सुधांशु महराज उर्फ छोटे शशि शेखर

: पुराने हिन्दुस्तानी हिंदुस्तान से जाएं तो जाएं कहां : नई दिल्ली। किसी अखबार में बदलाव का सबसे बुरा दौर हिंदुस्तान देख रहा है। यहां के एडीटोरियल विभाग में इस्तीफा देने का दौर लगातार जारी है। शशि शेखर की अमर उजाला नोएडा की लगभग पूरी टीम यहां आ चुकी है। छोटे ओहदे से लेकर बड़े ओहदे तक अमर उजाला के कर्मियों की फौज यहां पर पूरे अस्त्र-शस्त्र के साथ मोर्चा संभाल चुकी है।

शशि शेखर के बाद सुधांशु हैं नंबर दो!

शशि शेखर के बाद नंबर टू कौन? इसका जवाब खुद शशि शेखर ने दिया है. चीन यात्रा पर गए शशि शेखर ने अपने सहकर्मियों को एक मेल जारी कर उनकी अनुपस्थिति में एक्जीक्यूटिव एडिटर सुधांशु श्रीवास्तव से संपर्क में रहने को कहा है. हिंदुस्तान से जुड़े एक सूत्र ने भड़ास4मीडिया को मेल कर शशि शेखर के आंतरिक मेल की पंक्तियां भेजी हैं, जो इस प्रकार हैं-

सुधांशु को अपने साथ ले गए शशि शेखर

अमर उजाला से इस्तीफा दिया : एक्जीक्यूटिव एडिटर के पद पर हिंदुस्तान जा रहे : अमर उजाला, नोएडा में एक्जीक्यूटिव एडिटर के रूप में कार्यरत सुधांशु श्रीवास्तव ने इस्तीफा दे दिया है। सूत्रों ने बताया कि सुधांशु एक्जीक्यूटिव एडिटर के ही पद पर हिंदुस्तान समूह के साथ काम करने जा रहे हैं। वे दिल्ली आफिस में बैठेंगे। खबरों के साथ-साथ अखबार के लेआउट और डिजायनिंग के विशेषज्ञ माने जाने वाले सुधांशु के इस्तीफे को अमर उजाला प्रबंधन ने अभी स्वीकार नहीं किया है लेकिन सूत्र बताते हैं कि सुधांशु श्रीवास्तव हिंदुस्तान से आफर लेटर ले चुके हैं, इसलिए उनके लिए अमर उजाला में रहना अब संभव नहीं हो सकेगा। सुधांशु अमर उजाला में आउटपुट का काम देख रहे थे। उनका काम फिलहाल देवप्रिय अवस्थी को सौंप दिया गया है। अमर उजाला के समूह संपादक पद से शशि शेखर के इस्तीफा देकर हिंदुस्तान ज्वाइन करने के बाद अमर उजाला से सुधांशु का इस्तीफा एडिटर रैंक का पहला इस्तीफा है। सुधांशु के हिंदुस्तान जाने से अब इन चर्चाओं को बल मिलने लगा है कि अमर उजाला के कई अन्य संपादक भी हिंदुस्तान की राह पर चलने वाले हैं। सुधांशु का इस्तीफा अमर उजाला के लिए तगड़ा झटका माना जा रहा है। अमर उजाला की कोर टीम के सक्षम सदस्य माने जाते हैं सुधांशु।