कटघरे में पांच घंटे तक खड़े रहे कुमार सौवीर

महुआ न्यूज के यूपी ब्यूरो चीफ कुमार सौवीर को पांच घंटे तक कटघरे में खड़ा रहना पड़ा. ऐसा चीफ ज्यूडीशियल मजिस्ट्रेट (सीजेएम) के आदेश पर हुआ. घटनाक्रम यूपी के रामपुर से जुड़ा है. पता चला है कि महुआ न्यूज पर प्रसारित किसी खबर को लेकर किसी सज्जन ने रामपुर में मुकदमा कर दिया था.

मामले की सुनवाई के दिन कुमार सौवीर भी अदालत पहुंच गए. हालांकि अदालत ने कोई वारंट या हाजिरी के निर्देश नहीं दिए थे लेकिन चैनल के वरिष्ठों के भी नाम मुकदमा में होने की वजह से कुमार सौवीर ऐहतियातन कोर्ट पहुंच गए. यहां जाने किस बात पर सीजेएम ने कुमार सौवीर को पांच घंटे तक कटघरे में खड़ा रहने के आदेश दे दिए. कुमार सौवीर करते भी क्या, वे कटघरे में खड़े रहे लेकिन अपने हावभाव और बोली से नाखुशी भी जाहिर करते रहे. पर मामला कोर्ट का था, इसलिए उन्हें पांच घंटे खड़ रहना पड़ा.

 

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “कटघरे में पांच घंटे तक खड़े रहे कुमार सौवीर

  • Vivek sinha says:

    THIS IS TOO MUCH…the arrogance of the courts and the judicial officers is crossing all boundries of civic decency…the judiciary must realise that like them the media is also one of the pillars of democracy..it is a sad story that in our country while all the other three pillars have constitutional and institutional safeguards the fourth pillars has been left totally ignored..it augaurs ill for our democratic set up….violation of journalistic ethics can not be and should not be judged under Cr. PC…judicial arrogance exbited so blatantly by almost all echelons of courts are bigger danger to civil societ then perhaps..paid news..against which journalists themselves are fighting a tough battle….I think civil society must launch a campaign against judicial arrogance…

    Reply
  • मामले की तह तक जाना चाहिए। न्यायपालिका के इस स्तर पर भ्रष्टाचार कितना है, यह भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) से भी नहीं छुपा। अगर सौवीर को अनावश्यक प्रताड़ित किया जा रहा है तो विरोध होना चाहिए।

    Reply
  • NISHANT RANJAN says:

    HUM JIS SANSTHAAN ME KAM KARTE HAI US SANSTHAN KE PRATI HAMARI BHI KUCHH JIMMEDARIYA HONI CHAHIYE OR UNHI CHAND JIMMEDARIYO KA AADARSH PURVAK VAHAN KIYA HAI MAHUAA NEWS KE U.P. BUREAU CHIEF KUMAR SAUVIR NE.MAMALA RAM PUR KA THA JISME KAHI SE BHI KUMAR SAUVIR KA NAAM TAK NHI THA LEKIN SAWAL MAHUAA NEWS OR MAHUAA NEWS KE RAM PUR KE REPORTER KA THA.CHUKI SAUVIR JEE U.P KE CHIEF HAI TO KAM SE KAM APNE CHANNEL OR APNE STRINGERS KI DEKH REKH WA SURAKSHA KA DAYITWA BHI UNHI KE MAJABOOT KANDHO PAR HAI IS LIYE BINA KISI WARANT YA COURT KE AADESH KE APNE STRINGER EVM APNE SENIORS KE BACHAW ME COURT ME HAJIR HUYE OR APNE REPORTER KI JAMANAT KARAI.AISA SHAYAD HI KISI BUREAU NE KIYA HOGA APNE STRINGERS KE BACHAW ME.AAJ KI MEDIA JITNI GHINAUNI HO GAI HAI ISKA ANDAJA TAK NHI LAGAYA JA SAKTA.KUCHH CHANNELO KE CHIEF TO STRINGERS SE BAAT TAK KARNA APNE SHAN KE KHILAF SAMAJHATE HAI OR JAB UN PAR KOI KHATARA AA JAYE TO SABSE PAHLE USE APNE CHANNEL SE NIKAL BAHAR KARNE ME EK SECOND KI DERI NHI KARTE ITNA HI NHI AANAN-FANAN ME US GAREEB SE CHANNEL KI ID TAK TO MANG LI JATI HAI.AISE ME SAUVIR JEE JAISE LOG SACH ME TARIF KE KABIL HAI.ITNA HI NHI AISE JIMMEDAR OR KARMATH KARMACHARIYO SE ANYA BUREAU KOSABKA TO SIKHNA HI CHAHIYE OR UNKE BARE ME CHARCHA SIRF BHADASH PAR HI NHI BALKI DESH KE ANYA SABHI NEWS CHANNELS KO BHI BREAKING NEWS KI TARAH KARNI CHAHIYE.

    HAJARO SAAL NARGIS APNI BENURI PE ROTI
    BADI MUSKIL SE HOTA HAI CHAMAN ME DEE-DA-WAR PAIDA.

    Reply
  • raghwendra dwivedi says:

    sauvir ne yahin bhadas par ek article likha tha judiciary ke baare me, khub badh chadh kar. judiciary me ye kami hai wo corruption hai, aaj samajh me aa gaya hoga ki uski aukaat hai kitne paise ki. mahuaa wale to kya NDTVaur aaj tak ke baap bhi jab judiciary ke khopche me aa jate hain to baap baap karke apni jaan bachate hain. ab shayad sauvir article nahi likhega agar samajhdaar hua to..
    aukaat nahi bhulni chahiye sauvir jaise logon ko apni

    Reply
  • MAQSOOD ALAM says:

    write by maqsood alam 19-06-2010
    mein MISHANT RANJAN jee ke lekh se sahmat hoon aaj ke electronic media me asa bureau chief nahi hoga jo apne stinger ke paksha me kot me hajir hua ho mahuwa news ke U.P.bureau chief kumar ssovir jee ke es pahal ko mein salam karta hoon aaj ki tarik me kisi bhi chanel ke stinger se koi galti ho jati hai to turant karvahi apne hi stinger ko karte hue nikal dete hai aur logo turant vapas lete hai . KUMAR SSOVIR JEE ne jo rampur kot me bina dosi ke jo 5 ghante bitaye uski mein bahut virodh karta hoon aur mein agrah karta hoon ki U.P. ke jetne bureau chief hai voh eska virodh kare kyonki esa unke sath bhi ghatna ghat sakti hai .

    Reply
  • MAQSOOD ALAM says:

    write by maqsood alam
    mein MISHANT RANJAN jee ke lekh se sahmat hoon aaj ke electronic media me asa bureau chief nahi hoga jo apne stinger ke paksha me kot me hajir hua ho mahuwa news ke U.P.bureau chief kumar ssovir jee ke es pahal ko mein salam karta hoon aaj ki tarik me kisi bhi chanel ke stinger se koi galti ho jati hai to turant karvahi apne hi stinger ko karte hue nikal dete hai aur logo turant vapas lete hai . KUMAR SSOVIR JEE ne jo rampur kot me bina dosi ke jo 5 ghante bitaye uski mein bahut virodh karta hoon aur mein agrah karta hoon ki U.P. ke jetne bureau chief hai voh eska virodh kare kyonki esa unke sath bhi ghatna ghat sakti hai .

    Reply
  • viskhipt.pathak says:

    ka bhaiya gareeb khada rahta hai to TRP layak news dhoondhate ho aaj apne par padi to lage gahnte ginane. Chalo samajh me aaya hoga judiciary kya bala hai. Sarasar galti CJM ki hai jo Saubir sahab ko usne baitha kar aawbhagat nahi ki jaisa ki aur vibhagon me hota hai.

    Isi dard ko to unhone bayan kiya tha apne article me. Saare vibhaagon me Chaploosi ki jaati hai lekin Judiciary patrakaron aur aam janta ke beech me koi bhed nahi karta shayad yahi khal gaya tha Saubir sahab ko…

    Reply
  • What all behaviour done with Mr.Sauvir by the Rampur Court was absolutely unethical.The only bureau incharge who standed with his stringer in his worse times, his efforts should be praised inspite of dominating him.The media people should atleast encourage these type of steps rather than discouraging.His attempt to accompany his stringer and to disclose the reality of our courts is really praiseworthy, and he should not be treated like a slave as he was behaved in the court. the upcoming media generation should learn with his courage and should ignore all the negative response given by negative people, as there will always be some opposition where a great work is done.

    Reply
  • anilrajtiwari says:

    न्यायाधीशों के सामने खुल्लेआम घूस लेते बाबूओं का सैकड़ों नज़ारे मेरे कैमरे मे कैद हैं लेकिन बोले कौन भारत का संविधान अंग्रेजों का ज्यादा है, हिन्दुस्तानियों का नही इसलिये चुप ही रहना बेहतर है भैया किसी तरह झेल लो ………………

    Reply
  • Dhanajay k jha says:

    Dear Sir..
    just knw, u stand 5 hours in Rampur Court
    as a journalist/ citizen, we have no right to ask to judge, why he stand?
    still we suffering with corrupt british colonialism

    regds
    Dhananjay K Jha
    Content Editor
    mptvnews.com

    Reply
  • Rajnish Chauhan says:

    Kumar Sauvir ji saath court me hua ye vyvahaar vakayi sharmnaak hai. Halanki mujhe is baat ki behad khushi hai ki vo UP bureau cheif hone ke naate iska thikra bechare stinger ke seer fod skte the lekin unhone aisa nahi kiya balki ise apni jimmedaari mante hue saari pareshani ka samna khud kar rhe hain.. Really its appreciating.

    Reply
  • Dr Farhat Durrani says:

    MAHAAN aise hi thode log ban jaate hain uske liye khoon pasina ek karna padta hai…… janab…… HATS OFF & SALUTE TO MR. SAUVIR…..
    !!!!!!!!!!!!!!

    Reply
  • kaushal seth says:

    कुमार सौवीर सर का कोर्ट में पाँच घंटे तक खड़ा रहना वर्तमान में प्रेस की स्वतंत्रता का जीता जगता उदहारण है / आज प्रेस को अपना काम दूसरों से पूछ कर करना पड़ता है / कई मामलो में पूछना पड़ता है के भाई आप कहो तो इसे कवर करलें अगर यही प्रेस की स्वतंत्रता है तो आज़ादी की लड़ाई के समय में जो सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार हुए उन्होंने अंग्रेजी हुकूमत की धज्जियाँ कैसे उड़ा दीं ? क्या तब प्रेस ज्यादा स्वतंत्र थी ? अब तो वाक् और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर भी ? चिन्ह लग गया है दिखाना और छापना तो दूर बोलना भी सोच कर पड़ता पता नहीं किसे बुरा लग जाये और एक सम्मन हमारे नाम इशु हो जाये /आज पत्रकारों पर हमले होते हैं, किसी पे मुक़दमे होते है ,कभी कोई नेता धमकता है तो कभी कोई अभिनेता प्रेस वालों से हाथापाई पे उतर आता है इतना तो राजा महाराजाओं के समय में उनके दूतों पर हमले नहीं होते थे जो एक दुश्मन राजा का संदेश दुसरे राजा के घर में जाकर सुनाता था उसे भी सम्मान के साथ बैठाया जाता था / सौवीर जी का ये बड़प्पन है के यु.पी.ब्यूरो होने के नाते किसी मामले में उन्होंने रामपुर जाकर अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वाह किया / अब कोर्ट में उनके साथ जो कुछ भी हुआ वो वाकई में निंदनीय है लेकिन क्या करें माननीय न्यायालय के आगे किसकी चली है / जो भी हो हम सौवीर सर के साथ है हर कदम पर /

    Reply
  • brajesh srivastava says:

    कानून का सम्मान करने में कोई अपमान नहीं है !इसलिए सबको कठघरे में खड़ा करने वाले अगर खुद ५ घंटे कठघरे में खड़े हुए तो उसमे कोई हैरत या शर्मिंदगी नहीं होनी चाहिए !लेकिन इतना निश्चित है की हमें हमारी गलती जानने का कानूनन अधिकार है और हमें इसका प्रयोग जरूर करना चाहिए !क्योकि महज न्यायाधीस होने के कारण आप हमेशा सही नहीं हो सकते !आपको इसके कारणों को अवश्य खोजना चाहिए और अगर आप बेक़सूर है तो इसके विरुद्ध आवाज उठानी चाहिए

    Reply
  • brajesh srivastava says:

    कानून का सम्मान करने में कोई अपमान नहीं है !इसलिए सबको कठघरे में खड़ा करने वाले अगर खुद ५ घंटे कठघरे में खड़े हुए तो उसमे कोई हैरत या शर्मिंदगी नहीं होनी चाहिए !लेकिन इतना निश्चित है की हमें हमारी गलती जानने का कानूनन अधिकार है और हमें इसका प्रयोग जरूर करना चाहिए !क्योकि महज न्यायाधीस होने के कारण आप हमेशा सही नहीं हो सकते !आपको इसके कारणों को अवश्य खोजना चाहिए और अगर आप बेक़सूर है तो इसके विरुद्ध आवाज उठानी चाहिए

    Reply
  • brajesh srivastava says:

    कानून का सम्मान करने में कोई अपमान नहीं है !इसलिए सबको कठघरे में खड़ा करने वाले अगर खुद ५ घंटे कठघरे में खड़े हुए तो उसमे कोई हैरत या शर्मिंदगी नहीं होनी चाहिए !लेकिन इतना निश्चित है की हमें हमारी गलती जानने का कानूनन अधिकार है और हमें इसका प्रयोग जरूर करना चाहिए !क्योकि महज न्यायाधीस होने के कारण आप हमेशा सही नहीं हो सकते !आपको इसके कारणों को अवश्य खोजना चाहिए और अगर आप बेक़सूर है तो इसके विरुद्ध आवाज उठानी चाहिए

    Reply
  • lalit mohan says:

    कुमार सौवीर जी ने पाँच घंटे कोर्ट में खड़े रह कर पत्रकारिता की मिसाल दी है अपने स्ट्रिंगर के लिए एक ब्यूरो का ये समर्पण वाकई में काबिले तारीफ है अन्य ब्यूरो को सौवीर जी से सीख लेनी चाहिए /

    Reply
  • kamlesh pandey says:

    प्रिय भाई सौवीर जी….
    भड़ास के माध्यम से जानकारी हासिल हुई कि किसी मामले में आपको सशरीर कोर्ट में उपस्थित होकर ५ घंटे तक कोर्ट की कार्रवाई झेलनी पड़ी। आज इस भ्रष्ट न्यायपालिका के वास्तविक चेहरे को भी दर्शाने की जरूरत है। जिस न्यायापालिका ने आपको यह जहमत दी, उसी न्यायपालिका में कोर्ट के पेशकार किस प्रकार न्यायाधीश के सामने ही मामले पेश करने के पैसे वसूलते हैं, यह बात किसी से भी छिपी हुई नहीं है। बहरहाल बेहतर होगा कि उसी कोर्ट का एक स्टिंग आपरेशन करवा कर दर्शकों के सामने प्रस्तुत कर दें कि आज की न्यायपालिका की वास्तविक तस्वीर क्या है ? इस संदर्भ में ईसा मसीह की एक उक्ति याद दिलाने की बेहद जरूरत पैसे लेकर अदालत में तारीख देने वाले पेशकारों को शह देने वाले न्यायाधीशों को भी है।
    आशा है, सपरिवार स्वस्थ व सानंद होंगे।
    आपका
    कमलेश पांडेय
    उप संपादक
    सन्मार्ग (कोलकाता)
    हिंदी दैनिक

    Reply
  • Awanindra Tripathi says:

    Kumar Sauvir sir patrkaarita aur patrakaarita ke peshe se jude har us shaks ke liye misaal hain.patrkaarita ke prati lagan junoon aur samarpan unme kootkoot kar bhara hai..ise apne kaam ke prati dillagi ki baangi hi to kahenge jo unhone apne pad ki garima bhool baithe nayaay vyavastha ke unmaadi pairokaar ke saamne aisa udharan rakha jise har ubharte hue patrkaar ko nazeer ke roop me lena chaahiye..isi ke saath patrakaaron ke us samooh ko bhi kuch seekh leni chahiye jo apne se chote ohdon ke prati asanvedansheel ravaiyaa apnate hain..unke ke ye kadam patrkaarita ke ethics ko to saarthak karte hi hain aur aaj ke maujuda halaat me jahan patrkaarita cosumerism ki chapet me aa ek bikne vaali vastu ho gai hai aur patrkaar samaaj ka tatha apne karmchaariyon ka dohan karne vaala pishaach ban chuka hai aise samay me unka aisa nirnaayak kadam samaaj ki aakhen kholne vaala aur patrkaarita ke mulyon ko saarthak kar uski shaan me nai ibaarat gadhne vaala hai…

    Reply
  • bhimmanohar says:

    imandari ke chashmese puri ghtna ko dekho bhai, kahi na kahi news wale doshi hai kyounki news breaking ke chakkr me reporters sabhi mariyada ko bhul jata hai , isme sabse jyada dosh news ko assign karne wale ka hota hai, isliye sauvir jee ko saza mili ,wah tarif ke kawail to nahi hai par kuch had tak sahi hai. bura na mano bhai , yeh bhi sach hai,
    b.manohar

    Reply
  • sauvir sir ko iske liye salaam,shayad hi kisi bureau ne aisa kia ho apne chote se stringer ke liye.or aaj ke samay me stringer ko samjha hi kia jata hai.sir ka yeh kadam kabeele tareef hai.

    Reply
  • Deepak Vishwakarma says:

    कुमार सौवीर जी नमस्कार \ मैंने आपके बारे में भड़ास मीडिया पर पढ़ा | जान कर काफी दुःख हुआ मगर न्याय पालिका के सामने हम मजबूर है | हमारे पास मिडिया का हथियार है मगर इसका इस्तेमाल हम पूरी तरह नहीं कर सकते चुकी हमारे साथ बंधन है शिर्स पर बैठे संपादक और चैनल मालिको का जब हम किसी एक्स्क्लुसिव् खबरों को भेजते है तो बाह वहिया मिलती है अगर इसी खबर पर कोई सबल खड़ा होता है तो संपादक और मालिक दो हमारा साथ देने से हाथ खीच लेते है | यहाँ तक चैनल से हटा भी दिया जाता है | यह परम्परा आज की नहीं है मैंने ऐसे कई थपेड़े को झेला है वह भी दैनिक हिंदुस्तान से लेकर महुआ तक | आप की पत्रकारिता वे वाक है मुझे याद है मायावती के खिलाफ जो आप ने आंबेडकर पार्क निर्माण में कोर्ट के आदेश का अबहेलना करते हुए निर्माण कार्य को लाइव दिखाया था वह काबिले तारीफ ही नहीं वल्कि आपके हिम्मत को भी दर्शाता है जिसने मायावती जैसी क्रूर मुख्य मंत्री को भी नहीं वख्सा | आज उत्तर परदेश में महुआ को आप ने एक मुकाम दिया है जो आने वाले नयी पीढ़ी के पत्रकारों के लिए एक सबक है | आज सबसे ज्यादा भार्स्त्रचार न्याय पालिका में है इस भार्स्त्रचार को क्या हम उजागर नहीं कर सकते इसके लिए हमें आगे आना होगा तभी हम स्वतंत्र हो कर पत्रकारिता कर सकते है | दुसरो की आवाज बुलंद करने वाले हम पत्रकार खुद शोसन के शिकार है चैनल वाले हमसे रात दिन काम लेते है और पैसे देने के समय कहते है की चैनल घटे में चल रहा है ऐसे परिवेश में हम हर ओर से शोसन के शिकार है | आज से दस वर्ष पूर्व बिहार शरीफ रेलवे स्टेसन के समीप चोर वता कर एक दलित महिला कि लाठी से बेरहमी से पिटाई की गई थी जिसका लाइव कवरेज मैंने जी को भेजा था जी वालो ने इस कवरेज को मोटी रकम ले कर सभी चैनलो को बेच दिया फिर किया था एक साथ भारत के सभी चैनलो पर इसका प्रसारण हुआ और नितीश सरकार की जाम कर आलोचना की गई | खबर से बौखला कर रलवे पुलिस ने हमारे कैमरा मैंन पर ही महिला को पिटवाने का आरोप लगाकर मुकदमा कर दिया |मुकदमा होने के बाद जी वालो ने अपना हाथ खीच लिया और करीव एक वर्ष तक मै परेशांन रहा | आपका शुभ चिन्तक | दीपक विश्वकर्मा [ नालंदा ]

    Reply
  • chandrakant tripathi says:

    dadda agar kal aapse mulakat na hoti to shayad mujhe pata hi na lagta dadda sach me ye jankar badi khushi hoti hai ki main aapka chhota bhai hoon. bas bhagwan se yahi kamna karta hoo ki aap din prati din aisi hi shohrat kamate jaiye ye main aapke 5 ghante katghare me rahne ki wajah se nahi uska mujhe dukh hai balki iss ghatna ke bad aapko mile hua comment ko aadhar banakar kah raha hoon.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.