे अपना कार्यभार संभाल लेंगे. उल्‍लेखनीय है कि केके उपाध्‍याय का आगरा तबादला किए जाने के बाद हिंदुस्‍तान, बरेली में संपादक का पद खाली चल रहा था.

हिंदुस्‍तान के क्राइम रिपोर्टर पर महिला ने थाने के भीतर चप्‍पल उठाया

शाहजहांपुर के सदर बाजार थाने में एक महिला ने हिंदुस्‍तान के क्राइम रिपोर्टर से बदतमीजी की. महिला ने सबके सामने बृजेश द्विवेदी को न सिर्फ बुरा भला कहा बल्कि चप्‍पल लेकर हमला भी कर दिया. बृजेश की गलती इतनी थी कि मारपीट के मामले में लाई गई महिला से पूछताछ के बाद उसकी तस्‍वीर खींच रहे थे. बाद में बीच बचाव कर मामला सलटा दिया गया.

हिंदुस्‍तान, आगरा के प्रिंट लाइन में आ गए केके उपाध्‍याय

हिंदुस्‍तान, आगरा के प्रिंट लाइन में बदलाव हो गया है. बरेली से आगरा भेजे गए केके उपाध्‍याय का नाम अब प्रिंट लाइन में स्‍थानीय संपादक के रूप में जाने लगा है. इसके साथ ही दिनेश मिश्रा का नाम वहां से हट गया है. उल्‍लेखनीय है कि दिनेश मिश्रा का तबादला हिंदुस्‍तान, रांची के लिए कर दिया गया है. वहां के संपादक के इस्‍तीफा देने के बाद दिनेश का तबादला रांची किया गया था तथा बरेली के संपादक केके को आगरा बुला लिया गया था.

अमल ने भास्‍कर और शैलेंद्र ने बंसल न्‍यूज ज्‍वाइन किया

हिंदुस्‍तान, बरेली को अमल चौधरी ने अपने इस्‍तीफे का नोटिस दे दिया है. अमल यहां फीचर एडिटर थे. वे अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर, भोपाल के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें सीनियर सब एडिटर बनाया गया है. वो पिछले चार साल से हिंदुस्‍तान को अपनी सेवाएं दे रहे थे. मूल रूप से लखनऊ के रहने वाले अमल ने बरेली में हिंदुस्‍तान का रीमिक्‍स सप्‍लीमेंट बंद हो जाने की बात को ध्‍यान में रखकर पहले ही सुरक्षित किनारा ढूंढ लिया है. वे कई अखबारों में काम कर चुके हैं.

क्‍या हो गया है हिंदुस्‍तान को, एक खबर दो बार

आखिर क्‍या हो गया है हिंदुस्‍तान के पत्रकारों को खबर के अंदर तो अक्‍सर गलतियां देखेने को मिलती हैं, अब खबरों का रिपिटिशन भी होने लगा है. एक ही खबरें दो-दो जगहों पर लगने लगी हैं. कल यानी 17 फरवरी को दैनिक हिंदुस्‍तान के दिल्‍ली एडिशन में एक ही खबर दो जगह प्रकाशित हुई है. यह खबर दिल्‍ली पुलिस को कैट के एक आदेश से संबंधित है. जिसमें एक महिला की बर्खास्‍तगी को गलत बताया गया है.

जागरण, बरेली के चीफ सब एडिटर बने राजीव

हिंदुस्‍तान, झांसी से राजीव द्विवेदी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे ब्‍यूरोचीफ थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक जागरण, बरेली के साथ शुरू की है. उन्‍हें चीफ सब एडिटर बनाया गया है. राजीव ने अपने करियर की शुरुआत 1997 में जागरण, लखनऊ के साथ की थी. इसके बाद उन्‍हें जमशेदपुर भेज दिया गया. जहां वे जागरण की लांचिंग टीम के हिस्‍सा रहे. वहां से उनका तबादला जागरण, राउरकेला के लिए कर दिया गया.

