बड़े गंदे हैं भास्कर डॉट कॉम वाले

: अपनी साइट पर जाने क्या-क्या खिसकाते-दिखाते रहते हैं, वृत्त बना-बना कर : लगता है भास्कर डॉट कॉम वालों ने वार्डरोब माल फंक्शन कवरेज के लिए एक अलग ही बीट या कहें टीम बना ली है। दुनिया में कहीं भी किसी के कपड़े खिसके नहीं, सबसे पहले आपको भास्कर पर खबर मिलेगी। कमाल है, क्या विजनरी टीम है.. एक तरफ अच्छी और सकारात्मक खबरों की बात करते हैं…. दूसरी ओर ऐसा घटिया वेब कंटेट देते हैं…

 

श्रवण गर्ग, कल्पेश याज्ञनिक, यतीश राजावत बताएं

: भास्कर डॉट कॉम की ये कैसी पत्रकारिता! : एक बार दैनिक भास्कर के संपादकीय विभाग के एक वरिष्ठ पत्रकार ने मुझे सलाह दी कि भड़ास4मीडिया बहुत अच्छा है लेकिन बस इसमें जो कमेंट आते हैं उस पर नियंत्रण लगाने की जरूरत है.

भास्कर ने मुकाबले का ऐलान किया

बिहार, झारखंड और यूपी खबरों के लिए वेबसाइट पर अलग सेक्शन : गूगल की ओर से जागरण की बजाय भास्कर को प्राथमिकता : बिहार के मैदानी और झारखंड के पहाड़ी और पठारी इलाके हिन्दी के प्रमुख अखबारों के घमासान का अखाड़ा बनने की ओर बढ़ रहे हैं. बिहार में जहां हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण का दबदबा है तो झारखंड में प्रभात खबर मार्केट लीडर है.