पेड न्यूज के धंधे के खिलाफ चावला से मिले राजदीप

एडिटर्स गिल्ड ने अखबारों में बढ़ रही पैसे लेकर खबर छापने की प्रवृति पर गंभीर चिंता जताते हुए चुनाव आयोग से इस कार्य में शामिल उम्मीदवारों और मीडियाकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा है। मगर आयोग ने उनसे कहा कि उसके पास ऐसा तंत्र नहीं है इसलिए कहीं-कहीं से कुछ नमूने लेकर नजदीकी जांच की जा सकती है।

गिल्ड के अध्यक्ष राजदीप सरदेसाई के नेतृत्व में गिल्ड के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य चुनाव आयुक्त नवीन चावला से मुलाकात की और उन्हें एक ज्ञापन सौंपा। इसमें कुछ राजनीतिक विज्ञापनों को समाचार के रूप में पेश करने के बढ़ते रूझान की निंदा की गई है। सरदेसाई ने कहा कि यह खतरनाक रूझान लोगों के विश्वास और समाचारों की रिपोर्टिंग की विश्वसनीयता और निष्पक्षता को धीरे-धीरे खत्म कर पत्रकारिता के आधारों को खतरे में डाल रहा है।

नवीन चावला ने प्रतिनिधिमंडल से कहा कि चूंकि सभी 543 लोकसभा क्षेत्रों में उम्मीदवारों पर नजर रखने के लिए आयोग के पास तंत्र नहीं है, इसलिए कहीं-कहीं से कुछ नमूने लेकर नजदीकी जांच की जा सकती है। साभार : जनसत्ता

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “पेड न्यूज के धंधे के खिलाफ चावला से मिले राजदीप

  • Ram Sunder Mishra says:

    vaise to pratiashpardha ki doud me gudvatta ki har jagah kami aayee hai..lekin jis prakar se vigyapano ki maramari news chanel aur samachar patro me hai.. oosase to yahi lagata ki ab patrakarita mission nahi profisan hai.. aise me sar desayee sahab ka prayas sarahaniya hai…lekin jara ye apane girebad me khud jhak kar dekh le ki news chanel kis tarah se khabaro paros rahe hai.. een sab ke bav jud rajdeep ji ka prayas sarahaniya hai… jarurat hai to bas eese eemanadari se sabhi chanel aur news paper ko palan karane ki

    Reply
  • Thanks to mr rajdeep sar desai aap ne ye kadam utha kar media aur khas kar ek sachhe journalist ki vishwasniyata ko bachane ki koshish ki hai.aur ham ummid karte hain ki aage bhi bikao patrkarita per rok lagane ke liye aur jaroori kadam uthae jane ki pahel karaienge.

    Reply
  • Akhilesh Singh says:

    SUKRIYA RAJDEEP JI , AAP NE JO KADAM UTHAYA HAI . LEKIN YE KADAM DO KADAM CHAL KE RUK NA JAYE , MAI AAP SE YHI UMMID KRU GA , KI ESE ESKE ANJAM TAK PHUCH KR HI RUKE TAB HI SAHI HOGA, AGAR ESI TRAH KA SILSILA HR EK BADE MEDIA KE JOURNALIST SE SURU HO JAYE TO KYA KAHNA .AUR YE MUDDA APNI MANJIL TAK JARUR PAHUCHE GA.

    Reply
  • Daulat Singh Chauhan says:

    ईश्वर करे राजदीप की कोशिशें सफल हों, खबरें बेचने के धंधे में लगे लोगों की अंतरआत्मा उन्हें कचोटे। वरना पत्रकारिता जैसा पवित्र पेशा दूषित हो रहा है। कभी इस पेशे में होने पर गर्व होता था पर अब तो शर्म आने लगी है। क्योंकि पैसे तो ….(वे) भी कमाती हैं।

    Reply
  • RAJDEEPJI AAP PAID NEWS K LIYE JO KAR RAHE WO TO THIK HAI MAGAR AAPK K MAHARASHTRA K KUCH LOG TO BINA PAISE LIYE KUCH STORY HI KARTE NAHI YA PHIIR OFFICER KO BLACK MAIL KARNE YA KISINETA KO PIASE LIYE BAGAR TO CHODTE HI NAHI.AAPKE KUCH REPORTER BLACK MALER HAI.JAISE AMARAVATI KA PRAVEEN MANOHAR,BULDANA KA RAHUL PAHURKAR.AAP INHE PAHALE NIKALO.PHIR KUCH KARO

    Reply
  • rajesh jwell says:

    rajdeepji apko bdhai, ek patrkar hone ke nate me bhi pad news ke khilaf hu,m.p ke indore me rhta hu aur yha pad news ka dhanda jordar chalta hai.lokshabha aur vidhanshbha ke bad abhi nagar nigam chunav me sare hi akhbaro ne jamkar mal kuta.ayog ne chunavi kharche par to rok lagai mgar uska tod akhbar maliko ne pad news ke rup me nikal liya, aap lado hmare jese bhai sath me rhege,thanks.

    Reply
  • अभिषेक says:

    वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाईजी से विनम्र निवेदन है कि पहले सभी इलेक्ट्रानिक न्यूज चैनलों के अंदर भी झांक लो, जिनमें इस तरह का लेन-देन किया जाता है। काहे समाचार पत्रों के पीछे पड़े हो। बड़े-बड़े लेख समाचार पत्रों में लिख रहे हो। अपनी तो धुलती नहीं और दूसरे की धोने चले हो। कौन नहीं जानता कि न्यूज चैनलों में कितने बड़े स्तर पर सेटिंग-गेटिंग की जाती है। यह बात अलग है कि न्यूज चैनलों की सेटिंग थोड़े बड़े स्तर पर होती है। खैर… हमें क्या… चाहे समाचार पत्र हो या न्यूज चैनल…. सभी कोठे वाली वैश्या की तरह है…. जहां देखा पैसा…. वहीं बना ठैसा… हा हा हा हा…. कुछ अच्छे लोगों को छोड़ दिया जाए (लगभग ५ प्रतिशत) तो सभी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं और हां. देश में फिलहाल चल रहे हिन्दी के ११३ न्यूज चैनल (क्षेत्रीय एवं राष्ट्रीय) में कुल कार्यरत ४२५७ (एकदम सही आंकड़ा, चाहे तो जांच करवा लीजियेगा, ११३ न्यूज चैनलों में इतने ही लिस्टेड हैं, जिसमें ट्रेनी शामिल नहीं है) पत्रकारों का दस प्रतिशत लगभग २१२ होगा… ही सही मायने में अच्छे और सच्चे पत्रकार हैं। अरे कम से कम आपके जैसे लोगों को पहले अपना घर साफ करना चाहिए… फिर दूसरे के घर में दस्तक दें झाड़ू लेकर। समझ नहीं आता आपको चावलाजी से मिलने का समय है वह सभी चैनलों के लिये एक आचार संहिता बनाने के लिये समय नहीं है। खैर क्या किया जाए…. आपको और आपके सभी चैनल वाले भाइयों को अपना चैनल भी तो चलाना है…. इसलिये अपने घर पर बाद में ध्यान देने का सोचा होगा आपने…. शायद…

    Reply
  • sandeep shrivastava says:

    Rajdeep ji-
    ek patrakar hone ke badd mujhe lagta hai, akhbaar maliko ka dawab aur chhannel chalane ke kharche na dena patrakaro ko bheekha-mangha ke liye vivas karta hai. Ha ye peshe aur Kalam ke saat bada vishwasghat hai. bade akbaro ke malik local patrakar ko target deghe aur seniorty ke naam par imported editor papaer run karta hai. khabar becho target pura karo yahi hai aaj ki patrakarita.
    Bada he accha prayash hai jaroor safalta milegi.

    Reply
  • ajit upadhyay says:

    Rajdeep sir,
    aap jaise commited journalist se yahi umid hai ki Aap in journalism ke brokers ko be – naqab kare. democracy ka journalism fourth pilar hai isko aap neat and clean kare.
    with best compliment…..
    regards

    Reply
  • Egar to know the fate of issue raised by rajdeepji.Indirectly the then election commissioner Mr T.N,Sheshan is responsible for this beemari of paid news.This is nothing but a fallout of restrictions on election expenditure.But one should not forget that through paid news one cannot win elections,PUBLIC HAI VO SUB JANATI HAI There are many more equally serious issues confronting the world of media.

    Reply
  • vishal sate chikhali,buldhana says:

    rajdeep ji aap ki paid news k khilaf ki jung hamesha chalati rahe aap k ibn k repoter bhi aap ki raha par chalte hai achha laga buldhana k reporter ki sawakri k khilaf jo news lagai tab congress MLA Sanada Sawakar ki kisano ki jamin wapas karani padi aap k IBN ki team ka shukriya

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *