Connect with us

Hi, what are you looking for?

कहिन

justice for मां : Use RTI in this matter

Dear Yashwant Ji, Today, I came to know the news regarding your mother. Its really painful for  people like me and u who are in Delhi and struggling to write their destiny on their own and are far away from their family (parents). I can feel it.

<p style="text-align: justify;">Dear Yashwant Ji, Today, I came to know the news regarding your mother. Its really painful for  people like me and u who are in Delhi and struggling to write their destiny on their own and are far away from their family (parents). I can feel it.</p>

Dear Yashwant Ji, Today, I came to know the news regarding your mother. Its really painful for  people like me and u who are in Delhi and struggling to write their destiny on their own and are far away from their family (parents). I can feel it.

Now, I would like to suggest u to use RTI (right to information) in this matter to ask about the all aspects of legality related to detention of your family. About the legal provisions of such detention, who passed such orders, who are responsible. I think it would be the most democratic battle  against the GUNDARAJ of  UP police and government. If u would not like to file RTI personally, some of my friends can do the same. If u want to use it, we are ready to give u all possible assistance.

Thanks

Shashi Shekhar

Sr. Correspondent

CHAUTHI DUNIYA

Click to comment

0 Comments

  1. winit

    October 20, 2010 at 4:58 am

    यशवंत भाई
    जांच के झांसे में मत आना, कानूनी कारवाई की तयारी करो ,
    ये मायातांत्रिक पुलिस है… जो अपने पुरखे और प्रेरणा-श्रोत रावण के चरित्र और माया-वी शक्तियों के अधीन, उसी की भांति दंभ में ही जीती और आचरण करती है.
    हर साल की तरह दस्सहरा पे तो प्रतीकात्मक दहन हो चुका है, अब बारी है रावण के इन वर्दीधारी दूतों को उनकी सीमाए बताने की.
    लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को देख कर अब हर खजुहा कुत्ता अगर टांग उठाने का साहस करने लगे तो पहरुओ को समझना चाहिए की चौकीदारी में ढील ज्यादा हो रही है .
    इस घृणित कृत्य के विरुद्ध व कानून राज के नपुंसक व्यवस्थापको को सद्-बुधि व सन्मार्ग दिखाने हेतु सूबे की राजधानी लखनऊ में candle march का आयोजन कर रहे है. यशवंत भाई अगर आप स्वयं और आप के माध्यम से और ज्यादा से ज्यादा लोग इसमें शामिल हो सके तो इस एकजुटता से पत्रकारों सहित ऐसे अन्य पीडितो को जूझने का पर्याप्त संबल मिल सकेगा.
    शुभेछु आपका —
    —विनीत–
    [i]swen-news[/i]
    [email protected] 9450449019
    newszone broadcom p ltd

  2. Vijay Singh

    October 22, 2010 at 7:42 pm

    Yashwantji I am from Mumbai. basicaly from Jaunpur U.P.

    jab sarkar itani jaalim hai to log kitane jjalim honge UP BIHAR kaa naam aise hi nahi kharab hai, main Apane hi logon ki ninda nahi kar raha hoon, ye sach hai, Aapke Gaon k log aur apki area k log napunsak ho gaye hain ab tak to sabhi logon ko thaane jakar dharna aur bhookh hadtal kar deni chahiye thi ki yaa to sabko band karo ya phir aaropi ko barkhast karo isake alaawa koi compromise nahi, lekin sayad aapki imandari aur nirbhikta logo ko pasand nahi isaliye sochate hone achchha hua, lekin unako ye nahi malum ki wo sirf yashwant ki nahi poore gaon, usake baad poore jille ki MAA hain jab wo apane gaon aur jille se baahar nakelenge tab malum ppadega ki wo kitane bade napunsak hai.

  3. DEVENDRA KU.PATEL

    October 23, 2010 at 10:03 pm

    यशवंत जी ,
    माँ का अपमान इन्सान और उसकी इंसानियत के लिए कलंक है ,मगर जब तक सत्तासीन नेताओं और नौकरशाहों को कलंक लगाने का मुँहतोड़ जवाब नहीं दिया जाएगा तब तक अपने अपमान के लिए न्याय मांगने पर समाज को इनके घडियालूआंसू के सिवा कुछ नहीं मिलेगा समाज के किसी व्यक्ति द्वारा कानून का उलंघन करने पर तत्काल दंड मिलताहै ,और इन्हें आजीवन मुकदमा चलने के साथ मौत हो जाने पर दुखद संवेदना के रूप में बिना अपराध सिद्ध किये मुक्ति मिल जाती है ,इस कुव्यवस्था का जवाब अब समाज को देना होगा ,या फिर आज मेरी कल तुम्हारी माँ ,बहन व पुत्री की अस्मिता पर कुठाराघात होता रहेगा और हम -सब हमारी और तुम्हारी विचारधारा में बँट अपमान को बर्दास्त और आत्म संतोष करते रहेगे,अगर जज्वा हो तो तकदीर की लकीरे भी बदल जाती है ,इसलिए नसीब में जो लिखा है इस विचार धारा को त्याग कर स्वयं अपना नसीब लिखने की विचार धारा को अपनाकर माँ के अपमान का बदला लेने के लिए वैचारिक क्रांति का विगुल फूंक दो !यशवंत जी हम सब मिलकर इसका मुकम्मिल जवाब जरूर देगे ,इस मिशन में हम सब आपके साथ है !धन्यवाद ,941555902

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Uncategorized

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम तक अगर मीडिया जगत की कोई हलचल, सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. इस पोर्टल के लिए भेजी...

टीवी

विनोद कापड़ी-साक्षी जोशी की निजी तस्वीरें व निजी मेल इनकी मेल आईडी हैक करके पब्लिक डोमेन में डालने व प्रकाशित करने के प्रकरण में...

हलचल

: घोटाले में भागीदार रहे परवेज अहमद, जयंतो भट्टाचार्या और रितु वर्मा भी प्रेस क्लब से सस्पेंड : प्रेस क्लब आफ इंडिया के महासचिव...

प्रिंट

एचटी के सीईओ राजीव वर्मा के नए साल के संदेश को प्रकाशित करने के साथ मैंने अपनी जो टिप्पणी लिखी, उससे कुछ लोग आहत...

Advertisement