करप्शन विरोधी अभियान को न्यूज चैनलों के समर्थन से डरी सरकार ने निकाला डंडा

: लाइसेंस रिन्यूअल के फंडे को डंडे की तरह इस्तेमाल करने की रणनीति : काटजू ने नई नीति त्यागने की अपील की : केन्द्र सरकार ने न्यूज चैनलों पर अंकुश लगाने की तैयारी कर ली है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने न्यूज चैनलों के लिए जो नई गाइडलाइन जारी की है उसमें इन अंकुश का उल्लेख है. कहा गया है कि अगर कोई न्यूज चैनल पांच से अधिक बार न्यूज व विज्ञापन के लिए तय नियमावली का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

इस पागल, नंगे व खतरनाक शख्स को पुलिस ने मारकर क्या गलत किया?

: देखें सीसीटीवी फुटेज और अन्य वीडियो : सतना (मध्य प्रदेश) की घटना याद होगी. न्यूज चैनलों पर बार-बार दिखाया गया. एक मानसिक रूप से बीमार आदमी को पुलिसवालों द्वारा मिलकर सरेराह पीटा जाना. और इसी के चलते उस आदमी की मौत हो जाना. पिटाई की सीन को जिसने भी देखा, उसने पुलिसवालों को जमकर गालियां दी और देश में अंग्रेजी राज जैसे पुलिस दमन की कल्पना की.

बिन अन्ना आजतक हुआ सून, इंडिया टीवी फिर किंग

अन्ना के आंदोलन के दौरान आजतक पूरे फार्म में था. दर्शकों ने सबसे ज्यादा भरोसा इसी चैनल पर किया और सबसे ज्यादा इसी को देखा. इस कारण टीआरपी में यह चैनल अपनी नंबर वन की कुर्सी पर आसीन हो गया. लेकिन अन्ना आंदोलन के शांत होने के बाद अब जो टीआरपी आई है, उससे पता चलता है कि इंडिया टीवी ने फिर से नंबर एक कुर्सी पर कब्जा जमा लिया है. इंडिया टीवी थोड़े ही मार्जिन से नंबर वन बना है लेकिन कहा तो यही जाएगा कि आजतक नंबर दो पर चला गया है.

News Express captures another 10% in its ever growing market share

: …reports TAM : 148% growth in market share in Bihar : 43.8 % growth in reach in Gujarat : 16.2 % increase in eyeballs in Rajasthan : 17 % growth in reach in Assam : New Delhi : According to the latest report published by TAM, News Express, the first high definition (HD) Hindi news channel has captured yet another 10% market share across the Hindi speaking market (HSM) in the country.

अन्ना के आंदोलन से इंडिया टीवी का बैंड बजा, रिपोर्टरों को नोटिस

: चिटफंडियों, बिल्डरों, दलालों, सरकार समर्थकों, नान-न्यूज वालों के न्यूज चैनल धड़ाम हुए : खिसियाये इंडिया टीवी प्रबंधन ने अपने रिपोर्टरों पर निकाली भड़ास : अन्ना हजारे के समर्थन में जिस तरह पूरा देश उठ खड़ा हुआ है, उससे न्यूज चैनलों पर दबाव बहुत बढ़ गया है. कामेडी, भूत प्रेत, अंधविश्वास, अपराध, चिरकुटई आदि दिखाने का वक्त नहीं है. शुद्ध हार्ड न्यूज पर खेलने का दौर है.

इंडिया टीवी की नम्‍बर वन की कुर्सी और मजबूत, चौंकाते हुए न्‍यूज24 चौथे स्‍थान पर

टामियो की टीआरपी फिर आ गई है. इस सप्‍ताह भी भूत-प्रेत वाले चैनल इंडिया टीवी ने आजतक को नम्‍बर दो के पायदान पर बनाए रखा है. इस सप्‍ताह इंडिया टीवी से आजतक से अपनी बढ़त भी बढ़ा ली है. वहीं इस बार न्‍यूज 24 आईबीएन7, जी और एनडीटीवी को पीछे छोड़ते हुए अब तक के अपने रिकार्ड चौथे स्‍थान पर पहुंच गया है. बाकी सभी चैनल यथा स्थिति बने हुए हैं.

बिहार में मौर्य टीवी फिर नम्‍बर वन, महुआ न्‍यूज फिसला

बिहार झारखण्ड का न्यूज चैनल मौर्य टीवी लगातार दूसरे सप्‍ताह नम्‍बर एक की पोजिशन बरकरार रखा है. मौर्य से मुकेश कुमार के जाने के बाद पहली बार मौर्य टीवी लगातार दो सप्‍ताह से नम्‍बर वन की कुर्सी पर अपना कब्‍जा बरकरार रखा है. पिछले सप्‍ताह 58 जीपीआरएस के साथ मौर्य टीवी नम्‍बर एक पर था. इस बार भी 55 जीपीआरएस के साथ उसने नम्‍बर वन की कुर्सी पकड़ रखी है. महुआ न्‍यूज को इस बार तेज झटका लगा है.

अरुण पुरी ने कहा- टीआरपी भूलो, खबर पर लौटो!

आजतक न्यूज चैनल के बुरे हाल ने इसके मालिक अरुण पुरी की कुंभकर्णी नींद तोड़ दी है. खबर है कि उन्होंने पिछले दिनों चैनल के शीर्षस्थ लोगों की एक बैठक बुलाई और दो टूक कह दिया कि आप लोग अब टीआरपी की चिंता छोड़ दें, प्रलय और ज्योतिष आदि दिखाने बंद कर दें, हार्डकोर खबरों की तरफ लौटें, क्योंकि टीआरपी की चिंता ने चैनल की जो दुर्गति कर दी है, उससे ज्यादा दुर्गति अब ठीक नहीं. सूत्रों के मुताबिक अरुण पुरी का ऐसा आदेश इसलिए देना पड़ा क्योंकि इंडिया टीवी ने आजतक की चूलें हिला दी है.

ब्रेक के बाद : रिश्‍तों में टीआरपी ढूंढ़ते न्‍यूज चैनल

टीवी का रिमोट कंट्रोल हाथ में लेकर चैनल बदल रहा था कि कोई अच्छा प्रोग्राम देखने को मिल जाए। तभी एक न्यूज चैनल पर जाकर आंख और कान दोनों केन्द्रित हो गये। न्यूज चैनल पर अनोखी और सच्ची खबर प्रसारित हो रही थी। खबर मेरठ से थी। कहानी सच्ची और पूरी फिल्मी हो तो कौन उसे देखना और सुनना नहीं चाहेगा? मेरी तरह लाखों लोगों की नजर उस खबर पर जम कर रह गयी होगी।

लगातार दूसरे हफ्ते भी सहारा समय यूपी नंबर वन!

टीआरपी तय करने वाली संस्था टैम के मुताबिक लगातार दूसरे हफ्ते सहारा यूपी-उत्तराखंड चैनल ज़ी यूपी और ईटीवी को पछाड़ते हुए लगातार नंबर वन के पायदान पर कब्जा जमाये हुए है। इससे पहले जून महीने की शुरुआत में चैनल दूसरे नंबर पर था। ईटीवी की लगातार कम होती टीआरपी ने साबित कर दिया है कि सहारा यूपी और जी यूपी ही यूपी रीजनल मार्केट के दो असली चैनल हैं।

आजतक अभीतक है नंबर तीन, नकवी और शैलेष का क्या होगा!

जो चैनल अपने शुरुआत से लेकर पिछले कुछ महीनों तक नंबर वन की कुर्सी पर आसीन रहा, यदाकदा के छिटपुट उदाहरणों-अपवादों को छोड़कर, वह अब लगातार तीसरे नंबर पर है. कभी खबरों, तेवर और सरोकार के मामले में भी नंबर वन माने जाना वाला यह न्यूज चैनल आजतक अब उन्हीं चूतियापों, कलाबाजियों और बेसिरपैर की खबरों व करतबों के लिए जाना जाता है जिसके लिए इंडिया टीवी कुख्यात व बदनाम है.

जी और आईबीएन को पीछे कर लाइव इंडिया ने चौंकाया

हम टीआरपी पर चाहे जितना हो-हल्ला कर लें लेकिन न्यूज चैनलों की अंदरुनी दुनिया में टीआरपी का बहुत महत्व है. इस ससुरी टीआरपी के लिए ही मालिक से लेकर संपादक और ट्रेनी तक चिंतित रहते हैं. लेकिन सुधीर चौधरी चिंतिंत नहीं हैं. क्योंकि उनके चैनल ने पिछले कुछ महीनों में गजब का परफार्म किया है, टीआरपी के हिसाब से. इसी कारण सुधीर के चेहरे पर मुस्कान है. लाइव इंडिया न्यूज चैनल ने टीआरपी चार्ट में जी न्यूज और आईबीएन7 को भी पछाड़ दिया है (सप्ताह 16वां, टीजी 15+, वर्ष 2011).

बदलेगा टीआरपी का फंडा

जिस टीआरपी को लेकर टीवी चैनल अपने कार्यक्रम और कंटेंट की ऐसी की तैसी करते हैं. उस टीआरपी मापन प्रणाली में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय फेरबदल की योजना बना रहा है. फिलहाल जो सिस्‍टम हैं उसमें मात्र 8000 घरों में लगे बाक्‍सों से ही टेलीविजन रेटिंग पॉइंट यानी टीआरपी तय कर दी जाती है. अब मंत्रालय इसकी संख्‍या 30000 तक बढ़ा सकता है.

बिहार-झारखंड में साधना नम्‍बर वन

43वें हफ्ते की जीआरपी-टीआरपी से जुड़ी कई सूचनाएं हैं. बिहार में साधना न्यूज 15+ की कैटगरी की जीआरपी में नंबर वन बन गया है. साधना की जीआरपी 7.4 है. 7.04 जीआरपी के साथ महुआ न्‍यूज दूसरे नम्‍बर पर है. सहारा समय तीसरे नंबर है 6.5 के साथ. मौर्या टीवी की जीआरपी 5.9 है जबकि ईटीवी बिहार 5.86 जीआरपी के साथ पांचवें नम्‍बर पर है.

इंडिया टीवी : आफिस बदला, टीआरपी बढ़ी

इंडिया टीवी वाले के अच्छे दिन चल रहे हैं. इंडिया टीवी का आफिस बदल गया है. यह अभी तक फिल्म सिटी 16-A में था. अब इसका नया पता है बी-38, सेक्टर 85, नोएडा. फिल्म सिटी में जिस आफिस में किराए पर इंडिया टीवी संचालित होता था, उसके मालिक टीवी वाले हैं. रजत शर्मा और पीके तिवारी के बीच इस बिल्डिंग को लेकर कोर्ट व कोर्ट के बाहर लंबा विवाद चला. बाद में दोनों चैनलों के मालिकों में इस आफिस के विवाद पर समझौता हो गया.

इंडिया टीवी को पछाड़ आजतक फिर नम्‍बर वन

टैम वाले फिर आजतक को नंबर एक की कुर्सी पर ले आए. बात सप्ताह 40वें की है. 26 सितम्‍बर से 2 अक्टूबर के बीच की जो टीआरपी टैम वालों ने जारी की है, उसमें इंडिया टीवी को पस्त दिखाया गया है. टैम वालों का यह धमाका बताता है कि आजतक में पिछले दिनों किए गए भीतरी बदलावों का असर टीआरपी पर भी हुआ है. कई सप्‍ताह से दूसरे नम्‍बर पर अटके हुए आजतक को इस हफ्ते में फिर से नम्‍बर एक की कुर्सी पर काबिज होने का मौका मिला है.

अयोध्या कवरेज में आशुतोष ने मिसाल कायम की

: आइए, आईबीएन7 की इस पत्रकारिता का स्वागत करें : तारीख 30 सितम्बर 2010. टेलीविजन मीडिया के लिए एक इम्तिहान का दिन. आमतौर पर भारतीय टेलीविजन मीडिया अपनी अपरिपक्वता और जल्दबाजी के लिए कुख्यात है. परन्तु मामला इस बार बेहद संगीन और फिसलनदार. देश-विदेश के लाखों करोड़ो लोगों की नजर अपने टेलीविजन चैनल के स्क्रीन पर चस्पा थी.

रियलिटी शोज टीआरपी नहीं, पैसा देते हैं

बुद्धू बक्से पर फैमिली ड्रामा और रियलिटी शो के बीच लंबे समय से जंग जारी है। ज्यादा से ज्यादा टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट (टीआरपी) पाने की होड़ में जहां एक ओर इमोशनल ड्रामा के जरिए छोटे पर्दे की बहुएं दर्शकों का दिल जीतने की कोशिश कर रही है। वहीं, दूसरी ओर रियलिटी शोज में सेलिब्रिटीज का जबरदस्त तड़का लगाया जा रहा है।

नकवी ने अपने आउटपुट हेड पर गिराई गाज

: रिपोर्टिंग व एसाइनमेंट से संबद्ध किए गए अजय कुमार : ‘तेज’ के शैलेंद्र बने नए आउटपुट हेड : पूनम शर्मा को ‘तेज’ की जिम्मेदारी : अगली गाज अशोक सिंघल पर गिरने के आसार : माया-मिली न राम की स्थिति में फंसे नकवी खुद की चमड़ी बचाने के चक्कर में दूसरों पर फोड़ रहे ठीकरा : सरोकार व जनपक्षधरता छोड़कर टामियों की टीआरपी के चक्कर में उटपटांग कंटेंट के पीछे भागते-भौंकते-दौड़ते रहने की जिद के कारण नंबर एक से नंबर दो पायदान पर लगातार खिसकते रहने से आजतक में मचा बवाल और तेज हो गया है.

इंडिया टीवी को रोल माडल न बनाए आजतक

आजतक में कोहराम मचा हुआ है. बाजारू दर्शकों को मापने के बाजारू यंत्र से लैस बाजारू टामियों ने इस न्यूज चैनल को नंबर दो पर क्या पटका, आजतक में बड़े-बड़ों की थूक सरकी हुई है. जिसे देखो वही नंबर दो से एक पर पुनः आसीन होने के नुस्खे आजमा रहा है, सुझा रहा है, समझा रहा है. टैम वालों की टीआरपी की जो 37वें सप्ताह की सूची जारी हुई है, रेटिंग आई है, उसमें फिर उसी इंडिया टीवी को नंबर एक की कुर्सी पर विराजमान दिखाया गया है जिसे देश के संवेदनशील व पढ़े-लिखे लोग सबसे वाहियात चैनल बताते हैं.

टामियों का दिल कहे ‘इंडिया टीवी’ नंबर वन

टैम (चैनलों की व्यूवरशिप जांचने वाली प्राइवेट कंपनी) वाले टामियों का हरामीपन चरम पर है. बेहूदा खबरें दिखाने वाले न्यूज चैनलों को ज्यादा नंबर देने का सिलसिला जारी है. ‘इंडिया टीवी’ लगातार नंबर वन घोषित किया जा रहा है. पिछले कुछ हफ्तों से टैम के टामियों की जो रेटिंग लिस्ट जारी हो रही है, उसमें इंडिया टीवी लगातार नंबर वन पर बना हुआ है. टामियों ने बुरी गत कर रखी है आजतक की. कभी नंबर वन चैनल रहा यह आजतक आजकल दो और तीन स्थान पर फुटबाल की तरह लुढ़क रहा है. नंबर वन पर तो ‘बहनों को जहरीला‘ बताने वाले इंडिया टीवी को कायम कर रखा है.

आईबीएन7 वालों ने खुद की पीठ थपथपाई

: खुद को हिंदी का नया नंबर वन न्यूज चैनल बताया : आईबीएन7 वालों ने अपनी वेबसाइट पर अपने बारे में एक खबर प्रकाशित की है जिसमें वे लोग जमकर अपने मुंह मियां मिट्ठू बने हैं. आप भी पढ़ लीजिए. -एडिटर

टामियों के दिन लदेंगे

टीआरपी के लिए सरकार ने समिति बनाने का फैसला किया : अच्छी खबर आई है. हमारी आपकी आवाज और हमारी आपकी चिंता रंग लाई है. टामियों के दिन लदने वाले हैं. टैम और एमैप जैसी एजेंसियों के हांथ से टीआरपी नापने का काम छिनने वाला है. सरकार टीआरपी को लोकहित से जुड़ा मुद्दा मान गई है.

लंगोटिया भूत से लेकर जूली चुड़ैल की कहानी करना चाहता हूं : रवीश

टीवी के आइडिया उत्पादकों का अनादर मत करो : टीवी का फटीचर काल अपने स्वर्ण युग में प्रवेश कर चुका है। सानिया की शादी को लेकर तमाम संपादकीय रणनीतिकारों ने आइडिया को त्वरति गति से पैदा करना शुरू कर दिया है। टीवी के फटीचर दर्शकों ने लेख लिखने के लिए इन तमाम कार्यक्रमों पर अपनी आंखें गड़ा दी हैं। टीआरपी फिर लौट आया है।

वो पत्रकार बाद में बनता है, टीआरपीबाज पहले : आशुतोष

आशुतोषअब तो एडिटर से अधिक पावरफुल हो गये ब्रांड मैनेजर : आइना दिखाने के लिये थैंक्स रामू : ‘हाऊ ऑनेस्ट इज द फिल्म’, उस अजनबी लड़के ने मुझसे ये सवाल किया। 

सनसनी है बेटा… टीआरपी बढ़ेगी!

[caption id="attachment_15290" align="alignleft"]अंकुर विजयवर्गीयअंकुर विजयवर्गीय[/caption]पिछले दिनों मध्य प्रदेश के रायसेन जिले से एक खबर आई। एक पत्रकार होने के नाते मेरे लिए उस खबर पर अचंभित होना लाजमी था। खबर थी कि एक मुर्गी ने इंसान के बच्चे को जन्म दिया। लगभग एक हाथ की लंबाई का वो बच्चा जन्म लेते ही मर गया। पता नहीं क्यूं मेरा मन ये मानने से इंकार कर रहा था कि ऐसा हो सकता है, क्यूंकि विज्ञान का विद्यार्थी रह चुके होने के नाते मुझे डार्विन का सिद्धांत याद आ रहा था कि शुरुआती तीन महीनों में इंसान और जानवर दोनों का विकास एक जैसा होता है। पर खबर थी तो करना भी जरूरी था। मुझे लगा, हो सकता है कि कोई उस भ्रूण को वहां पर फेंक गया हो या फिर डार्विन भाई का सिद्वांत ही ठीक हो। खबर करने का मन न होने का एक कारण यह भी था कि उस बच्चे को पैदा होते किसी ने नहीं देखा। लेकिन उपर से आदेश था तो खबर करना भी जरूरी था लेकिन क्या करें, दिल है कि मानता नहीं। पांच बजे तक हमने इंतजार किया और जब देखा कि सभी चैनलों ने उसे चलाना शुरू कर दिया तो मजबूरन मुझे भी ये खबर करनी पड़ी। अगले दिन बजट पेश होना था।