मुंबई मिरर से फिर दो पत्रकारों ने दिया इस्तीफा

: अरविंद ने राष्ट्रीय सहारा और मनोज ने दैनिक जागरण ज्वाइन किया : जागरण में वागीश का गोरखपुर तबादला : सौम्या व अरविंद ने पाला बदला : अमित नए सिटी चीफ बने : कैलाश कांपैक्ट के प्रभारी : आशीष नए ब्यूरो चीफ : बरेली में फर्जी पत्रकार गिरफ्तार : अमर उजाला से रमेश ठाकुर कार्यमुक्त : टाइम्स आफ इंडिया समूह के अंग्रेजी अखबार मुंबई मिरर से दो लोगों के जाने की खबर है. इस बार इस्तीफा सिटी चीफ योगेश पवार और हेल्थ रिपोर्टर राजीव शर्मा ने दिया है. इस प्रकार एक माह में मुंबई के इस अखबार से करीब सात लोग जा चुके हैं.

देहरादून में दैनिक जागरण के कार्यालय संवाददाता अरविंद शेखर ने वरिष्ठ संवाददाता के रूप में राष्ट्रीय सहारा, देहरादून ज्वाइन किया है.

हल्द्वानी में दैनिक हिंदुस्तान में कार्यरत मनोज लोहनी ने अखबार को बाय-बाय कहते हुए हल्द्वानी में ही अमर उजाला ज्वाइन किया है.

वागीश धर द्विवेदी का तबादला दैनिक जागरण, लखनऊ से दैनिक जागरण गोरखपुर के लिए किया गया है. वे गोरखपुर में मुख्य अपराध संवाददाता बनाये गए हैं.

कानपुर से मेल के जरिए मिली एक सूचना के मुताबिक शैलेंद्र सिंह राजावत को राष्ट्रीय सहारा, कानपुर देहात के जिला संवाददाता पद से हटा दिया गया है. उनकी जगह आशीष अवस्थी को नया ब्यूरो चीफ बनाया गया है.

अमर उजाला, बरेली में सिटी चीफ की जिम्मेदारी संभाल रहे कैलाश सिंह को इसी समूह के टैबलायड अखबार कांपैक्ट का प्रभारी बना दिया गया है. नए सिटी चीफ के रूप में दैनिक जागरण, पानीपत के सिटी इंचार्ज रहे अमित अवस्थी ने ज्वाइन किया है.

हिंदुस्तान, एनसीआर से जुड़े दो पत्रकारों सौम्या मिश्रा और अरविंद सिंह ने इस्तीफा देकर बतौर जूनियर सब एडिटर अमर उजाला, नोएडा ज्वाइन किया है.

एक मेल के जरिए मिली सूचना के अनुसार बरेली में हिंदुस्तान अखबार के नाम पर एक दुकानदार को धमकाने व उगाही करने के प्रयास में फर्जी पत्रकार अनूप सक्सेना को गिरफ्तार किया गया है. अनूप के साथ दो और युवक थे जो भाग गए.

अमर उजाला, बरेली से ही एक अन्य खबर के मुताबिक रमेश ठाकुर अब इस संस्थान के हिस्से नहीं रहे. पिछले दिनों मकान मालिक से हुए विवाद के कारण रमेश चर्चा में आए थे.

Comments on “मुंबई मिरर से फिर दो पत्रकारों ने दिया इस्तीफा

  • nikhil sharma from meerut says:

    hindustan aur amarujala ke beech reporters ko chinne ki ladai kaha jakar khatam hogi……samajh nahi aata. lakin inn sab ke beech dono hi newspaper ke reporters ki chaandi ho gayi hai

    Reply
  • Aur haan UNI aandolan par DECEMBER 2006 mein chapi meri kitab – HISTORY OF UNI -BACK TO FUTURE aapko Kuldip Nayar / N Ram/ Anil Chamadia / Rajesh Kumar se na mile toh mujhe suchit karein – mujhe dukh hota hai Vinod Kumar ki samajh par jise maine apna chota bhai mana lekin woh larger issues ko samajne ke bajay local issues mein fans gaya – woh toh bole ki yeh ladai joshi aur rajesh ke beech ki nahin kuch aur hai

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *