उन्‍नाव में ईटीवी एवं जी न्‍यूज के पत्रकारों से मारपीट, मामला दर्ज

उन्‍नाव में इलेक्‍ट्रानिक मीडिया के दो पत्रकारों के साथ कुछ लोगों ने मारपीट की. पत्रकारों की कार तोड़ दी गई. हालांकि दोनों को ज्‍यादा चोटें नहीं आई है. ये लोग किसी खबर को कवर करके वापस लौट रहे थे. पत्रकारों ने उन्‍नाव कोतवाली में अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दिया है, जिस पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है. मामले की जांच कर रही है.

ईटीवी में कुमार प्रबोध चीफ रिपोर्टर बने, जागरण ने शहनवाज का तबादला किया

ईटीवी बिहार-झारखंड के सीनियर रिपोर्टर कुमार प्रबोध का प्रमोशन करके चीफ रिपोर्टर बना दिया गया है. कुमार प्रबोध प्रणीण बागी के महुआ चले जाने के बाद से ही चैनल की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. उनके कामों को देखते हुए उन्‍हें अब इस पद पर स्‍थायित्‍व दे दिया गया है. अरुण अशेष पहले की तरह बिहार-झारखंड एवं हैदराबाद के बीच को आर्डिनेशन का काम देखते रहेंगे. कुमार प्रबोध पिछले आठ सालों से ईटीवी बिहार से जुड़े हुए हैं. उन्‍होंने करियर की शुरुआत 1995 में आज अखबार से की थी. हिंदुस्‍तान को कई सालों की सेवा देने के बाद ये ईटीवी से जुड़ गए थे.

अमर उजाला से इस्‍तीफा देंगे रोहित, केबी ने ईटीवी ज्‍वाइन किया

अमर उजाला, लखनऊ से रोहित कुमार तिवारी ने इस्‍तीफा देने वाले है. वे यहां पर सब एडिटर हैं. रोहित अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर, मुंबई के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें सीनियर सब एडिटर बनाया गया है. रोहित ने करियर की शुरुआत एसवन न्‍यूज चैनल के साथ शुरू की थी. उसके बाद वॉयस ऑफ लखनऊ में भी कुछ समय तक कार्यरत रहे. वे अमर उजाला, लखनऊ की लांचिंग टीम के सदस्‍य हैं.

पत्रिका संग जुड़े मुकेश तिवारी, संतोष शितोले, संतोष रंजन एवं गौरव की नई पारी

राज एक्‍सप्रेस, इंदौर से इस्‍तीफा देकर मुकेश तिवारी पत्रिका से जुड़ गए हैं. राज एक्‍सप्रेस में मुकेश न्यूज एडिटर के पद पर कार्यरत थे. मुकेश दैनिक जागरण में भी सिटी चीफ रह चुके हैं.

ईटीवी उर्दू ने जयपुर में सजाई यादगार महफिल

: दस साला जश्न पर आए देश के नामचीन शायर : गुलाबी नगर में ऐतिहासिक मुशायरा : गुलाबी नगर, जयपुर के सांस्कृतिक इतिहास में 18 सितम्बर की शाम स्वर्णिम पन्ने जोड़ गई। ईटीवी, उर्दू के दस साला जश्न के मौके पर आयोजित ‘आल इंडिया मुशायरा‘ में देश के शीर्ष शायरों ने शायरी के जो रंग बिखेरे वे बरसों तक जयपुर के लोगों के दिलों में रोशनी करते रहेंगे। यह केवल मुशायरा नहीं था, बल्कि गंगा-जमुना का ऐसा प्रवाह था जिसने देर शाम शुरू हो कर भोर में तारों को विदा होते हुए देखा।

जिसने दी राज्‍यसभा टीवी की परीक्षा उसको मिला कम इंक्रीमेंट

यशवंत जी आप को मालूम ही होगा कि अभी जल्द ही राज्यसभा टीवी में नौकरी का विज्ञापन निकला था. हमारे चैनल के कई साथी लोग यहां से अपने भविष्य को देखते हुये परीक्षा देने गये. हैदराबाद हो या फिर फील्ड, ईटीवी के कई कर्मचारियों ने राज्य सभा की 7 जून को आयोजित की गयी अस्टिटेंट प्रोड्यूसर और एसोसिएट प्रोड्यूसर की परीक्षा दी. हैदराबाद के हेड क्वार्टर में कर्मचारियों को रोकने के लिए आनन-फानन में 6, 7, 8 जून को अस्टिटेंट बुलेटिन प्रोड्यूसर की परीक्षा का आयोजन कर दिया गया.

ईटीवी में राजेश तोमर एवं भुवन किशोर के बीच शीतयुद्ध, दूसरे कर्मचारी तनाव में

ऐसा लग रहा है कि ईटीवी, झारखण्ड में स्टेट हेड राजेश तोमर से ईटीवी प्रबंधन खुश नहीं है. इसलिए जयपुर अब नए इन्चार्ज के रूप में रांची के रिपोर्टर भुवन किशोर झा को आगे कर रहा है. राजेश तोमर को महत्वपूर्ण माने जाने वाले कंट्रोलरूम से हटा दिया गया है और इसकी जिम्मेदारी भुवन किशोर झा को दे दी गई है. ईटीवी के अंदरखाने से ये भी खबर है कि भुवन किशोर झा सीधे चैनल हेड जगदीश चन्द्र के संपर्क में हैं और किसी भी वक़्त ईटीवी झारखण्ड के पूर्व हेड अमन कुमार की तरह झारखण्ड की जिम्मेदारी सम्‍भाल सकते हैं.

पत्रकार अकरम हत्‍याकांड : मुख्‍य आरोपी आसिफ गिरफ्तार

नॉर्थ-ईस्ट उत्‍तर-पूर्व दिल्ली के जाफराबाद थाने से कुछ ही दूरी पर बीते 5 अगस्त को ईटीवी उर्दू के पत्रकार अकरम लतीफ की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी। इस मामले में पुलिस ने पहले ही छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था, परन्‍तु इस हत्‍या को अंजाम देने वाला मुख्‍य आरोपी आसिफ अली उर्फ लंबू (27 वर्ष) पुलिस पकड़ से बाहर था। सोमवार को पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर आसिफ को भी गिरफ्तार कर लिया, उसके पास से एक जिंदा कारतूस और देसी कट्टा मिला है।

हिंदुस्‍तान ने राजेश कुमार मिश्रा को फोटो छापकर निकाला

हिंदुस्‍तान, बदायूं से राजेश कुमार मिश्रा को हटा दिया गया है. वे कुछ समय पहले ही हिंदुस्‍तान से जुड़े थे. राजेश को हटाने जाने की सूचना हिंदुस्‍तान ने अपने अखबार में प्रकाशित की है. व्‍यवस्‍थापक की तरफ से जारी इस सूचना में बताया गया है कि राजेश कुमार मिश्रा का अब हिंदुस्‍तान से कोई लेना-देना नहीं है. अगर कोई इनसे लेन-देन करता है तो वह खुद इसका जिम्‍मेदार होगा.

ईटीवी राजस्‍थान के सलाहकार संपादक बने ईश मधु तलवार

मार्निंग न्‍यूज, जयपुर के संपादक पद से इस्‍तीफा देने वाले वरिष्‍ठ पत्रकार ईश मधु तलवार ने ईटीवी राजस्‍थान के साथ अपनी नई पारी शुरू की है. उन्‍होंने संपादकीय सलाहकार के रूप में ईटीवी ज्‍वाइन किया है. ईटीवी के साथ यह उनकी दूसरी पारी है. इसके पहले भी वे ईटीवी के संपादकीय सलाहाकार के रूप में सेवाएं दे चुके हैं.

पत्रकार अकरम हत्‍याकाण्‍ड का खुलासा, अब तक छह पकड़े गए

वेलकम इलाके में शुक्रवार को ईटीवी उर्दू के पत्रकार अकरम लतीफ की गोली मारकर हत्या करने के मामले में पुलिस ने दो और बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इसके साथ अब तक पुलिस ने छह बदमाशो को गिरफ्तार कर लिया है। एक बदमाश अभी भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। पुलिस के अनुसार दो बदमाश अमरोहा से बस में अकरम के साथ दिल्ली आए थे। इसी दौरान उन्होंने लूटपाट की योजना बनाई।

अकरम हत्‍याकाण्‍ड : पुलिस ने चार को हिरासत में लिया

दिल्‍ली के वेलकम इलाके में शुक्रवार की दोपहर ईटीवी उर्दू के पत्रकार अकरम लतीफ की गोली मारकर हत्या के मामले में अमरोहा पुलिस एव दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल ने अब तक चार लोगों को हिरासत में लिया है. पुलिस ने सोमवार को अमरोहा से दो लोगों को पकड़ा था, इन्‍हीं लोगों की निशानदेही पर पुलिस ने दो और लोगों को हिरासत मे लिया है. सभी से पूछताछ की जा रही है.

पत्रकार अकरम हत्‍याकांड : जांच स्‍पेशल सेल को सौंपी गई

वेलकम इलाके में शुक्रवार की दोपहर ईटीवी टीवी के पत्रकार अकरम लतीफ की गोली मारकर हत्या के मामले में पुलिस को अब तक हत्‍यारों का कोई सुराग नहीं मिला है. इस मामले की जांच पुलिस ने स्‍पेशल सेल को सौंप दी है. स्‍पेशल सेल अब इस जांच को केवल लूट के चलते हुए हत्‍या नहीं बल्कि आपसी रंजिश, पत्रकारिता के सिलसिले में रंजिश आदि कई दृष्टिकोणों से जांच कर रही है.

दिल्‍ली में ईटीवी के पत्रकार की गोली मारकर हत्‍या

[caption id="attachment_20923" align="alignleft" width="94"]अकरम की फाइल फोटो[/caption]: अपडेट : उत्तरी पूर्वी दिल्ली के वेलकम इलाके में एक पत्रकार अकरम लतीफ को कुछ बदमाशों ने गोली मार दी. जामिया मिलिया से पत्रकारिता की शिक्षा प्राप्‍त करने वाले अकरम ईटीवी में रिपोर्टर थे. बताया जा रहा है कि अकरम को जफराबाद रोड पर गोली मारी गई है. अभी जो शुरुआती जानकारी मिली है उसके अनुसार लूटपाट का विरोध करने पर अकरम को गोली मारी गई है.

विश्‍वचक्षु की नई पारी, रवि शर्मा का प्रमोशन

भाजपा, कांगड़ा के मीडिया प्रभारी विश्‍वचक्षु ने पार्टी छोड़ने के बाद दिव्‍य हिमाचल अखबार से जुड़ गए हैं. उन्‍हें दिव्‍य हिमाचल, कांगड़ा में प्रबंध प्रशासनिक पद दिया गया है. इसके पहले वो एक निजी महाविद्यालय में पीआरओ के पद पर तैनात रह चुके हैं. बताया जा रहा है कि दिव्‍य हिमाचल में उनकी एंट्री उनके मामा और दिव्‍य हिमाचल के प्रमुख संपादक अनिल सोनी के मार्फत हुई है.

शमी अहमद, अमरेंद्र कुमार, राजेश क्षितिज एवं विमल इधर से उधर

हिंदुस्‍तान, मुजफ्फरपुर के डीएनई शमी अहमद का तबादला मुख्‍यालय पटना के लिए कर दिया गया है. पटना से डीएनई के पोस्‍ट पर गंगाशरण झा को पहले ही भेजा जा चुका है. जब इस संदर्भ में शमी अहमद से पूछा गया तो उन्‍होंने अपना तबादला पटना होने की जानकारी नहीं मिलने की बात कही. हालांकि जब मुजफ्फरपुर हिंदुस्‍तान कार्यालय फोन किया गया तो वहां से पता चला कि उनका तबादला हो गया है, वे कार्यालय नहीं आ रहे हैं.

पत्रकार अजय सेतिया होंगे उत्‍तराखंड के चौथे सूचना आयुक्‍त

अजय सेतिया उत्‍तराखंड राज्‍य सूचना आयोग के चौथे आयुक्‍त होंगे.  सरकार ने उनके नाम को हरी झंडी दे दी है, परन्‍तु अभी इस फैसले पर राज्‍यपाल का मुहर लगना बाकी है. हालांकि सेतिया के नाम का चयन किए जाते समय तीन सदस्‍यीय चयन समिति के तीसरे सदस्‍य और विपक्ष के नेता डा. हरक सिंह रावत मौजूद नहीं थे. चर्चा है कि वे अजय सेतिया को सदस्‍य बनाए जाने के पक्ष में नहीं हैं.

तेल मांगने वाले ईटीवी के मैनेजर प्रणब लाल का तबादला

ईटीवी बिहार-झारखंड में मैनेजर के पोस्‍ट पर कार्यरत प्रणब लाल का तबादला लखनऊ के लिए कर दिया गया है. प्रणब ने 2005 में ईटीवी ज्‍वाइन किया था जिसके बाद 2006 में उनका तबादला बिहार-झारखंड के लिए कर दिया गया. तब से वे यहीं जमे हुए थे. माना जा रहा है कि कुछ शिकायतें मिलने के बाद प्रबंधन ने इनका तबादला किया है. प्रणब  रिपोर्टरों से तेल मांगने को लेकर भी खासा चर्चा में रहे थे.

ईटीवी के 11 रीजनल चैनलों को सोनी खरीदेगी

टीवी की दुनिया की बड़ी खबर है. इसे टीवी की दुनिया की सबसे बड़ी डील कहा जाएगा. करीब 500 से 600 मिलियन डालर की डील होगी. सोनी टीवी चलाने वाली कंपनी मल्टी स्क्रीन मीडिया (एमएसएम) ने रामोजी राव वाले इनाडु टीवी (इटीवी) के 11 रीजनल चैनलों के गुलदस्ते को खरीदने को करीब-करीब तैयार हो चुकी है. भरोसेमंद सूत्रों का कहना है कि दोनों कंपनियों में कई दौर की बातचीत हो चुकी है और शीर्षस्थ लेवल की बैठकों का दौर चल रहा है.

कृष्‍ण कुमार पंजाब केसरी से जुड़े, ईटीवी, राजस्‍थान से पांच की नई पारी

दैनिक जागरण, सोनीपत से कृष्‍ण कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर रिपोर्टर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी पंजाब केसरी, रोहतक के साथ शुरू की है. उन्‍हें इंचार्ज बनाया गया है. कृष्‍ण कुमार ने करियर की शुरुआत हरिभूमि, सोनीपत से की थी. इसके बाद वे अमर उजाला से जुड़ गए. इसके बाद जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

ईटीवी के मार्केटिंग मैनेजर की हत्‍या में फंस सकते हैं कुछ मीडियाकर्मी

बरेली में चार साल पुराने हत्या के मामले में एसटीएफ की गतिविधियां तेज हो गयी हैं और एक अखबार के पत्रकार व छायाकार को हिरासत में कभी भी लिया जा सकता है। जिसके चलते अंदर ही अंदर हडक़ंप मचा हुआ है। घटना 11 फरवरी 2007  की है। ईटीवी के मार्केटिंग मैनेजर विकास बनर्जी को विज्ञापन के संबंध में फोन कर किसी ने सुभाष नगर बुलाया था। उसके बाद वे लौट कर नहीं आए।

ईटीवी : रवि एवं कुंदन का इस्‍तीफा, केके का तबादला

ईटीवी से कई खबरें हैं. ईटीवी यूपी-उत्तराखंड में तीन सालों से काम कर रहे रवि किशोर श्रीवास्तव ने इस्तीफा दे दिया है. रवि की गिनती ईटीवी के अच्छे कॉपी एडिटरों में होती रही है. वे अपनी नई पारी न्यूज़ एक्सप्रेस में बतौर असिस्टेंट प्रोड्यूसर शुरू की है.

”ईटीवी वाले पागलपन के शिकार हैं”

अगर आप मीडिया मे नए हैं और ईटीवी में जाना चाहते हैं तो उसके पहले इसे जरूर पढ़ें। ईटीवी पहले तो लोगो को बंधुआ मजदूर बनाना चाहता है, और इतना मानसिक रूप से प्रताडि़त करता है कि आप अगर इस मीडिया हाउस के चक्कर में फ़ंस गए तो समझिए कि आप को बर्बाद करके ही छोड़ेगा। 2009 में मैं भी पास आउट हुई थी, जिसके बाद मुझे रिटेन टेस्ट के लिए ईटीवी से कॉल आया।

जगदीश चंद्र ने ली ईटीवी यूपी के सहयोगियों के हालात की जानकारी

ईटीवी हिंदी व उर्दू चैनल्‍स के हेड जगदीश चंद्र ने ईटीवी यूपी के स्ट्रिंगरों और रिपोर्टरों के साथ बैठक की. बैठक में ईटीवी को और बेहतर बनाने, समाचारों के चयन, हर समाचार तक पहुंचने, खबरों में तेजी लाने आदि के बारे में चर्चा की गई. जगदीश चंद्र ने रिपोर्टरों और स्ट्रिंगरों का उत्‍साह बढ़ाते हुए उनको आने वाले परेशानियों के बारे में पूछताछ की.

”पीके सिंह के चलते ईटीवी छोड़कर जा रहा हूं”

ईटीवी यूपी-उत्‍तराखंड, कानपुर से सेल्‍स एक्‍जीक्‍यूटिव निशांत कटियार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर के साथ शुरू कर रहे हैं. इस्‍तीफा देने के कारणों का खुलासा करते हुए उन्‍होंने एक ईमेल हिंदी चैनलों के हेड जगदीश चंद्रा, मार्केटिंग के वाइस प्रेसिडेंट समेत कई वरिष्‍ठों को भेजा है. एक प्रति भड़ास के पास भी भेजा है. जिसमें उन्‍होंने विस्‍तार से चैनल छोड़ने का कारण गिनाया है.

”अभी संस्‍थान को ठीक से समझा ही नहीं कि बाहर निकाल दिया”

ईटीवी यूपी उत्‍तराखंड में कार्यरत एक सीनियर सेल्‍स एक्‍जीक्‍यूटिव को संस्‍थान ने जबरिया बाहर का रास्‍ता दिखा दिया तो उन्‍होंने इसकी शिकायत करते हुए ईटीवी के कई लोगों को चिट्ठी लिखी. यह चिट्ठी हिंदी चैनल्‍स के हेड व सीईओ जगदीश चंद्र को भी भेजी है. चिट्ठी की एक कॉपी भड़ास4मीडिया के पास भी भेजी गई है.  पूरी चिट्टी इस प्रकार है…

ईटीवी के कार्यक्रम में हंगामा शूट करने वाले पत्रकारों को कमरे में बंद किया गया

पत्रकारिता जगत के बड़े नाम हैं संतोष भारतीय. देश भर में ईमानदारी, निर्भिकता के दावों के साथ बैनर-पोस्‍टर पर इनकी तस्‍वीरें दिखती हैं. पर गुरुवार को पटना में जो घटना हुआ उसने इनके ईमानदारी पर सवालिया निशान खड़ा किया. ईटीवी द्वारा पटना के रविंद्र भवन में ईटीवी के द्वारा अल्पसंख्यकों की समस्याओं पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था. भारतीय साहब उस कार्यक्रम के प्रस्‍तोता यानी सूत्रधार थे.

