दैनिक भास्‍कर से जुड़े राकेश, अमित, अजय एवं अखिलेश

दैनिक भास्‍कर, धनबाद की लांचिंग अप्रैल में होने वाली है. इसके लिए नई नियुक्तियां शुरू हो गई हैं. चार लोगों ने भास्‍कर से अपनी नई पारी शुरू की है. चारों लोग इसके पहले प्रभात खबर से जुड़े हुए थे. भास्‍कर से जुड़ने वालों में राकेश पाठक, अमित रंजन, अजय कुमार और अखिलेश कुमार शामिल हैं.

राकेश पाठक प्रभात खबर में डिप्‍टी न्‍यूज कोआर्डिनेटर के पद पर थे. उन्‍होंने दैनिक भास्‍कर में न्‍यूज कोआर्डिनेटर के पोस्‍ट पर ज्‍वाइन किया है. राकेश ने अपने करियर की शुरुआत 97 में आवाज दैनिक के साथ शुरू की थी. इसके बाद बिहार आबजर्बर से जुड़ गए थे. यहां से इस्‍तीफा देने के बाद प्रभात खबर आ गए थे. कई वर्षों तक इन्‍होंने प्रभात खबर को अपनी सेवाएं दीं.

अमित रंजन ने दैनिक भास्‍कर में रिपोर्टर के रूप में ज्‍वाइन किया है. प्रभात खबर में उनका पद न्‍यूज राइटर का था. अमित ने अपने करियर की शुरुआत छह साल पहले बिहार आबजर्बर के साथ की थी. इसके बाद आज और दैनिक जागरण को भी अपनी सेवाएं दीं. जागरण से इस्‍तीफा देने के बाद प्रभात खबर से जुड़ गए थे.

प्रभात खबर के फोटोग्राफर अजय ने सेम पोस्‍ट पर दैनिक भास्‍कर का दामन थामा है. वे पिछले आठ सालों से प्रभात खबर से जुड़े हुए थे. अजय ने अपने करियर की शुरुआत बारह साल पहले रांची एक्‍सप्रेस के साथ की थी. इसके बाद वे आज चले आए. इन्‍होंने एनडीटीवी तथा स्‍टार न्‍यूज के लिए भी काम किया. इसके बाद ये प्रभात खबर से जुड़ गए थे.

प्रभात खबर से इस्‍तीफा देकर अखिलेश कुमार ने भी दैनिक भास्‍कर ज्‍वाइन कर लिया है. अखिलेश भी कई अखबारों में काम कर चुके हैं.

Comments on “दैनिक भास्‍कर से जुड़े राकेश, अमित, अजय एवं अखिलेश

  • ईश्वर सिंह, गोरखपुर says:

    आगे बढ़ने के लिए बदलाव जरुरी है। नये जगह पर नई चुनौतियां होंगी, तभी काम का मजा भी आएगा।

    Reply
  • anurag kasyp ke tanasahi bartawo aur tamam staf ko ma-bahan ko gali dene ke karan ek-ek kar dhanad pk ka viket gir raha hai. yehi hal raha to pk dhanbad khali ho jayga. vikash dhanbad

    Reply
  • ajit, ranchi says:

    anurag ke karan dhanbad pk dubta hua jahaj ho gya hi. akhbar ka sarkulesan girney laga hai. dubtey huey jahaj se logo ka jana lajimi hai. jo apni bibi ko nahi sambhal saka woh akhbar ko kya sambhalega.

    Reply
  • Vikash Jee,
    Mai aapke baaton se sahmat nahi hoon………Gaali dene ki baat ko main sire se nakarta hoon. Jahan tak Mujhe jaankari hai Anurag Kashyap jee ne kabhi apne staff ko maa-behen ki Gaali nahi dee. Haan agar kisi se galati ho jaati thi to wo Gussa hote the. Par Gaali galouz kabhi nahi kiya.
    Rakesh Jee, Akhilesh aur Amit ne Bhaskar jarur join kiya hai lekin Anurag Kashyap ka tanashahi bartao ko lekar nahi. aur naa hi gaali-galoz ko lekar. Unka Bhaskar jaane k peeche sirf yek hi wajah thi aur wo hai – “PAISA”. Jindagi me har koi taraqqi karna chahta hai. Prabhat Khabar unhe unke man-mutaabik salary nahi de raha tha. Bhaskar ne unhe unke man layak salary offer kiya, isliye wo log prabhat khabar chhor kar Bhaskar ke saath ho liye.

    Reply
  • MINAKSHI B.S. DEWANGAN says:

    BETA
    PYAARI SEE MUSKAN HAI BETA, SABKE DIL KA ARMAAN HAI BETA, MAA KI JAAN HAI BETA, PITA KI PAHCHAAN HAI BETA.
    BETA SABD AISA HOTAHAI JISE SUNTE HI KISI KE BHI MAN MAIN EK TARANG HONE LAGTA HAI , PHIR CHAAHE WO LADKA HO YA LADKI , BETA TO HUM KISI KO BHI KAH SAKTE HAIN NA.
    THANK YOU
    YE ARTICAL MAINE ABHI-2 LIKHA HAI. KYA AAP MUJHE ARTICAL LIKHNE KA KAAM DE SAKTE HAIN?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *