सहारा वाले भांग खाकर काम करते हैं क्या?

सहारा वालों को क्या हो गया है. जैसे लगता है कि इन्हें अखबार में गंदी गाली या गंदे शब्द लिखने की विधिवत ट्रेनिंग दी गई हो. पटना में राष्ट्रीय सहारा के एक पत्रकार सज्जन ने पिछले दिनों जो लिखा, उसे भड़ास4मीडिया पर भी प्रकाशित किया गया था. उस मामले में कार्यवाही भी हुई थी, पर कई लोग बच भी गए थे.

उस खबर में गलती को लेकर एक खबर जब इस पोर्टल पर प्रकाशित हुई तब कई लोगों ने आपत्ति की थी कि ऐसे गलत शब्दों को भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित नहीं किया जाना चाहिए. लेकिन दुर्भाग्य यह है कि जब ये शब्द अखबार में छपते हैं तो उसे कामन लोग पढ़ते हैं और अखबार में काम करने वाले लोगों के प्रति राय कायम करते हैं. जब हम भड़ास4मीडिया पर इन गल्तियों को उजागर करते हैं, इस बारे में खबर पब्लिश करते हैं तो इसे सिर्फ मीडिया के लोग पढ़ते हैं और भविष्य में ऐसी गल्तियां न करने की सीख लेते हैं. पर, सहारा वाले कोई सीख-सबक नहीं ले रहे हैं, यह इस नई गल्ती को देखकर पता चलता है.

आप खुद ही पढ़कर देखिए कि राष्ट्रीय सहारा, कानपुर में क्राइम की एक खबर में इंट्रो में ही किस शब्द का इस्तेमाल किया गया है. ऐसा लग रहा है कि जिस भी रिपोर्टर या क्राइम रिपोर्टर ने इस खबर को फाइल किया, उसने जमकर भांग चढ़ा रखी थी और पुलिस वाले ने इस घटना पर जिस भाषा में अपना वर्जन दिया, उसी भाषा के वर्जन को रिपोर्टर ने खबर में डाल दिया. या फिर कोई अन्य वजह संभव है इस गल्ती के पीछे. पर खबर लिखने वाले रिपोर्टर के खिलाफ या इस खबर को पास करने वाली डेस्क के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है, यह अभी पता नहीं चल पाया है.

Comments on “सहारा वाले भांग खाकर काम करते हैं क्या?

  • kamal.kashyap says:

    sabass ………….. yee padh kar maja aa gaya bhai yahi hai chatu reportero ki phechan jo gulami karke newpaper main kam to paa lete hai lekin kaam karna nahi aata… sala tabhi to media ki matti palit hai……….

    Reply
  • Yawvant bhai, yeh to hona hi tha. Ma-Bahn ki gali to akhbaari dunia ki sammanya bhasha hai. Desh me kisi akhbaar ka shaayad hi koi aisa sansakran hoga, jiska Sampaadak apne sahyogio ke sath samaanya batcheet me Ma-Bahan ki gali ya chutia shabd ka istemmal nahi karta hoga. Phir yah to maani hui bat hai ki sangati se to tota bhi bolana sikh jaataa hai, phir sampaadak ki sangati me rahane vale patrakaar kyo nahi sikhenge. Apne aap ko akhbaari bhasa ka vidvan maanane vale bhi yahi kahate hai ki akhbaar me vaisi hi bhahsa ka istmaal kiya jaataa hai jaisi Boli boli jaati hai.

    Reply
  • Yawvant bhai, yeh to hona hi tha. Ma-Bahn ki gali to akhbaari dunia ki sammanya bhasha hai. Desh me kisi akhbaar ka shaayad hi koi aisa sansakran hoga, jiska Sampaadak apne sahyogio ke sath samaanya batcheet me Ma-Bahan ki gali ya chutia shabd ka istemmal nahi karta hoga. Phir yah to maani hui bat hai ki sangati se to tota bhi bolana sikh jaataa hai, phir sampaadak ki sangati me rahane vale patrakaar kyo nahi sikhenge. Apne aap ko akhbaari bhasa ka vidvan maanane vale bhi yahi kahate hai ki akhbaar me vaisi hi bhahsa ka istmaal kiya jaataa hai jaisi Boli boli jaati hai.

    Reply
  • VIVEK PANDEY says:

    यशवंत भाई इस खबर को पढ़कर सहसा यकीन नहीं हो रहा है की ऐसी खबर भी कोई लिख सकता है| और सबसे चौकाने वाली बात तो ये की अख़बार ने इसे छाप भी दिया भाई गज़ब के पत्रकार है मानना पड़ेगा इस खबर को लिखने वाले ने निह्संदेश किसी न किसी गली से इसकी ट्रेनिंग ली होगी | जब भडाश पर पर छपे एक लेख के शब्दों को लेकर बहस हुई थी आज वो सो गए हाय है क्या ???| वास्तव में आज शर्म आ रही है इस पत्रकारिता से || ऐसे तथाकथित महोदय को जिन्दगी भर के लिए ब्लैक लिस्टेड कर दिया जाना चाहिए वर्ना ये यु ही अक्सर भांग के नशे में अनाप सनाप लिखते रहेंगे कहते है खबर लिखते समय अंतर आत्मा की आवाज और और अपने समाज का असर निश्चय ही पड़ता है तो सकता है इन महासे का पारिवारिक पृष्ठभूमि कुछ ऐसी ही हो||

    Reply
  • vineet kumar gkp 09936809770 says:

    vartaman samy main bigdhithy akhbaari bhasha ko shudhrana kaa liya hamain seriously sochana hoog nahin too media ki matti palit hoo jayagee.

