क्या ‘हिन्दुस्तान’ की ये खबर पेड न्यूज नहीं है?

न्‍यूजउत्तर प्रदेश में आजकल पंचायत चुनाव को लेकर बहुत गहमागहमी है। जो चुनाव पहले बिना किसी शोर-शराबे के सम्पन्न हो जाते थे, आजकल हाईटेक होने के साथ ही महंगे हो गए हैं। ऐसा लगता है कि पंचायत जैसे छोटे चुनावों में भी अखबारों में ‘पेड न्यूज’ छप रही है। इसका उदाहरण ‘हिन्दुस्तान’ (मेरठ संस्करण) का 9 अक्टूबर का अंक है। इसमें पेज चार पर चार कालम की एक खबर-‘प्रत्याशी विकास के नाम पर मांग रहे वोट’ शीर्षक से प्रकाशित हुई है। खबर के शीर्षक से लगता है कि चुनाव के बारे में एक कॉमन खबर होगी।

विस्तृत खबर पढ़ने के बाद पता चलता है कि पूरी खबर बसपा के एक विधायक समर्थित उम्मीदवार को समर्पित है। जैसे इतना ही काफी नहीं था। खबर के साथ तीन कालम की एक ऐसी तस्वीर भी छापी गयी है, जिसमें बसपा विधायक और उनके उम्मीदवार को क्लोजअप में दिखाया गया है।

तस्वीर के कैप्शन में लिख गया है कि ‘बसपा समर्थित उम्मीदवार के चुनाव प्रचार में विधायक योगेश वर्मा भी लगातार क्षेत्र में सभाएं कर रहे हैं।’ यह इसलिए भी ‘पेड न्यूज’ लगती है, क्योंकि पूरे अखबार में पंचायत चुनाव को लेकर प्रकाशित खबरों में इकलौती यही ऐसी खबर है, जो सब खबरों से एकदम जुदा है। इस खबर में कहीं भी ‘विज्ञापन’ या ADVT. नहीं छपा है।

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “क्या ‘हिन्दुस्तान’ की ये खबर पेड न्यूज नहीं है?

  • Yeh sirf merruth mei hi nahi balki merrut unit se jude sabhi jilon mei ho raha hai. bulandsaher jile mei ward number 32 ke ek ummedwaar k paksh mei lagataar badi khabrein lagai ja rahi hai. 5 octuber ko khabar lagai gayi vidhayak ki beti ka namankan khatre mei.isme vidhayak ka paksh jyada rakha gaya hai. doosri khabar phir 6 octuber ko chapi jo kuch balance thi lekin yeh lead banai gayi jo ki sidha sidha vidhayak ki patni ko promote kerne k irade se chapi gai.7 octuber ko phir is khabar ka followup lead story k roop mei lagaya gaya. jisme baar baar vidhayak ki beti ki jagah uski patni k chunav ladne or karano k bare mei bataya gaya. 8 octuber ko phir yeh khabar lead story k roop mei lagayi gayi jisme poora paksh vidhayak ka likha gaya.jisme usne doosre paksh per kai aarop lagaye. 9 octuber ko hindustan ne phir yahi story lagai jisme vidhayak ki vandana ki gayi. 10 octuber ko phir hindustan mei story vidhayak k paksh mei or doosre paksh k khilaf lagi hai.
    ab yeh shashishekher ji se poocha jana chaiye ki kya ek hi ward k chunav mei ladai ho rahi hai poore jile mei. vidhayak ki patni ya beti k alawe poore jile anya kisi diggaj neta chunav nahi lad raha kya. doosra lagataar hindustaan mei chapi khabron mei doosre pakhsh ko kyon kamjor kiya ja raha hai. teesra aamtour per sabhi chunav mei neta ek doosre per kichad uchalte hai phir is ward mei kyon lagataar ek paksh k khilaf or doosre k paksh mei bachte hue story likhi ja rahi hai. bulandsaher mei philhaal jo buero chief bankar sajjan aaye hai unka jile mei racket baaj patrakaron mei naam rahah hai. ek saal pehle hi enhe tv channelon per khurja mei ek jamin ghotala kerne k karan hataya gaya tha. ab hindustaan mei aaker phir naye naye racket chala rahe hain

    Reply
  • जब ५०० रुपये महीने के तनख्वाह पर पत्रकार रखे जायेंगे तो उन्हें फायदा देने के लिए कमिसिओं का झुनझुना तो संसथान द्वारा पकडाया ही जायेगा इसीलिए तो अब समाचार पात्र में खबर छपने को कोई गंभीरता से नहीं लेता -राजीव

    Reply
  • dilip kumar says:

    jab puri vyavstha Ravan ho, news papar se sita bane rahane ki kalpana nahin kiya ja sakata…………………:):)

    Reply
  • Govind Mathur says:

    Ab to sthaniy samacharon me sahityik, sanskritik karykrmon ki vigypti bhi bina paise diye prakashit nahi hoti hai. paisa do aur kuchh bhi prakashit karalo. Vigyapan aur samachar me koi antar nahi rah gaya hai.

    Reply
  • Deepak Nath Upadhyay says:

    sirf meerut hi nahi, har jagah ye hi ho raha hai,, bina paise koi news nahi chhapti,, jisko dekho wo paise ke pichhe bhag raha hai,, aur to aur main ye bhi kehna chahunga ki kuch patrakar bandhu to aisa bhi karte hai ki agar koi apna prarthna patra lekar kisi bade adhikari ke yaha jata hai to uska kaam jaldi karane ke awaj me paise liye jate hai,,, jaise ki wo patrkar na hokar us adhikari ke dalal ho,,
    ye sab kafi sharamnaak hai

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *