‘अजय कुमार पत्रकारों के उत्पीड़न के लिए कुख्यात’

हिंदुस्तान, जमशेदपुर में स्थानीय संपादक पर एक रिपोर्टर द्वारा हमला करने की कोशिश से संबंधित खबर के भड़ास4मीडिया पर प्रकाशन के बाद कई लोगों की प्रतिक्रियाएं आई हैं। इनमें से तीन लोगों ने भड़ास4मीडिया को जानकारी दी है कि स्थानीय संपादक अजय कुमार पहले भी अपने अधीनस्थों को परेशान करते रहे हैं और बात केवल दो लोगों में लड़ाई की नहीं बल्कि पत्रकारिता में आ रहे बदलावों की भी है। इन तीनों पत्रों को यहां इस उद्देश्य से प्रकाशित किया जा रहा है ताकि प्रकरण के दूसरे पक्ष पर भी रोशनी पड़ सके।  -एडिटर, भड़ास4मीडिया

संपादक को मारने दौड़े रिपोर्टर की छुट्टी

दैनिक हिंदुस्तान, जमशेदपुर से खबर मिली है कि वहां कार्यरत रिपोर्टर अजय शंकर ने अपने स्थानीय संपादक अजय कुमार पर हमला करने के लिए कुर्सी उठा लिया। यह घटना सुबह रिपोर्टिंग की मीटिंग के दौरान सबके सामने हुई। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अजय शंकर को प्रबंधन ने अनुशासनहीनता के आरोप में संस्थान से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। प्रबंधन से जुड़े सूत्रों का कहना है कि अजय शंकर हाइपरटेंशन के शिकार थे और उन्हें इस बीमारी का इलाज कराने के लिए कहा गया है।

छंटनी के शिकार पत्रकारों ने संपादक को पीटा

[caption id="attachment_16127" align="alignnone"]एसपी को ज्ञापन देता शिष्टमंडल। लाल घेरे में पत्रकारों के हमले के शिकार दैनिक भास्कर के संपादक कीर्ति राणा.एसपी को ज्ञापन देता शिष्टमंडल। लाल घेरे में पत्रकारों के हमले के शिकार दैनिक भास्कर के संपादक कीर्ति राणा.[/caption]

मंदी और छंटनी का भयावह दौर जब बीतने की घोषणा मीडिया हाउसों द्वारा की जा रही है तो मंदी और छंटनी के दौरान की गई ज्यादतियों के साइड इफेक्ट्स भी अब  इन्हीं दिनों में नजर आने लगे हैं। राजस्थान के श्रीगंगानगर से मिल रही एक बड़ी खबर के मुताबिक दैनिक भास्कर के श्रीगंगानगर संस्करण से छंटनी के शिकार दो पत्रकारों ने इस संस्करण के प्रभारी और कार्यकारी संपादक कीर्ति राणा पर 29 अक्टूबर की रात हमला कर दिया। हमला करने वाले पत्रकारों के नाम विनोद बिश्नोई और विकास सचदेवा है। हमले में कीर्ति राणा को चोटें आईं। इस संबंध में श्रीगंगानगर कोतवाली में मुकदमा भी दर्ज करा दिया गया है।