अकेला की गिरफ्तारी-रिहाई पर मिडडे में शानदार कवरेज

[caption id="attachment_20424" align="alignleft" width="98"]पुलिस हिरासत में अकेलापुलिस हिरासत में अकेला[/caption]: काश, ऐसा ही कवरेज हर अखबार-चैनल अपने मुश्किल में पड़े-फंसे पत्रकारों के लिए देते : मुंबई के मिडडे के पत्रकार ताराकांत द्विवेदी उर्फ अकेला की गिरफ्तारी और रिहाई के मामले में मिडडे अखबार ने जिस तरह का कवरेज दिया है, वह काबिल-ए-तारीफ है. मुंबई के पत्रकारों ने अपने साथी को फंसाए जाने के खिलाफ जो एकजुटता दिखाई है, वह प्रशंसनीय व अनुकरणीय है. मिडडे में प्रकाशित खबर व तस्वीरें इसकी गवाह हैं…

पत्रकार पर हमला करने वाला डिप्टी एसपी गिरफ्तार

केरल के कोल्लम से खबर है कि दैनिक अखबार ‘मातृभूमि’ में काम करने वाले पत्रकार वीबी उन्नीथन पर हमले के आरोपी पुलिस अफसर को अरेस्ट कर लिया गया है. यह हमला उन्नीथन पर 16 अप्रैल को तब किया गया जब वह दफ्तर से घर लौट रहे थे. आरोपी हमलावर पुलिस अधिकारी का नाम संतोष एम. नैयर है. केरल के पुलिस उप महानिरीक्षक एस. श्रीजीत ने बताया कि 16 अप्रैल को पत्रकार पर हमला किए जाने के मामले में शामिल डिप्टी एसपी संतोष एम.नैयर को गिरफ्तार किया जा चुका है.

जीआरपी की पोलखोलने वाले अकेला को मिली जमानत

मुंबई से खबर है कि पत्रकार ताराकांत द्विवेदी अकेला को जमानत मिल गई है. रेलवे अदालत ने उन्हें दस हजार रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दे दी. उन्हें सरकारी गोपनीयता कानून भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. इस मामले में अदालत ने उन्हें 21 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया था. जीआरपी की इस मनमानी के खिलाफ मुंबई में पत्रकारों ने रैली निकाली थी और गृहमंत्री आरआर पाटील से मिलकर रोष व्यक्त किया था.