खैर मनाएं कि मैंने बरखा दत्त पर चप्पल नहीं फेंका : योगेश शीतल

योगेश कुमार शीतल: इंटरव्यू : बिहार के बेगूसराय के रहने वाले योगेश कुमार शीतल के नाम में भले ही शीतल शब्द जुड़ा है लेकिन हैं वे फायरब्रांड. उनकी कद काठी और चेहरे मोहरे से आप अंदाजा नहीं लगा सकते कि उनके दिल में भ्रष्ट व्यवस्था और भ्रष्ट लोगों के खिलाफ कितनी आग है. योगेश कुमार शीतल ने इंडिया गेट पर करप्शन के खिलाफ जनसैलाब को कवर करने आईं एनडीटीवी की ग्रुप एडिटर बरखा दत्त को भागने पर मजबूर कर दिया.

पीएम मनमोहन को गोपाल राय ने लिखा खुला खत

माननीय प्रधानमंत्री जी, सादर प्रणाम! उम्मीद है कि आप सकुशल होगें। रही बात मेरी, तो मैं कैसा हूं, किस हालात में हूं? इससे आपको न कोई मतलब है और न जानने की फुरसत। मैं ठहरा भारत का एक आम नौजवान, वो भी देशभक्त। मैं यह भी जानता हूं कि मेरा यह पत्र भी पहले भेजे गये अन्य सभी पत्रों की तरह संभव है कूड़ेदान में फेक दिया जायेगा, फिर भी यह पत्र आपको लिख रहा हूं। फर्क सिर्फ इतना है कि अब तक मैं आपको गोपनीय पत्र लिखता था, लेकिन इस बार आपके नाम खुला पत्र लिख रहा हूं।