क्या आलोक तोमर की उम्र बस 3 माह शेष है?

आलोक तोमरबहुत कम लोग होते हैं, या कहिए कि एक-दो लोग ऐसे होते हैं जो मृत्यु का भी उत्सव मनाते हैं, जीते-जी. आलोक तोमर उन्हीं में से एक हैं. मरने के पहले वे मौत को भरपूर जीने में लगे हैं. ऐसा दुस्साहस वे पहली बार नहीं कर रहे. सच कहिए तो उनकी जिंदगी दुस्साहसों की ही कहानी है, दिल्ली आने से लेकर प्रेम करने तक और बुलंदियों पर पहुंच जाने तक. आलोक तोमर ने आज फेसबुक पर अपने स्टेटस अपडेट में ऐसी बातें लिख दीं जिससे कई लोग सिहर गए.

आलोक ने खुलासा किया कि पिछले 12 महीने से डाक्टर उनकी शेष उम्र तीन महीने बताते आ रहे हैं पर ऐसा करते करते एक साल गुजर गए, कहीं ईश्वर की गणित तो नहीं गड़बड़ या फिर कहीं डाक्टर ही तो झूठे नहीं? नीचे हम आलोक तोमर के फेसबुक एकाउंट पर उनके द्वारा किए गए खुलासे और उस पर आई सैकड़ों लोगों की प्रतिक्रियाओं को कापी करके यहां प्रकाशित कर रहे हैं…


Alok Tomar : SO, THIS IS IT. DOCTORS HAVE SAID THE INEVITABLE. I HAVE THREE MORE MONTHS TO LIVE. CANCER IS READY FOR FINAL ASSAULT. THREE MONTHS TO LIVE? IS IT? BUT DOCTORS ARE TELLING THIS SINCE LAST ONE YEAR, IN DIFFERENT WORDS. SO SINCE 12 MONTHS I HAVE THREE MONTHS TO LIVE. IS GOD SO WEAK IN MATHEMATICS OR MY FRIEND DOCTORS ARE PRETENDING TO BE GOD? TELL ME.

Kamlesh Vaishnav : God is Great…Alokji….abhi to bahut se raaj kholne hai…hum apke saath hai…?

Praveen Trivedi : ‎…..बस अपने कर्म में रत रहें …..और मन को ना हारने दें ! शेष सब कुशल ही होगा !

Prakash K Ray : You have to be with us for many many years to come…. and you cannot run away…

Gargi Nandi : Not Doctors, Alok. One stupid doctor is saying that . I think he is just trying to play God and get importance. You have miles to go and our prayers and wishes are with you.

अविनाश वाचस्पति : मुन्नाभाई तीन महीने मतलब तीन महीने परंतु शुरू होंगे आयु का शतक लगने के बाद।

Dinesh Jugran : ‎@Alok. we will have next new yr celebrations together !!!!!

Rajesh Jha : YOU ARE A COURAGEOUS PERSON AND WILL WIN IN THIS BETTALE.

Ashwin Nagar : Many a times God is unjust…

Tushar Devendrachaudhry : wish u our preyers

Anand Pradhan : आलोक जी, आपको कोई नहीं हरा सकता है…यह उस ईश्वर को भी पता है…इसलिए उसका गणित हमेशा के लिए गडबडा चुका है…हम सब की शुभकामनाएं आपके साथ हैं…जीवेम शरदः शतम !

Anil Attri : Hum jab tak jinda hain apne bhagwaan khud hain Alok bhai…kaam krte rahen…itna ki maut ko apke kareeb aane ka waqt hi na mil sake…

Atul Kanakk : nahin Alok Ji, ye apno ki dua ka asar hai… ummeed hai is jang mei ultimately aap jeetenge… ham sabka pyar our duaen aapke saath hain

Piyush Jain : Alok Sir Ji, Jindgi mai aapne aaj tak haar nahi mani hai, ab kaise jindgi aapko hara sakti hai. aapki will power itni majboot hai ki aap 3 month nahi 30 saal tak ladenge iss cancer se. hum sab aapke saath hai. Jai Ho. aapki vijay ho.

Sanjay Singh Baghel : Dr. bhagwan to nahi, wo bhee to bhagwan ki banai kathputli hai.uske marji ke bina aapka bal banka bhee nahi ho sakta. mast jindgi jeete rahne se maut bhee dar jati hai.muche viswas hai apke adamya sahas ke samne wo har man jayegi. date rahiye.all the best/ god bless you.

Manish Chauhan : Still You have to alive sir jee… there is so many pending works. I hope you’ll be recover very soon.

Subhash K Choudhary : Sir ap swasth honge …aisa vishwas hai…Bhagwan se prarthana hai ki apko jald aur purn swasth karen…Take care…rgrds, subhash

Vibha Rani : यह कहा जाता है कि दृढ निश्चय हाथ की लकीरें बदल देती हैं. आपके तेवर हमें पता है. लकीरें बदलेंगी.

Arvind Singh : aur doctor ye 50 yrs tak bolte rahnge …..regard

Sanjeev Acharya : Jai Mahakaal…..Dada apke housley aur hum sabki duayein kaam akar rahegi…..we have hope you will be alright in the coming months….

Abhishek Upadhyay : Long live sir. God is always there to help genuine persons like you. We love you to the core of our heart

Ashish Luthra : bcs of u r karma u r alive …so,have fun ,be happy ,..keep on doing nice things ..help others till u r last breath…

Rajkumar Singh : आलोक जी मैं विभा रानी जी की टिप्पणी से पूरा सहमत हूँ .इश्वर तो जानता ही है की आप की ,आपके तेवरों की और आप की फौलादी इक्षा शक्ति की लौह परीक्षा है . आप अभी बहुत दिन हमारे बीच रहेंगे और हम इश्वर के समक्ष विनय नत!

Pankaj Shukla : भगवान को भी असली पत्रकारो से डर लगता है, आलोक जी। कल की चिंता मत करिए। आज को जीते रहिए। चंबल का शेर जितना भी दहाड़ेगा, गूंज चिर काल तक बनी रहेगी। आप शतायु होंगे, ये मेरी प्रार्थना नहीं विश्वास है।

Rajat Pathak : i am just a new fan of your writing sir, its a great enlightnment reading you, i am sure u r on earth to inspire many more like me, may ur torch be shining for many more years to come, happy writing sir , happy health too.

Avinash Pawar : dear alok ji following 4 day course shall make a world of transformation in whatever you want to accomplish ……have copy pasted dates in delhi …for venue you have to call the no. bellow

Kumar Vishvas : बहुत स्वार्थियों जैसी बात कर रहे हो ठाकुर साहब ! आप जैसे कलंदर के सामने कैंसर लगता कहाँ है ?. जब आज तक आप का “उदय” कोई “प्रकाश” तय नहीं कर सका तो इस कैंसर को होने या अपनी राय रखने की इज़ाज़त दी ही क्यूँ आप ने ???.भला ये तो सोचिये की एक बगल …में “भ्रष्ट पूजीपतियों की निर्लज्ज कृपा से लबरेज पासबुक” और दूसरी बगल में समाजवाद की “दास कैपिटल” दबा कर चल रहे “राडिया” के इन औरस पुत्रों के द्वारा चैनल-चैनल ,अखबार-अखबार फैलया गया कैंसर किसी “अलोक तोमर” की प्रतिबद्ध शल्य चिकित्सा के बिना मिट सकेगा ????? अरे हमारी सोचिये “चम्बल-नरेश” हम क्या ज़िन्दगी भर पत्रकारिता के नाम पर “भजिये-पकोड़े” का वर्णन ही पड़ते रहेंगे. आप के लिख्ने से बचपन का इश्क है बड़े भाई ….ऐसी बातें कर के हमे दुखी मत करो ………नहीं तो लगेगा की ईश्वर भी शायद इन्ही दलालों और लम्पटों के साथ है

Shambhunath Choudhary : तुम्हें क्या हराएगी कभी गर्दिश-ए-दौरां, कि तू यकीं है, एक अज्म हैं, इक इरादा है!

Chandra Shekhar Joshi : Guruji ye sab mamuli bat nahi hai.

Praveen Raj Singh : हजारों लोगों की दुआओं और खुद आपका जीवट इस कैंसर रूपी दैत्य को ज़रूर परास्त करेगा . देश ,समाज, धर्म, पत्रकारिता सबको आपकी ज़रूरत है

Aarrfa Rajput : mujhe yakene hai ALOK SIR ko kuch ho hi nahi sakta hai…. ALLAH itni nainsaafi nahi kar sakta hai…

Satish Mudgal : Hum chahte hain ki hamien aapse seekhne ke liye kuchh aur samay mile, yehi kaamna hai chahe vo hamara swaarth hi sahi, lekin unki yogyata ko dekhte hue ye swaabhavik bhi hai.

Ajit Anjum : ये सच नहीं हो सकता …… बात 1986-87 की होगी . कॉलेज के दिनों में जनसत्ता पढ़ने की लत सी हो गयी थी . प्रभाष जोशी और आलोक तोमर , दो ऐसे नाम थे , जिनकी लिखी एक – एक लाइन चाट जाता था. उन्हीं दिनों जब पत्रकारिता की तरफ मुड़ा तो सोचा करता था कि …क्या मैं कभी आलोक तोमर की तरह लिख -छप पाऊंगा ?क्या मैं कभी आलोक तोमर जैसा रिपोर्टर बन पाऊंगा ? उनके शब्द, उनकी शैली , किसी भी विषय पर दिलचस्प और मारक ढंग से लिखने के अंदाज ने मुझे उनका कायल बना दिया था . आलोक तोमर की बाइलाइन देखकर पूरी खबर पढ़े बगैर रहा नहीं जाता था . न उस जमाने में आलोक के अलावा ऐसा दूसरा कोई रिपोर्टर था , न आज है ( मैं भाषा और शैली की बात कर रहा हूं ). 1991 में पहली बार मेरा उनसे मिलना हुआ और फिर ओकेजनली मिलना -जुलना जारी रहा . मैं कभी उनका करीबी नहीं रहा लेकिन उनके हर वाक्य को पढ़ता रहा , जहां कही भी छपा देखा . उसी आलोक तोमर को जानलेवा कैंसर है , यकींन नहीं हो रहा …. कैंसर को आप मार भगाएंगे आलोक जी …ये कैंसर आपका कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा….

Pankaj Chaturvedi : alokji is tarah ka mazak mat karo please

Sd Sharma : Doctor is not God. Life and Death all is in the hands of God. If God is kind to us and our will power is very strong, doctors’ mathematics fails. We all your friends pray to God to show his knidness and greatness to let you live a long and healthy life.

Satish Mudgal : Ishwar kare ye majaak hi ho!!!!!!!!

Varun Goyal : hare krishna

Pankaj Chaturvedi : i know many persons who are living for years with cancers, cancer is just in hit and try ,and doctorsa re doing same , hindi journalism needs more from you dear, long live

Naushad Ali : alok ji thats why god is everything because doctors cant predict…life or death…my best are with u….you may long… long live…

Namitha Kumar : Ur winning Alok and don’t give up. Doctors are not always right but pretend to be

Sd Sharma : God’s kindness and human’s will power make sometime a Karishma. We hopw same for you.

Subhash Chander : आलोक जी ,जाना तो सभी को है.आपका पोस्ट पढ़कर दुःख भी हुआ .पर बाद में ये सोचा की आप जैसी भरपूर ज़िन्दगी जी कितने लोगो ने है ?खांटी ईमानदारी,बेबाकी और फक्कडपन से भरी जिंदगी बिरलो को ही नसीब होती है.आपने जो चाहा वो किया,बिना किसी की परवा…ह किये. .अपनी शर्तो पर अपनी ज़िंदगी जी .फिर शिकायत कैसी ..सृजन की संतुष्टि, इमानदार बने रहने में सफलता और निर्भीकता से दबावों में आये बगैर काम करना …ये सब कम हैं क्या ?शान से जीए हैं ,शान से ही मरिये ..

Pravin Dubey : सर, आपको कुछ नहीं होगा…कौन है जो आपसे टकराकर चूर चूर न हुआ हो..चाहे ये असाध्य कहलाने वाली बीमारी कैंसर ही क्यों न हो….? ये लड़ाई नहीं, आपका द्वंद है जो कोहरे की शक्ल में आपके विचारों में है, ये कोहरा जल्द ही छटेगा सर…सारे डॉक्टर झूठे साबित होंगे…कतई नहीं कहूंगा कि धैर्य रखिये…मुझे आपके विचारों और ज़ज्बे की ताकत का भान है…..

Sudhanshu Chouhan : शेर को कुछ नहीं होता…शेर हमेशा शेर ही होता है…चाहे बूढ़ा हो या बीमार हो …आप उस शेर की तरह हो जिसने कभी हारना नहीं सीखा….और ये ससुरा कैंसर-वैंसर क्या डराएगा…..

Madhurendra Kumar : jindagi ki haar or jeet uska refari yani god ko tai karna hai. doctor ka prediction galat hona aapko jine ki nai urja de raha hai. aap isi urja se jiwan ke or patrakarita ke abhi anginat safar se gujre.yahi tamanna hai or ishwar se prarthana bhi.

Chaman Lal : Will to live-ज़िज़ीविषा-Alok can defeat many diseases.Stand by your will

Alok Tomar : thanks friends

Siddharth Kalhans : सब हारेंगे आलोक जी जिंदगी जीतेगी। आप सही सलामत होंगे।

Saleem Akhter Siddiqui : MERI CHOTI BAHAN K SHOHAR KO CANCER THA. DOCTORS NE HAATH KHADE KAR DIYE THE. AIMS ME UNKA OPERATION HUA. ALLAHA NE SHIFA BAKHSHI.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “क्या आलोक तोमर की उम्र बस 3 माह शेष है?

  • anurag amitabh says:

    अलोक तोमर जिन्दा दिली का शशक्त हस्ताक्षर है..जीवन से लड़ने की जितनी जिजीविषा उनमे है..उतनी किसी भी मानव देह मैं हो ही नहीं सकती..बात केंसर की है ही नहीं..बात उस बीमारी की है जिसका मकसद किसी भी इंसान को शाह्रीरिक मानसिक रूप से अस्वस्थ कर देने की है..लेकीन क्या ये बीमारी अलोक तोमर जी के पत्रकारीय आलोक को रोक पाई .कतई नहीं..केंसर का पता लगने के बाद भी उनकी लेखनी ने आग उगलना छोडा नहीं..चाहे प्रभु चावला पर पत्रकारीय हमले हो या नीरा रादीय और मीडीया की पोल खोलो अभियान ..अलोक तोमर रुके नहीं..फेस बुक पर इतना लिखा इतना लिखा की पढने वाले की आँखे बहार आ जाये..कैसे लिखा होगा अंदाजा ही नहीं हो सकता..हम पत्रकारों मैं एक स्वाभाविक दंभ होता है अपने आप को पापा मानने का..हर विषय का हर खबर का..लेकीन साला बीमार हो जाने पर लिखने की इच्छा कैसे हो सकती है समझ नहीं आता..ये सिर्फ तब हो सकता है जब रगों मैं खून नहीं अक्षर दोड़ते हो..विचार तेरते हो..और अलोक जी की रगों मैं अक्षर दोड़ते नहीं लेखो के प्रिंट आउट निकलते है..
    बहुत कुछ लिखा जा सकता है अलोक जी के लिए घंटो लिखा जा सकता है महीनो बका जा साकता है..लेकीन कुछ उदहारण है जिनसे उनका व्यक्तित्व समझ आता है..करीब चार महीने पहले उन्हें मैंने फेस बुक पर लिखा की सर मैंने ६०० दिनों से छुट्टी नहीं ली है..न ही मिली है उस संस्थान से जिसमे मैं काम कर रहा हूँ..मैंने लिखा की सर अब दो सालो बाद जब भी छुट्टी लूँगा तब आपको देखने आऊंगा..उनका जवाब क्या था लिख रहहा हूँ.छमा के साथ अलोक जी से की उनका व्यक्तिगत मेसेज सार्वजनिक कर रहा हूँ….ANURAG, PLEASE COME HOME BUT I SHALL DISAPPOINT YOU AS A PATIENT. I DON’T FEEL ILL AT ALL AND AS FAR AS GOD–IF HE EXISTS–LET HIM REMAIN IN PEACE. I HAVE TO DIE OR LIVE ,IR WOULD NE IN SPITE OF HER. LOVE..ये जिजीविषा नहीं तो क्या है जो मौत से लड़ने की असम्भव ताकत देती है…
    अभी नए साल मैं मैंने एक मेसेज किया तो उनका जवाब था उस भाषा मैं जिसमे उन्होंने अपना बचपन देखा और मुझे औकात दिखाई की अलोक तोमर जब भी तुमसे बात करेगा बुन्देलखंडी मैं करेगा..उन्होंने लिखा ..जीते रहो..अबे हम अस्पताल मैं कीमो करा रहे है..खुश रहो…साला समझ ही नहीं आया जवाब पढने के बाद की ये शक्श इंसान है की क्या जो मरने की डेड लाइन को बार बार उठा के पटक रहा है..और मरने को तैयार नहीं फिर भी छोटे से छोटे व्यक्ति को मेसेज का रेप्लय देने से नहीं चूका ..अलोक तोमर उस जमीन का बेटा है जन्हा आन बाण को लेकर जाने ले ली जाती है..इस बार उनकी आन बाण शान पर हमला केंसर और ऊपर वाले की तरफ से हुआ है…मैं जानता हो उनका घंट कुछ नहीं बिगड़ेगा ..

    Reply
  • Satish Bhutani says:

    Alok ji ko kuch nahi hona chahiye yeh ham sabki dua hai.bhagwan unhe pehele se bhi adhik tandarust karenge. unki lekhni me dum hai aur unka hausala unhe lambe samay tak hamare beech rakhega
    best wishes 4 Great ALOK TOMAR

    Reply
  • GOD HAS PLANEED SOMETHNG SPECIAL FOR YOU ALOKJI…DON’T WORRY GOD WILL GIVE YOUCHANCE FOR MORE EXPOSURE…..WE ARE WAITING SOME MORE SPECIAL REPORTS FROM YOU.

    Reply
  • sir..khuda jab sath hoota hain to insan ki koi ahmityat nahi ki woh btaaye ki koun kitne saal zinda rahnega..aap ke sath khuda hia..us ne aap ka daman tham rakha hian..inshallha aap kai saal aur hum logo ke sath hoonge..aamin

    Reply
  • shripal shaktawat says:

    नियति इतनी क्रूर नहीं हो सकती.पक्का भरोसा है कि आलोक जी के जीवट के सहारे ज़िन्दगी जीतेगी.और डाक्टरों का यह सोच गलत साबित होगा.यह चम्बल के इस शेर की परीक्षा लेने की कोशिश भर है,जो असफल साबित होगी. आलोकजी योद्धा हैं और अपने चिर परिचित अंदाज़ में कैंसर को परास्त कर देंगे.ईश्वर उन्हें दीर्घायु दे ताकि वे इसी जीवट के साथ चोरों…लूटेरों और फरेबियों का भन्दा फोड़ते रहें…

    Reply
  • BIJAY SINGH says:

    ALOK bhai ,jeevan aur mrityu to ISHWAR ke hath me hai ,par hamara dost itni jamldi hame chod kar nahi ja sakta.
    Hum sab BHAGWAN se apne dost alok ki lambi aayu ke liye dua karte hain aur WO jarur hamari fariyad sunenge.

    Reply
  • Dr.Rajendra Prasad Singh says:

    Bhai Aalok jee, Aap ek nek neeyat eensan hone ke sath hee hindi ke sarvadhik sammanit lekhak hai. Aap apani srijansheelata men hamesa jeevit rahenge.Main aapakee jeevatata ko salam karata hoon. ham aapakee sakushalta kee kamana karate hai. 12.1.2011[b][/b]

    Reply
  • alok sir ko kuch nahin hoga woh mahan insan hain or khuda ko dunia banai rakhni hai to alok sir ko bhi is dunia mai hona hoga hum sab chahanai walon ki duaon sai agar aik aik sal bhi khuda nai baksha to hazaar saal abhi baki hain sir mairi to sari umar aapki hai

    Reply
  • VINOD SHARMA,ZEE NEWS says:

    आप एक निर्भीक पत्रकार, अभी देश में बहुत कुछ बाकी है जिसके राज़ सिर्फ आप ही जानते हैं,और फिर डॉक्टर भगवान नहीं.

    Reply
  • Rajesh Tripathi says:

    प्रिय आलोक जी, हम ईश्वर से यही प्रार्थना करेगे की डाक्टरों का गणित गलत साबित हो और आपका जीवट, आपकी जिजीविषा और आपका आत्मबल जीते। मौत यों ही हमेशा आपसे हार मानती रहे और आपकी लेखनी पहले की तरह गरजती , हुंकारती और भ्रष्टों के पोल खोलती रहे। पूरा विश्वास है कि आपके चाहनेवाले हजारों लोग भी ऐसी प्रार्थना कर रहे होंगो।-राजेश त्रिपाठी, कोलकाता

    Reply
  • Satish Bhutani says:

    ¥æÎÚU‡æèØ ¥æÜæ𕤠Ìæð×ÚU Áè ÁÕ ãU× ¥æ•𤠕ý¤æ´çÌ•¤æÚUè Üð¹ ÂɸUÌð ã´ñ´ Ìæð çÙçpÌ M¤Â âð ¥æ ©Uâ×ð´ ÁæÙ Èê´¤•¤ ÎðÌð ãñ´UÐ ãU× Ìæð ÂÚU×çÂÌæ ÂÚU×æˆ×æ âð Øãè ÂýæÍüÙæ •¤ÚÔ´U»ð 畤 ßãU ¥æ•ð¤ ÖèÌÚU Ù§Uü ÁæÙ Èê´¤•¤ ÎðÐ ¥Öè ¥æ•ð¤ mUæÚUæ Ü´Õæ â´ƒæáü •¤ÚUÙæ Õ敤è ãñUÐ Îðàæ ß â×æÁ •¤æð ¥æ•¤è Üð¹Ùè •¤è ÁM¤ÚUÌ ãñUÐ ãU×æÚUè ØãUè •¤æ×Ùæ ãñU 畤 ¥æ ¥æØé •¤æ àæÌ•¤ ÂêÚUæ •¤ÚÔ´UÐ

    Reply
  • Satish Bhutani says:

    ¥æÎÚU‡æèØ ¥æÜæ𕤠Ìæð×ÚU Áè ÁÕ ãU× ¥æ•𤠕ý¤æ´çÌ•¤æÚUè Üð¹ ÂɸUÌð ã´ñ´ Ìæð çÙçpÌ M¤Â âð ¥æ ©Uâ×ð´ ÁæÙ Èê´¤•¤ ÎðÌð ãñ´UÐ ãU× Ìæð ÂÚU×çÂÌæ ÂÚU×æˆ×æ âð Øãè ÂýæÍüÙæ •¤ÚÔ´U»ð 畤 ßãU ¥æ•ð¤ ÖèÌÚU Ù§Uü ÁæÙ Èê´¤•¤ ÎðÐ ¥Öè ¥æ•ð¤ mUæÚUæ Ü´Õæ â´ƒæáü •¤ÚUÙæ Õ敤è ãñUÐ Îðàæ ß â×æÁ •¤æð ¥æ•¤è Üð¹Ùè •¤è ÁM¤ÚUÌ ãñUÐ ãU×æÚUè ØãUè •¤æ×Ùæ ãñU 畤 ¥æ ¥æØé •¤æ àæÌ•¤ ÂêÚUæ •¤ÚÔ´UÐ

    Reply
  • kya alok ji mai apse to kabhi nai mili lekin apke jaise tevar ke logo se bada gehra sabka raha hai. aap bhi mazak kar rahe hai cancer apko kaise le ja sakta hai kyu hum sab ko dukhi kar rahe hai aap. app to jivantata ki parakashtha hai fir………

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.