बरखा दत्त अपने ही चैनल के पर्दे पर बेपर्दा

आलोक तोमरटेलीविजन मीडिया की सुपर स्टार बरखा दत्त को बचाने के लिए उनके चैनल एनडीटीवी ने भारतीय पत्रकारिता के इतिहास में पहली बार अपने ही किसी पत्रकार का अपने ही पर्दे पर कोर्ट मार्शल करवाया और सच यह है कि इस कोशिश से बरखा दत्त को और अधिक अपमान का सामना करना पड़ा। बरखा दत्त किसी भी सवाल का सही जवाब नहीं दे पाई और आखिरकार उन्होने सवाल करने वालों से ही सवाल करने शुरू कर दिए। चैनल उनका था, कार्यक्रम संचालित कर रही देवी जी उनके अधीन काम करती हैं और संपादकों का जो पैनल बरखा से पूछताछ करने बैठा था उसमें वे मनु जोसेफ भी थे जिन्होंने ओपेन मैग्जीन के जरिए नीरा राडिया और बरखा के टेप उजागर किए हैं।

बरखा ने पूछा कि आउटलुक ने जो 104 टेप छापे हैं उनमें तो 40 पत्रकारों के नाम है, सिर्फ मुझे ही क्यों घसीटा गया है? बरखा ने तो वीर सांघवी का नाम लिए बगैर उनके बच जाने पर सवाल किया। सबसे पहले राडिया बहन जी के बरखा बहन जी के साथ टेप छापने वाले मनु जोसेफ भाई साहब के सवालों के सामने बरखा ध्वस्त हो गई और उनसे उनकी पत्रकारिता की नैतिकता पर सवाल करने लगी। रही बात बाकी संपादकों की तो दिलीप पंडगावकर से ले कर स्वपन दासगुप्ता तक कोई यह मानने को राजी नहीं था कि बरखा ने नीरा राडिया के साथ मिल कर खेल नहीं खेला है। बरखा को कहना पड़ा कि वे तो खबर पाने के लिए नीरा राडिया को बेवकूफ बना रही थी। उनको यह भी मंजूर करना पड़ा कि नीरा राडिया ने ही उनकी रतन

सवालों के जवाब देतीं बरखा दत्त
सवालों के जवाब देतीं बरखा दत्त
टाटा से कई मुलाकातें करवाई थीं।

मनु जोसेफ ने पूछा कि आखिर नीरा राडिया सरकार बनाने में दो पार्टियों के बीच मैनेजर बनी हुई थी और क्या यही असली खबर नहीं थी? पहले तो बरखा दत्त ने माना कि उनसे फैसला करने में गलती हुई मगर मुझे वास्तव में पता नहीं था कि नीरा राडिया कौन है? मेरे पास तो हजारों फोन आते हैं, यह बरखा ने कहा। लेकिन यह मनु जोसेफ के सवाल का जवाब नहीं है। बरखा ने जानबूझ कर एक घंटे के शो का समय बर्बाद किया। उन्होंने अपने टेप दिखाना जारी रखा, अपनी अपनी रिपोर्टिंग के बुलेटिन फिर दिखाए और यह साबित करने की पूरी कोशिश की कि देश में उनसे बड़ा प्रतिभाशाली और शानदार पत्रकार कोई नहीं है। बरखा दत्त जो शुरू में थोड़ी आत्मरक्षा की बातें कर रही थी आखिरकार इसी बात पर

सवालों के जवाब देतीं बरखा दत्त
सवालों के जवाब देतीं बरखा दत्त
आ कर अटक गईं कि यह अगर पत्रकारिता पर नैतिकता की बहस है तो ओपेन मैग्जीन के मनु जोसेफ से भी पूछा जाना चाहिए कि आखिर उन्होंने उनके होर्डिंग क्यों लगाए और उनके निजी एसएमएस को सार्वजनिक क्यों किया?

मनु जोसेफ लाख कहते रहे कि आप मेरी निजी दोस्त नहीं हैं और वे एसएमएस आपका पक्ष जानने के लिए एक संपादक के तौर पर भेजे थे लेकिन बरखा दत्त जो टीवी अच्छी तरह जानती हैं, वक्त गुजारने के लिए उनसे बहस करती रहीं और कार्यक्रम का ही वक्त खत्म हो गया। मौजूद संपादकों में बिजनेस स्टैंडर्ड के संपादक और प्रधानमंत्री के प्रेस सलाहकार रहे संजय बारू भी थे और उनके एक सीधे सवाल का जवाब बरखा नहीं दे पाई। बारू ने पूछा था कि आप सिर्फ हमें यह बता दे कि आपको इस्तेमाल किया गया या आप जानबूझ कर इस्तेमाल होने के लिए तैयार थी?

लेखक आलोक तोमर जाने-माने पत्रकार हैं.

Comments on “बरखा दत्त अपने ही चैनल के पर्दे पर बेपर्दा

  • Arjun Thapa says:

    Barkha ka ye show Live nahi recorded tha, kyon ? Aur ise 47 min mein hi kyon khatm kar diya gaya ? Kis portion ko edit kar hataya gaya ? inka jawab kaun dega bhai ???

    Reply
  • Barkha madam lakh safai de lekin yaha daal me kuch kaala nahi puri daal hi kaali lag rahi.agar Barkha Datta——- Neera Radia ko jaanti nahi to itne der tak kaise baat hu ?agar koi khabar break karne ke liye baat karti hai to vo khabar NDTV me break hui Q nahi ?Radio agar news source thi to unhone desh kaa sabse badha ghotaala NDTV pe break Q nahi kiya ?Eskaa matlab saaf hai Barkha Datta broker thi aur vo ek setu kaa kaam karti thi……uskaa ume personal interest tha chahe jo bhi ho.Barkha Datta is savaal kaa javab de ?kya vo Gulam Nabi Aazad jaise senior congress leader ko “Gulam”name se bulaa sakti hai ?kya Daya Maran ko vo Daya karke bulaa sakti hai ?en sab savaalo ke javab ab Barkha Madam ke pass hai ?

    Reply
  • Whatever Barkha did was shameful, this is a clear picture of what greed can do to a person. She should have thought that she is among few of the blessed females who have risen to this level, instead this thing went into her head and she misused the privelege. Barkha will always be remembered as a journalists whom anybody can buy after paying her price tag. Shame on you Barkha, u are the curse to be born on Indian soil.,

    Reply
  • krishna murari says:

    hindi me ik kahawat hai chor bole jor se wahi barkha apne apne tv show me kar rhi thi inlogo ko to daura daura ke pitna chahiye. Media ko dhandha bana diya hai. kya kijiyega patrakar to dalal shuru se hi ban jata hai, naukri dhundate waqt batana parta hai ki sir hum aapke fufa ke mamu ke ladke ke dost ke sale bol rahe hai, aapke yahan jagah khali hai mujhe rakh lijiye DALALI yahi se shuru ho jati hai. Jabtak sampadak ke charno pe nahi girenge tabtak sale milenge bhi nahi. Muftkhoro ko rajniti aur media se bahar kar dena chahiye.kitna paisa chahiye jine khane ke liye. Are jab dhandha hi karna hai to in dono fieldo ko chhodo utar jao market me , company banao mehnat karo. aapse behtar vo chhote mote log hai jo 7000-8000 Rs monthly kamate hai aur apne pariwar ka pet palte hai.

    Reply
  • ABHINAV TRIVEDI says:

    bharkhaji se sirf ek sawal ki jahan hum media person kaam krte hai wo hai janta kya kisi b maamle me media kaaa naam aana chahiye,i think nhi aana chahiye aur rhi barkhaji ki baat toh wo hum jaise student ke liye misaal hai media me apna carrier banane ke liye,log unhe aadaesh maante hai agar unhe kisi maamle me trap kiya jata hai toh sirf unhe badnaam aur unki chaai bigaadne ke liye,bcoz barkha dutt is like a superwomen for every media person,unki kabliyat aur tajurbe bht hai,jab itne saal kaam krte hue unka naam nhi aaya toh abbb kyo unhe katghare me khada kiya gya hai,barkha mam i m always with u

    Reply
  • daaman paak saaf nahin ho sakega…..pronnoy aur shobhana bhartiya ko kadi karravaee karana padegi…aur koi rasta nahin..

    Reply
  • sandip thakur says:

    journalist se accha dalal nahi ho sakata.because journalist ki entry kahin bhi ho sakti hai.maan lejeye ki koi patrakar red light area mein mauj masti karne jata hai aur pakara jata hai.woh yeh bata kar ki woh toh randio ke life style per news karne aya tha kah kar aasani se bach sakta hai.barkha dutt ka bhi haal kuch aisa hi hai.dalali ki baat samne aa gai to kah rahi hain ke woh to nera radia ko khabar pane ke leye bebkhuf bana rahi thi. barkhajee kise bebkuf bana rahi hain.pata chal gaya toh news nahi toh maal andar.but where is the news,barkhajee? aap ne telecast kya tha kya?
    metro editor
    mahanagar (Delhi,Mumbai & pune)

    Reply
  • Apne channel par Barkha Dutt ‘bepardaa’ nahin hui, balki yeh saara praayojit tha. Buzurg sampadakon ko dhaal banakar apni baat janta tak pahunchane ka. Kis besharmi ke saaath Sonia Singh Barkha ka bachaav kar rahi thi, kaise baar baar Manu Joseph ko rok rahi thi, kaise Dilip Padgaonkar aur Sanjay Baru (Manmohanji ke puraane Press Salahkar) Barkha ko puchkaarte rahe. Yeh public hai, sab jaanti hai,.

    Reply
  • Jani mani , Tha-kathit Dhrm nirpesh ptrkairta ki almberdar Brulkha Dutt ki aise CHICHA-LEDAR kisi nay socha bhi na hoga .Jinko kashmiri Atankwadio ka Manav adhikar hanan to dikhta hai parntu Lakho Kashmiri hindu Shradarthio ki Aah ! nahi sunai padti hai. Brkha agar aap may jara bhi natikta ho to aap ptrkarita raam–raam kar lay.

    Reply
  • ye journalist apne ko desh ka choutha stambh khte hai.
    khi police rokti hai to shan se press ka card nikal kr dikhate hai jaise galat krne ko bhagwan ne enhilicence diya hai
    ydi desh ka sabse corrupt sector hai to ye hai media
    usme bhi electronic media usme bhi news channel

    koi new yound ladka jata hai noukri ke lie to khte hai ki vacancy nhi hai
    koi ladki jati hai to usase khte hai tum room pr milne aa sakti ho
    ydi wo taiyar hai to vacancy create kr dege any how ydi nhi vacancy hai to koi new comer join kiya hai to use bbhaga kr create kr dege
    kyoki uske sath jo sona hai unhe
    50 years ka aadmi apne beti ke barabar 20-25 sal ki ladki ke sath sota hai
    enka bas chale to kisi ko nhi chodege
    kuch dino me public enhe chouraho pr douda douda ke maregi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *