केके और नायक के बीच शीत युद्ध से बुरा हाल

: डेस्क पर स्टाफ कम होने से साप्ताहिक अवकाश पर रोक : रिपोर्टर इतने भर्ती कर लिए गए कि बैठने के लिए जगह नहीं : काम के दबाव से क्षुब्ध दो पेजीनेटरों का इस्तीफा : हिन्दुस्तान, बरेली इस समय स्टाफ की कमी से जूझ रहा है जिसके चलते डेस्क के लोगों के वीकली रेस्ट पर भी रोक लगा दी गई है। वीकली रेस्ट पर रोक लगने से स्टाफ में रोष व्याप्त है। पता चला है कि इसी बात से क्षुब्ध होकर दो पेजीनेटरों ने भी इस्तीफा थमा दिया है।

बताया जाता है कि बरेली हिन्दुस्तान की सिटी टीम में इतने सारे रिपोर्टर भरती कर लिए गए हैं कि कार्यालय में उतने कम्प्यूटर भी नहीं हैं लेकिन इसके विपरीत डेस्क पर गिने चुने बंदे ही कार्य कर रहे हैं। कार्य की अधिकता से डेस्क के बन्दे पहले से ही परेशान हैं उस पर भी एक तुर्रा यह कि अब उनके वीकली रेस्ट भी बन्द कर दिये गये हैं। बैसे भी हिन्दुस्तान से जिसको जहां जगह मिल रही है वह वहां भाग रहा है। सूत्रों का कहना है कि दो पेजीनेटर भी संस्थान को बॉय बॉय बोल गए हैं। ये पेजीनेटर पहले से ही कम सेलरी मिलने से परेशान थे। हिंदुस्तान के पास अब स्टाफ की अच्छी खासी कमी है लेकिन फिर भी वह नम्बर वन होने का दावा ठोकता फिर रहा हैं।

बताया जाता है कि अखबार का सरकुलेशन भी अच्छा खासा गिरा है। यूनिट हेट सम्राट नायक और सम्पादक केके उपाध्याय के बीच छिडी कोल्ड वार से अखबार का बेडा गर्क होता नजर आ रहा है। यदि यही हाल रहा तो हिन्दुस्तान जो इस समय नम्बर एक होने का दावा कर रहा है जल्द ही नम्बर तीन की कुर्सी पर न आ जाए। अखबार के भीतर चल रही राजनीति से काम करने वाले पीड़ित हैं जबकि जिनको काम नही आता वह मौज कर रहे हैं। बताते है कि यूनिट में तो कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें पेज बनाना तक नहीं आता और वह बड़े पदों पर बड़ी सेलरी लेकर मौज कर रहे है।

हिंदुस्तान, बरेली से आई एक चिट्ठी पर आधारित. लिखने वाले ने अपना नाम, मोबाइल नंबर, पहचान का खुलासा किया है लेकिन इसे प्रकाशित न करने का अनुरोध किया है. अगर उपरोक्त तथ्यों, सूचनाओं में कोई कमी-बेसी दिखे तो इसका खंडन-मंडन नीचे कमेंट बाक्स के जरिए कर सकते हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “केके और नायक के बीच शीत युद्ध से बुरा हाल

  • baat shi hai bhaiya……….byooro chif bhi sab aise ha hain aur riporter ki jagah chamchon ne le li hai……..ab koi bhalaa patrakaar aavedan nhin kar rha hai

    Reply
  • ye to hona hi tha. nayak jab agra me the tab v shit yudh chala. ve gm nahi khunns nikalne wala admi hy.
    agra me re himanshu ghildiyal se v nahi pati thi. kam layak admi nahi hy.

    Reply
  • naradmuni@gmail.com says:

    aapko patra bhejne wala jaroor koi aisa desk ka banda hai jiska promotio na hua ho. is tarah ki karne wale ko sharm aani chahiye. kk up. do great job

    Reply
  • Dear Yashwant ji,
    kripaya kuch b post karne ke pahle sachchai janlene ki koshish kar liya kare. jaise Bareilly me kitne Reporter hai, kitne log Desk par kam karte hai, kitne pagenator chhond kar gaye, pagenater kyo chhond kar gaya.

    ye to ek Trenree patrakar b jamta hai ki kisi ke kahne par khabar nahi banti, verjan ya sachchai janana jaruri hota hai, phir ek letter ke adhar par aap ye sab kaise likh sakte hai.

    mai agar aap ko ye likh kar bheju ki Bhadhas ke Yashwant khabar post karne ke badle paise lete hai to kya aap iese post kar denge.

    Reply
  • prashant singh says:

    Hindustan me ab chamcho ki hi jagha bachi hai. ab kaam karne baalo ko achhi salary to mil nhi rahi, ab weekly off band karke unhe aur pareshhan kiya ja raha hai. Vaise jisne bhi bhadas ko ye letter likha hai sahi likha hai, lakin bhai kaam na karne waale CHAMCHE yogendra raawat aur Amit gupta ke naam ka khulasa kar diya hota to accha hota. SUDHAR JAO ADHIKARIO BARNA PACHTAOGE.

    Reply
  • jitendra avasthi says:

    Bareilly me hindustan aaj ji mukam par pahincha hai vah bhala kisase chupa hai. GM samrat nayak or RE KK upadhyay ji me sheet yudh chalne ki baat es baat se bhi jhoothi sabit ho jati ki ji kadar dono ne haal hi me hindustan sheed samman samaroh me mil kar kam kiya or jo kamyabi es smaaroh ko mili usne ek misal kayam kar di. bareilly me pahli bar itnaa bada karykram hua hai. pahli baar brly ke logon ne pera gliding jesi event dekhi hai. yah sab itne bade akhbaar ke do top officers me tartamy or samanjs ke baad hi mumkin ho sakta hai ha ki sheet yudha ki baad. Fir badi kamyabi par jalane valon ki bhi kami hahin hoti. jalne do… kutte bhonkte rahte hain or haathi chalte rahte hai.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.