हाईकोर्ट, प्रेस क्लब और जंतर-मंतर : एक रोजनामचा

कल दिल्ली हाईकोर्ट गया था. एचटी मीडिया ने जो मानहानि का मुकदमा कर रखा है उसी की तारीख थी. कोर्ट में क्या क्या हुआ और आगे क्या होने वाला है, उसकी जानकारी आप नीचे के वीडियो लिंक पर क्लिक करके देख-सुन सकते हैं. वहां से जब फ्री हुआ तो प्रेस क्लब आफ इंडिया गया. खाना खाने. प्रेस क्लब में नए लोग जबसे चुनाव जीतकर आए हैं तबसे जाना नहीं हुआ.

डीएम ने मांगा सुप्रीम न्‍यूज से स्‍पष्‍टीकरण, संपादक पहुंचे कोर्ट

गौतमबुद्ध नगर से प्रकाशित साप्‍ताहिक समाचार-पत्र सुप्रीम न्‍यूज को जिलाधिकारी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है. नोटिस में समाचार-पत्र के संपादक संजय भाटी से चार बिन्‍दुओं पर आख्‍या मांगी गई है. उन्‍हें एक सप्‍ताह के भीतर इसका जवाब देने को कहा गया है. इसके बाद संपादक संजय भाटी ने इलाहाबाद हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

महारानी या राजकुमार ना करें खेल का उदघाटन

: आरटीआई फोरम की कन्‍वीनर डॉ. नूतन ठाकुर ने खटखटाया कोर्ट का दरवाजा : कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स का उदघाटन ब्रिटेन की महारानी से कराने के बजाय भारत के राष्‍ट्रपति से कराने के लिए एक याचिका दायर की गई है. याचिका में मौलिक अधिकारों के हनन की बात भी कही गई है. इलाहाबाद हाईकोर्ट के लखनऊ बेंच में आर्टिकल 226 के अंतर्गत दायर रिट याचिका की संख्या 9565/2010 है.

सांसद घूस कांड : दोनों पत्रकारों को कोर्ट ने दी राहत

: अनिरुद्ध बहल और उनके सहयोगी ने किया था स्टिंग : दिल्‍ली हाईकोर्ट ने पत्रकार अनिरुद्ध बहल और उनके सहयोगी को बड़ी राहत दी. सांसदों द्वारा पैसे लेकर सवाल पूछे जाने के मामले में स्टिंग करने पर दोनों पत्रकारों के खिलाफ दिल्‍ली पुलिस ने मामला दर्ज किया था. कोर्ट ने साफ कहा कि समाज में फैले भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए ऐसे स्टिंग ऑपरेशन में अगर किसी को रिश्वत दी जाती है तो उसे अपराध की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता. कोर्ट ने पत्रकार अनिरुद्ध बहल समेत दो पत्रकारों के खिलाफ दर्ज मामले को खारिज करते हुए ये टिप्पणी दी.