ईटीवी से दिनेश, मनु, रमेश, सुरेश का इस्‍तीफा, कौशल नईदुनिया से जुड़े

ईटीवी गुजरात से खबर है कि बड़ौदा के रिपोर्टर दिनेश सिंधव, पालनपुर के रिपोर्टर मनु चावदा, कैमरामैन रमेश डोडिया, कच्‍छ के रिपोर्टर सुरेश वनोल ने इस्‍तीफा दे दिया है. ये सभी लोग एक महीने की नोटिस पीरियड पर चल रहे हैं. नोटिस पीरियड खत्‍म होने के बाद ये लोग वी गुजराती ने अपनी नई पारी की शुरुआत करेंगे. वी गुजराती में दिनेश, मनु एवं सुरेश को रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी जाएगी जबकि रमेश कैमरामैन की जिम्‍मेदारी निभाएंगे.

सुजीत का इस्‍तीफा, शिखा, अंजनी, जगदीश एवं अनुज की नई पारी

ईटीवी राजस्‍थान से खबर है कि सुजीत झा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे पिछले चार सालों से ईटीवी से जुड़े हुए थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. सुजीत इसके पहले अमर उजाला को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. उन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत के लोकल चैनल के साथ की थी.

ईटीवी वालों के पास राज्यसभा चैनल से पहुंचने लगा काल लेटर

ईटीवी, हैदराबाद से खबर है कि यहां कार्यरत लोगों के पास राज्यसभा चैनल के लिए लेटर आने शुरू हो गए हैं. ये लेटर असिसटेंट,एसोसिएट और सीनियर प्रोड्यूसर तक के लिए जारी किए गए हैं. ईटीवी के हेड ऑफिस से लेकर ब्यूरो तक में लोगों ने इन पदों के लिए आवेदन भरा था. इसकी लिखित परीक्षा के लिए लोगों को बुलाया जा रहा है. हैदराबाद में ईटीवी के चलने वाले चार क्षेत्रीय चैनलों के डेस्क पर काम करने वालों में से 20-25 लोगों को कॉल लेटर आए हैं.

 

सही खबर दिखाना ईटीवी संवाददाता को महंगा पड़ रहा

[caption id="attachment_20421" align="alignleft" width="94"]ईटीवी रिपोर्टर राहुल देव सोलंकी ईटीवी रिपोर्टर राहुल देव सोलंकी[/caption]: जिलाधिकारी ने पीठासीन पदाधिकारी को मारा थप्पड़ : खबर दिखाने पर डीएम ने चैनल को भेजा नोटिस : चैनल ने डीएम के आगे घुटने टेके, संवाददाता को प्रताड़ित किए जाने का दौर शुरू : समस्तीपुर (बिहार) के जिलाधिकारी कुन्दन कुमार ने 12 मई को पंचायत चुनाव के आठवें चरण के दौरान एक पीठासीन अधिकारी को थप्पड़ मार दिया.

ईटीवी से रवींद्र और अजहर का इस्‍तीफा

ईटीवी राजस्‍थान से रवींद्र कुमार और अजहर ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे दोनों लोग अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. दोनों तीन सालों से ईटीवी के साथ जुड़े हुए थे. दोनों फिलहाल नोटिस पीरियड पर चल रहे हैं. रवींद्र पैनल प्रोड्यूसर के रूप में …

ईटीवी ने बांड मूल्‍य एक लाख पचहत्‍तर हजार किया

ईटीवी में काम करने वालों को नौकरी से पहले बंधन पत्र यानी बांड भरना होता है. यह बांड तीन सालों के लिए भरा जाता है. पहले इस बांड का मूल्‍य एक लाख रुपये था. यानी तीन सालों से पहले आप ईटीवी का साथ छोड़कर जाते हैं तो आपको नियमानुसार साल के हिसाब से पैसे प्रबंधन को देने होते थे. पहले ईटीवी की नौकरी आराम की नौकरी मानी जाती थी, परन्‍तु बीते दिनों में जब यहां काम का बोझ बढ़ने लगा तो भागने-छोड़ने वालों की संख्‍या भी तेज हो गई.

संदीप बने रायबरेली के ब्‍यूरोचीफ, सुशांत का ईटीवी से इस्‍तीफा

दैनिक जागरण, चित्रकुट को अपनी सेवाएं दे रहे संदीप रिछारिया को प्रमोशन दिया गया है. जागरण प्रबंधन ने संदीप को स्‍टाफर बनाते हुए उन्‍हें रायबरेली का ब्‍यूरो इंचार्ज बना दिया है. ये पिछले चार सालों से जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे थे. संदीप को पानी पर लेखन के लिए सम्‍मानित भी किया जा चुका है. जागरण आने से पहले संदीप हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, जनसत्‍ता समेत कई अन्‍य अखबारों के साथ भी जुड़े रहे थे.

ईटीवी ने कर्मचारियों को दिया महंगाई भत्‍ता

अपडेट : कई संस्‍थानों में इंक्रीमेंट के बहार के बीच ईटीवीयन्‍स भी थोड़ा खुश हैं. उनको इंक्रीमेंट तो नहीं मिला है पर महंगाई भत्‍ता के नाम पर उनके कुछ पैसे जरूर बढ़ गए हैं. बताया जा रहा है कि महंगाई भत्‍ता पर कर्मचारियों को उनकी सेलरी के हिसाब से थोड़ी बढ़ोतरी की गई है. ईटीवी प्रत्‍येक साल अपने कर्मचारियों को महंगाई भत्‍ता के रूप में वेतन में वृद्धि देता रहता है.