हिंदुस्‍तान के साथ मनोज की नई पारी, नीरज द्वय का तबादला

:अरविंद भारद्वाज को मुजफ्फरनगर का प्रभार : हिंदुस्‍तान सहारनपुर में कई बदलाव हुए हैं. यह कवायद अखबार को मजबूती देने के लिए की जा रही है. राष्‍ट्रीय सहारा रूड़की से इस्‍तीफा देने वाले मनोज मिश्रा को हिंदुस्‍तान से जोड़ लिया गया है. क्राइम रिपोर्टर के रूप में पहचान रखने वाले मनोज को सहारनपुर ऑफिस में रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी दी गई है.

हिंदुस्‍तान, भागलपुर के संपादक विनोद बंधु एवं खगडि़या प्रभारी पर मुकदमा

हिंदुस्‍तान, खगडिया एडिशन में एक खबर छाप कर अखबार मुश्किल में आ गया है. खबर को भ्रामक तथा छवि खराब करने वाला बताते हुए हिंदुस्‍तान, भागलपुर के संपादक त‍था खबर लिखने वाले खगडि़या के जिला मोहन कुमार मंगलम पर मुकदमा दर्ज करा दिया गया है. मुकदमा मथुरापुर ग्राम की मुखिया रीता देवी ने दर्ज कराया है. हिंदुस्‍तान के खगडि़या एडिशन के 25 जनवरी के अंक में एक खबर छपी है, जिसका शीर्षक है ’54 मुखियों पर चल रहा मुकदमा’.

हिंदुस्‍तान के राउरकेला कार्यालय में भी लग गया ताला

: अपडेट : स्‍टाफ को दे दी गई पैदल करने की जानकारी : हिंदुस्‍तान के बंगाल ऑपरेशन पर ताला लगने के अब उड़ीसा ऑपरेशन को भी बंद करने का एलान किया जा चुका है. आज से राउरकेला मोडम कार्यालय को भी बंद कर दिया गया. इसकी जानकारी काम करने वाले स्‍टाफ और पत्रकारों को दी जा चुकी है. यानी हिंदुस्‍तान का पत्रकारों को बेरोजगार और पैदल करने का सिलसिला अभी और भी लंबा चलने वाला है.

भूपेंद्र, राहुल और अमन ने शुरू की नई पारी

दैनिक महका भारत, जयपुर से भूपेंद्र सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. इन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक परिवर्तन भूमि से शुरू की है. भूपेंद्र पिछले काफी समय से महका भारत के साथ जुड़े हुए थे.

हिंदुस्‍तान के भदोही, सोनभद्र, मिर्जापुर ऑफिस पर भी लगेगा ताला!

पांच हजार से कम सर्कुलेशन वाले हिंदुस्तान के मोडम कार्यालयों के बंद होने के क्रम में हिंदुस्तान, आसनसोल कार्यालय पर कल से ताला लगने की खबर वाराणसी में जैसे ही पहुंची हिंदुस्तान के पत्रकारों में हड़कंप मच गया। वाराणसी एडिशन से जुड़े सोनभद्र, मिर्जापुर और भदोही कार्यालयों पर बंदी की तलवार लटक गयी है, क्योंकि इन तीनों ही कार्यालयों से जुड़े प्रसार क्षेत्रों में सर्कुलेशन पांच हजार से कम है। इस घटना के बाद वाराणसी से निकलने वाले बाकी बड़े अखबारों जागरण, अमर उजाला, आज और राष्ट्रीय सहारा ने अपनी रणनीति तैयार करनी शुरु कर दी है, ताकि इन जिलों में हिंदुस्तान के सर्कुलेशन को पकड़ा जा सके।

हिंदुस्‍तान, आसनसोल कार्यालय पर कल से ताला, कई पत्रकार हुए बेरोजगार

हिंदुस्‍तान, धनबाद से जुड़े आसनसोल मोडम कार्यालय पर कल से ताला लटक जाएगा. हिन्‍दुस्‍तान अपना बंगाल आपरेशन पूरी तरह से बंद करने की तैयारी कर चुका है. पहले ही खबर दी जा चुकी थी कि हिंदुस्‍तान अपने पांच हजार से कम सर्कुलेशन वाले एडिशनों को बंद करेगा. इस निर्णय का पहला शिकार बना आसनसोल कार्यालय. इस मोडम कार्यालय प्रत्‍यक्ष-अप्रत्‍यक्ष रूप से जुड़े लगभग दो दर्जन लोग बेरोजगार हो जाएंगे.

अनिल भास्‍कर ने बनारस में कार्यभार ग्रहण किया

: हिंदुस्‍तान के क्राइम रिपोर्टर पवन सिंह पुलिसिया जांच में दोषमुक्‍त करार : हिंदुस्तान, वाराणसी के नए आरई अनिल भास्कर ने सोमवार को कार्यालय पहुंचे. वहां ज्‍वाइनिंग की औपचारिकताएं पूरी कीं. उन्‍हें ज्वाइन कराने के लिए लखनऊ के संपादक नवीन जोशी भी आए थे. अनिल भास्‍कर दोपहर में इलाहाबाद से वाराणसी पहुंचे. हाल तक वे हिंदुस्‍तान, इलाहाबाद के संपादक थे, जहां का प्रभार दयाशंकर शुक्‍ल सागर को सौंपा गया है.

अरविंद, नीरज और संजय की नई पारी

जनवाणी की अभी तक लांचिंग नहीं हुई है, लेकिन इसके असर से दूसरे अखबारों में हलचल शुरू हो गई है. मेरठ के बाद अब मुजफ्फरनगर में भी अन्‍य अखबारों को झटका लगना शुरू हो गया है. अमर उजाला को फिर एक झटका लगा, जबकि जागरण भी दो दिन पहले झटका खा चुका है.

हिंदुस्‍तान, आगरा के नए आरई केके उपाध्‍याय

: योगेन्‍द्र सिंह रावत को बरेली का प्रभार सौंपे जाने की चर्चा : दिनेश मिश्रा के हिंदुस्‍तान, रांची का आरई बनाए जाने के बाद आगरा में खाली पड़े संपादक के पद पर बरेली से केके उपाध्‍याय को भेजा जा रहा है. केके यहां के स्‍थानीय संपादक होंगे. उनका कद भी बढ़ा दिया गया है. अब उनके अधीन आगरा, बरेली, मुरादाबाद और अलीगढ़ यूनिट की जिम्‍मेदारी होगी. पहले इसे सुधांशु श्रीवास्‍तव देखते थे. अब सुधांशु के पास नेशनल पुल और मेरठ, देहरादून यूनिट की जिम्‍मेदारी होगी.

दयाशंकर बनेंगे हिन्‍दुस्‍तान, वाराणसी के नए आरई?

दयाशंकर शुक्‍ल सागर हिन्‍दुस्‍तान, वाराणसी के नए आरई बनाए जाएंगे, ऐसी जोरदार चर्चा मीडिया हलके में है. राजकुमार सिंह के इस्‍तीफा देने के बाद खाली पड़े आरई पद पर सागर को भेजे जाने की संभावना है. फिलहाल दयाशंकर शुक्‍ल सागर दिल्‍ली में हैं. सूत्रों का कहना है कि उनकी प्रधान संपादक शशि शेखर से मुलाकात भी हो चुकी है.

हिन्‍दुस्‍तान, वाराणसी के संपादक देंगे इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, बनारस से संपादकीय प्रभारी राजकुमार सिंह जल्‍द ही इस्‍तीफा दे देंगे. वे बनारस यूनिट के आरई के रूप में कार्य कर रहे थे. राजकुमार सिंह की प्रिंट एवं इलेक्‍ट्रानिक मीडिया दोनों पर अच्‍छी पकड़ है. अभी तकनीकी कारणों से हिंदुस्‍तान के साथ जुड़े हुए हैं. संभावना जताई जा रही है कि यहां से इस्‍तीफा मान्‍य होने के बाद वे अपनी नई पारी इलेक्‍ट्रानिक मीडिया से शुरू कर सकते हैं.

हिंदुस्‍तान के सीनियरों की नौकरी खतरे में!

हिंदुस्‍तान में सीनियर पत्रकारों की नौकरी खतरे में है. उनकी छंटनी की तैयारी शुरू हो चुकी है. गुडगांव में हुई हिन्‍दुस्‍तान की संपादकीय मीटिंग में इसके निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं कि वरिष्‍ठ संपादक बताएं के सीनियर स्‍तर पर स्‍टाफ की संख्‍या को कैसे कम किया जा सकता है. यानी सीनियरों की छंटनी कैसे की जा सकती है. सीनियरों की जगह कॉपी एडिटरों की संख्‍या बढ़ाने का फरमान भी दे दिया गया है. मतलब बड़ी सेलरी वालों की बोरिया बिस्‍तर बांधने की तैयारी शुरू होने वाली है.

मुगलसराय में हॉकरों का प्रोटेस्‍ट जारी, जागरण, हिन्‍दुस्‍तान, उजाला को नुकसान

: राष्‍ट्रीय सहारा भारी फायदे में : मुगलसराय में कमीशन को लेकर हॉकरों का प्रोटेस्‍ट दूसरे दिन भी जारी रहा. हॉकरों ने अमर उजाला, हिन्‍दुस्‍तान और जागरण का पूरी तरह बहिष्‍कार कर दिया. इसका सीधा फायदा राष्‍ट्रीय सहारा को पहुंचा. तीनों अखबारों के प्रसार से जुड़े लोग सुबह से ही डेरा डाले हुए थे, पर हॉकर इस मामले में किसी की बात सुनने को तैयार नहीं थे. सहारा ने लगभग दस हजार कॉपियां ज्‍यादा भेजी थीं.

तुलसी सेवा में जुटे हैं बनारस के ये अखबार

: पर्यवेक्षक से मारपीट के बावजूद तुलसी के प्रति नरमी दिखाई अखबारों ने :  बनारस और चंदौली में बड़े अखबारों के चहेते तुलसी सिंह राजपूत कांग्रेस से निकाल दिए गए हैं. अब्‍दुल करीम तेलगी के सहयोगी रहे और मकोका झेल चुके तुलसी सिंह राजपूत पर्यवेक्षक और महाराष्‍ट्र से एमएलसी भाई जगताप को अपने समर्थकों के साथ मिलकर ठुकाई करने तथा हवाई फायरिंग करने पर निकाला गया. युवाओं को शामिल करने का अलाप लगाने वाले महासचिव राहुल की पार्टी में तुलसी बाबा अपने पैसों के बल पर शामिल हुए थे. फिलहाल, पार्टी की तरफ से तुलसी समेत कुल दस लोगों पर मुकदमा चंदौली कोतवाली में दर्ज कराया गया है.

बनारस के प्राइस वार की आग मुगलसराय पहुंची

: हॉकरों ने नई उठाया जागरण, हिन्‍दुस्‍तान और अमर उजाला : बनारस के बाद अखबारों के बीच प्राइस वार की लपट अब आसपास के जिलों में भी पहुंचने लगी है. ताजा खबर है कि चंदौली जिले के मुगलसराय सेंटर पर भी हॉकरों ने तीनों प्रमुख अखबारों को उठाने से मना कर दिया. शनिवार की सुबह रेलवे स्‍टेशन के वीआईपी गेट के सामने स्थित अमर उजाला, जागरण और हिंदुस्तान वितरकों ने नहीं उठाया. वे वाराणसी के बराबर कमीशन दिए जाने की मांग कर रहे थे. कुछेक हॉकरों ने ही इन तीनों अखबारों के प्रतियों को हाथ लगाया. सहारा का सबसे ज्‍यादा उठान हुआ.

आशीष, सुनील और राहुल की नई पारी

अमर उजाला, मेरठ से आशीष ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे फोटोग्राफर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक जनवाणी के साथ शुरू की है. यहां सीनियर फोटोग्राफर बनाए गए हैं. वे काफी समय से अमर उजाला के साथ थे.

हिंदुस्‍तान ने शहीद संदीप के चाचा को मृत घोषित कर दिया

योगराजहिंदुस्तान अखबार के एक संवाददाता की जल्दबाजी ने अखबार की इज्जत दांव पर लगा दी। अखबार के 4 फरवरी 2011 के दिल्ली संस्करण में पहले पेज पर छपा कि शहीद उन्नीकृष्णन के चाचा ने आत्मदाह कर लिया और अस्पताल में उनकी मौत हो गई। लेकिन पीडि़त 5 फरवरी की रात खबर लिखे जाने तक भी गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। यहां आपको बता दें कि मुम्बई में 26 नवम्बर 2008 को हुए आतंकवादी हमले में शहीद हुए मेजर संदीप उन्नीकृष्णन के चाचा के. मोहनन की हालत शुक्रवार को गंभीर बनी हुई है।

हिन्‍दुस्‍तान ने अपनी गलती के लिए खेद प्रकट किया

हिन्‍दुस्‍तानहिन्‍दुस्‍तान, बदायूं में छपी एक खबर के लिए अखबार ने खेद प्रकट किया है. हिन्‍दुस्‍तान के 23 जनवरी के अंक में ‘अधिवक्‍ताओं और लिपिक में तू तू- मैं मैं’ शीर्षक से एक खबर छपी थी. जिसे लेकर बवाल खड़ा हो गया था. जिसके बाद अखबार ने ‘मुकदमों का तेजी से निस्‍तारण’ शीर्षक के साथ ‘खेद प्रकट’ शीर्षक से ‘तू तू मैं मैं’ खबर का खंडन छापा है. जिसमें कहा गया है कि जानकारी करने पर पता चला है कि वहां किसी प्रकार की धन उगाही नहीं होती और न ही वहां हाथापाई की कोई घटना हुई थी.

”हिन्‍दुस्‍तानियों ने ग्राहकों को गाली दी”

हिंदुस्तान समाचार पत्र ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के अभिनंदन मैरेज हाल में दिनांक 01 फरवरी 2011 को मासिक भुगतान कूपन एवं मुफ्त उपहार वितरण के लिये आमंत्रित किया था। हिन्दुस्तान के कर्मचारियों द्वारा कार्यक्रम स्थल पर ग्राहकों के साथ अभद्रता की गयी और उन्हें गाली भी दी गयी।

प्रमोद एवं विजय का तबादला, राम निवास की नई पारी

हिन्‍दुस्‍तान, लखनऊ से खबर है कि कई ब्‍यूरोचीफों को इधर-उधर किया जा रहा है. बहराइच से प्रमोद शुक्‍ल को सुल्‍तानपुर भेज दिया गया है. सुल्‍तानपुर से विजय मिश्र को बहराइच भेजा गया है. सूत्रों का कहना है कि अभी कुछ और फेरबदल हो सकते हैं, जिसमें गौरव अवस्‍थी और अखिलेश ठाकुर के नाम भी शामिल हैं.

बनारस में कवर प्राइस दो रुपये करेगा जागरण!

वाराणसी। यहां जिस तरह अखबारों में प्राइस वार तेज हुआ है उसमें जागरण और हिंदुस्तान के लिए ज्यादा दिनों तक अखबार साढ़े तीन रुपये में पाठकों को पढ़वाना संभव नहीं जान पड़ रहा है। अमर उजाला ने अपने अखबार की कवर प्राइस ढाई रुपये कर दिया है। वितरक कमीशन भी मंगलवार से तीस पैसे बढ़ाकर एक रुपया 35 पैसा कर दिया है। इसका खासा असर जागरण और हिंदुस्तान पर मंगलवार को सुबह सेंटरों पर देखने को मिला। इस वितरक स्कीम का अमर उजाला को तत्काल फायदा मिला।

पत्रकार की बेटी की शादी में चोरी

हिंदुस्तान, वाराणसी के सीनियर रिपोर्टर विजय विनीत की पुत्री शिखा की शादी में लाखों रुपये मूल्य का सामान चोरी होने की खबर है। बताया जा रहा है कि विजय विनीत की पुत्री का विवाह कृषि उत्पाद मंडी, पहड़िया के सामने मौर्य विहार में शुक्रवार की रात्रि में थी।

अरुण त्रिपाठी बने आज समाज में एसोसिएट एडिटर

वरिष्‍ठ पत्रकार अरुण कुमार त्रिपाठी आज समाज से जुड़ गए हैं. उन्‍होंने आज समाज में एसोसिएट एडिटर के पोस्‍ट पर ज्‍वाइन किया है. इससे पहले वे दैनिक हिन्‍दुस्‍तान में एसोसिएट एडिटर थे. अरुण कुमार त्रिपाठी की साहित्‍य में भी दिलचस्‍पी है.

हिन्दुस्तान को ले डूबेंगे हिन्दुस्तानी

हिन्दुस्तान, गोरखपुर संस्करण में शुरुआती दौर से ही गलतियों की भरमार देखी जा रही है। विज्ञापन एवं समाचारों में लगातार हो रही गलतियों के कारण पाठक उब रहे हैं। एक ही समाचार को दो पेजों पर प्रकाशित करना इनके आदत में बनता जा रहा है। वहीं विज्ञापन में फोटो किसी और का नाम किसी और का देखने को मिल रहा है। इन्होंने अपने अखबार में बरहज विधानसभा के बसपा विधायक को मुख्यमंत्री तक बना डाला।

हिन्‍दुस्‍तान ने जिसे साजिशकर्ता लिखा, उसने नोटिस भेजा

हिंदुस्तान, बदायूं की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। तथ्यहीन और बगैर पक्ष जाने खबरों के छपने पर नोटिस मिलने का सिलसिला जारी है। अब वजीरगंज थाना क्षेत्र के गांव अंगथरा निवासी किसवर नाम के व्यक्ति ने हिन्‍दुस्‍तान, बरेली के संपादक को नोटिस भेज कर जवाब मांगा है। हिंदुस्तान अखबार ने एक हत्‍या के मामले में किसवर को साजिशकर्ता बताया है।

हिन्‍दुस्‍तान, अररिया को चंदन ने बॉय बोला

हिन्‍दुस्‍तान, अररिया से चंदन कुमार लालू ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे क्राइम रिपोर्टर थे. बताया जा रहा है कि उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा अपने वरिष्‍ठों के बर्ताव से तंग आकर दिया है. फिलहाल उन्‍होंने कहीं पर ज्‍वाइन नहीं किया है लेकिन कहा जा रहा है कि वे भागलपुर से जल्‍द ही प्रकाशित होने जा रहे …

विज्ञापन दबाव से आजिज हिंदुस्‍तान के संवाददाताओं ने दी इस्‍तीफे की धमकी

इसी साल के जनवरी माह में हिंदुस्तान के ग्रामीण (अपकंट्री) इलाकों में काम करने वाले संवाददाताओं से तीन-तीन बार विज्ञापन मांगे जाने और पिछले कूपन आदि का पुरस्कार न बांटे जाने से मामला गरम होने की खबर है। शनिवार को संपादकीय प्रभारी और यूनिट हेड के साथ मीटिंग में ग्रामीण संवाददाताओं के साथ दोनों की गरमागरम बहस भी हुई। पहले तो दोनों पदाधिकारियों ने ग्रामीण संवाददाताओं को निकाल बाहर करने का अल्‍टीमेटम दिया पर बाद में उनके तेवर इस बात पर बेहद ढीले पड़ गए कि संवाददाताओं ने साफ कह दिया कि जो करना हो करें। हम किसी और अखबार में भी अपनी सेवा देकर भुगतान पा लेंगे।

बैंड-बाजे के साथ लांच हुआ हिन्‍दुस्‍तान का हापुड़ एडिशन

हिन्‍दुस्‍तान, हापुड़ एडिशन की लांचिंग धूमधाम से हुई. फूलों की बारिश और नाच-गानों के बीच हिन्‍दुस्‍तान के लोगों एडिशन लांचिंग की जमकर खुशियां मनाई. पूरे नगर में बैंड बाजे के साथ जुलूस निकाला गया. लोगों को मिलकर एक दूसरे को बधाइयां दी गईं. नए एडिशन की लांचिंग के साथ ही सर्कुलेशन के मामले में हिन्‍दुस्‍तान दैनिक जागरण को पीछे छोड़ते हुए दूसरे नम्‍बर पर पहुंच गया है. जुलूस में हिन्‍दुस्‍तान के सर्कुलेशन हेड राजेश सिंह, हिन्‍दुस्‍तान  नोएडा-गाजियाबाद के प्रभारी मनीष मिश्रा, दीपक नेगी, चेतन आनंद समेत अखबार से जुड़े कर्मचारी सहित नगर के गणमान्‍य लोग भी शामिल रहे.

हिन्‍दुस्‍तान, बदायूं अमित गए, अभिषेक आए

: अमर उजाला के पत्रकार पर मुकदमा : हिन्‍दुस्‍तान, बदायूं से अमित सक्‍सेना ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर स्ट्रिंगर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक जागरण के साथ शुरू की है. उन्‍हें क्राइम बीट की जिम्‍मेदारी दी गई है. अमित पिछले काफी समय से जागरण से जुड़े हुए थे. सेलरी और पद ना बढ़ाए जाने से नाराज थे. हलद्वानी के एक अखबार में काम करने वाले अभिषेक सक्‍सेना ने इस्‍तीफा देकर हिन्‍दुस्‍तान, बदायूं का दामन थाम लिया है.

अक्‍सर होती है ऐसी गलती

[caption id="attachment_19269" align="alignleft" width="74"]एएन शिबलीएएन शिबली[/caption]यह एक हक़ीक़त है कि उर्दू बहुत ही प्यारी और मीठी ज़बान है। यही कारण है कि उर्दू नहीं जानने वाले भी उर्दू के शब्दों का इस्तेमाल करना चाहते हैं और करते रहते हैं। मीडिया में भी उर्दू के शब्द खूब इस्तेमाल होते हैं, मगर अफसोस की बात यह है कि उर्दू के कुछ शब्द ऐसे हैं जो हिन्दी मीडिया में हमेशा ग़लत ही इस्तेमाल होते है। चाहे वो टेलीवीजन का एंकर हो या फिर हिन्दी अखबार। यहाँ उर्दू के शब्द इस्तेमाल तो खूब होते हैं मगर अफसोस की बात यह है कि वो अक्‍सर ग़लत होते हैं।

हैंडबिल के सहारे अपनी इज्‍जत बचा रहे हॉकर!

: देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान बुकिंग का मामला : देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान प्रबंधन की भूल हॉकरों के परेशानी का सबब बनी हुई है. मझधार में फंसे हॉकर अब हैंडबिल और पम्‍पलेट के सहारे ग्राहकों को समझा रहे हैं. माफी मांग रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन ने अब कुछ ग्राहकों के बुकिंग के पैसे वापस करना शुरू कर दिया है. इसके बावजूद गोरखपुर से प्रकाशित हिन्‍दुस्‍तान, देवरिया एडिशन की पूरी कॉपियां हॉकर अब भी नहीं उठा रहे हैं.

सुनील ने जागरण और आनंद ने हिन्‍दुस्‍तान को बॉय बोला

दैनिक जागरण, इलाहाबाद से सुनील सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे डेस्‍क पर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी अमर उजाला के साथ इलहाबाद में ही शुरू की है. अमर उजाला संग यह उनकी दूसरी पारी है. यहां भी उन्‍हें डेस्‍क की जिम्‍मेदारी दी गई है.

बनारस में हिन्‍दुस्‍तान ने फेंका चवन्‍नी का पासा

: हॉकरों की कमीशन बढ़ाई, पाठकों को भी लेमनचूस थमाई : बनारस में राष्‍ट्रीय सहारा के दिए झटके से उबरने की कोशिशें जारी हैं. बनारस में चल रहे प्राइस वार में नया पासा हिन्‍दुस्‍तान ने फेंका है. हिन्‍दुस्‍तान ने पाठकों के बजाय हॉकरों पर भरोसा किया है. अखबार का सर्कुलेशन बढ़ाने के लिए उनके कमीशन में चवन्‍नी की बढ़ोत्‍तरी कर दी गई है. यानी इस पच्‍चीस पैसे की बढ़ोत्‍तरी के बाद हिन्‍दुस्‍तान हॉकरों को एक रूपये तीस पैसा कमीशन देगा. अखबार ने पाठकों को भी कूपन का लेमनचूस थमाया है. कूपन जोड़ने वाले पाठक को पुरस्‍कार मिलेगा.

हिन्‍दुस्‍तान की पूरी मार्केटिंग टीम जनवाणी पहुंची

दैनिक जागरण को पूरी तरह झकझोरने के बाद जनवाणी ने इस बार हिन्‍दुस्‍तान को मुजफ्फरनगर में झटका दिया है. हिन्‍दुस्‍तान, मुजफ्फरनगर की मार्केटिंग टीम को जनवाणी ने अपने साथ जोड़ लिया है. हिन्‍दुस्‍तान, मुजफ्फरपुर के मार्केटिंग हेड विनय शर्मा अपने सभी साथियों के साथ जनवाणी से जुड़ गए हैं. विनय को जनवाणी के मोहित शर्मा …

देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान के एक्‍जक्‍यूटिव और हॉकर भिड़े

देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान और हॉकरों के बीच टशन अब भी जारी है. गोरखपुर से प्रकाशित एडिशन की मुश्किल से कुछ कापियां उठ पा रही हैं. इसी बीच किसी मामले को लेकर हिन्‍दुस्‍तान के एक एक्‍जक्‍यूटिव और एक हॉकर के बीच गरमागरम बहस हो गई. मामला एक दूसरे के गिरेबान तक जा पहुंचा. हॉकर सिर्फ लखनऊ से आने वाली पूरी कॉपियों का ही उठान कर रहे हैं.

देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान और हॉकरों के बीच टशन जारी

देवरिया में हिन्‍दुस्‍तान और हॉकरों की मुश्किल कम नहीं हो रही है. हिन्‍दुस्‍तान के सर्वेयरों के साथ ग्राहकों की बुकिंग कराने वाले हॉकर परेशान हैं. यहां हिन्‍दुस्‍तान का उठान अब भी प्रभावित है. हॉकर अखबार नहीं उठा रहे हैं. सिर्फ लखनऊ से आने वाली कॉपियां ही बंट रही हैं. हॉकरों को पचीस रूपया का तात्‍कालिक लाभ उन्‍हें परेशानी में डाल दिया है.