हिसार में अन्ना टीम की जीत तभी मानें जब कांग्रेस की जमानत जाए

विनोद मेहता: अगर कुलदीप हारे तो समझो ट्रक पंचर था : हिसार उपचुनाव के परिणाम से पहले दो बातों की चर्चा खूब है. कुलदीप जीत गए और अन्ना फैक्टर काम कर गया. पहले अन्ना फैक्टर की बात करे. अन्ना फैक्टर का असर उस सूरत में नजर आता है जब कांग्रेस की जमानत जब्त होती है. लेकिन ये नही हो रहा. सीएम कांग्रेस की जमानत बचाने में कामयाब हो गए हैं.

सिधार चुके संपादकों की पोल खोलकर फंसे विनोद मेहता

: एक के परिजनों से बिना शर्त माफी मांगी : कुछ समय पहले विनोद मेहता ने आउटलुक में एक जोरदार आर्टिकल लिखा था. इसमें उन्होंने दो नामचीन संपादकों, जो अब इस दुनिया में नहीं हैं, की पोल खोली थी. आरके करंजिया उर्फ रुसी और अयूब सईद. करंजिया ब्लिट्ज के संपादक हुआ करते थे. अयूब ‘करेंट’ के एडिटर हुआ करते थे. विनोद मेहता ने लिखा था कि ये लोग हर साल लीबिया जाते और कर्नल गद्दाफी की तरफ से भेंट किए गए रुपये पैसे माल सामान आदि को अटैचियों में भर भर कर लाते.

टोटल टीवी के पुराने मालिक और संपादक पर गाज

: नए मालिक और संपादक की जोड़ी का चलने लगा सिक्का : उमेश जोशी ने घुटने टेकने की जगह इस्तीफा दे मारा : टोटल टीवी से बड़ी खबर है. चैनल के डायरेक्टर विनोद मेहता और संपादक उमेश जोशी को किनारे कर दिया गया है और चैनल के डायरेक्टर अनिल गाबा व मैनेजिंग एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री की जोड़ी टोटल टीवी पर पूरी तरह काबिज हो गई है. संपादक उमेश जोशी ने बदले माहौल से समझौता न करते हुए तुरंत इस्तीफा दे दिया और नए मैनेजमेंट ने शुरुआती ना-नुकूर व चिरौरी के बाद उनका इस्तीफा कुबूल कर लिया. सूत्रों के मुताबिक टोटल टीवी में एक नया पार्टनर आ गया है. नाम है राजीव मनचंदा. इसके आने से विनोद मेहता की हिस्सेदारी कम हो गई है.

मीडिया घरानों का बाजार से स्वार्थ है : विनोद मेहता

बाजार को समझने में नाकाम रहा मीडिया : बाजार को देखने के लिए लोग मीडिया को देखते हैं। लेकिन मीडिया के लोग बाजार को कैसे देखें? इस सवाल पर बाजार के कई खिलाड़ियों ने सुझाव दिए। समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट आफ इंडिया के हीरक जयंती समारोह के एक सत्र में बैकिंग, शेयर और जिंस बाजार के दिग्गज खिलाड़ियों ने कहा कि मीडिया बाजार को प्रभावित करता है, साथ ही बाजार से प्रभावित भी होता है। ‘मीडिया, बाजार के पहरुए की भूमिका में’ विषय पर आयोजित इस सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित देश के सबसे बड़े निजी बैंक आईसीआईसीआई की मुख्य कार्यकारी और प्रबंध निदेशक चंदा कोचर ने विश्व बैंक की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि लोकतंत्र, स्वतंत्र मीडिया और विकास में सीधा संबंध है। बाजार के पहरेदार के रूप में मीडिया की यही भूमिका हो सकती है कि वह लोगों को तथ्यात्मक सूचनाएं दे। लोगों को बाजार संबंधी फैसले करने में मदद करे। उन्हें सवाल उठाने के लिए प्रोत्साहित करे।