ईटीवी प्रबंधन ने प्रणयजी के साथ ठीक नहीं किया

प्रणय जी का व्‍यक्तित्‍व इतना बड़ा था कि इटीवीयन्‍स ने सामर्थ्‍य के अनुसार बहुत किया. पहले बारह घंटे में प्रणय जी के आवास पर 17000 रुपये इकट्ठे हो चुके थे, लेकिन आधी रात को मैनेजमेंट ने बताया कि ताबूत के लिए 20000 रुपये लगेंगे. फिर आनन-फानन में डेस्‍क से भी मदद की मांग हुई. जहां से तुरंत 2000 आया और कई साथियों से मिलाकर कुल 43, 500 रुपए इकट्ठे किए गए, जो जरूरत से ज्‍यादा था.

ताबूत के किराए के लिए चंदा जुटाया ईटीवी के साथियों ने

यशवंतजी, कल की खबर से बुरी है ये खबर. रात के 12 बजे के करीब जब सारी दुनिया से खबरें आनी बंद हो गईं थी. फ्लैश और टिकर पर बैठने वालों की उंगलियां भी थम गई थीं. तभी एक घटना घटी. प्रणयजी का शव 12 घंटे से हैदराबाद में कानूनी औपचारिकताएं पूरी कर रहा था, लेकिन उसके बाद भी उसको ले जाने के लिए एक अदद ताबूत के किराए का इंतजाम नहीं हो सका.

रो पड़ा ईटीवी, उनका डीफीट चला गया

प्रणयडीफीट नहीं रहा… प्रणय मोहन का ये शब्द ईटीवी से जुड़ा शख्‍स शायद ही कभी भूल पाये,  मुझे भी जब खबर मिली तो मेरे पास शब्द नहीं थे,  कुछ थे तो सिर्फ आँखों में आंसू… ऐसा पहली बार हो रहा है चंद सालों में… जब ईटीवी, हैदराबाद से पत्रकारों के बीमार, हार्ट अटैक या फिर अचानक मौत की खबर सुनने को मिलती है.

यकीन नहीं हो रहा प्रणयजी का यूं चले जाना

: दिल के सच्‍चे आदमी को दिल ने ही धोखा दिया : सुबह अपने कमरे पर बैठा था,  फोन आया तो हालचाल पूछने की स्वाभाविक प्रवृत्ति के अनुसार मैंने पूछा क्या हाल है भाई…उधर से आवाज आई कि यार बुरी ख़बर है… बुरी ख़बर मीडियाकर्मियों में आमतौर किसी के इस्तीफे के रुप में ही होती है… क्योंकि मीडिया में बुरी खबर को देखने का नजरिया अलग होता है… फोन करने वाले मित्र आशीष ने बताया कि प्रणय मोहन नहीं रहे… यकीन नहीं होने के कारण तीन बार पूछना पड़ा कौन नहीं रहा.

ईटीवी से मनोज और प्रवीण का इस्‍तीफा

ईटीवी, ग्‍वालियर से मनोज सिंह बघेल ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां ब्‍यूरोचीफ थे. वे आठ सालों से ईटीवी से जुड़े हुए थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी साधना न्‍यूज के साथ शुरू की है. उन्‍हें रायपुर में स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बनाया गया है.  वे इटीवी के लिए छत्‍तीसगढ़ में कई जगहों पर अपनी सेवाएं दे चुके थे. कुछ समय पहले ही बिलासपुर से उनका तबादला ग्‍वालियर हुआ था.  माना जा रहा है वे छत्‍तीसगढ़ से बाहर नहीं जाना चाहते थे, इसलिए इस्‍तीफा दे दिया.

विशाल और रुपेश ने शुरू की नई पारी

दैनिक जागरण, वाराणसी से विशाल श्रीवास्‍तव ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे मार्केटिंग मैनेजर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान भागलपुर के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी मार्केटिंग मैनेजर बनाया गया है. उन्‍हें पुरुलिया की जिम्‍मेदारी सौंपे जाने की संभावना है. विशाल कुछ दिन पहले ही अजय सिंह के अमर उजाला जाने के बाद यहां की कमान संभाली थी. वे जागरण के साथ कानपुर और बरेली में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

ईटीवी के पत्रकार लक्ष्‍मण राघव को ज्‍योति बा फुले सम्‍मान

ईटीवी राजस्थान के बीकानेर ब्यूरो चीफ लक्ष्मण राघव को पत्रकारिता के क्षेत्र का प्रतिष्ठित ज्योति बा फुले सम्मान से नवाजा गया है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजधानी जयपुर के विद्याधर स्थित ज्योति बा फुले राष्‍ट्रीय संस्थान परिसर में ग्यारह अप्रैल को आयोजित एक समारोह में राघव को ये सम्मान प्रदान किया.  राजस्थान में निर्भीक और निडर पत्रकारिता के लिए पहचाने जाने वाले राघव को गुर्ज्जर आन्दोलन के दौरान उनकी पत्रकारिता के लिए उन्हें इस सम्मान के लिए चुना गया.

ईटीवी कर्मचारियों को रोकने लिए आजमा रहा नए तरीके

यशवंत जी, मैं पिछले तीन साल से ईटीवी में काम कर रहा हूं. जैसा कि आपको भी मालूम होगा कि ईटीवी में काम करने के लिए तीन साल का बंधन पत्र यानी बांड भरना होता है. हम सभी लोगों का बांड पीरियड खत्म होने वाला है. नये चैनल भी शुरू होने वाले हैं और कई चैनलों में हमारे साथीगण जा भी रहे हैं. ईटीवी का प्रबन्धन तो हमारी सैलरी नहीं बढ़ा रहा है लेकिन हम लोगों को रोकने के लिए नये-नये उपाय जरूर कर रहा है.

आलोक का तबादला, चैतन्‍य एवं अतुल की नई पारी

ईटीवी ग्‍वालियर-चंबल से आलोक पंड्या का तबादला भोपाल कर दिया गया है. वे यहां पर ब्‍यूरोचीफ के रूप में कार्यभार संभाल रहे थे.  अब उन्‍हें भोपाल में सीनियर रिपोर्टर बना दिया गया है.  आलोक काफी दिनों से ईटीवी से जुड़े हुए हैं.

आलोक पंड्या को सादगीपूर्ण पत्रकारिता सम्‍मान

ग्रामीण पत्रकारिता विकास संस्थान ने ग्वालियर के होटल सेन्ट्रल पार्क में आयोजित एक समारोह में ईटीवी के ग्वालियर-चम्बल के ब्यूरो चीफ आलोक पंड्या को सादगीपूर्ण पत्रकारिता सम्मान से नवाजा. इस समारोह के मुख्य अतिथि साडा (स्पेशल डेवलपमेंट ऑथोरिटी) चेयरमैन जय सिंह कुशवाहा थे. अध्यक्षता पूर्व महापौर विवेक नारायण शेजवलकर ने की. विशिष्ट अतिथि के रूप में मध्य प्रदेश राज्य सहकारी संघ के चेयरमेन अरुण सिंह तोमर, ग्वालियर प्रेस क्लब के सचिव राकेश अचल और जनसंपर्क विभाग के उप संचालक जीएस मौर्य मौजूद रहे.

ईटीवी के दो मैनेजरों ने दिया इस्तीफा

खबर है कि ईटीवी से नितिन राठी और शुभ्रोजीत कुमार गुप्ता ने इस्तीफा दे दिया है. नितिन ईटीवी के कई चैनलों के नार्थ इंडिया मार्केटिंग हेड थे जबकि शुभ्रोजीत गुप्ता राजस्थान के मार्केटिंग हेड थे. सूत्रों का कहना है कि इन दोनों के इस्तीफे के बारे में कई तरह की चर्चाएं हैं. एक चर्चा यह है कि प्रबंधन ने इन्हें हटाया है. उधर, शुभ्रोजीत गुप्ता का कहना है कि उन्होंने एक बेहतर मौका मिलने के कारण संस्थान को छोड़ा है और उनका ईटीवी के साथ बहुत अच्छा अनुभव रहा. अपनी नई पारी के बारे में वे जल्द ही जानकारी दे देंगे.

ईटीवी का बिलासपुर सेंटर बंद, रिपोर्टर और कैमरामैन का तबादला

ईटीवी मध्‍य प्रदेश अपना बिलासपुर के 2 एमबीपीएस सेंटर बंद कर दिया है. यहां के रिपोर्टर मनोज बघेल का भी तबादला ग्‍वालियर कर दिया गया है, जबकि कैमरामैन को रायपुर भेज दिया गया है. भड़ास4मीडिया को भेजे गए एक मेल के मुताबिक यह कदम यहां से समाचारों की कम फ्रीक्‍वेंसी की वजह से यह कदम उठाया गया है.

ईटीवी से राजीव का इस्‍तीफा, कुबेरनाथ एक कदम आगे पहुंचे

ईटीवी राजस्‍थान से राजीव सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एंकर थे. बताया जा रहा है कि छुट्टियों के बाद देर से ऑफिस पहुंचने के बाद प्रबंधन से कुछ विवाद हो गया था. उनके बारे में खबर है कि वे इंडिया न्‍यूज से अपनी पारी शुरू करने जा रहे हैं.

ईटीवी से मनोज का इस्‍तीफा, पुरुषोत्‍तम पहुंचे टाइम्‍स ऑफ इंडिया

ईटीवी, राजस्‍थान से मनोज शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे पाली में ईटीवी के लिए रिपोर्टिंग करते थे. चर्चा है कि वे अपनी नई पारी इंडिया न्‍यूज से शुरू करने वाले हैं. मनोज पिछले पन्‍द्रह सालों से मुख्‍य धारा की पत्रकारिता कर रहे हैं. वे ईटीवी की लांचिंग टीम के सदस्‍य थे. वे भास्‍कर को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. माना जा रहा है कि पिछले दिनों हुए अमीन खान विवाद के चलते उन्‍होंने इस्‍तीफा दिया है.

ईटीवी को कर्मचारियों की नहीं, छुट्टी की चिंता है!

यशवंतजी, एक पक्‍की खबर है ईटीवी से. यहां बड़ी संख्‍या में कॉपी एडिटर/रिपोर्टर ईएसआई से लिखवाकर लीव पर जा रहे हैं. शायद ईटीवी ही ऐसा मीडिया आर्गेनाइजेशन होगा, जहां के 95 प्रतिशत कर्मचारी ईएसआई के दायरे में हैं, यानी की उनकी सेलरी 15000 रुपये प्रतिमाह से कम है. बिहार डेस्‍क से 7 लोग होली की छुट्टी पर हैं वो भी ईएसआई पर, राजस्‍थान के 4 लोग, यूपी और एमपी डेस्‍क का भी यही हाल है.

ईटीवी के रिपोर्टर अलीम शेख समेत कई होंगे सम्‍मानित

: नेताजी को अब श्रद्धांजलि नहीं देगी भारत भारती : नेता जी सुभाष चन्द्र बोस जयंती के मौके पर हर साल लीक से कुछ अलग हट कर काम करने वाली सुल्तानपुर की एक प्रतिष्ठित संस्था भारत भारती पिछले 30 वर्षों से समाज में नैतिकता और निष्ठा से काम करने वालों के साथ साथ विधा विशेष में उल्लेखनीय योगदान करने वालों को सम्मानित करती है.

ईटीवी यूपी डेस्‍क के आउटपुट हेड कुंजन का इस्‍तीफा

: राजस्‍थान डेस्‍क से सोनम ने दिया इस्‍तीफा की नोटिस : ईटीवी से यूपी डेस्‍क के आउटपुट इंचार्ज डा. कुंजन आचार्य ने इस्‍तीफा दे दिया है.  ईटीवी में सत्‍ता परिवर्तन के बाद से वे परेशान चल रहे थे. वे कहां ज्‍वाइन कर रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. संतोष पांडेय के बाद कुंजन का इस्‍तीफा ईटीवी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. कुंजन की छवि सबके साथ मिलकर काम करने वाले लीडर की थी.

गोविन्‍द बने ईटीवी के डिप्‍टी न्‍यूज कोआर्डिनेटर

ईटीवी यूपी-उत्‍तराखंड के ब्‍यूरोचीफ गोविन्‍द कत्‍याल को प्रमोट कर दिया गया है. उन्‍हें डिप्‍टी न्‍यूज कोआर्डिनेटर बनाया गया है. कत्‍याल पिछले सात सालों से ईटीवी से जुड़े हुए हैं. लगभग बीस साल के अपने पत्रकारीय करियर में उन्‍होंने प्रिंट और टीवी दोनों जर्नलिज्‍म में अपना महत्‍वपूर्ण योगदान दिया है.

अजीज बने एचबीसी न्‍यूज के आउटपुट हेड

 अजीजमुंसिफ टीवी के आउटपुट हेड अजीज अहमद ने इस्‍तीफा देकर नई पारी एचबीसी न्‍यूज, जयपुर के साथ शुरू की है. यहां भी उन्‍हें आउटपुट हेड बनाया गया है. किन्‍हीं कारणों से मुसिफ टीवी की लांचिंग नहीं हो पा रही थी. जिसके चलते अजीज ने मुंसिफ टीवी को अलविदा कह दिया. अजीज ईटीवी राजस्‍थान और यूपी चैनल के आउटपुट हेड रह चुके हैं. पिछले कई वर्षों से वे टीवी पत्रकारिता में सक्रिय हैं.

रंगदारी मांगने वाला फर्जी पत्रकार गिरफ्तार

बिहार के समस्‍तीपुर जिले में प्रधानाध्‍यापक से रंगदारी मांग रहे फर्जी पत्रकार को अध्‍यापक एवं छात्रों ने पकड़ लिया. इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई. पुलिस ने फर्जी पत्रकार को गिरफ्तार करके अपने साथ ले गई.

निर्भीक पत्रकारिता के लिए पूरन सिंह सम्मानित

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पंडित राम सुमेर शुक्ल के 33 वीं पुण्यतिथि पर अखिल भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उतराधिकारी संगठन द्वारा निर्भीक पत्रकारिता करने के लिए ईटीवी, उधमसिंह नगर के रिपोर्टर पूरन सिंह रावत समेत प्रदेश के अन्य क्षेत्र के 12 लोगों को  विशिष्ट प्रतिभा सम्मान से सम्मानित किया गया. रूद्रपुर के डीडी चौक पर आयोजित कार्यक्रम में पूरन सिंह को यह सम्मान उत्तराखंड सरकार के कृषि मंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं बजाज ऑटो लिमिटेड के इकाई प्रमुख पीऍम डिंडोकर द्वारा संयुक्त रूप से प्रदान.

नरसिंहपुर में एक पत्रकार की पिटाई, दूसरे को धमकी

नरसिंहपुर के वह गिने चुने पत्रकार, जो सच में जनता की आवाज बनकर उभरे है या अपनी लेखनी के दम पर भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़े होने का साहस रखते है, इस वक्त भारी संकट में हैं। 29 नवंबर 2010 की शाम राज एक्सप्रेस के ब्‍यूरो प्रमुख वासुदेव शर्मा के साथ उस वक्त मारपीट की गई, जब वह होटल से रात का खाना खाकर घर लौट रहे थे। वासुदेव शर्मा की उम्र 45 के पार है और वह निर्भीक पत्रकार के रूप में नरसिंहपुर में प्रसिद्ध है। वासुदेव शर्मा से एक बीस-बाइस साल के लड़के ने हाथापाई की, जबकि वह उसे जानते भी नहीं थे। वासुदेव शर्मा ने इस घटना की शिकायत गृहनगर छिंदवाड़ा आकर दर्ज कराई।

क्‍या फ्रीलांसर गधा होता है!

मुझे ईटीवी बिहार-झारखंड के पटना ऑफिस के बारे में कुछ कहना है. मैं एक ग्रॉफिक डिज़ाइनर हूँ. मैंने ईटीवी हैदराबाद में 4 साल काम किया. 2008 में मैंने यह जॉब छोड़ दिया. 2 महीने पहले मैंने ईटीवी बिहार/झारखंड के पटना ऑफिस में फ्रीलांस के तौर पर ज्वाइन किया. यहाँ आने पर मुझे यहाँ की राजनीति से दो-चार होना पड़ा. एक तो यह ऑफिस फ्रीलांसर के भरोसे ही चल रहा है.  इनके पास रोज ग्रॉफिक्स का काम तो होता है पर यहाँ ग्रॉफिक डिज़ाइनर का पोस्ट नही है. यह इसलिए की उपर से आदेश नही है.

ईटीवी उर्दू के भी प्रमोशन हेड बने नितिन

ईटीवी उत्‍तर राज्‍यों के हिन्‍दी चैनलों के प्रमोशन हेड नितिन राठी को अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. कुछ महीने पूर्व ईटीवी से जुड़ने वाले नितिन सात राज्‍यों में संचालित 4 हिन्‍दी चैनलों के प्रमोशन हेड थे. उनके कार्य को देखते हुए ईटीवी के सीईओ जगदीश चन्‍द्र ने उन्‍हें उत्‍तर प्रदेश-उत्‍त्‍राखंड ईटीवी उर्दू की अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी सौंपी है. उन्‍होंने उम्‍मीद जताई है कि नितिन अपने विजन और क्षमता के बल पर हिन्‍दी के साथ उर्दू के चैनलों को भी नई ऊंचाई प्रदान करेंगे.

ईटीवी के पत्रकार पर मंत्री ने करवाया हमला!

: पत्रकार की हालत गंभीर : खबर दिखाने की कीमत ईटीवी के एक पत्रकार को चुकानी पड़ी. राजस्‍थान के बांसवाड़ा जिले के बोरखेड़ी गांव में रविवार को मोटर साइकिल सवार चार युवकों ने ईटीवी के पत्रकार भगवान लाल प्रजापति पर हमला कर दिया. इस हमले में भगवान लाल बुरी तरह घायल हो गया. पत्रकार पर हमला करवाने का आरोप राजस्‍थान के एक मंत्री पर लगा है. पुलिस ने पत्रकार की रिपोर्ट पर कैबिनेट मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीय व चार अन्य युवकों के खिलाफ आईपीसी की धारा 341,323 व 352, 379 एवं संगठित धारा 34 के तहत प्राथमिकी दर्ज कर ली है. उदयपुर निवासी भगवान लाल ने सदर थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है.

राजेश का तबादला, ज्‍वाला का इस्‍तीफा

: न्‍यूज 24 से अरविन्‍द का इस्‍तीफा :ईटीवी, हैदराबाद से खबर है कि राजेश सिंह का ट्रांसफर ईटीवी, पटना ब्‍यूरो के लिए कर दिया गया है. राजेश वर्तमान में करेंट अफेयर्स डेस्‍क पर अपनी सेवाएं दे रहे थे. वे इसके पूर्व बिहार डेस्‍क के इंचार्ज रह चुके हैं. राजेश को अब ईटीवी, पटना के ब्‍यूरो चीफ को रिपोर्ट करनी होगी. वे बिहार डेस्‍क इंचार्ज के रूप में पटना ब्‍यूरो चीफ से ऊपर के पोस्‍ट पर काम कर चुके हैं.

बाराबंकी में दो चैनलों के पत्रकार-कैमरामैन भिड़े

: कल्‍याण सिंह की बाइट के लिए हुई तकरार :  बाराबंकी में दो चैनलों के पत्रकार और कैमरामैन आपस में एक दूसरे से भिड़ गए. दोनों के बीच जमकर हाथापाई हुई. उनके कपड़े भी फट गए. यह पूरा मामला उस समय घटित हुआ, जब पूर्व मुख्‍यमंत्री कल्‍याण सिंह अपने लाव-लश्‍कर के साथ अयोध्‍या जा रहे थे. कल्‍याण सिंह का काफिला जब बाराबंकी पहुंचा तो टीवी पत्रकारों में उनकी बाइट लेने की होड़ मच गई.

ज्ञानेंद्र बरतरिया फिर पहुंचे एमएच1 न्यूज

: ईटीवी से शशांक का इस्तीफा, अरविंद का तबादला : ज्ञानेंद्र बरतरिया के फिर से एमएच1 न्यूज में लौटने की खबर है. सूत्रों के मुताबिक उन्होंने चैनल हेड के पद पर आज ज्वाइन कर लिया. वे ए2जेड न्यूज चैनल में थे लेकिन कई महीनों पहले इस्तीफा देकर स्वतंत्र पत्रकार के बतौर सक्रिय हो गए थे. दैनिक जागरण, इंडिया टीवी समेत कई चैनलों-अखबारों में काम कर चुके ज्ञानेंद्र मूलतः कानपुर के रहने वाले हैं. वे पहले भी एमएच1 में रह चुके हैं. ए2जेड की लांचिंग में ज्ञानेंद्र ने सबसे प्रमुख भूमिका निभाई. बाद में ए2जेड प्रबंधन के न्यूज रूम में अनावश्यक हस्तक्षेप से खफा होकर ज्ञानेंद्र ने इस्तीफा दे दिया था.

पांच टीवी पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

: धौंस दिखाकर पैसा मांगने तथा परीक्षा दे रही छात्राओं से छेड़खानी का आरोप :  प्राचार्य ने दर्ज कराया मुकदमा : शाहजहांपुर में इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया के पांच पत्रकारों के खिलाफ रंगदारी, धोखाधड़ी और छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज हुआ है. पांचों पत्रकारों पर आरोप हैं कि इन्‍होंने खुदागंज में स्थित एक संस्‍कृत महाविद्यालय के प्राचार्य से दस हजार रुपये की मांग की. पैसा देने से इनकार करने पर परीक्षा दे रही छात्राओं अभद्र व्‍यवहार तथा छेड़खानी की. कालेज के प्रार्चाय इस पूरे मामले की शिकायत पुलिस से की. जिसकी जांच एएसपी सिटी को सौंपी गई. जांच के बाद पांचों पत्रकारों के खिलाफ तिलहर थाना में मामला दर्ज हुआ है.

नए राज्यों में ईटीवी के विस्तार की योजना तैयार

जगदीश चंद्रा उत्तर भारत के सबसे प्रभावशाली इलेक्ट्रानिक मीडिया संचालक बन जाएंगे : खबर है कि ईटीवी प्रबंधन कई नए राज्यों में अपने न्यूज चैनल्स लांच करने की योजना बना रहा है. अभी तक दिल्ली-एनसीआर, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल आदि प्रदेशों के लिए ईटीवी के न्यूज चैनल्स नहीं हैं. सूत्रों के मुताबिक उत्तर भारत में ईटीवी के संचालन के सभी अधिकार हासिल कर लेने वाले जगदीश चंद्रा उत्तर भारत के जिन प्रदेशों में ईटीवी के न्यूज चैनल नहीं है, वहां भी इस चैनल को लांच कराने की रणनीति पर काम कर रहे हैं.

रामोजी राव का नाम बदनाम कर रहे मैनेजर

भड़ास4मीडिया पर पिछले वर्ष एक खबर प्रकाशित की गई थी, जिसका शीर्षक था- नौकरी छोड़ा तो अब 75 हजार रुपये जुर्माना भरो! खबर में बताया गया था कि ईटीवी में जो पत्रकार नौकरी शुरू करते हैं तो उनसे किस तरह ढेर-सारे नियम-कानूनों से युक्त एक बांड भरवाया जाता है और तय समयावधि से पहले नौकरी छोड़ने के बाद बांड के नियम-शर्तों के आधार पर ईटीवी प्रबंधन पत्रकार से 75000 रुपये जुर्माना मांगता है। ईटीवी की यह अमानवीय पालिसी अब भी नहीं बदली है। इन अलोकतांत्रिक सेवा-शर्तों के एक भुक्तभोगी ने अपनी पीड़ा का बयान भड़ास ब्लाग पर किया है। क्या कोई बंधुआ मजदूरी की इस प्रथा को रोक सकता है? शीर्षक से प्रकाशित पोस्ट में भुक्तभोगी पत्रकार ने ईटीवी प्रबंधन द्वारा नौकरी छोड़ने के बाद वसूली के लिए भेजे गए धमकी भरे मेल और नौकरी ज्वाइन करते समय भरवाए गए बांड की शर्तों को उजागर किया है।

नौकरी छोड़ा तो अब 75 हजार रुपये जुर्माना भरो !!

ईटीवी में काम करने वाले मीडियाकर्मी हर कदम पर हैरान-परेशान रहते हैं। दूसरों के दुख-दर्द को दुनिया के सामने लाने-बताने-दिखाने वाले ये पत्रकार अपने प्रबंधन के पीड़ित बन जाते हैं। चतुर प्रबंधन इन्हें इस कदर जालिम नियम-कानूनों में कैद रखता है कि ये अपना हक तक मांगने की जुर्रत नहीं कर पाते। कुछ लोगों ने भड़ास4मीडिया को जब इस बारे में जानकारी दी तो एक टीम ने पूरे मामले की छानबीन की। इसके बाद जो कहानी सामने आई वो इस बड़े मीडिया हाउस पर बड़े काले धब्बे की तरह है। कुछ दस्तावेज भड़ास4मीडिया टीम के हाथ लगे हैं। इनमें से एक को प्रकाशित किया जा रहा है। यह दस्तावेज शोषण की पूरी कहानी बयान करता है। इससे पता चलता है कि ईटीवी मैनेजमेंट दास प्रथा के जमाने के नियम-कानूनों में अपने कर्मचारियों को जकड़े रहता है।