‘रमन सिंह सुरक्षित, छत्तीसगढ़ सुरक्षित’

: पत्रकार के हमलावरों को न पकड़े जाने से खफा मीडियाकर्मियों ने धरना-प्रदर्शन शुरू किया :  कुछ दिनों पूर्व राजनांदगांव के पत्रकार और दैनिक ‘दावा’ के संपादक सूरज बुद्धदेव पर हुए जानलेवा हमले के बाद अभी तक कोई कार्रवाई नहीं होता देख जिलेभर के पत्रकारों ने आंदोलन शुरू कर दिया है।

प्रेस क्लब द्वारा कलेक्टोरेट के सामने पंडाल लगाकर धरना प्रदर्शन शुरू किया गया है। पत्रकारों के इस आंदोलन को स्थानीय जनप्रतिनिधि भी समर्थन दे रहे हैं। गुरुवार को पूर्व विधायक उदय मुदलियार धरना स्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह चरमरा गई है। लोग आज असुरक्षित हैं, छत्तीसगढ़ में केवल मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सबसे सुरक्षित हैं। इसलिए उन्हें पूरा राज्य सुरक्षित लगता है।

जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रमेश राठौर ने कहा कि पत्रकारों पर लगातार हमले हो  रहे हैं। इसके बावजूद हमलावर अब तक पकड़े नहीं गए हैं। पत्रकारों पर हुए हमले को उन्होंने कलम की ताकत को रोकने की साजिश कही है।

इधर इस पूरे मामले को लेकर पत्रकारों ने डीएफओ केके बिसेन के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग की है। दावा के प्रधान संपादक दीपक बुद्धदेव ने शहर कोतवाली में मामला दर्ज करने आवेदन भी दे दिया है। उन्होंने कहा है कि वन अधिकारी अपने पद का दुरूपयोग कर रहे हैं। वन विभाग से संबंधित खबरें प्रकाशन के बाद ही उक्त घटना घटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *