भ्रष्ट इंजीनियर का प्रकरण 3 हजार करोड़ से बढ़कर 15 हजार करोड़ का हुआ

: स्वयं को मुख्यमंत्री मायावती का दत्तक पुत्र कहता है : एसआईटी ने जांच क्यों बंद की? : फाइनल रिपोर्ट क्यों लगायी गयी? : आगामी चुनावों में कांग्रेस-भाजपा के हाथ लगा बड़ा मसला? : विधानसभा चुनावों को करेगा प्रभावित : अभी अभी खबर मिली है कि सीबीआईने यूपीएसआईडीसी के चीफ इंजीनियर अरूण मिश्र को लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया है।  चर्चाओं के अनुसार श्री मिश्र 14 साल पहले विभाग में सहायक इंजीनियर के तौर पर आकर भर्ती हुए थे और इन वर्षों में ही उनकी हैसियत 3000 करोड़ के आसपास पहुंच गयी।

इस भ्रष्ट इंजीनियर के पास तीन हजार करोड़ रुपये हैं, सीबीआई ने छापेमारी शुरू की

: यह इंजीनियर खुद को मुख्यमंत्री का दत्तक पुत्र कहता है : मनी लांडरिंग के इस खेल में एक पूर्व मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश का एक इंडस्ट्री मिनिस्टर भी शामिल : करोड़ों रुपये देकर पहले भी अपने खिलाफ जांचों को बंद करा चुका है यह इंजीनियर : यह खबर आप शायद सिर्फ यहीं पढ़ रहे होंगे क्योंकि इस वक्त मीडिया के गिने-चुने लोगों को ही यह खबर है कि एक भ्रष्ट इंजीनियर के आवासों और कई राज्यों में बिखरे उसके कालेधन की जांच के लिए सीबीआई ने छापा मार रखा है. इस भ्रष्ट चीफ इंजीनियर का नाम है अरुण मिश्रा.