इंडिया टीवी की नम्‍बर वन की कुर्सी और मजबूत, चौंकाते हुए न्‍यूज24 चौथे स्‍थान पर

टामियो की टीआरपी फिर आ गई है. इस सप्‍ताह भी भूत-प्रेत वाले चैनल इंडिया टीवी ने आजतक को नम्‍बर दो के पायदान पर बनाए रखा है. इस सप्‍ताह इंडिया टीवी से आजतक से अपनी बढ़त भी बढ़ा ली है. वहीं इस बार न्‍यूज 24 आईबीएन7, जी और एनडीटीवी को पीछे छोड़ते हुए अब तक के अपने रिकार्ड चौथे स्‍थान पर पहुंच गया है. बाकी सभी चैनल यथा स्थिति बने हुए हैं.

इस बार भी इंडिया टीवी ने अपनी सदाबहार कलाकारी के बल पर पहले स्‍थान पर बना हुआ है. इस बार .6 प्‍वाइंट की बढ़त के साथ इंडिया टीवी ने 15.9 रेटिंग प्‍वांइट जुटाए हैं. 1.1 रेटिंग का झटका खाने के बाद आजतक 13.8 रेटिंग के साथ दो नम्‍बर का चैनल बना हुआ है. घाटे के बावजूद स्‍टार न्‍यूज ने 13.3 रेटिंग प्‍वाइंट्स के साथ तीसरे स्‍थान पर मौजूद है. इस बार सबसे ज्‍यादा चौंकाने वाली खबर न्‍यूज 24 के चौथे नम्‍बर पर पहुंचने की है.

अजीत अंजुम के हेड तथा राजीव शुक्‍ला के मंत्री बनते ही चैनल ने भी टीआरपी में उछाल मारी है. अब तक के अपने सबसे उच्‍चतम रैंकिंग पर पहुंच गया है.  पिछली बार लाइव इंडिया के साथ संयुक्‍त रूप से सातवें स्‍थान रहा न्‍यूज 24 एनडीटीवी इंडिया, जी न्‍यूज और आईबीएन7 को पीछे छोड़ता हुआ 10 रेटिंग प्‍वाइंट के साथ चौथे स्‍थान पर काबिज हो गया है. न्‍यूज 24 को इस सप्‍ताह सबसे ज्‍यादा 2.2 प्‍वाइंट का फायदा हुआ है.

इसके बाद चौथे स्‍थान पर रहा आईबीएन7 .8 रेटिंग प्‍वाइंट के नुकसान के साथ पांचवें स्‍थान पर पहुंच गया है. उसके 9 प्‍वांइट हैं. इसी तरह क्रमश: जी न्‍यूज 8.5 प्‍वाइंट के साथ पांचवें से छठे एवं एनडीटीवी इंडिया 8.3 प्‍वाइंट के साथ छठे से सातवें स्‍थान पर पहुंच गया है. इस दौरान जी न्‍यूज को जहां 1.1 प्‍वाइंट का नुकसान उठाना पड़ा है वहीं एनडीटीवी इंडिया को .3 प्‍वाइंट का फायदा हुआ है.

इसके बाद 8 प्‍वाइंट के साथ लाइव इंडिया आठवें, तेज 5 प्‍वाइंट के साथ नौवें, समय 3.5 प्‍वाइंट के साथ दसवें,  पी7 2.8 प्‍वाइंट के साथ ग्‍यारहवें तथा डीडी न्‍यूज 1.9 प्‍वाइंट के साथ बारहवें स्‍थान पर बना हुआ है. पहली बार लगातार इतने सप्‍ताह तक आजतक नम्‍बर एक की कुर्सी से बेदखल हुआ है. जितनी उसकी छटपटाह बढ़ रही है, उतना भूतहा चैनल और उसके बीच की दूरी बढ़ रही है.

Comments on “इंडिया टीवी की नम्‍बर वन की कुर्सी और मजबूत, चौंकाते हुए न्‍यूज24 चौथे स्‍थान पर

  • dekhiye main manti hoon ki india tv ne bahut jyada bakwas baatein dikhayi thi…lekin idher kuch 6-7 mths se wo channel bhi bakwas nhn dikha raha hai..agar aapne gaur farmaya hota to aapko pata chal jata……aajkal to sare news channel to jaise news se nata todkar entertainment se nata jod liya hai..to sirf indai tv ka hi naam kun????????????agar koi sudharana chahta to usse mauka to dijiye….

    Reply
  • jasvinder singh sabharwal says:

    PLEASE SHOW THE REAL NEWS….REAL NEWS………….NO SLOT OF BABA………AST……………….VIEWERS WANTS ORIGINAL NEWS…………FOR JANTA…..ONLY FOR JANTA.

    Reply
  • अभयंकर says:

    सुनील झा और सुप्रिय प्रसाद अपने मुंह पर कालिख पोत लें। इन दोनों लोगों ने अजीत जी के खिलाफ भ्रामक षड़यंत्र रचे, लेकिन अपनी वापिस के दो हफ्तों के बाद अजीत जी ने जो कर दिखाया वो टीवी पत्रकारिता में हमेशा याद किया जाएगा। अजीत अंजुम के आलोचकों को उनका रूटीन देखना चाहिए…उनका जूनुन जिसके दम पर आज न्यूज 24 टीआरपी के चौथे आसमान पर पहुंच गया है।

    Reply
  • Anoop Pandey says:

    सही कहा अंजना जी ने। अजीत अंजुम वो शख्स हैं जो कई बार सुबह के 7 बजे दफ्तर पहुंच जाते हैं और रात के 12 बजे घर जाते हैं। नहीं तो कई तो ऐसे लाट साहब न्यूज24 में आए जो दिन के 12 बजे आकर 8 बजते बजते दफ्तर से रुखसत हो जाते थे। अजीत अंजुम की मेहनत ही है कि आज न्यूज 24 … जी न्यूज, एनडीटीवी इंडिया और आईबीएन जैसे दिग्गज चैनलों को पछाड़कर देश का चौथा सबसे ज्यादा देखा जाने वाला नेशनल न्यूज चैनल बन गया है। अजीत जी खालिस राजनीति के शिकार न हुए होते तो न्यूज 24 की अब तक किस्मत चमक चुकी होती है। राजनीति न करने की ही तो कीमत अजीत अंजुम ने चुकाई थी। कभी भी चाटुकारों की टीम नहीं बनाई नहीं तो उनके गुर्गे भी मालिकों के पास जाकर खबरें पहुंचाया करते जैसे कुछ बॉसेज के चमचे किया करते थे। शुक्र है देर से ही सही अजीत अंजुम की वापसी हो गई। आपकी बात से मैं इसलिए इत्तेफाक रखता हूं अंजना जी। अब न्यूज 24 एक सही पत्रकार के हाथों में है।

    Reply
  • Harishankar Shahi says:

    अजित अंजुम सर विदेश यात्रा करके लौटे हैं. अभी तो बहुत छुट्टी की एनर्जी जुटा लियें हैं. अब तो एनर्जी की ताकत दिखेगी ही. अजित सर का शुभागमन हो गया. वैसे भी चैनल न्यूज़ में नंबर एक का खिताब खाली ही है. न्यूज़ चैनल भले ही कोई भी नंबर वन हो जाए परन्तु वह चैनल जो न्यूज़ को समर्पित हो. उसकी कुर्सी खाली है.

    Reply
  • Ravi teja says:

    koi kuch bhi kahe magar INDIA TV hai bahut jaandaar channel uska content ab behtar ho raha hai or presentation to laajawaab ho chuka hai kaash mai bhi wahan jaa sakta

    Reply
  • shivshankar jha says:

    watch india tv and aaj tak.then you will find the difference. today india tv is best news channel.everytime They are showing news.

    Reply
  • shivshankar jha says:

    yashwant ji,aapne hee khbaar diya tha ki aaj tak me arun puri ne bola ki trp bhul jao,news karo.ya sabb arun puri ko isliye karna padha ki aaj tak joota bhee khaya aur pyaj bhee.ganda bhi dikhaya aur rating bhee ganwaya.lekin india tv ne chaal chala.gande talab me pahle sab ko dala aur bad mei khudd bahaer nikal kar naha dho liya aur saf ho gaya.sabko naalie me dhakel kare khudd saff ho gaya.ye deekh bhee rahae haei.yahee bat arun puri ko samajh aa gaya ki jab india tv ko news me rating mil sakta hai to aaj tak ko kyo nahee.

    Reply
  • News 24 k TAM rating me aage nikalne ka pramukh karan media ka rajnitik gathjod hai. media k rajnitik gathjod ke bare me aap yahan padh sakte hain.- [url]http://yuvapost.blogspot.com/2011/07/blog-post.html[/url]

    Reply
  • मयंक आलोक says:

    बिना किसी पर कोई टिप्पणी करे…इस टीआरपी के दो महत्वपूर्ण पहलुओं की चर्चा ज़रूरी है…पहला ये कि इस टीआरपी के अलग अलग स्लॉट्स का अध्ययन करें, तो आप पाएंगे कि न्यूज़ 24 की ये टीआरपी दरअसल नॉन न्यूज़ कंटेंट की नहीं है…और न्यूज़ी स्लॉट्स की टीआरपी भी बनिस्बत ज़्यादा है…और दूसरा कि ये बेहतर पैकेजिंग की भूमिका का भी योगदान माना जाए, कि अच्छी खबरों की बेहतर पैकेजिंग भी हुई…इसका श्रेय निसंदेह पैकेजिंग टीम, वीडियो एडीटर्स, ग्राफिक्स टीम और पीसीआर को भी दिया जाना चाहिए…बाहर बैठकर आप सौ तरह के आकलन करने के लिए स्वतंत्र हैं, पर अजीत जी सुबह पौने 6 बजे से रनडाउन के सम्पर्क में रहते हैं, क्य़ोंकि पहला बुलेटिन 6 बजे है…और ये क्रम रात 12 बजे तक चलता है, और इस बात में कोई संदेह नहीं है…न ही ये चापलूसी है…बाकी इस कोशिश को लम्बे समय से अलग अलग टीम्स द्वारा सतत की जा रही मेहनत के तौर पर भी देखा जाए तो क्या दिक्कत है…और अभी ये कोई जश्न का वक्त भी नहीं है…क्योंकि इस पूरी टीम के सामने ज़्यादा बड़ा लक्ष्य इस सफलता को बनाए रखने का है, न कि एक हफ्ते हीरो बन के दोबारा वहीं पहुंच जाने का..

    Reply
  • Anoop pandey says:

    Yeh hamare samaj ki vidambana hi hai ki Kuch namard…kayak…bujdil log hamara hissa hai. Un tamam logo Kai leye Mai apni saleen bahasha ko dushit nahi karna chahta. Anyatha unki mahima sadav ache samaj mai .;$&. Beep sai hoti hai.. Verna comment karne Mai woh mere naam ka istemaal na karte. Ajit sir ki sakshyat baya karene Kai leye na toh kisi website ya anoop pandey jaise logo Kai mahimamandan ki jarurat hai. Yadi kisi ko sansay ho toh iss mugalte ko tatkal bool jaye. 
    Kyoki jis kisi nai mere naam sai comnt kiya woh nahi janta ki woh perde Kai peche sai suraj ko diya dikha raha hai…

    Yadi koi aur anoop pandey Ji hai toh apka chama prarthi hoo..
    Yashvant Ji iis comnt ko mat hatana verna aise logo ki Aatma unhe kaise dhitkaregi.

    Apki mahan daya hogi…

    Kamna karta hoo bhagwan logo ko satbudhi dai…

    Reply
  • ravi kumar says:

    अजीत अंजुम मेहनती भी हैं और ज़मीन से जुड़े हुए भी।ये सभी जानते हैं लेकिन इंसान की एक बुराई उसकी लाख खूबियों को ढक लेती है।यानि अजीत का सनकीपन और बदज़ुबानी।चैनल आगे बढ़े,इससे किसी को एतराज़ नहीं होना चाहिए लेकिन इसके लिए गालीगलौच का इस्तेमाल किसी भी सूरत में जायज नहीं कहा जा सकता।लेकिन अजीत ऐसे शख्स हैं।टीआरपी हासिल करने के लिए गालियों का सहारा क्यों लिया जाता है।आखिर हम सभी इंसान हैं।आखिर बड़े ओहदे पर पहुंचने के बाद एक आदमी की आदमियत क्यों बदल जाती है।माना कि ज़िम्मेदारियों का बोझ काफी ज्यादा होता है पर इसके लिए ये जरूरी नहीं कि किसी सहकर्मी को प्रताड़ित करके या उस टारगेट करके आप बेहतर रिजल्ट दे सकते हैं।लेकिन अफसोस की बात तो ये है कि आज न्यूज 24 और दूसरे कथित न्यूज चैनलों में ऐसा ही देखा जा रहा है।सीनियर्स अपनी नौकरी बचाने या अपनी अयोग्यता पर पर्दा डालने के लिए अपने जूनियर्स का गला घोंट रहे हैं।ये वही सीनियर्स हैं जो जब किसी मंच पर होते हैं तो लंबी चौड़ी बातें करते हैं।ये वक्त बड़े चैनलों में काम कर रहे सीनियर्स के आत्मविवेचन करने का है।मेरी अजीत को शुभकामनाएं..लेकिन इतनी सी इल्तेजा कि वो जियो और जीने दो की नीति पर चलेंगे तो चैनल वाकई तरक्की करेगा

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *