दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ पैसे लेते दिखे

किसी सज्जन ने यूट्यूब पर ”missionnd” नाम से एकाउंट क्रिएट कर एक वीडियो अपलोड किया है. इस वीडियो में दैनिक जागरण, नोएडा के ब्यूरो चीफ अनिल निगम एक व्यक्ति से पैसे लेते हुए दिख रहे हैं. पैसे देने वाला तीस हजार रुपये नगद तुरंत और बीस हजार रुपये बाद में देने की बात कह रहा है. पर उससे कहा जा रहा है कि वह पांच लाख रुपये दे. अनिल निगम के अलावा ‘प्रधान जी’ नामक कोई तीसरा शख्स बैठा हुआ है.

रिश्वत देने वाला हाथ पैर जोड़ते हुए कह रहा है कि वह लाखों रुपये नहीं दे पाएगा. वह कम पैसे देने के लिए तरह-तरह की दलीलें दे रहा है. खुद के ब्राह्मण होने का भी वास्ता दे रहा है. वह हर बार यही कह रहा है कि वह पचास हजार रुपये दे सकेगा जिसमें अभी तीस हजार रुपये दे सकता है. वीडियो के आखिर में रिश्वत देने वाला तीस हजार रुपये अनिल निगम को देता है और अनिल निगम इसे अपने जैकेट की जेब में रख लेते हैं. वह दस हजार रुपये फिर देता है और अनिल निगम उसे भी जैकेट में रख लेते हैं.

मामला पुराना जान पड़ता है क्योंकि वीडियो की तस्वीरों से जाहिर है कि सर्दियों के समय यह सब शूट किया गया है. यह भी स्पष्ट है कि जो पैसे दे रहा है, उसी ने स्टिंग प्लान किया था क्योंकि कैमरा ज्यादातर वक्त अनिल निगम के चेहरे व हावभाव को शूट कर रहा है. पैसे देने वाले शख्स की पैसे देने की हड़बड़ी से भी समझ में आ रहा है कि वह ब्यूरो चीफ को पैसे देने को इसलिए उतावला है ताकि स्टिंग करने का उसका मकसद पूरा हो सके.

बताया जाता है कि इस मामले में स्टिंग करने वाले लोगों ने जागरण प्रबंधन के पास वीडियो की सीडी भेजी थी. तब जांच पड़ताल के बाद अनिल निगम को दोषी न पाते हुए क्लीन चिट देने का ऐलान कर दिया गया था. सूत्रों के मुताबिक अनिल निगम ने जागरण प्रबंधन को अपनी सफाई में बताया था कि वे खुद स्टिंग करने गए थे कि किस तरह अवैध काम कराने के लिए ये लोग पैसे का आफर देते हैं.

यह वीडियो अभी तक स्टिंग करने के वाले पास था या फिर जागरण प्रबंधन के पास. पर किसी शख्स ने इसे यूट्यूब पर अपलोड कर दिया है इसलिए पूरा माजरा दुनिया के सामने आ गया है. इसलिए इस मामले में आरोपी दैनिक जागरण, नोएडा के ब्यूरो चीफ अनिल निगम से अपेक्षा है कि वे प्रकरण के संबंध में अपना पूरा पक्ष सार्वजनिक कर दें ताकि दूसरा पक्ष भी सामने आ सके.

यूट्यूब पर अपलोड वीडियो के नीचे स्टोरी से संबंधित जो बातें दी गई हैं, वे इस प्रकार है-

”This is a unique story of a journalist caught in a sting operation. A NOIDA journalist named Anil Nigam of famous newspaper Dainik Jagran was asking for bribe from traders and farmers for not publishing story of illegal construction made by them. Traders fitted a sting camera and called Nigam. You can see in video, how he initially hesitates and later on takes the money (cash). He was caught on camera taking bribe. Interestingly, his editor Mr. Nishikant Thakur, when got the news defended him instead of taking action. Traders found another shock, when they found no TV channel/ newspaper is ready to show/ publish their story. finally after several months one of their well-wisher uploaded this video. The question arises, if it would have been a story of any Policeman or government official taking bribe, would these journalists kept the blind eye like this?”

वीडियो देखने के लिए क्लिक करें…

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ पैसे लेते दिखे

  • sach jo bhi ho lekin esse media ki badnami huyi hai. media ko kuchh log badnam karna chahte. kuchh paisa kamane ki liye to kuchh aise bhi hain jo galt tarike se paisa nhi kama pa rahe hai aur o ab apane aap ko sarif batane ke liye kuchh aisa kar rahe taki unhe media jagat aur aam adami hero samjhe. mai aur gb nagar ke patrakar jaha tak is footage kebare me jante hai yeh mamala kafi purana hai aur ab ise upload karne ka koyi matlab nahi tha. bt bhdas4media media me panap rahi galat parampawo ko ujagar karta rahata iske liye bhadas4media badhai ka patra hai. 6 mah pahale is footage ko suprime news papar ke editor ne dikhaya tha. pata to chala hai ki yah footage kayi news channels ke pas bhi hai. yah bhi bataya ja raha hai ki 1000 cd vedio jile ke aam admi ke pas bhi pahuch chuka hai.

    surendra ram
    district- ghazipur

    Reply
  • Prayagraj says:

    Ye Anil Nigam na jane kitne sal se isi tarah ke gorakhdhandhon me laga hai. pakad me to pahali bar aaya hai. isne aise hi patrakaro ki NOIDA me ek assosiation bana rakhi hai. sharm to DAINIK JAGRAN ko aani chahiye.

    Reply
  • vikas srivastava says:

    ab to sahi kya hai ye bat Anil mishra bata sakte hain ya oh dusra saks jo video le raha tha, jo bhi sachai hai oh samne ani chhiye kyon ki ye patrakarita pe dag ki bat sabit so sakti hai, isliye Anil mishra jee se hi nivedan hai ki sachai kya hai aap hi bata den, kyonki video me to aap hi dikh rahe hain.

    Reply
  • My GOD………………………….whats great quality of sting operation. salute……..JAGRAN walon tumne toh poora racket chala rakha hai…jara suno kaise paise maang raha hai tumhara bureau chief…eske khilaaf press council ko su-moto action lena chahiye…rarest video….

    Reply
  • ये अनिल निगम जी का मैं सहपाठी रहा हूँ, हालाँकि उनसे मिले हुए मुझे भी सालों हो गए लेकिन जितना मैं १४ साल पहले उन्हें जानता था वो बड़े ही संस्कारित से दिखते थे. मुझे ये पढ़ कर बहुत दुःख हुआ लेकिन जिस तरह का वीडियो है वो दिख रहा है कि ये महाशय ब्लेक मैलिंग के इरादे से ही गए थे. पत्रकारों को जो वाकई धन्धेबाज़ नहीं हैं उन्हें इस तरह की हरकतों से बचना चाहिए. इस तरह लोगों की गर्दन दबाने में जुटे पत्रकारों को तो जूते से पीटना चाहिए.

    Reply
  • Hari Pathak, Buland news paper says:

    ye to kafi purana mamla. isme kuchh bhu-mafiyaoo ne gijhod me avaid building banai thi. jisme Jagran k patrakar ne sting opration kiya tha. iske bad shasan ki aor se action liya gaya tha. noida prashasan ne us building gira diya tha. yah prakan pramukhta se DAINIK JAGRAN k main page par chhapa gaya tha. mamle bhu-mafiyaoo ki kafi fajahat hui thi. lalin sawal yah hai ki itne purane mamle ko BHADAS me kyo DALA gaya. jo sab ko maloom hai ki doshi kon hain.

    Reply
  • Hari Pathak, Buland news paper says:

    ye to kafi purana mamla. isme kuchh bhu-mafiyaoo ne gijhod me avaid building banai thi. jisme Jagran k patrakar ne sting opration kiya tha. iske bad shasan ki aor se action liya gaya tha. noida prashasan ne us building gira diya tha. yah prakan pramukhta se DAINIK JAGRAN k main page par chhapa gaya tha. mamle bhu-mafiyaoo ki kafi fajahat hui thi. lalin sawal yah hai ki itne purane mamle ko BHADAS me kyo DALA gaya. jo sab ko maloom hai ki doshi kon hain.

    Reply
  • media bhi rishwat khor hain… jahan milaa jyaada rishwat wahin wahan uske khilaaf khabar na ke barabar…..
    media me to jyaada hi hain……..

    Reply
  • real me dainik ke employee ki halat kharab hai,tabhi sabhi upper ke kamai ke chakkar me hai, mere shahar bareilly me aisa hota hai.

    Reply
  • Rajesh Chauhan says:

    Gambhir Mamala hai samaj ko aina dikhane wale ab aina kharidane ke liye chand kagaj ke tukado par marate hai… bichar karana jaruri hai… kya publication se milane wala bhatta kaphi nahi hota… agar nahi to unaka bhatta badhana chahiye… nahi to aane wala samay patrakarita ko lekar ek alag image kayam kar lega jesha ki police walo ke prati ban chuka hai… choti ke patrakaro ko is mamale ko gambhirta se lena chhiye…aur bichar karana jaruru he ki kya pujivaad ke daur me sare man mayada ka hanan agar eshe hota raha to kisi ka koi vajud nahi rah jayega….. ye akele anil nigam ki kahani nahi he eshe kai anil nigam ab patrakar banake gali gali ghoom rahe hai… ye bager sport ke kuchh nahi karate inhe apane siniors ki full suport rahati hai tabhi to clin chit mil jati hai…

    Reply
  • jo dikh raha hai kya such hai
    shayad ha ya na ye kahna muskil hai par hamey intazar hai anil nigam ji ki safai ka aghir dhua hai tou aag kahi tou lagi hogi na

    Reply
  • sushil Gangwar says:

    Yah vedio dekhne bad kah sake hai nahle par dehla ? Nigam ji sting karne gaye or khud ka sting ban gaya. Are aam admi bhi sting karna seekh gaya hai . India tv ne pahle hi sting karne vale sabhi camero ki jaankari de di hai. Jara bachke mere desh ke rishbatkhor Patrkaaro.
    http://www.sakshatkar.com

    Reply
  • AMIT TYAGI says:

    जहाँ तक मैं अनिल निगम साहब को जानता हूँवे बहुत मेहनती और खुद्दार किश्म के इन्सान हैं और पत्रकारिता के क्षेत्र में उनके जैसा अच्छा व्यक्ति शायद ही दूसरा ढूँढने पर भी मिले.yeh baat bilkul sahi hai ki अनिल स्टिंग करने गए थे – Amit Tyagi

    Reply
  • Archita Singh says:

    patrkarita ko chotha stambh mana jata hai, lekin inhi karno ke chalte is par se bhatiya janta ka vishwas uthata ja raha hai. sabhi journalist ko cahiye ki aapni sakh bachane ki pehel karen. Archita Singh. Student Delhi University

    Reply
  • rakesh chaurasia says:

    अनिल निगम से जुडा यह विडियो देखा, बिना आवाज के.
    कई बार आँखों देखी – कानों सुनी चीजें भी गलत हो सकती हैं.
    वे फरीदाबाद में ऐसे न थे. सभी जानते हैं.
    उम्मीद है कि आगे भी वैसे ही रहेंगे – पाकसाफ
    राकेश चौरासिया, फरीदाबाद

    Reply
  • ashishjha says:

    😉 agar 1 journalist sting karne jaye aur uska hi sting ho jaye to isse dukhad ghatna nahi ho sakti.mujhe lagta hai ye sab fasane ka pan hai warna kyo itna purana video koi load karega. isme anil ji ko apna pach rakhna chahiye,.

    Reply
  • mukesh kumar says:

    एक मिशन की नीलामी

    उस दिन ट्रेन आपनी रफ़्तार से भाग रही थी. खचाखच भरे हुए उस डिब्बे के एक कोने में किसी तरह जगह मिल सकी थी. मेरे सामने बैठे एक सज्जन बगल में बैठे एक दूसरे सज्जन से चीखते हुए बोल रहे थे – ” अरे मेरा भतीजा पत्रकार में भर्ती होना चाहता है. इसके लिए उससे १५०० रूपया सिकोरिटी के लिए माँगा जा रहा है. दूसरे सज्जन बड़े उत्सुकता से पूछे – ” पत्रकार में भर्ती होने से क्या होता है? ” पहले सज्जन सचेत हुए फिर गर्व से बोले – ” आपको पता नहीं! पत्रकार में भर्ती होने के बाद सिकोरिटी देकर एक परिचय पत्र मिलता है. इसे दिखाकर किसी भी आधिकारी से यह पुछा जा सकता है की अमुक कम क्यों, कैसे और कब हुआ और क्यों नहीं हुआ? टिकट के लिए कतार में नहीं लगना होता. कभी-कभी तो यात्रा करने के लिए टिकट भी लेने की जरुरत नहीं होती. अगर कुछ गलत करता है तो परिचय पत्र की वजह से आसानी से बच सकता है.” दूसरे सज्जन बहुत खुश होकर बोले – ” तब तो हम भी अपने बेटे को पत्रकार ही बनायेंगे . बहुत दिन से बैठा हुआ है.”
    आसपास बैठे लोग दोनों की बात चुप्पी साधे सुन रहे थे.सबकी आँखे चमक रही थी. शायद सभी आपने भैया, बेटे और भतीजे को पत्रकार बनाने के बारे में सोच रहे थे. ट्रेन किसी स्टेशन पर रुकी. भीड़ होने कारण लोगों ने दरवाजा भीतर से बंद कर रखा था. बाहर कुछ लोग दरवाजा खोलने के लिए चिल्ला रहे थे. इतने में एक रोबदार आवाज आई – ” गेट खोल दो, वरना अकल ठिकाने लगवा दूंगा. मै पत्रकार हूँ.
    मेरे साथ मुश्किल यह थी की मै भी इसी बिरादरी का सदस्य होने के बावजूद भी इस तरह के सपनों और खयालो से रूबरू नहीं था. अब तक यही सोचता था की आपने भीतर के इंसानी सरोकार को बचाए रखने में यह क्षेत्र मेरी मदद करेगा. लेकिन ट्रेन के डिब्बे में दोनों लोगों की बातचीत और बाहर खड़े व्यक्ति की धमकी ने यह सोचने पर मजबूर कर दिया की क्या पत्रकार वक्त का फायदा उठाने या लोगों की अक्ल ठिकाने लगाने के लिए होता है. अब तक तो यही मानता हूँ की पत्रकार भी आम आदमी होता है और वह आम आदमी की आवाज उठाने के लिए होता है; और की प्रेस लोकतंत्र का चौथा स्तम्भा होता है.
    लोगबाग यह समझने लगे है की प्रेस ऐसी ताकत है जिसके सहारे दूसरो के गलत कामो की तरफ उंगली उठाई जा सकती है.और आपने गलत कामो पर पर्दा डाला जा सकता है. भारत में अंग्रेज छापाखाना लेकर आये, ताकि गुलामी की जंजीर को और मजबूती से जकड़ा जाये. लेकिन हमारे जूझारू नेताओं ने छापाखाने को हथियार की तरह प्रयोग किया. लेकिन पिछले लोकसभा चुनावो में मीडिया के एक बारे हिस्से ने जिस तरह बड़े पैमाने पर पैसे लेकर विज्ञापनों को खबर की सकल में छापा उसे एक मिशन की नीलामी नहीं कहा जायेगा? तब प्रभाष जोशी और विनोद दुआ जैसे कुछ पत्रकारों ने इस मसले को जोर-शोर से उठाया था, लेकिन आन्दोलन से व्यवसाय बन चुके पत्रकारिता के कथित कर्णधारो को कोई खास फरक नहीं पड़ा. मुश्किल और चुनोती उन सबके सामने है जो आज भी इस पेशे के प्रति समर्पित और प्रतिबद्ध है.और मानते है की पत्रकारिता को अपने मूल रूप में आम आदमी आवाज और व्यवस्था परिवर्तन का वाहक होना चाहिए.

    Reply
  • sanjay bhati says:

    thank you bhadas4media n supreme news publish in 28 01 2010 n 14 02 2010 this news “jagran k name par blackmalling blackmaler khud jagran ka buro chif “

    Reply
  • Lokesh choudhary says:

    Patrakar biradri ko shayad ye clip bardasht nai ho rahi hai,jabki vo sab iss baat se bhali prakar waqif hai ki iss peshe me dalali ka rog pair faila chuka hai..zakhm ko dhakne se sadan pure sharir me pahunch jati hai..so me iss biradri se apeel karunga ki zakhm ko saf karne ke liye himmat jutae tatha aise logo ka bahishkar kare na ki kutarko k sahare inka bachav..kuki aap log Ganesh Shankar Vidyarthi k dhuaj vahak hai…LOKESH CHOUDHARY (LECTURER)

    Reply
  • yashwant ji kam se kam ek mahine tak is khabar ko front pej par display kar ke rakho, jisase dalal patrakaro iki dhakkan bad jaye aur peshe ko kalankit karanewala patrakar bhi beshram bana rahe. suna hai aaj bhi wo noida off. me usi tewar me ata hai. wo dalil deta hai ki dynamic reportero ke bahut dushman hote hai. use fansaya gaya hai. jagran ke chor adhikari bhi uske khilaf kuchh nahi karane wale hai. kam se kam display par kuchh dino tak dikhate rahane se prabandhan bhi besharam bana rahega.

    Reply
  • Har baat k 2 phlu hotey hai + – aap kis nazreye se dekhtey hai ye aap per hai. Mai Shri Anil Nigam ko tabsey janta hoo jab mai 5 saal ka thaa na hi unkey parivar mey koi aisa hai na hi unhey aisey sanskar miley hai jaruri nahi jo chej jaise dekhti wasi hoo es liye jab tak kisey k barey puri treh se pata na kar ley tab tak apney vicar ko yeket nahi karna chahiey. sabsety badi baat aj bhi wo same position per hai.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.