गणेश रावत व सीताराम बहुगुणा को ‘उमेश डोभाल स्मृति पुरस्कार’

गणेश
गणेश
उत्तराखंड के रामनगर से खबर है कि युवा पत्रकार गणेश रावत व सीताराम बहुगुणा को इस वर्ष उमेश डोभाल स्मृति पुरस्कार दिया जाएगा. गणेश को इलेक्टानिक मीडिया में जनपक्षीय पत्रकारिता के लिए इस पुरस्कार के लिए चुना गया है. इलेक्ट्रानिक मीडिया का कोई पत्रकार पहली बार इस पुरस्कार के लिए चुना गया है. यह पुरस्कार अभी तक प्रिंट मीडिया के पत्रकारों को प्रदेश में बेहतर कार्य करने पर ही दिया जाता था. वहीं प्रिंट मीडिया के लिए सीताराम बहुगुणा को यह पुरस्कार दिया जाएगा.

उमेश डोभाल स्मृति टस्ट की पौड़ी में हुई बैठक के बाद यह तय किया गया. इस बार पुरस्कार देने के लिए अलग तरह की तकनीक अपनाई गई थी. प्रदेश के जनपक्षीय पत्रकारिता से सरोकार रखने वाले तीन दर्जन से ज्यादा पत्रकारों को पत्र भेजकर प्रिंट व इलेक्टानिक मीडिया में बेहतर कार्य करने वाले पत्रकारों के नाम मांगे गए थे. इनमें गणेश रावत के नाम पर अधिकांश लोगों ने अपनी सहमति जताई. गणेश रावत कालेज के दिनों से ही पत्रकारिता से जुड़ गए थे. छात्र जीवन में अनेक सफल जनआंदोलनों का नेतृत्व करने वाले गणेश छात्र संघ रामनगर में अध्यक्ष व सचिव पद पर काबिज रहे. उन्होंने छात्र जीवन में ‘प्रयास’ नाम की पत्रिका भी निकाली जो छात्रों के बीच बेहद लोकप्रिय हुई.

प्रतिभा के धनी गणेश ने श्रीनगर से पत्रकारिता में गोल्ड मेडल हासिल किया. उन्होंने इस बीच अमर उजाला, उत्तर उजाला समेत कई अखबारों में भी कार्य किया. वर्ष 2003 में सहारा समय के यूपी-उत्तराखंड चैनल के शुरू होने पर वे रामनगर से बतौर रिपोर्टर उससे जुड़ गए. इसके साथ ही वे प्रिंट पत्रकारिता से भी जुड़े रहे. छात्र जीवन से ही ईमानदार छवि वाले गणेश ने यह छाप पत्रकारिता में भी बनाए रखी. उन्होंने ‘युगवाणी’, ‘नैनीताल समाचार’, ‘नई दुनिया’, ‘रीजनल रिपोर्टर’ में कई जनपक्षीय मुद्दों पर खबरें लिखी. बेबाक लिखने वाले गणेश जनपक्षीय पत्रकारिता की साख पर खरे उतरते हैं. सहारा समय में उनकी स्पेशल खबर ‘बोलो बोलो कितने बाघ’ काफी लोकप्रिय हुई.

इसके अलावा हिमालयी सरोकारों की पत्रिका ‘युगवाणी’ में प्रदेश के ताज कारीडोर, बेजुबानों की कब्रगाह बनता उत्तराखंड आदि खबरें प्रकाशित हुईं. गणेश वर्तमान में श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के नगर अध्यक्ष हैं. गणेश को पुरस्कार मिलने पर युगवाणी के सम्पादक संजय कोठियाल, वरिष्ठ पत्रकार जगमोहन रौतेला, सहारा समय के प्रदेश ब्यूरो चीफ अवनीश प्रेमी, हिंदुस्तान के ऊधमसिंह नगर प्रभारी जहांगीर राजू, राष्ट्रीय सहारा के देहरादून के समाचार सम्पादक दिनेश शास्त्री, हिंदुस्तान के चंदन बंगारी, साधना न्यूज के ब्रिजेश तिवारी, वीरेंद्र बिष्ट, स्वतंत्र पत्रकार ओपी पांडे आदि ने उनको बधाई दी है.  

Comments on “गणेश रावत व सीताराम बहुगुणा को ‘उमेश डोभाल स्मृति पुरस्कार’

  • gitesh tripathi ,repoter aatjak says:

    ek rhi ripoter ko yeh purskar mila iske liye gnesh rawat ke shath ismuti ke loge bdahi ke patr hai.gnesh rawat abi bhut aage jayege.

    Reply
  • gitesh tripathi ,repoter aatjak says:

    ganesh rawat jaise shi repoter ko purskar dekr ismrti ne khud apna kath ucha kiya hai.ganesh rawat abi or mukam hasil kre hmari yhi kamna hai.gitesh tripathi repoter aajtak

    Reply
  • गणेश रावत को सम्मानित किये जाने से उन पतरकारों को ख़ुशी होगी जो ईमानदारी से जन हित की पत्रकारिता करते हैं. गणेश रावत ने जिस संघर्ष के साथ आज भी जन हित में लेखनी नहीं छोड़ी है इसके लिए गणेश का चयन किया जाना एक ईमानदार परयास है. चुनाव कर्ताओं को में शुभ कामनाएं देता हूँ की आज कल पैसे देकर सामान लेने की होड़ में उन्होंने भी एक इमानदार पतरकार को इमानदारी से hee chuna gya है ham गणेश रावत के सामान में 25 march को pauri jarur pahunchege.
    Prem Aroda
    janbharat Mail
    Dehradun
    9012043100
    [email protected]

    Reply
  • Prem Arora says:

    उमेश डोभाल की याद में इस बार का समारोह पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड में अजोजित किया जा रहा है. उत्तराखंड में इसका आयोजन होने से काफी उत्साह है. देहरादून से ५ बड़े वेहिक्ले जा रहे हैं तो राजेंदर रावत राजू की याद में परसिध लेखक एस राजेन टोद्रीया द्वारा संकलित पुस्तक रहें न रहें हम का विमोचन भी इसी समारोह के दौरान किया जाना तै हुआ है. जनपक्ष प्रकाशन की यह पहली पुस्तक होगी जिसमे पूरी टीम ने मेहनत की है. कई दिनों के बाद एक अच्छी पुस्तक फिर से पड़ने को मिल सकती है. देहरादून से २४ मार्च को १२ वजे कार बस आदी रवाना होंगी जबकी नैनताल से राजीव लोचन शाह और अल्मोरा से पी से तिवारी कमांड संभाल रहे हैं . इस बार इसका आयोजन उत्तराखंड में होने से काफी भारी संख्या में पतरकारों, लेखकों कविओं और साहित्कारों के पहुंचे की सम्भावना जताई जा रही है. आगाज़ से तो लग रहा है की इस बार का आयोजन इतिहासिक होगा. आगे पौड़ी से लाइव होगा.
    प्रेम अरोड़ा
    ९०१२०४३१००
    http://premarora.com

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *