उपेन्‍द्र जी, मेरी सेलरी दिलवाइए

सेवा मे, माननीय श्री उपेन्द्र राय जी, सहारा इंडिया मीडिया, एडिटर एवं न्यूज डाइरेक्टर, विषय- मुंबई ऑफिस की बदउन्वानी और बार-बार शिकायत करने के बाद भी मेरी सेलरी का चेक ना दिए जाने के सन्दर्भ में.

श्रीमान, उम्मीद करता हूं कि आप खैरियत से होंगे, मेरा नाम दानिश आज़मी है और मैं सहारा उर्दू मुंबई से अगस्त 2008 से जुड़ा हुआ था. और मेरा एप्‍वाइंटमेंट सईद हमीद जी जनवरी 2009 से काफी टाल-मटोल करने के बाद किया था. आप को बताना चाहूंगा कि मैंने 2008 में आजमगढ़ में मुफ्ती अबुल बशर और बटला हाउस एन्काउंटर की एक्सक्लूसिव तस्वीरों से लेकर इंडियन MUJAHEEDEN के नाम पैर अरेस्‍ट किये गये  मुम्बरा, भिवंडी, आजमगढ़ के नवजवानों की EXLUSIVE न्यूज़ कवर  करता रहा हूं.

मगर मुझे सेलरी के नाम पर जो मिल रहा था वो काफी कम था, इस बात की शिकायत मैंने अज़ीज़ बर्नी जी से फ़ोन पर किया था, मगर अफ़सोस  की बात ये है की इस पर कोई रदे अमल सामने नहीं आया. सईद हमीद सर से मैंने इस ताल्लुक से बात किया तो उनका एक जवाब था कि इतना ही मिलेगा काम करना हो तो करो वरना अपना आई-कार्ड जमा कर दो. इतना ही नहीं जनवरी 2009 से लेकर मार्च 2010 के दरम्यान सिर्फ पांच माह की सेलरी का चेक मुझे मिला, बाकी चेक की बात ऑफिस में फ़ोन से करता हूं तो शबाना जी कहती है सईद हमीद सर से बात करो, जब उनसे कहा तो उन्‍होंने लाइल्मी का इज़हार किया, और ये सिलसिला काफी दिनों से चल रहा है.

मुझे मजबूर होकर आप के पास शिकायत करनी पड़ रही है. सर ज्वाइनिंग के वक़्त मुझे ठाणे जिले के कल्याण और क़सारा तक क्राइम की न्यूज़ कवर करने की बात कहा गया था, और मैं ठाणे के अलावा  मुंबई की भी न्यूज़ कवर कर देता था, लेकिन मुंबई जैसे शहर में क्या खर्च होगा आप अच्छी तरह अनुमान लगा सकते हैं. इन्ही सब बातों की वजह से मैंने मार्च के बाद से काम करना बंद कर दिया है. सहारा मीडिया हक और ना इंसाफी की लड़ाई लड़ रहा है. बड़े अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है शायद आपके ही न्यूज़ पेपर में नाइंसाफी हो रही है.

बड़े ही अदब के साथ कहना चाहूंगा कि सहारा उर्दू मुंबई 2008-2009 में ऊंचाई की तरफ सबकी कोशिशों से बढ़ रहा था, मगर वक़्त के साथ आखिर गिरावट क्यों आ रही है, इस बात का आप जवाब तलाशने की कोशिश करे? मुंबई ऑफिस में 2008-2009 में काफी स्ट्रिंगर और रिपोर्टर थे, मगर अब तीन- चार ही बचे हैं. इस बात के लिए कौन ज़िम्मेदार है? शायद एक ही जवाब होगा सईद हमीद सर, जिनकी वजह से न्यूज़ पेपर आगे बढ़ कर रुक गया और सारे स्टाफ के लोग छोड़ कर चले गए.

अतः आपसे  निवेदन है कि मेरी सेलरी के बचे हुए सारे चेक दोबारा ISSUE करवाने और इस मामले में दोषी स्टाफ के लोगो को ज़रूरी तम्बीह करने के साथ ही मैं राष्ट्रीय सहारा उर्दू मुंबई में काम शुरू करूं या नहीं इस बात से अवगत करवाने का कृपा करें.

सूचनार्थ कार्यवाही हेतु प्रेषित-

श्रीमान अज़ीज़ बर्नी साहब

दानिश आजमी

एस.के. आर्केड  तीसरा माला

305 गैबी नगर भिवंडी, ठाणे, महाराष्ट्र

Comments on “उपेन्‍द्र जी, मेरी सेलरी दिलवाइए

  • Sanjay Gupta "Kurele" says:

    दानिश भाई …
    ये केवल आपकी पीड़ा ही नहीं उन तमाम लोगो का दर्द है जों चैनल के लिए काम कर रहे है लेकिन पैसे मांगने की बात नहीं कह पा रहे है |
    आपने भड़ास 4 मीडिया के माध्यम से अपने दिल की तो भड़ास निकाल दी लेकिन अपने कई साथी ऐसे भी है जिन्हें अपनी नौकरी का डर रहता है और वो बिना पैसे मिले ही काम कर रहे है | आपके माध्यम से शायद कुछ संस्थान वाले अपनी कुम्भकर्णी नींद से जागकर पैसे देने लगे|

    संजय गुप्ता
    उरई (जालौन)

    Reply
  • Dear Upendra Ji, in Sahara every kartavyayogi gets salary in time. If someone has problem he must have some other reason. Despite I want to raise some valid remarks in favour of company. Are you aware about the ability of Kishore Keshav worker of Rashtriya Sahara Patna? Once he was served termination letter due to some valid reason of company. He is a junior executive and of late he has been promotet to second man after Resident Editor.Its not a good message. please veryfiy the fact. You should organise a written examination or interview for assesing able candidate. There are many talented worker in sahara but senior don’t recomend his name.You can understand the reason. The system is made such that you are forced to rely on recomending authority. Please develop some other metod. A repoter’s brother is cotesting the Bihar assembly election. The reporter is campaiging his brother taking medical leave. You shoul watch all these things.

    Reply
  • Danish Jee kam se kam Sahara K baare mei logo ko mat Gumaraah kare. aapki baato per koi yakeen nahi karega ki Sahara mei kisi ki Salary roki gayee. Galat Jaankaariyana de.

    Reply
  • Daanish Jee kam se kam Sahara k baare mei logo ko gumarah na kare. aap ki Baato per kisi ko yakeen nahi hoga ki aapki Salary nahi mili Ya Sahar mei kisi Employee ki salary rok lee gayee hai.

    Reply
  • deepak lavange says:

    चीट फंड कंपनी वाले के यहाँ काम करते हो और तनखा माग रहे हो. ये तो चील के घोसले से मांस मांगने जेसा हे. रही बात सहारा को बदनाम करने की तो भय्या क्या सहारा को भी कोई बदनाम कर सकता हे? [b][/b];D

    Reply
  • govind goyal,sriganganagar says:

    rajasthan me dusra fanda hai. jab se naya head aaya hai usne purane stringer se bat na karke apne bande rakh liye. jo purane hain unko ye tak nahi kaha ki bhai ab aap kam ke nahi rahe.

    Reply
  • sahara media reportroon ko ise tarah be shara ker rhi hai…burny sahara ko berbad ker rhaa hai, aur saed hameed 100 chuhe khaa ker huj ko gayee hai ..per reportro ko selary ke naam per thenga dikhate hai ,,,mumbai edition ko smapt kerne ki saeed hameed ne supari le liyaa hai….

    Reply
  • सहारा में बहुत कुछ बदल रहा है,बस नहीं बदल रहा है तो सेलरी स्ट्रकचर

    Reply
  • Adarniya Upendra Ji, apko malum hai Rashtriya Sahara Patna men ek bureau ke reporter ne candidate ki suchi ki jagah uske baap (father) ka naam chhap diya. ek nam ho to alag baat thi kintu paanch baap ko umidwar banaya. yeh sab bureau chief ne dekh sunkar kiya. kya yah sab aapko malum hai. pratham charan ki suchi me yeh galti thi. pata tab chala jab candidate rashtriya sahara ki suchi dekhkar baap-baap chilane lage. yaad hai ek reporter galat likhne se nap gaya tha.us vakta bhi bureau chief ne copy dekhi thi.yeh kaisa insaf hai bureau chief baar=baar galti karne par bach jate hai phanshi chadhte hai reporter. Ham jante hai ki bhadas me chapne per ulte bureau chief ki tarakki hogi. sachai ka sath dijiye sir. Galtiyan bahut ja rahi hai.sab ko topa ja raha hai.

    Reply
  • Sahara Kaa Salary Structure Badal Jayega too bhai un Logo kaa Kya hoga Jo Boss logo kee meherbaanee se Bahut jyada salary Le rahe hain..Aur Kaam kewal idhar kee Baat Udar aur Udhar lKee Baat Idhar karna hai……….[b][/b]

    Reply
  • Danish azmi kaun hai?kitne paani main hai..yah bhiwandi ke patrakar jaante hain.Jis aadmi ko news likhna tak nahin aati ,use saeed hameedji ne Tariq khan crime reporter ke kehne per sahara diya..lekin Sahara ke naam per Danish azmi jo khel khelna chahte the ,us ka unhen mauqa nahin mila.Woh kalyan ke reporter ban kar Sahara main ghuse ,lekin un ki nazar bhiwandi per thi…….bhiwandi main patrakarita ke naam per jhol karne walon ke liye bada mauqa hai…lekin Bhiwandi main Asad Qasmi pehle hi se Sahara ke patrakar hain .Saeed Hameed ji ne Danish azmi ki daal galne nahi di …..Saeed Hameed ji Mumbai ke Inquilab ,Urdu Times , Akhbare Alam ,jaise Urdu ,JanSatta, Dopaher jaise Hindi akhbaron main kam karchuke hain .30 warsh ki patrakarita main un ke mukhalif bhi un ki imandari aur qabilyat ko mante hain.Danish azmi jaise tapori patrakar agar Sahara ke naam per jhol karne ke iraade se aye the to unko mayusi hui……aur woh bilawajah doosron per kichad uchhal rahe hain.Aaj un ki kya auqt hai …yeh sab jaante hain.Rahi baat stringaron ki to mumbai main Tariq Khan sahit kai stringers aur reporte aaj bhi kaam kar rahe hain.Tariq khan ne hi badi sifarish karke danish ko Sahara main lagwaya tha.Danish ne kabhi kalya ki reporting barabar nahi ki…kya unhe urdu likhna bhi theek dhang se aata hai?Kya woh itehan de sakte Hain ?Jis batla house aur azam garh ki news ka woh credit lete hain ,woh to khud Sahara ke net work ka kaam hai…..Mumbai ki news kabhi danish ne nahin de …..Saeed Hameed ji ki complaint burney saheb se aur sab ki complaint Upender ji se karne wale Danish apna dawa sabit nahin kar sake .Un ki karkardagi bahut kharab thi…..woh kalyan ke reporter hote hue Bhiwandi main jhool jhaal ki koshish karte rahe …unhein is ke liye sakht warning mili……….un ki poori koshish thi ki unhen Asad Qasmi ki jagah ,jo maulana bhi hain Imaandar bhi hain ….bhiwandi ka reporte bana diya jaye…..kalyan main un ki koi ruchi nahih rah gayi…….Apne irade naakam dhekne per danish azmi ne Angoor Khatte hai ki misaal ….ilzam tarashi shuro kardi……jhol jhal ki patrakarita karne wale apni kartoot ke liye doosron per ilzam kaise thopte hain …..yeh mamla is ki misaal hai

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *