हिंदुस्‍तान ने ज्‍यादा विज्ञापन दर पाने के लिए प्रसार संख्‍या में फर्जीवाड़ा किया

मुंगेर। मेसर्स एचटी मीडिया लिमिटेड, जो बिहार के पटना, मुजफफरपुर और भागलपुर से दैनिक हिन्दुस्तान का प्रकाशन करता आ रहा था, डीएवीपी (विज्ञापन एवं दृष्य प्रचार निदेशालय, नई दिल्ली) से ज्‍यादा विज्ञापन दर प्राप्त करने के लिए कई तरह का आपराधिक हथकंडा अपनाता आ रहा है। वित्त जांच विभाग के विशेष जांच दल, जिसका नेतृत्व वरीय अंकेक्षक दिनेश्वर गोस्वामी कर रहे थे, ने अपनी जांच प्रतिवेदन संख्या- 195 /2005-06 में दैनिक हिन्दुस्तान की प्रसार संख्या के फर्जीवाड़ा का भी सनसनीखेज भंडाफोड़ किया है।

बिना प्रसार संख्‍या जांचे बिहार में अखबारों को दिया गया विज्ञापन

: वित्‍त आयुक्‍त ने की थी मंत्रिमंडल निगरानी विभाग से जांच कराने की संतुष्टि : मुंगेर। पटना स्थित सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय में विगत एक दशक से दैनिक अखबारों को विज्ञापन आबंटित करने में किस प्रकार की लूट मची है, इसका खुलासा बिहार सरकार के वित्त (अंकेक्षण) विभाग के अंकेक्षकों के दल ने किया है। वित्‍तीय जांच दल ने उजागर किया है कि किस प्रकार सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय अखबरों की प्रसार-संख्या की जांच कराए बिना ही अखबारों को सरकारी विज्ञापन जारी कर रहा है।