ताबूत के किराए के लिए चंदा जुटाया ईटीवी के साथियों ने

यशवंतजी, कल की खबर से बुरी है ये खबर. रात के 12 बजे के करीब जब सारी दुनिया से खबरें आनी बंद हो गईं थी. फ्लैश और टिकर पर बैठने वालों की उंगलियां भी थम गई थीं. तभी एक घटना घटी. प्रणयजी का शव 12 घंटे से हैदराबाद में कानूनी औपचारिकताएं पूरी कर रहा था, लेकिन उसके बाद भी उसको ले जाने के लिए एक अदद ताबूत के किराए का इंतजाम नहीं हो सका.

साउथ के मर्डोक कहे जाने वाले रामोजी राव के सिपहसालार ताबूत के लिए पैसे देने से हाथ खड़े कर चुके थे. वे तीन करीबियों का एयर टिकट तो दे रहे थे, लेकिन ताबूत का 20,000 रुपये किराया देने के लिए ना कह चुके थे. डेस्‍क पर काम कर रहे करीबियों से दोस्‍तों ने मदद की गुहार लगाई. सभी हिंदी चैनलों से जुड़े लोगों ने अपने सामर्थ्य के मुताबिक पैसे दिए. तब तक तारीख बदल चुकी थी. 24 की जगह 25 हो गया था और कहा गया कि मंडे को साम्राज्‍य की तिजोरी में से 20,000 रुपये दे दिए जाएंगे.

इस वाकये के बाद मैं खुद डिटेल पता करने की स्थिति में नहीं था. पर 15 घंटे बाद जिस तरीके से ईटीवीयन्‍स ताबूत के किराए के लिए चंदा करने को विवश थे, वो पत्रकारों की दशा को बयान करने के लिए काफी है. अभी कुछ दिन पहल रिलायंस के एक अधिकारी को झारखंड में नक्‍सलियों ने मार दिया था, तुरंत उसके शव को हेलीकॉप्‍टर भेज कंपनी ने मंगवा लिया था. पत्रकारों को ऐसी किस्‍मत नसीब नहीं. पता नहीं अंत में किसके पैसे से ताबूत का किराया भरा गया.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “ताबूत के किराए के लिए चंदा जुटाया ईटीवी के साथियों ने

  • यशंवत साहब,अगर जरा भी गैरत बची हो तो इस ख़बर के लिए आप मॉफी मांग ले,क्योकि आपने हमारे सर जी की आत्मा को कष्ट पंहुचाया है.आप जैसे पेशेवर लोग क्या जाने इंसानियत क्या चीज़ होती है.अगर इसका अंदाजा लगाना है तो आप ईटीवी में एक साल नौकरी करके देख लीजिए,खुदा कसम आपके अंदर इंसानियत जाग उठेगी.

    Reply
  • सर प्ली़ज़ जानकारी देने वाले ने तो अपनी जानकारी दे दी है…मगर आधी अधूरी… ऐसा नहीं है यहां के कॉपी एडिटर जितने भी हैं उन्होंने मिलकर बीस हज़ार से ज्यादा की रकम जुटाई थी बल्कि इसके लिए कई लोगों को लगाया गया था…संस्थान मदद करे न करे इस मामले स्टाफ अपनी तरफ से हाथ बढ़ाता है…ऐसा ही इस मामले में भी हुआ…बल्कि कथित तौर बॉस बने लोगों की टेंट से कोई एक रुपए नहीं निकाल पाया ये भी एक सच है…और आपसे गुज़ारिश है कि ऐसे मेल अगर आएं तो प्लीज़ कुछ दिन के लिए उन्हें न छापिए…दुर्भाग्य किसी की मौत के बाद पीछा नहीं छोड़ता ये सच नहीं है…आदमी अच्छा है तो उसके लिए अच्छे लोग ख़ुद बख़ुद खड़े हो जाते हैं…

    Reply
  • vikas yadav says:

    mere priya mitra,
    shayad main apko janta bhi hounga, ya nahi bhi..lekin apne jis insan ke bare me ye sab kuchh likha ap ye bhul gaye ki is mushkil ghadi me waha koi aur nahi balki etv ke log hi khade the..aise mod pe jab ham sabhi ko ekjut hona chahiye, apko ye sab nahi likhana chahiye tha…asha hai ap is dukh ki ghadi me hamare sath hai…

    Reply
  • bhimmanohar says:

    aag laga do aisi patkarita ko,…… kuch karna doston apne bachchon ko patkarita ke kide se door rakhna….

    Reply
  • ye galat khabar hai..Hum sabhi sathi yaha par ek pariwar ki tarah hai. Hum sabhi ne madad ki. Sab ek dusre ko jante hai isliye koi bhi madad magne mein hickichahat nahi hui. Kher jisne bhi ye likha hai hoci mansikta hi hai.

    Reply
  • anil singh says:

    Jis Kisi Ne Is tarah ki Baat Likhi Hai…Main unse Nivedan Karna Chaunga Ki Dukh Ki Is Ghadi Me agar aap Kisi Ki Madad Nahi Kar Sakte Tou Plz Is tarah Ka Dusprachar Na Karen!

    Reply
  • bhoopendra dubey says:

    Etv bahut bara network hai. choti bato par unka dhayn nahi jata hai. akir bare logo ke ghar maut nahi hoti to unhe dard kaise pata chale. Etv ke sahbo ko sab tarf film shooting dikhti hai real life ka yahi mayne hai. PATRAKARITA KI JAY HO.

    EK AAM NAGRIK

    Reply
  • yashvant ji aapse is khabar ko hatane ka nivedan hai. pehli baat jo khabar ek patrakar dwara bheji gayi hai uska khulasa kariye. doosri baat pranay mohan sir kisi bhikhmange ghar ke nahin the. unke ghar wale khud saksham hai apne dadle ke taboot ka kiraya bharne ke liye. teesri baat pranay sir ke liye kuchh chirkuto ko chhod log apni jaan bhi de de yahan to sawal 20000 hazar ka hai plzzzzzzzzz yashwant ji yeh khabar laga kar aap pranay aur unko shubh chintakon ka apmaan na katrein

    Reply
  • bijay singh says:

    yahi sachchi taswir hai patrakaroki.jivan bhar dusro ke liye laaadne wale journalists kotaboot ke paise ke liye bhi dusro par ashrit hona padta hai. lanat hai aise sanshthano par.ETV shame shame shame ……sharm sharm sharm….

    Reply
  • jis kisi ne bhi ye khabar aapko di hai, yashwant ji usse jab madad ki baat ki gayi to usne apne haath khade kar diye. ek photi kaoodi nahi nikali us kuber ki jeb se. Is khabar mein sirf masala hai jo bhadas par chhapne ke liye tayar ki gai thi. ase kaam aksar wo copy-editor karte hai kam tankhwah mein bhi chaarchake par ghumte hai. mere khayal se aapke site ki trp bhad gayi hogi.isliye ab is khabar ko hata de…waise bhi jab aap bhadas ke liye bhikh maang rahe the..tab aapne aisi khabar nahi chhapi thi.etv ka management khuch bhi ho…etv pariwar…hamesh ek dushare je saath hai…haan sirf us inshan ko chhodkar jisne aapko ye khabar di hai…

    Reply
  • Agnivesh sharma. says:

    Yashwant Ji,kisi ki maut ka is tasahe se majak mat kaer.Aap ko sach pata hi nahi hai.Pranay Ji ayse pariwar se hai,ki aap jaise beesh logo ko wo jila le.Unki maut per pura Etv pariwar ro raha hai,Sayad aap ki maut per do loog bhi roye.Bina sach jane aap ne ye khabar de kar patrakarita aur patrakar ka apnan kiya hai.Aap ko iske liye Pranay Ji ki aatma kabhi maf nahi karege.

    Reply
  • DILIP PANDEY says:

    Yaswant ji, Jis bhi mahashay ne ye ‘behuda’ khabr likhi hai… use haquiqat ka bilkul andaja nahin hai… Pranay Ji nahin rahe iska dukh ham sabhi ko hai… aur is dukhad ghatna ke baad har koi chahe wo editorial se ho ya phir management se… khabar milte hin bhaga-bhaga pranay ji ke aawas par pahuncha… aur pranay ji ki parthiv sharir ko unke ghar lucknow tak pahunchane me har sambhav sahyog kiya. Aur jahan tak copy editors ki baat hai to aapki jankari ke liye bata doon… raat ko 11 baje koi bank nahin khula rahta hai…. aur us waqt bhi kuchh hin minton me chand logon ke sahyog se 2000 nahin 25,000 ikattha ho gaya tha. Likhne wale mahashay se mera namra niwedan hai agar dawa nahin de sakte to, kripya namak bhi nahin dalein. Waqt hamesa badalta rahta hai.

    Reply
  • vijay tiwari says:

    ptrakaarita ke liye isase gandi khabar aur koi bhi nahi ho sakti… jo patrkar is tarah ki ghatiya khabar bina kisi poori jaankaari ke bheja hai…uski kya mansaa hai ye to mujhe nahi pata..lekin use ye jaananaa chahiye ki kisi ki maut ke baad log uski aatmaa ki shaanti ke liye duaa karte hai..lekin wo unki aatmaa ko dukh pahuchaa rahaa hai..aur aapne liye aah bator rahaa hai… uske(galat aur ghatiyaa khabarn likhane waale patrakaar ) marne ke baad use kafan aur kandhaa naseeb nahi hoga…ham logo ne to sabhi channel ki oor se itani madad kr di hai..wo aaj tak kisi media group me kisi patrakar ki maut par nahi ki hogi… likhne waale bewkoof aadami agar tumhe ye galat lagata ho to unke pariwaar ke logo se baat kar lo…..

    Reply
  • Aapka chchota bhai says:

    Sir, Bhadas par khabar padhi “Hai re patrkarita, bheekh se bhe pura nahi hua tabut ka kiraya” sir aapki bhavanaon par sandeh nahi kiya ja sakta likhne ki, par khabar jara mauke ke hisab se atpati hai aur isme jisne jankari di hai wo aadhi adhoori hai kyonki Rfc me ladke aur ladkiyon ne aapas me milkar 5 ghante ke andar 43500 rupeye sir joota liye the, aur bhejne wale ne kis maksad se pehle he bhej diya ya aapne bina aur logon se puchche chaap diya, ye samajh se pare hain, isse hum logon ki bhawanye aahat huin hai. jis yashwant singh ko hum log jaante aur mante hai usse hume umeed hai ki wo hamari bhawnaon ke saath nyay karega aur is khabar par apne portal par ek spastikarn jaroor chchapenge ki aise khabar likhne ka makasad ek system ke failure ko ujagar karna he tha isse jyada kuchch nahi.

    Asha hai sir aap hum chchote bhaiyon ko nirash nahi karenge

    Aapka chchota bhai

    Reply
  • pradeep kumar says:

    यशवंत जी, बहुत दुख की बात है इस खबर को आप अभी तक अपनी साइट पर दिखा रहे हैं…ये प्रणय दादा और उनके ईटीवी परिवार को अपमानित करने वाली खबर है..वैसे जिस किसी ने भी आपको ये खबर दी है..वो बिल्कुल बेहूदा और झूठा इंसान है…कृपया करके आप उस शख्स का नाम उजागर कीजिए,,,और आपसे भी एक सवाल कि आपने ये खबर बिना किसी पुष्टि के छाप भी कैसे दी..एक बात आपको बता दें कि प्रणय दादा के लिए ईटीवी में लोग जान देने को तैयार रहते थे..तो ये तो मात्र 20,000 रुपये की बात थी..वैसे उपर मेरे किसी दोस्त ने सच लिख दिया है कि पांच घंटें में कितने पैसे इक्क्ठे हो गए थे..दुख की इस घड़ी में ईटीवी परिवार बिल्कुल एक था..आपसे गुजारिश है कि इस खबर को तुरंत हटाईए..और इस ग़लत खबर के लिए माफी भी मांगिए..आपको कोई हक नहीं बनता कि आप ईटीवी वालों की भावनाओँ को आहत करने वाली खबरें अपनी साईट पर दें..
    सर इस ग़लत खबर को तुरंत हटाइए..

    Reply
  • SANJEEV DON, PATNA says:

    Sachhai kya hai nahi pata, Bhagwan na kare Sriman Ramoji Rao ya unke Parivar ke logon ke sath ye Ghatna na ho ??????

    Reply
  • ईटीवी ने जो कुछ कर दिया ऐतिहासिक हो गया। प्रणय जी के अंतिम संस्‍कार को लाइव दिखाया। हर बुलेटिन में खबर चलाई।

    Reply
  • Sujeet Jha says:

    yashwant jee ye bakwaas khabar hai, kisike maut ka mazaak yu na udaye, pranaya da ke liye hum sab jaan dene ko tayyar the….is khabar ko hataye>

    Reply
  • satyendra Yadav says:

    pranay sir k liye taaboot wali afwaah jisne bhi likhi hai… voh kisi keemat per unnka kareebi nahi hai… iss dukhh ki ghari me, jisme hum sabb ek saath thhe… uss me in mahoday ko ye sabb calculation soojhh raha thaa… kya aap ne madad k liye apna haath aage barhaya… agar aap itne hee eemandaar hain toh muh kyu chhipaa rahe hain… agar magement se itne dukhi hain… toh etv chhor kyun nahin dete… aap jaise logo k baare me hee kaha gaya hai “jiss thhali me khaya ussi mein thook diya”… main management ka koi spoks person nhain hoo… bt management ne kabhi aap ko etv join karne k liye force nahin kiya… rahi baat pranay sir k taboot ki… toh aap se yahi ghuzarish hai ki turant iss maamle me aap maafi maangiye… aur unn se attached kisi bhi baat per controversy matt khari keejiye… abb pranay sir nahin hain… bt hm sab k zehan me voh hamesha rahenge…

    Reply
  • mr yashwant what u post on ur site, r u smearing a great person intigrity. if somebody write about urself fake on this publishing site will u post it on ur site.
    plz write a apolgise post related to this post if u r TRUE JOURNO.

    Reply
  • विकास श्रीवास्तव says:

    बेशक .. प्रणय दादा के लिए उनके साथी जान भी दे सकते थे… पैसे क्या चीज है… ये मौका भी नहीं था… इस खबर को छापने का … उनके परिवारवाले भी सक्षम थे… लेकिन क्या संस्थान का ये फर्ज नहीं है…. कि वो अपने एक कर्मठ कर्मचारी के शरीर के लिए एक ताबूत का इंतजाम करे…. ईटीवी के साथी एक परिवार की तरह रहते हैं… और उन्होनें जल्दी ही पैसे जुटा लिए होंगे.. ये भी सही है… लेकिन शर्म संस्थान को आनी चाहिए …. उनके मैनेजर्स को आनी चाहिए….

    Reply
  • is tarah se kisi ke bare me galat pracharit karne ka apka kya uddasye hai ,,,
    apke website ki creadibility rah gayi hai,,,agar koi manmohan singh ya sonia gandi ya apke bare me fake news de kya aap bina crosscheck kiye use post karenge ,,,agar ap kahte hai ki sari kabhar sahi hai to kya mai ise galat proof kar sakta hoon mere paas sign kiye hue logo ke hastakcar kiye lettre hai ki koi paisa nahi jama hua tha ye PRANAY SIR ke hi PAISE the,,,
    agar aap chate hai ki apki website ki visvasniyate barkaraar rahe to ise hato aur MR YASHWANT apolgise lettre bhi tatkal post kare.

    Reply
  • shahid parvez says:

    यशवंत जी ये ख़बर अब तक आपके पोर्टल पर है. काफी हो-हंगामा होने के बाद भी आपने इसे अभी हटाया नही है. क्या आपके अन्दर का आदमी मर गया हैं? भड़ास को भड़ास ही रहने दीजिए,इसे बुजदिलों का मंच मत बनाईये.

    Reply
  • यशंवद जी,इस ख़बर को अपने पोर्टल पर ज़गह देकर आपने काफी गंदा काम किया है. किसी की मौत का आपने मज़ाक बना दिया है.इसके लिए आपको फौरन से पेश्तर मॉफी मांगनी चाहिए.

    Reply
  • amit chauhan says:

    दिल्ली में दलालों के बीच रहकर जनर्लिज्म करने वाले यशवंत जी,आपने अपने ज़मीर को बेच दिया है.नही तो आप इस ख़बर को जगह नही देते.आपने शायद उस परिवार के बारे में नही सोचा जिसके बारे में आपने ये खबर सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए अपने पोर्टल पर ज़गह दी.अगर जरा सा भी जमीर बचा हो तो तुरन्त ही इस परिवार से माफी मांग लो.इससे आपका कद ही बढ़ेगा.भगवान आपको सदबुद्धि दे.

    Reply
  • काफी शर्मीन्दा करने वाला काम किया है यशवंत आपने.इस दुख की घड़ी में जहां आपको शोक संवेदना प्रकट करना चाहिए,वहां आप चंदे और भीख मांगने की खब़र छाप रहें हैं? भगवान न करे आपके साथ कभी ऐसा हो और पारिवारिक मित्रों द्वारा की गई मदद को भी लोग इन्ही शब्दों से तौले.

    Reply
  • सामाजिक सरोकारों के ठेकेदार जशवंत जी,आपको ऐसी-वैसी चीजें,छोटी-छोटी कमियां तो दिखाई पड़ती है,और उसके लिए आप भड़ास का गला भी खुब फाड़ते है,लेकिन देश भर में मची लूट-पाट और हर पल हो रहे नैतिक पतन पर आपकी नज़र नही पड़ती.आपके सरोकार कहां चले जाते हैं? आप बदलिये ज़माना अपने आप बदल जायेंगा.वरिष्ठ पत्रकार से जुड़े मामले को इस तरह से लिखने से पहले आपने ये क्यूं नही सोचो कि उनकी आत्मा और उनसे जुड़े लोगों और उनके करीबियों पर क्या गुज़रेगी.आइदा इन बातों का ख्याल रखें तो पत्रकारिता की मंशा और आपके सरोकार दोनों ही पूरे होगों.

    Reply
  • बड़े ही खेद से कहना पड़ रहा है कि विदेश में रहते हुए जिस न्यूज पोर्टल की खबरों पर मुझे सबसे ज्यादा भरोसा था, आज आपको लोगों की इस तुच्छ हरकत ने मुझे मेरे दोस्तों के बीच मजाक बनाकर रख दिया है..आपको शर्म आये ना आये लेकिन मेरा सर जरुर झुक गया है..एक तरफ तो टीआरपी की अंधी दौड़ में भाग रहे न्यूज चैनलों ने तमाशा मचा रखा है,दूसरी तरफ गंभीर मसलों पर बहस करने वाले इस भड़ास पोर्टल का आतंक छाया हुआ है..किसी की मौत पर आंसू नहीं तो कम से कम श्रद्धा के दो मीठे बोल ही बोल लिए होते काफी होता, आपने किसी व्यक्ति विशेष का नहीं संस्थान का मजाक उड़ाया है..साथ ही उस रिश्ते को भी कलंकित करने की कोशिश की, जिससे दूर दूर तक आपका कोई वास्ता नहीं था.

    Reply
  • then mr yashwant you have sweared that u not delete this post or write apology.
    It means either u r not journo or human.
    Do u know how many person assembled on demise of Pranay da.
    Mr yashwant more than 100 people all night sitted in front of dada house whole night.
    Approx 50 goes to coff him at airport.
    It all happens because not of that Pranay sir was journo or son of established family, because he was great person and philanthrop .
    We proudest that worked with that human being.

    Reply
  • aik anjan patrakar says:

    Zyadatar sathiyon ne yashwant ji ko dhikkara hai.Dhikkarne wale patrakaro wo pranay da the is liye sathiyon ne bhi himmat kar ke paisa juta liya,agar mamuli copy editor mara to ETV ka Kuber to muhn pherega hi apne sathi bhi kuch jeb se na nikal sakenge,kyon ki ETV ka kuber itna deta hi nahi.mere sathiyo yashwant ji ko dhikkarne se achcha hai ETV ke kuber ko dhikkaro jo iss aag lagti mehngai me Dhai sou ka increament karta hai.use dhikkaro jo har cheh mahine par nai ladki ka appointment karta hai.use dhikkaro jo taboot se bhi bada camera de kar motorcycle par coverage karwata hai.Bhai pranay da ke pariwar wale khud sab kuch karne me sakcham hain lekin ETV kuber ke sipahsalaron ka bhi to koi kartavya tha.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *