4 ग्रामीण पत्रकारों ने हिंदुस्तान, लखीमपुर का साथ छोड़ा

उत्तर प्रदेश में हिंदुस्तान अखबार के लखीमपुर के ब्यूरो चीफ विवेक सेंगर के रवैए से क्षुब्ध होकर चार ग्रामीण पत्रकारों ने हिंदुस्तान छोड़ दिया है. इन लोगों ने अमर उजाला के लिए काम करना शुरू कर दिया है. हिंदुस्तान छोड़ने वाले पत्रकारों के नाम हैं- अब्दुल सलीम खान, मोहम्मद शफीउल्ला, कमलजीत सिंह और अफसर अली.

ये चारों पत्रकार रिपोर्टिंग करने के साथ-साथ हिंदुस्तान के एजेंट भी थे. बताया जाता है कि इनके हिंदुस्तान छोड़ने से करीब 300 कापियां हिंदुस्तान अखबार की घटी हैं. सूत्रों के मुताबिक लखीमपुर में ब्यूरो चीफ और प्रसार प्रबंधक में अखबार के सरकुलेशन को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है. चार अगस्त को हिंदुस्तान, बरेली के स्थानीय संपादक केके उपाध्याय, जनरल मैनेजर सम्राट नायक और बिजनेस हेड अजय अरोड़ा लखीमपुर आए थे और बैठक कर जिले में हिंदुस्तान की स्थिति की समीक्षा की.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “4 ग्रामीण पत्रकारों ने हिंदुस्तान, लखीमपुर का साथ छोड़ा

  • श्री सेंगर जी पर लगाए जा रहे आरोप बिल्‍कुल निराधार है। उनका अपने सहयोगियों से रवैया बिल्‍कल भाई और परिवार जैसा रहता है। मार्गदर्शन करना और सही चीजें को बताना, सामने लाना उनकी खूबी है। उनके जैसा ब्‍यूरो चीफ मिलना मुश्किल है। जब किसी को अखवार छोडना होता है तो वह बहाने बनाकर और दूसरों पर आरोप मढकर अपने को पाक साफ सिद्व कर दूसरे अखवार में चला जाता है। मैने विवेक जी के साथ शाहजहांपुर अमर उजाला में काम किया है। मुझे उनकी कमी आज तक अखर रही है। और हमेश अखरेगी। उनमें क्षमता है कि यदि 300 अखवार कम हुआ है तो 500 बढ जाएगा।

    Reply
  • जिस भाई ने ये खबर दी है ..उसको सच की जानकारी नहीं है ! मै भी लखीमपुर की मीडिया से जुड़ा हुआ हूँ ! बड़े अख़बार में न सही साप्ताहिक में लिखकर अपनी भूख मिटाता हूँ !लेकिन इन चार लोगों को खूब जानता हूँ जिनके पलायन की खबर आपने प्रमुखता से छापी है ! पहला नाम है अब्दुल सलीम खान का ! खान साहब जिस इलाके से रिपोर्टिंग करते है वहां हिंदुस्तान अख़बार कभी बिकने ही नहीं दिया ! अगर न माने तो उस इलाके में जाकर पता कर लें ! फिर भी हिंदुस्तान उनको जाने क्यों साथ लेकर चल रहा था ! विवेक सेंगर के इंचार्ज बनने के बाद जब समान नियम लागू हुआ तो खान साहब की पेशानी पर बल पड़ गए ! उनके पास दूसरा कोई रास्ता था नहीं ! चार दिन पहले ही जब उनकी आखिरी खबर लेने के बाद हिंदुस्तान ने उनको अलविदा कह दिया तो भाई जान को अमर उजाला ही दिखाई दिया ! खैर उनकी खिचड़ी वहा पके तो ठीक ही है ! दूसरे थे सफीउल्लाह ! हिंदुस्तान में पिछले एक महीने से उनकी ख़बरें नहीं ली जा रही थी ! भाई मैंने तो पढ़ी नहीं कभी ! सफीउल्लाह भाई कुछ खेती किसानी में बिजी थे ! जब ख़बरों का दबाव बना तो अमर उजाला ही नजर आया ! इसके बाद ये कमलजीत और अफसर अली कौन है हम नहीं जानते ! सायद लखीमपुर का कोई पत्रकार जानता हो ! याद आया ….कमलजीत को एस ड़ी एम् सदर जरूर जानते है ! अफसर अली को वाकई मै नहीं जानता ! खैर अमर उजाला …उनके लिए कुछ करे …यही उम्मीद है ! वैसे विवेक जी और उनकी टीम को बधाई !!!! ऐसे लोग जितनी जल्दी हो जाने चाहिए .///अमर उजाला उनके लिए द्वार खोले बैठा है !

    Reply
  • मुझे विवेक जी के साथ शाहजहांपुर अमर उजाला में काम करने का सुयोग मिला. कहने में संकोच नहीं उनके जैसा टीम लीडर बिरला ही मिलता है. रही बात उनके रव्वैये की तो वह हमेशा ज़िम्मेदार और साथियों की फिकर करने के सिवाय दूसरा कुछ नहीं हो सकता. उन्हें जानने वाले इस बात को बेहतर जानते है. आम फहम है कि लखीमपुर में हिदुस्तान की बदली सूरत में प्रभावित होने वाले विवेक जी के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहें हैं. वहां चर्चा ये भी है कि लखीमपुर अमर उजाला का एक रिपोर्टर कम ठेदेदार विवेक जी के खिलाफ दुष्प्रचार अभियान का अगुआ है. इसके पीछे वजह ये बताई जा रही है विवेक जी के अमर उजाला में रहते वह उनकी सत्यनिष्ठा और ईमानदारी का पीड़ित है. यशवंत जी आप भी तो विवेक जी के चरित्र और स्वभाव से नावाकिफ नहीं हैं. इस तरह की मिथ्याचारिता से पहले तथ्यों की पड़ताल ज़रूरी है. मुझे यकीन है, लखीमपुर में जो भी हिंदुस्तान छोड़ के गए या हटाये गए हैं वो खुद को कसौटी पर खरा नहीं साबित कर पा रहे होंगे. विवेक जी बड़े दिल वाले हैं…हिंदुस्तान रीलांच होने के बाद सशंकित तब के रिपोर्टरों से बेहतर भला इसे कौन जानेगा.

    Reply
  • rashid hussain khan .jugnu,shahjahanpur says:

    vivek ji ke sath kaam karne ka mouqa to nahi mila , lekin unse hui kai mulaqaton se unkei karyashaili ke bare mein achchhi tarah samajh chuka hun. wo ek achchhe insan aur behtreen dost hain.

    Reply
  • जिन सज्जन ने ये खबर भड़ास पे पहुचाई है ..वो जरा नेट पे इस बातचीत को देखे ! ये बातचीत अमर उजाला में गए सलीम खान की उनके एक दोस्त से हो रही है ! जो उनके साथ काम करता था ! पढ़िए इसको

    Abdul: salam
    Sent at 8:17 PM on Friday
    me: kahe ka salam
    Abdul: kyo bhai kya hua
    me: aaj bhadas pe tumhari bahut tarif hui hai
    dekhi ki nahi
    Sent at 8:19 PM on Friday
    me: tum logon ne dhoka kiya hai
    Abdul: mai is ka gunahgar nahi hun,mai to is sidte ka pata tak nahi janta , mujhe afsos hai,ki vivek bhai ke bare me aisa likha
    kahe ka dhoka
    me: padh lo tumhare bare me bahut kuchh aa gaya hai
    Abdul: maine shaam ko padhab hai
    me: to kaisa laga
    Abdul: bahut bura
    me: age bhi taiyar ho n\]
    mai hu vivek bahi ke sath.Film Dekhi hai Arjun
    Abdul: kya tum soch sakte ho mai vivek ke liye aisa sochungs
    me: Ek Arjun mil gaya to bagle mahabharat jitne chal diya
    Abdul: yahan koi jeet haar nahi hai
    me: hai n
    saleem miyan
    tumko bolna chahiye tha
    Abdul: mai aaj bhi aap sab ke liye wahi salim hun
    me: hame achha lagta
    Abdul: kahan bolta
    me: mujhse bolte
    Abdul: koi sunts nshi boss
    me: bekar ki bat hai
    kaun nahi sunta
    Abdul: mai bahut majboori me ye kadam uthaya
    me: kal bata sakte the
    but
    nahi
    u
    r
    loosar
    Abdul: kyo ki
    me: why
    Abdul: no
    mayank bhai looser jaisi koi baat koi nahi
    me: mai bhi amar ujala chhodkar aya hu.
    hindustan bhi chhodkar gaya tha
    kya meri jagah khatm ho gayi thi
    Abdul: boss ne 2 din pahle padariya wale ko phone karke kaha tha ,ab salim ht me nahi hai
    me: tab tumne mujhe phone kiya
    Abdul: 1 august ko jab safiulla aye yab kaha gaya ki ab bijua me bhi badlo
    me: maine tum,hari khabar chhapi ki nahi!!!
    Abdul: kya chahte the ki meri bhi haalat alam jaisi hoti
    Sent at 8:29 PM on Friday
    me: gud
    ok
    Abdul: jab har taraf se mujhe sunai diya ki salim is out ,tab naine itna bada kadam utaya
    me: ok
    well done
    Abdul: but im sory brother
    me: i m also sorry
    Abdul: jante ho ye faisla karna aasan nahi tha mere liye, kal mai puri raat nahi soya
    Sent at 8:31 PM on Friday
    Abdul: shsyad sab ke liye choti baat hogi lekin mujhe ht chodne se jyada vivek ka sath chodna bura laga
    me: thax
    Sent at 8:33 PM on Friday

    Reply
  • sudeep shukla says:

    विवेक सेंगर जी को मैं बहुत ही अच्छी तरह जानता हूँ वह प्रिंट मीडिया का ऐसा ससक्त नाम है जो बेवाक लिखने के लिए हर पत्रकार की जुबान पर रहता है निर्भीक निष्पक्ष प्रभारी पर वयवहार के लिए कोई टिप्पणी करना अविवेक पूर्ण है क्योकि वह व्यक्ति अपने शालीन व्यव्हार के लिए ही जाना जाता है शाहजहांपुर अमर उजाला के प्रभारी रहे विवेक जी के चाहने वाले आज भी यहाँ उनके लिए पलके बिछाए बठे है ऐसे व्यक्ति पर यह आरोप बे बुनियाद हैं विवेक जी पर ३०० कापियां कम होने पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा जो व्यक्ति अमर उजाला १५००० से २२००० पहुंचा सकता है वह ३०० कापियां कम होने पर १००० बढबा भी सकता है
    सुदीप शुक्ला शाहजहाँपुर

    Reply
  • ............... says:

    aisa lag raha hai,is blog par gang war chal raha hai , number jode ja rahe hai , hodh lagi hai ki jitna achcha likhunga blog par mere number utne honge , patrakarita se hatkar yahan par chatukarita chal rahi hai ,mai kafi dino se dekh raha hun ,lekin khamosh hun , yahan daave kiye ja rahe hai , mai …… bhaiya ko khoob janta hun , bhaiya aise hai .bhaiya vaise hai , dusre me kami nikalne wale apni gireban me nahi jhhankte,aaj gramin patrakar bure ho gaye , kya shahri patrakaro se kam mehnat karte hai,kya kabhi reporting ke mamle me ye gramin peeche rahe , yahan bura ye ho gaya ki kaise gramin patrakaron ke naam blog par aa gaye , isi me chuna lag gaya, are sahi mayne me gramin patrakaro ko ye office wale spot boy se jyada nahi samajhte , jab kaha kaam par lago lag gaye aur jab kaha chalo hato hat gaye ,,…………….
    ,,,,,,,,,,,,,,,,,,rahi baat abdul sal;im ko ht se nikalne ki, (jaisa upar hamare ek hoshiyar bhai ne likha ki salim ko aakhri khabar lekar hata diya gaya tab amar ujala gaye ),salim ne gramin patrakarita me kuch to kiya hoga tabhi to log jaante hai ,
    salim ne achcha kiya ya bura wo hi jaane lekin itna to hai ki shahri patrakarita me sharafat ka chola odhe banduo ne sabit kar diyaki………………………………………………………………………………………………………………………… its ok ab mere baare me mai wahi hun jo saaptahik papar me likhkar bhookh mitata hun

    Reply
  • mai bhi grameen petrkarita se juda hun .mai janta hun ke kisi akhbaar se nekale jane per behut tekleef hoti hai. per aap ko yeh mehsoos kerna chahiye ki hum jis akhbaar ke liye kaam kerte hai hemara us akhbaar ki terekki ke liye bhi kuch kerne ka ferj benta hai . per aap ne hemesa apna naam kerne wa petrekarita se fayeda uthane ke seva kabhi apne ferj ke baren me nahi socha .so yeh to hona hi tha , per kem se kem aap ke saath jo hua so per ab wekt hai apne bhool se seekh lene ka na ki dosro per kement kerne ka ,,,,,,, sonu sukla,,,,,,,,

    Reply
  • mujhe dukh hai koi mere naam se post comment kar raha hai , mai sonu shukla hoon maine abhi tak bhadaas ke baare me kabhi nahi jaana tha , lekin saturday ko mujhe hindustaan ke ek bade patrakaar ne phone kiya kaha bhadaas par tumhara naam aya hai , maina blog address note kiya aur 1 net wale ke paas gaya , khusamad ki , kaha blog dikhwa do, badi mushkil se blog dekha to mere hosh ud gaye ,kisi ne salim bhai ke baare me likha hai,….
    aur naam mera daal diya mujhe ye samajh me jaroor aa gaya ki shahar me baithe patrakaar kitna gir sakte hai ,aur unki najar me gramin patrakar kuch bhi nahi hai ,
    agar mujhse salim bhai ke baare me puchha jaye to wo ek gramin patrakarita aur sahri patrakarita ke beech ki dhuri hai ,unhone hum gramin patrakaro ko samman dilaya hai, hindustan ke baare me salim bhai ne bahut kuch kiya ; 2-3 saal pahle jab lakhimpur ke baahar bhira road par ht paper nahi milta tha , paliya tak supply 0 thi , tab salim bhai ne sunderwal se kawaljeet , doudpur se rajesh verma , padariya-gulariya se shailendra, jo mere bade bhai , bhira me satwant singh ,paliya se mahboob alam , sampoornanagar se mo.nasim, manhgapur se bablu, samet majhgay gourifanta sab jagah agency karwayi ,
    un salim ko agar kuch thekedar patrakar aaj bura kah rahe to koi soch sakta hai, ki in sabki soch gramin patrakaro ke baare me kya hai,,,,,
    agar likhna hai to apna naam dale hamara naam kyo use ar rahe hai…..

    [b](mai ye to nahi janta blog kiska hai lekin aaj apna naam dekhkar itna samajh gaya hoon in blog ki vishvasnita kitni ha[/b]i )

    Reply
  • viveak sager ke uppar arop lagana galat hai unka kaam karne ka tareka alag hai unke team me bhohe shamil ho sakta hai jo kam chor na ho

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.