बरेली में खराब है अमर उजाला का हाल, नीचे देखिए सबूत

अमर उजाला, बरेली का बुरा हाल है. अपने को सबसे तेज रफ्तार बताने वाला अमर उजाला हिन्दुस्तान अखबार की पुरानी खबरें छापकर अपना काम चला रहा है, वह भी एक या दो दिन पुरानी नहीं बल्कि एक-एक महीने पुरानी खबरें हैं. पाठकों की आंखों में धूल झोंकने के लिए हिन्दुस्तान में छपी खबरों में हल्का सा फेरबदल करने की कोशिश की गई है, लेकिन रिपोर्टर सफल नहीं हो सके हैं.

इसके बाद भी अमर उजाला के रिपोर्टर और पत्रकार बाजार में अपनी काबिलियत की ताल ठोंकते घूमते हैं. चौंकाने वाली बात तो यह है कि इन पुरानी खबरों को रिपोर्टर तो लिखता ही है लेकिन संपादक, समीक्षा करने वाले, सिटी इंचार्ज, डेस्क प्रभारी के अलावा नोएडा में बैठे मालिक और उनकी बुजुर्गवार टीम को भी यह दिखाई नहीं दे रहा है. शर्मिंदगी की बात तो यह है कि पुरानी खबरें बाइलाइन छापी जा रही हैं. यही हाल रहा तो जनता अमर उजाला से जल्‍द ही किनारा कर लेगी. कुछ खबरों की स्‍कैन कॉपी भेजी जा रही है, जो हिंदुस्‍तान में पहले ही छप चुकी है.

हिंदुस्‍तान में पांच अगस्‍त को प्रकाशित खबर

अमर उजाला में छह सितम्‍बर को प्रकाशित खबर

हिंदुस्‍तान में अठारह मई को प्रकाशित खबर

अमर उजाला में सत्‍ताइस अगस्‍त को प्रकाशित खबर

एक पत्रकार द्वारा भेजा गया पत्र.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “बरेली में खराब है अमर उजाला का हाल, नीचे देखिए सबूत

  • ashok kumar singh says:

    हिंदुस्तान वाले क्या साफ़ सुथरे है. यहाँ भी नक़ल करके काम चलाया जा रहा है. खासकर ब्यूरो ऑफिसों में तो इन्टरनेट से दुसरे जिलो की खबरे उड़ाकर अपने जिले से छाप दी जाती है. हर जगह यही हो रहा है.

    Reply
  • ISHTIYAQ KIRMANI says:

    hindustan akhbar ne jo ochha lanchhan amar ujala par lagaya hai ooh unki soch ki disha ko darshane kw liye kafi hai, inki jila desken purani hi khabren chhapne ki aadi ho chuki hain.

    Reply
  • opl srivastava says:

    amar ujala wale bahut pahle se yes kam kar rahe hain. Gorakhpur unit ki bhi bahaut durdash hai. Yaha ke patrkar se to commisinor tak itna naraj hai ki unhone amar ujala ko na padhane ka farman tak jari kar diya hai. Yakeen na ho to kishi bhi gorkhpurwale patrkar se jankari kar len.

    Reply
  • अमर उजाला अच्छी रिपोर्टिंग कर रहा है. नक़ल का आरोप बकवास है.
    सी.पी. सिंह… ये जनाब तो chaddha होटल में रह रहे है. इनकी साख इतनी गिर गयी है के होटल वाला अपना बकाया मांग के होटल खाली करने को कह रहा है, और ये जनाब अपना रौब झाड के टिके हुए हैं.

    Reply
  • लाठीचार्ज की खबर को हिन्दुस्तान लिखता है कि पुलिस ने समझा बुझा कर लोगों को हटा दिया!

    Reply
  • संजीव द्विवेदी भैया आजकल बहुत झुक के काम कर रहे है. जब भी क्राइम की खबरें छूटती हैं तो संजीव द्विवेदी भैया सी.पी.सिंह से पूछते हैं. कई बार मीटिंग में भी ये बात उठ चुकी है. इन बातों पे सी.पी.सिंह बौखला जाते हैं. असल में संजीव द्विवेदी भैया के लिए सी.पी.सिंह बोझ बन गए हैं. संपादक जी फिलहाल कोई जवाब नहीं दे रहे हैं.

    इन सब से बौखलाए सी.पी.सिंह दूसरे पेपरों पे अनर्गल आरोप लगाने लगे हैं.

    Reply
  • ashwanipratap says:

    Bareilly Amar ujala me Parbhat ji ka apna koe control nahi hai. wah hai fie sampadak hai. team ko sath lekar chalne ki chhamata nai hai.wah shobha ki wastu hai. achchhe log kinara karte ja rahe hai.Amar ujala ka HR department nihayat ghatiya hai. jati vishesh ka kabja hai.Rajul ji samaya hai. chet jao. varna HR aur Prabhat jaise log dubo denge.HT Hindi me bhi cp,singhs,diwedi chor hai.yek singh to net se khabar churate hai.Ranikhet,Almora me sena ki jamin per kabja ki khabar kio chhapi? wah bhi Bareilly ke paper me. duniya sab janti hai.

    Reply
  • hindustan ki amar ujala dwara purani khabre chhapne par jo saboot pesh kiya hai usse amar ujala ke log baukhala gaye hai. khisiyani billi khambha noche wali halat ho gayi hai. kabhi farji nam ravi nam se bakaya ki baat kar rahe hai to kabhi crime ki khabren chhotne ki. pagal aadmi bhi janta hai yadi koi kiraya nahi dega to woh thane jayega. sansthan ke afsaro se shikayat karega. jaise bite saal amar ujala ke patrkar ne makan malik ko kiraya nahi diya tha aur 1.5 lakh mage the to makan malik ne thane me tehrir de di thi. hindustan rojana 8-10 news extra chhap raha hai. ashwani ji aur ravi ji! shyad aarop lagane se pahle apna chashma banwa le, jisse aapko pata chal jaye ki khabre kiski chhot rahi hai. ligta hai aapko hindustan ke kuchh logo se niji dushmani hai. khud news chori kar rahe hai aur hindustan ke logo ko chor bata rahe hai.sahi baat to yeh hai ki amar ujala dalalo ka adda ban gaya hai. ajeet bisaria apne wikil bhai amit bisariya ke jariye jamkar dalali kar raha hai. awneesh pande ne thano se wasooli, warrant hone ke wawjood arresting rukwana, AC hotel par kabja karke wasooli karna.ajai sexena dwara pulis ki dalali karna adi kai aise nam hai jinhone amar ujala ki chhavi ko batta laga rahe hai.awneesh pandey jagran haldwani me the tab shahjahanpur se sarkari adhikari se wasooli me hataye gaye the.behtar to yah hai ki amar ujala ke log baukhlahat ko chhod galti swikaren aur ochhi harkaten band karen. malik rajul ji ko bhi chahiye ki nakal choro ko sabak sikhayen.

    Reply
  • Rajendra Sharma says:

    Akhbaron mein reportron par kaafi dabav rahata hai. subah meeting mein aao, do story prastavit karo, sham ko routine khabrein aur prastavit story file karo, fir shaam ko hi agle din kaunsi story doge-do story batao. fir hafte bhar ki khabaron ki suchi do. iske baad mahine bhar ki story ki suchi alag se do. aur uspar turrah yah ki hafte bhar ke karyakramon ki suchi yani calander do ki tumhari beet par hafte mein kya karyakram hain. Itne dabav par har reporter aisa hi karta hai ki aik doosre akhbaar ki story ko badalkar khabar prastavit kar dete hain use update kar fir se chaap dete hain. main samajhta hun ki Hindustan aur anya akhbaron ke reporter bhi yahi karte hain. ab yah to saaf hai ki uprokt khabar jisne di voh amarujala ke reporter se khundak rakhta hai. varna kaunsa reporter doodh ka dhula hai. jay ramji ki

    Reply
  • Rajendra Sharma says:

    Amar ujala mein jab Hindustan ke group sampadak Shashi Shekhar the to voh khud reporteron ko sikhate the ki hamse agar koi khabar miss hoti hai to hum use agle din update kar chhap sakte hain. fir nakal ka jhagdha kaisa?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *