जागरण के प्रसार विभाग में बड़ा घोटाला!

: जांच शुरू, छोटे कर्मचारी को बलि का बकरा बनाया गया : जागरण में फर्जीवाड़े से शेयर धारकों के हिस्से को गोलमाल करने में यदि प्रबंधन बोर्ड के सदस्य पीछे नहीं हैं तो अधिकारी और कर्मचारी भी कोई मौका नहीं चूकना चाहते हैं। जाहिर है कि इस तरह से सीधे-सीधे कंपनी की बैलेंसशीट में लाभ दर्ज होने की बजाए यह मुनाफा प्रबंधन बोर्ड, अधिकारियों और कर्मचारियों की जेब में जा रहा है। गोलमाल के इस खेल में कंपनी के खर्च कई गुणा दिखाए जाते हैं, जो शेयर धारकों को मिलने वाले लाभ से दिए जाते हैं। जबकि हेराफेरी से मिलने वाला लाभ चंद व्यक्तियों की निजी जेब में जा रहा है। इस बार जागरण के प्रसार विभाग में लाइंग टैक्सियों की आड़ में किया जा रहा बड़ा घोटाला सामने आया है। फिलहाल इसकी आंच नोएडा तक ही सीमित है, लेकिन सूत्रों से पता चला है कि यह खेल नोएडा से जम्मू तक कई सालों से चल रहा था। इसकी जानकारी कानपुर तक जा पहुंची है और वहां से भी हलचल शुरू हो गई है। इस घटनाक्रम के मद्देनजर आने वाले समय में कोई बड़ा फेरबदल भी दैनिक जागरण में देखने को मिल सकता है।