    Reply
  • tilak raj relan says:

    yeh to sanskayon ki bat hai, kisi bhi jati, varg, varn, kshetra ka koi sanskarit ho sakta hai koi nahin. Shalinta sabhyata ka vyavhar jab samuday/ varg ka eksa ho, aur yugon tak parampara bani rahe us samuday ki sanskruty kahlata hai. Is prakar kabhi sarvangeen shreshthta ne hamein Vishva Guru banaya tha. Abhi ham grahan kal se mukt ho kar puneh us sthan ko arjit karne ke liye prapt Ajadi ko loot/ uchchhrunkhalta ka prayay samajh baithe hai. Is andhere ke bahar apne purvajon ke bataye Marg par chalte apni kshamta ujagar karte prayas karen to safalta nishchit hai . Mujhe is par purn Vishvas hai.Avashyak hai hamara dhyey ho Rashtra pratham. Tilak sampadak YugDarpan 09911111611.

    Reply
  • sushil Gangwar says:

    yasvant ji ese patraakaro ko blacklist me daal kar out kar dena hi sahi hoga .vah ye bhul gaya ki Sahara ek national Newspaper hai. Mai us Editor ki daad deta hu jisne galio ko edit bhi nahi kiya . Tabi media en logo se bach sakta hai.
    http://www.sakshatkar.com

    Reply
  • ROCKY RANJAN PATNA says:

    2500 AUR 3000 ME PATRKAR RAKHENG TO KAYA HOGA. GALTI HONG HI YAHA TO STRINGER SE GADHA KI TARAH KAM KARWATE HAI AUR SAHARA KE STAPPER ASS KARTE HAI.

    Reply
  • rajesh vajpayee unnao says:

    YASHWANTJI yeh galti maafiyogya nahi hai aur UPENDRAJI kay knowledge may jaisay he yeh baat layi gai vaisay he nilabban nahi galti karney walo ka termination hona chahiyei.kam say kam sahara may ab upendraji kay raaj may aisi gair jimmedarana harkato par maafi ka sawaal he nahi .

    Reply
  • सहारा प्रणाम says:

    ऐसा सही है कि कुछ लोग भांग खा कर तो कुछ ब्लैकमेल कर काम करते लेकिन जिनके पास कुछ भी नही आज सोने की चेन और टाटा सफारी मे घूमते है ये बात सब को पता ऊपर से नीचे तक सहारा के पत्रकार का बस चले तो पूरा शहर बेच कर अपनी जेब मे रख ले
    मालिक किस किस का ध्यान रखें वे तो उनको और उनके परिवार को पाल रहे है लेकिन पत्रकार महोदय ये समझ नही पा रहे है इन्होने सिर्फ गाली लिख प्रकाशित की बडे शर्म की बात इनके उपर देथने वालो के क्या चश्मा लगा कर बैठे है

    Reply
  • कमल शर्मा says:

    इस खबर को लिखने वाले पत्रकार सहित इस कड़ी के सारे जिम्‍मेदार पत्रकार व संपादक को तत्‍काल बर्खास्‍त कर दिया जाना चाहिए। यह घटना बताती है कि इस यूनिट के लोग अपनी जिम्‍मेदारी नहीं निभा रहे। साथ ही ऐसे शब्‍दों को लिखने वाले पत्रकार व इस यूनिट के संपादक के खिलाफ आपराधिक मामला चलाया जाना चाहिए।

    Reply
  • mahavir negi says:

    [b]ye patrkarita ke teji se badlte dour ki shuruwati pal hai ,abhi hame iss patrkarita me na jane kitne bure dour or dekhne or sunne ke lie taiyar rahna padega [/b]

    Reply
  • Salman Ahmed, Saudi Arabia says:

    Respected Yashwant Bhai,

    Aap jis tarah ka kaam kar harhe hain, waqai patrkaron ko woh shahi dasha aur disha dekhane wala kam hai, lekin afsos ye hai ke hamare kuch patrkar bhai apni dasha aur disha ko durust karne ke liye tayyar nahin hain.

    Sahara Akabar ke patrkar jis tarah ka kam kar rahe hain usse patrkarikta aur patrkaron ki bari badnami ho rahi hai.

    Is se pahle aap ne Sahara main hi hoi ek bari ghalti ko chhap diya thaa to mujhe achha nahin lga tha, lekin ab mujhe mahsos ho rah hai ke aap ne bilkul sahih kiya tha, un ke likhe hoye shabd jab tak nahin chhape jaynge tab tak is tarah ke chhut bhayye patrkar nahin sudhrenge.

    Bhadas4media ko aur uske Editor ko main badhai deta hon ke woh apne maqsad men puri tarah kamiyab hain, ab bhdas4media bhadas nahi rah balke Reformer4Media ban gaya hai, mujhe ummed hai ke aap ki kamyabi ka safar isi tarah jari rahega aur media ki dasha aur disha sudharte rahenge.

    Salman Ahmed
    salmanahmed70@yahoo.co.in

    Reply
  • reporter ki naukri khane ki liye….kisi ne jaan boojhkar aisa likha hai…kyonki baaki ki khabar mein aisa kuch nahin hai..

    Reply
  • ye reporter ya sub editor se badlaa lene ki sazish lagti hai…kyonki baki ki khabar mein kahin bhi galat shabdon ka istemal nahin kiya gaya hai…iski jaach karke aisa karne wale ke khilaf action lena chahiye.

    Reply
  • adesh kharya says:

    [b]Sir, jab kamchalau patrkar rakhe jayenge jinhe na bhasha ka gyan he na patrakarita ki maryada ka to aisa hona swabhavik he. ye to sampadkiya team ki bhi galti he[/b].>:(

    Reply
  • यशवंत भाई, पटना वाले जिस मामले में आप कार्रवाई पर इतरा रहे हैं, दरअसल उस मामले में एक अत्‍यंत सीधे व सौम्‍य पत्रकार बलि का बकरा बना। जिस पंकज के खिलाफ कार्रवाई हुई वह परिपक्‍व पत्रकार हैं और केवल उन्‍हें इस गल्‍ती के लिए जिम्‍मेदार नहीं माना जाना चाहिये। किसी को प्रताडित कराने के लिए रिपोर्टरों के लागइन में छेडछाड कोई मुश्किल काम नहीं है। यह और बात है कि इस गल्‍ती को इतना तूल देने से भागलपुर से पटना में परिवार का पेट पालने आये पंकज कुमार सिंह की छह-सात हजार की नौकरी चली गयी।

    Reply
  • yaswant bhai kiya apki nigahen hai bahut achha laga ye sab telephone reporter ki then hai field mai to jate nahi hain office mai sham mai baithker police control room mai phone lagaya aur suru ho ho jate hai tyape kerna use ye bhi nahi pata lagta ki mai kiya type ker raha hun aur to aur editor kiya humeshha pee ker full rahte hain ki aisi shabd use dikhai hi nahi parti
    thanks

    Reply
  • vijay ahuja says:

    मुझे तो लग रहा है की सहारा वाले अपने रिपोर्टरों /करमचारियो को टाइम पर वेतन नहीं दे रहे है इस कारण उनके रिपोर्टर/कर्मचारी अपनी खुंदक निकाल कर अखवार का मटिया मेट करने पर तुले हुए है / उधम सिंह नगर में कुछ साल पहले वरुण मदान ने राष्ट्रीय सहारा की एजेंसी ली थी पर एजेंसी बंद होने के बाद भी श्री मदान की सेक्योरिटी राशि वापिस नहीं की जबकि परसार डिपार्टमेंट से वो अपनी सेक्योरिटी राशि मांग मांग कर थक गए यानि सहारा में जो आया वो हजम /यह है गुड सहारा

    Reply
  • तारीफ करनी होगी इस तरह की भाषा का use करने वाले पत्रकार की….वाह क्या लिख है यार…..इससे अच्छा तो इन्हें किसी ठाणे में मुंशी का काम पकड़ लेनी चाहिए ..रोज पोलिसे वालों को नई गली इजाद कर देते ..बेचारे पोलिसे एक ही गली का उसे करके परेशां हो गई है…….पत्रकारिता करने की जरुरत क्यों पड़ गई साहब को…

    Reply
  • तारीफ करनी होगी इस तरह की भाषा का use करने वाले पत्रकार की….वाह क्या लिख है यार…..इससे अच्छा तो इन्हें किसी ठाणे में मुंशी का काम पकड़ लेनी चाहिए ..रोज पोलिसे वालों को नई गली इजाद कर देते ..बेचारे पोलिसे एक ही गली का उसे करके परेशां हो गई है…….पत्रकारिता करने की जरुरत क्यों पड़ गई साहब को…

    Reply
  • raj yadav says:

    तारीफ करनी होगी इस तरह की भाषा का use करने वाले पत्रकार की….वाह क्या लिख है एक अत्‍यंत सीधे व सौम्‍य पत्रकार बलि का बकरा बना।/कर्मचारी अपनी खुंदक निकाल कर किसी कोप्रताडित कराने के लिए रिपोर्टरों के लागइन में छेडछाड कोई मुश्किल काम नहीं है।

    Reply
  • Nikita Asthana says:

    aajkal to patrkarika ek majak ban kar rah gayi hai kisi ko iski seriousnes ka andaza hi nahi rah gaya, patrkarika ka majak bana kar rakh diya hai?:(

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *