आत्मकथ्य : अथ श्री भास्कर कथा (4)

sanjay दैनिक भास्कर, बिलासपुर आने की कथा भी रोचक है। यहां भी स्वदेश के संपादक रहे हरिमोहन शर्मा ही मेरे पुन: भास्कर में प्रवेश का कारण बने। वे उन दिनों हिसार भास्कर के संपादक थे। उन्होंने मुझे पानीपत में जगदीश शर्मा जी से मिलने के लिए कहा। मैं पानीपत पहुंचा और श्री शर्मा से मिला। श्री शर्मा इन दिनों भास्कर समूह में उपाध्यक्ष के रूप में कार्यरत हैं। उन्होंने अपने सद्व्यवहार और आत्मीयता से मुझे बहुत प्रभावित किया तथा साथ लेकर अगले दिन दिल्ली में भास्कर के प्रबंध संचालक सुधीर अग्रवाल से मुलाकात करवाई।

श्री अग्रवाल हिंदी पत्रकारिता के उन नायकों में हैं, जिन्होंने अपनी कर्मठता से अपने समाचार पत्र को एक विशिष्ट पहचान दिलाई है। उनके प्रति मेरे मन में वैसे भी बहुत आदरणीय भाव है। मैं उन्हें पत्रकारिता के चंद गिने-चुने मालिकों में मानता हूं, जो हिन्दी में इतनी गंभीरता के साथ एक संपूर्ण अखबार निकालने का प्रयास कर रहे हैं। उनसे मिलना एक अच्छा अनुभव था। उन्होंने मुझसे जगहों के विकल्प के बारे में पूछा और चंडीगढ़, सीकर तथा छत्तीसगढ़ जैसे विकल्प सामने रखे। छत्तीसगढ़ से मेरा एक भावनात्मक रिश्ता पहले ही बन गया था। जाहिर तौर पर मैंने छत्तीसगढ़ का विकल्प ही सामने रखा। उन्होंने तत्काल ही बिलासपुर में समाचार संपादक के रूप में मेरी नियुक्ति कर दी। उनके काम करने का तरीका, चीजों को समझने की त्वरा देखते ही बनती है। वे वस्तुत: विलक्षण प्रतिभा के धनी हैं। हिंदी पत्रकारिता में हो रहे परिवर्तनों को जिस तेजी के साथ उन्होंने स्वीकार किया और अपने अखबार को भी आज के समय के साथ चलना सिखाया, उससे वे एक किंवदंती बन गए हैं। भास्कर, बिलासपुर के अपने तीन साल के कार्यकाल में उनसे कुल दो बड़ी बैठकें ही हो पाईं, जिनमें एक भोपाल में और दूसरी बिलासपुर के श्यामा होटल में। आमतौर पर समाचार पत्र मालिकों के प्रति पत्रकारों की देखने की दृष्टि अलग होती है, किंतु मैंने यह पाया कि श्री अग्रवाल में संपादकीय मुद्दों की गहरी समझ है और वे अखबार को बहुत गंभीरता से लेने वाले मालिकों में से एक हैं। उनके साथ बैठकर बहुत कुछ सीखा और समझा जा सकता है। इस बीच भास्कर में काम करते हुए उनसे फोन और ई-मेल पर हल्की-फुल्की सलाहें, कभी प्रेम की भाषा में तो कभी चेतावनी की भाषा में मिलती रहीं किंतु इस कार्यकाल ने मुझे आज की पत्रकारिता के लायक बनाया। साथ ही साथ मेरी कई पूर्व मान्यताओं को बेमानी भी साबित किया। बिलासपुर शहर में रहते हुए मुझे लोगों से जो अपनापा, प्यार और सद्भाव मिला वह मेरे जीवन की सबसे मूल्यवान पूंजी है। यह एक ऐसा शहर था, जिसने मुझे न सिर्फ काम के महत्वपूर्ण अवसर उपलब्ध कराए वरन रिश्तों की दृष्टि से भी बहुत संपन्न बना दिया। दिखने में यह शहर बहुत ठहरा हुआ सा और धीमी चाल चलने वाला शहर है किंतु यहां बहने वाली अरपा की तरह लोगों में भी अंत:सलिला बहती है। प्रतिवाद न करने के बावजूद लोग अपनी राय रखते हैं। साथ ही साथ धार्मिकता की भावना इस शहर में बहुत गहरी है। सही अर्थों में यह उस तरह का शहर नहीं है, जिस नाते शहर, शहर होते हैं। एक बड़े गांव सा सुख देता यह शहर आज भी अपने स्वभाव से उतना ही निर्मल और प्यारा है। शहर से लगी रतनपुर की धरती और यहां विराजी मां महामाया का आशीर्वाद सतत् आसपास के क्षेत्र पर बरसता दिखता है। यहां की राजनीति, साहित्य और पत्रकारिता सब कुछ एक-दूसरे आपस में इतने जुड़े हुए हैं कि बहुत द्वंद नजर नहीं आते। हिंदी के यशस्वी कवि श्रीकांत वर्मा, प्रख्यात रंगकर्मी सत्यदेव दुबे का यह शहर इसलिए भी खास है कि इसी जिले के सुदूर पेंड्रा नामक स्थान से सन् १९०० में पं. माधवराव सप्रे ने छत्तीसगढ़ मित्र निकालकर पत्रकारिता की एक यशस्वी परंपरा की शुरुआत की। जड़ों में संस्कारों से लिपटा यह शहर अपने प्रेमपाश में बहुत जल्दी बांध लेता है। इसकी सादगी ही इसका सौंदर्य बन जाती है। यहां मुङो मित्रों का इतना बड़ा परिवार मिला कि बिलासपुर मेरे घर जैसा हो गया। यहां भास्कर के मेरे दो वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद मेरे वरिष्ठ अधिकारी के रूप में हिंदी के महत्वपूर्ण कवि गजानन माधव मुक्तिबोध के सुपुत्र दिवाकर मुक्तिबोध का आगमन हुआ। उन्होंने कभी भी अपनी वरिष्ठता की गरिष्ठता का अहसास मुङो नहीं होने दिया और एक छोटे भाई के रूप में हमेशा अपना स्नेह और संरक्षण मुङो प्रदान किया। मेरी पुस्तक मत पूछ हुआ क्या-क्या’ की भूमिका भी उन्होंने कृपापूर्वक लिखी। आज भी वे मेरे प्रति बेहद आत्मीय और वात्सल्य भरा व्यवहार रखते हैं।

भास्कर में मेरे सहयोगियों प्रवीण शुक्ला, सुशील पाठक, सुनील गुप्ता, विश्वेश ठाकरे, सूर्यकांत चतुर्वेदी, राजेश मुजुमदार, रविंद्र तैलंग, अशोक व्यास, संजय चंदेल, घनश्याम गुप्ता, हर्ष पांडेय, प्रतीक वासनिक, व्योमकेश त्रिवेदी, देवेश सिंह, अनिल रतेरिया, रविशंकर मिश्रा, योगेश मिश्रा जैसे तमाम मित्र आज भी एक परिवार की तरह जुड़े हुए हैं। इसके अलावा शहर में पं. श्यामलाल चतुर्वेदी, हरीश केडिया, डा. आरएसएल त्रिपाठी, बेनी प्रसाद गुप्ता, पं. नंदकिशोर शुक्ल जैसे समाज जीवन के सभी क्षेत्रों में इतने व्यापक संपर्क बने, जिनका नाम गिनाना मुङो संकट में तो डालेगा ही, इस लेख की पठनीयता को भी प्रभावित कर सकता है। इसी दौरान लगभग तीन साल गुरू घासीदास विश्वविद्यालय की पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष डा. गोपा बागची और उनके अत्यंत सरल और सौम्य पतिदेव डा. शाहिद अली की कृपा, प्रेरणा से विश्वविद्यालय में पत्रकारिता शिक्षण का अवसर भी मिला। इसमें अनेक विद्यार्थी तो इतने प्रिय हो गए, जैसे वे मेरे परिवार का ही हिस्सा हों। जिनमें यशवंत गोहिल नई पीढ़ी के प्रखर पत्रकारों में हैं, जो मेरे साथ भास्कर और बाद में हरिभूमि में भी जुड़े रहे। इसी तरह अनुराधा आर्य, मधुमिता राव, नीलम शुक्ला, दीपिका राव, सुरेश पांडेय, शरद पांडेय, योगेश्वर शर्मा जैसे तमाम विद्यार्थी आज भी उसी भावना से मिलते हैं। बिलासपुर के तीन साल मेरे जीवन के बीते सालों पर भारी थे।

….जारी


कल पढ़िए अंतिम भागः  रायपुर- यादों की महक

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *