Connect with us

Hi, what are you looking for?

वेब-सिनेमा

आइए, पांच करोड़ रुपये का गाना सुनें

राष्ट्रमंडल खेलों का ‘थीम सांग’ तैयार हो चुका है. लांच हो चुका है. गुड़गांव के शानदार होटल में रंगारंग कार्यक्रम के बीच इसे उदघाटित किया ए.आर. रहमान ने. इंडिया बुला रहा है यारों… बोल है थीम सांग का. पता चला है कि इस थीम सांग के लिए एआर रहमान ने 15 करोड़ रुपये मांगे थे लेकिन उन्हें दिए गए पांच करोड़ रुपये. पांच करोड़ रुपये का यह थीम सांग आप भी सुनिए. लोगों का कहना है कि कहीं यह भी एक गड़बड़घोटाला तो नहीं! जनता के पैसे को राष्ट्रमंडल खेलों के नाम पर अनाप-शनाप ढंग से खर्च किया जा रहा है, लूटा जा रहा है. कहीं यह भी एक फिजूलखर्ची तो नहीं! चलिए, पांच करोड़ का थीम सांग सुनते हैं…

<p style="text-align: justify;">राष्ट्रमंडल खेलों का 'थीम सांग' तैयार हो चुका है. लांच हो चुका है. गुड़गांव के शानदार होटल में रंगारंग कार्यक्रम के बीच इसे उदघाटित किया ए.आर. रहमान ने. इंडिया बुला रहा है यारों... बोल है थीम सांग का. पता चला है कि इस थीम सांग के लिए एआर रहमान ने 15 करोड़ रुपये मांगे थे लेकिन उन्हें दिए गए पांच करोड़ रुपये. पांच करोड़ रुपये का यह थीम सांग आप भी सुनिए. लोगों का कहना है कि कहीं यह भी एक गड़बड़घोटाला तो नहीं! जनता के पैसे को राष्ट्रमंडल खेलों के नाम पर अनाप-शनाप ढंग से खर्च किया जा रहा है, लूटा जा रहा है. कहीं यह भी एक फिजूलखर्ची तो नहीं! चलिए, पांच करोड़ का थीम सांग सुनते हैं...</p>

राष्ट्रमंडल खेलों का ‘थीम सांग’ तैयार हो चुका है. लांच हो चुका है. गुड़गांव के शानदार होटल में रंगारंग कार्यक्रम के बीच इसे उदघाटित किया ए.आर. रहमान ने. इंडिया बुला रहा है यारों… बोल है थीम सांग का. पता चला है कि इस थीम सांग के लिए एआर रहमान ने 15 करोड़ रुपये मांगे थे लेकिन उन्हें दिए गए पांच करोड़ रुपये. पांच करोड़ रुपये का यह थीम सांग आप भी सुनिए. लोगों का कहना है कि कहीं यह भी एक गड़बड़घोटाला तो नहीं! जनता के पैसे को राष्ट्रमंडल खेलों के नाम पर अनाप-शनाप ढंग से खर्च किया जा रहा है, लूटा जा रहा है. कहीं यह भी एक फिजूलखर्ची तो नहीं! चलिए, पांच करोड़ का थीम सांग सुनते हैं…

30 Comments

30 Comments

  1. deepak srivastav, gorakhpur

    August 29, 2010 at 9:49 am

    बकवास है……..

  2. vijay vardhan

    August 29, 2010 at 10:37 am

    पांच तो क्या इस गाने को मुफ्त में मैं नही सुनना चाहुंगा।

  3. chanakya verma

    August 29, 2010 at 11:12 am

    theme song nahi..ye boring song hai..commenwealth games ke naam par public ka paisa loota ja raha hai..

  4. chanakya verma

    August 29, 2010 at 11:16 am

    sirf public ka paisa loota ja raha hai..

  5. ranjit

    August 29, 2010 at 12:51 pm

    mere gawan kee kahabat hai- Unkar (dusre ka) dal-bhat unkar Ghee, hamra parsai (parosne ) me lagai ye kee !
    is desh me janta ke paise ka yahee isht hai – Luto aur lutao…

  6. amitesh srivastva 09455083092

    August 29, 2010 at 1:08 pm

    Kalmadi aur AR Rehman is song k mafdyam se kya sandesh bharat k logo ko dena chaahatee hain . Bharat Bahut Durbhagayasalee hain media k itne prjor ghotaloo ka pardafaash karne k baad bhee central govt koi kasssh kadam nahee uthaa rahee hain …Hamaam main sab nagee hain

    Amitesh …. [b][/b][b][/b]

  7. Navin

    August 29, 2010 at 1:18 pm

    निहायत बकवास…..

  8. ABC

    August 29, 2010 at 1:36 pm

    Isse achchha hota ki peepli live ka mahngai wala gana ko hi title song bana deta

  9. chabdrabhushan

    August 29, 2010 at 2:28 pm

    vo din dur nahi jab desh ko janta ke bhari adalat me aise neta bech dalenege .

  10. vijay

    August 29, 2010 at 2:43 pm

    Song is good. I liked it

  11. madhaw singh

    August 29, 2010 at 3:42 pm

    mujhe samajh main nahi ata ki likhana nahi to likhate kyo hai ,itna bakbas thim song hai to ayojan kaisa hoga socha ja sakta hai

  12. राजीव

    August 29, 2010 at 4:01 pm

    एक दम बेकार गाना और धुन भी कोई खास नहीं….

  13. अजीत कुमार, मंगलम हॉस्पिटल, दिल्ली

    August 29, 2010 at 5:51 pm

    तीन अक्टूबर से शुरू होने वाले राष्टमंडल खेलों के लिए रहमान द्वारा रचित थीम सांग कुछ खास नहीं है। मजा नहीं आया। केवल मुझे मजा नहीं आया ऐसी भी बात नहीं है…बहुतों खेल प्रेमी ऐसे हैं जिन्हें ये थीम सांग को बिल्कुल हीं पसंद नहीं। आम आदमी को छोड़िए खेल आयोजन समिति की कार्यकारी समिति के सदस्य विजय कुमार मल्होत्ना को भी यह बिल्कुल भी पसंद नहीं है. ‘ओ यारों इंडिया बुला लिया’ और ‘जियो उठो बढ़ों जीतो’ बोल वाले इस थीम सांग को कैसे स्वीकार कर लिया गया मेरी समझ से बाहर है। इस थीम सांग का भाव मुझे समझ में ही नहीं आ रहा…केवल मुझे समझ में नहीं आती तो चलो कोई बात नहीं लेकिन यहां तो ना समझने वालों की लंबी फेहरिस्त है। रहमान ऑस्कर विजेता हैं और उनसे ये उम्मीद थी कि कुछ बढ़िया, प्रेरणादायक और उत्साहबर्द्धक सांग लाएंगे लेकिन साहब आपने तो उम्मीदों पर बिल्कुल पानी ही फेर दिया।
    बकायदा इसके लिए रहमान जी को पांच करोड़ रुपए दिए गए। ये तो रहमान जी की दरियादिली समझिए कि देश के लिए उन्होंने दस करोड़ रुपेए के डिस्काउंट दे दिए ये कम बात थोड़े ही है.. इतने ऊंचे कद वाले साहब ने डिस्काउंट तो दिया लेकिन थीम के साथ कहीं ना कहीं समझौता भी तो कर लिया ये भी तो देखिए। जितनी उम्मीद थी उस पर पर उनका ओ यारों इंडिया बुला लिया कहीं खरा नहीं उतरता है।

  14. Bhanu Dixit

    August 29, 2010 at 7:18 pm

    रहमान का दावा था कि CWG का थीम सॉग सकीरा के वाका-टाका से अच्छा होगा।
    जब अच्छा नहीं गा सकते तो बड़े बोल तो नहीं बोलिए। बकवास सॉग है। क्या रहमान को समझ मे आता है ये सॉग। जनाब काश आपने आज इस मौके पर ‘जय हो’ गाया होता तो वो ज्यादा अच्छा लगता और अधिक कामयाब होता।
    …………….जय हो

  15. vishnu

    August 29, 2010 at 8:37 pm

    लूट मची है हर कुचे में…लूट-लाटकर भाग ले भैया।

  16. shamil singh

    August 30, 2010 at 3:34 am

    abhi bhi waqt hai kisi aur se doosra theme song taiyyar karane ka..aisa hota hai theme song?kisi piti film ka ansuna rah gaya gana lagta hai..kahan waka waka aur kahan yeh..jashna ka aaj din hai..gaane ki yeh ek line hai..bhai 5 crore mile toh jashn toh hoga hi..

  17. Deepak Vashist

    August 30, 2010 at 4:10 am

    इस गाने से अच्छा तो सुखबीर का “दिल्ली में धमाल” था जिसे उन्होंने मेलबर्न में क्लोसिंग सरेमोनी मैं गया था| रहमान से अच्छा तो सुखबीर और लता दीदी हे कोम्पोसे कर देती | रहमान सिर्फ फिरंगी लोगों के लिए ही अच्छा लिख सकते हैं| 5 करोड़ तो 5 पैसे का भी गाना नहीं है ये| सॉरी रहमान साहब पर हमें ये गाना समझ नहीं आया|

  18. Rizwan Chanchal Lucknow

    August 30, 2010 at 5:48 am

    ‘kkld vkSj iz’kkld es tc VkbZ vi gks rks lc dqN lEHko gS budk dke gh gS turk dk [kwu pwluk vkSj dkxth [kkukiwjh dj lc dqN gM+i dj tkuk ikap djksM+ gh bl QwgM+ vkSj fujFkZd xhr ij [kpZ gqvk fQj Hkh xuher gS iUnzg djksM+ Hkh dj nsrs rks Hkh dqN QkdZ iM+us okyk ugh Fkk Hkkjrh; tuthou rks bldk vknh gks pqdk gS A

  19. vijay ahuja

    August 30, 2010 at 7:20 am

    लुटाओ और लुटाओ जनता का पैसा , .इसमें ना तो लूटने वाले और ना लुटाने वालो की गलती है /जब हम लूट्ने के बाद भी चुप है तो दूसरे को कियो दोष दे रहे है/राम नाम की लूट है ,लूट सके तो लूट

  20. Praveen Bhardwaj

    August 30, 2010 at 7:53 am

    Samanjh me hi nahi aa raha h.samanjh aa raha h to kewal ghotala

  21. shashi ranjan

    August 30, 2010 at 12:29 pm

    सुरों के दिग्गज के हुनर का कचरा… जय हो के धुन पर भारत के आगे दुनिया का सिर झुकाया |अब इस कड़ी में भारत सिर झुकायेगा | चवन्नी छाप गाने पर पांच करोड… वाह रे देशभक्ति १५ करोड कि मांग थी इसी गाने के लिए | १५ फूटी कौडियाँ भी महंगी हैं |
    महीने पहले एनडीटीवी पर अभिज्ञान प्रकाश के कार्यक्रम में मणि शंकर अय्यर ने इस कि खुलेआम चर्चा कि थी | उसी कार्यक्रम में CWG के एक अधिकारी भी थे, लेकिन उनकी बोलती बंद थी | पैसे का दुरूपयोग कैसे किया जाए इसका अच्छा उदहारण हैं ये घटनाक्रम |

    वैसे हम कूप मंडूक हैं हमारे बोलने से क्या होता है | “होइहें वही जो कुचक्र रची राखा”… बस रोम जल रहा है, और हम नीरो कि तरह बांसुरी टेर रहे हैं |

  22. MP

    August 31, 2010 at 4:15 pm

    TOTALLY UNLIKE REHMAN.
    AS SUB STANDARD AS ANYTHING ASSOCIATED WITH THE CWG

  23. ajit singh yadav

    September 2, 2010 at 1:53 pm

    निहायत बकवास…..
    एक दम बेकार गाना और धुन भी कोई खास नहीं….
    बकवास सॉग है।
    बकायदा इसके लिए रहमान जी को पांच करोड़ रुपए दिए गए।
    रहमान से अच्छा तो सुखबीर और लता दीदी हे कोम्पोसे कर देती
    ‘जय हो’ रहमान

  24. arvind sharma

    September 2, 2010 at 3:50 pm

    loot ke laao aur bant ke khao
    yesi polcy wale neta hamara desh chala rahe he aisa lagta he is gaane me na sur he aur naa taal is besure gane par 5 crore kharch karna to dur 15 rupye bhi nahin diye jane chahiye iske pahle bhi kai desh bhakti ke geet gane wale huye he magar unhone kabhi desh bhakti batane ki kimat nahin mangi ye to lagta he desh bhakti karne ki kimat di gai he kya desh bhakti ka ye tarika jayaj he

  25. Sachin

    September 4, 2010 at 9:03 am

    Ekdum Bakwaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaas, lagta hai ki rehman ki nazar bas rupayon par hi tiki thi. na bol achche hain na music or na gana…. commonwealth mein isko na hi bajaye to achcha…….

  26. PRADEEP PATIDAR

    September 4, 2010 at 11:21 am

    EK DAM BAKWAS GANA HAI HAMARI SARKAR FALTU PAISA KHRCH KAR RAHI HAI

  27. PRADEEP PATIDAR

    September 4, 2010 at 11:25 am

    written by PRADEEP PATUIDAR SEPTEMBER 4, 2010

    रहमान का दावा था कि CWG का थीम सॉग सकीरा के वाका-टाका से अच्छा होगा।
    जब अच्छा नहीं गा सकते तो बड़े बोल तो नहीं बोलिए। बकवास सॉग है। क्या रहमान को समझ मे आता है ये सॉग। जनाब काश आपने आज इस मौके पर ‘जय हो’ गाया होता तो वो ज्यादा अच्छा लगता और अधिक कामयाब होता।
    …………….जय हो

  28. anujsaurav

    September 9, 2010 at 9:18 am

    ye bhi koi gana hai utho,jiyo,aur marne ke liye fir 5 carore kharch karo or gana suno

  29. चन्दर

    September 16, 2010 at 6:44 am

    जनता के धन का भरपूर दुरुपयोग कैसे करें-इस पर भी एक इंस्टीट्यूट खुल जाए तो कैसा रहे!

  30. Ankit

    March 13, 2019 at 10:22 am

    Plz give me your address numbers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Advertisement

You May Also Like

Uncategorized

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम तक अगर मीडिया जगत की कोई हलचल, सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. इस पोर्टल के लिए भेजी...

Uncategorized

मीडिया से जुड़ी सूचनाओं, खबरों, विश्लेषण, बहस के लिए मीडिया जगत में सबसे विश्वसनीय और चर्चित नाम है भड़ास4मीडिया. कम अवधि में इस पोर्टल...

हलचल

[caption id="attachment_15260" align="alignleft"]बी4एम की मोबाइल सेवा की शुरुआत करते पत्रकार जरनैल सिंह.[/caption]मीडिया की खबरों का पर्याय बन चुका भड़ास4मीडिया (बी4एम) अब नए चरण में...

Uncategorized

भड़ास4मीडिया का मकसद किसी भी मीडियाकर्मी या मीडिया संस्थान को नुकसान पहुंचाना कतई नहीं है। हम मीडिया के अंदर की गतिविधियों और हलचल-हालचाल को...

Advertisement