मीडिया पर भड़के रतन टाटा

मुम्बई। उद्योगपति रतन टाटा ने कार्पोरेट घरानों के लिए लॉबिंग करने वाली नीरा राडिया और उसकी उद्योगपतियों, प्रभावशाली राजनेताओं, पत्रकारों के साथ बातचीत की टेप के लीकेज को मीडिया उन्माद करार दिया है। टाटा का कहना है कि राडिया के साथ बातचीत का तथाकथित टेप महज परदा है जिसकी आड़ में इस खेल के बड़े खिलाडियों को बचाया जा रहा है। उन्होंने मीडिया को इस मसले को अघिक तवज्जो देने का आरोप लगाया।

एक समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में टाटा ने कहा कि स्पेक्ट्रम स्केण्डल की असलियत कुछ और है। उन्होंने इसे मीडिया द्वारा अधिक उठाया गया मुद्दा करार दिया। टाटा ने कहा कि सरकार को इस मामले की उचित जांच करनी चाहिए। मैं चाहता हूं कि इस मामले में जो दोषी हैं, वे सामने लाए जाएं। टाटा ने इस टेप को मीडिया में मिल रही कवरेज की आलोचना की। उन्होंने कहा कि मीडिया वाले आरोपों की झड़ी लगा रहे हैं। एक अनाघिकृत टेप के आधार पर मीडिया क्रेजी हो रहा है। मैं चाहता हूं कि सरकार इस मामले में एक स्टेण्ड लेकर जांच बुलाए। उल्लेखनीय है कि नीरा राडिया की एजेंसी टाटा और रिलायंस के पब्लिक रिलेशन का काम देखती है। नीरा से सरकारी जांच एजेंसियों ने 8008 के 2 जीस्पेक्ट्रम मामले में पूछताछ की थी।  कैग के मुताबिक इस नीलामी से देश को 1 लाख 76 हजार करोड़ का नुकसान हुआ। साभार : पत्रिका

Comments on “मीडिया पर भड़के रतन टाटा

  • JAI KUMAR JHA says:

    रतन टाटा जैसे उद्योगपतियों को जिसदिन इस देश की जनता और असल पत्रकार पूरी तरह नंगा करेंगे तबजाकर इस देश में असल लोकतंत्र आएगा…………ऐसे उद्योगपतियों की वजह से इस लोकतंत्र की आत्मा रो रहा है……..

    Reply
  • yashovardhan nayak says:

    रतन टाटा ने आरोप लगाया था ,कि उनसे रिश्वत मांगी गई थी ,इसलिए वे विमानसेवा के धंधे में नहीं उतरे ,किस मंत्री ने टाटा से पैसा माँगा उसका नाम आज तक टाटा ने नहीं बताया? बिना स्पष्ट नाम के आरोप लगाना ,’चोर कि दाढ़ी में तिनका साबित करता है’. नाम लेकर टाटा आरोप लगाने की हिम्मत क्यों नहीं करते ?यशोवर्धन नायक टीकमगढ़ .yashovardhan.tkg@gmail.com

    Reply
  • My dear friend: Tata ki band bajakar asli loktantra thode hi aa sakta hai. Is desh ko police-politicians-thekedar-babu mafia loot rahe hain. Jab tk is mulk me angezon ke diye hue IAS, IPS, IFS, jaisi sewaaon ko bhang karoge nahin, tab tak yahi system (jise hum, aap loktantra kahte hain) rahega. Japan, US, France aur doosre mulkon me jakar wahan ki bureaucracy ko dekho, aur Bharat ke hiton ko dekhte hue waisi bureaucracy taiyar karo. Tabhi Rajiv Gandhi ke 85 paise chori hone se bach jayenge, aur ye baat Rahul jaanta to hai, par maanne ko taiyar nahin. Use dar lagta hai.
    Rahi baat Tata ki. Bhaiya, saare udyogpatiyon-vyapariyon ka dhanda rishwat-favours dekar hi chalta hai. Yaad karo wo din, jab Indian Express ne Tata ke tarafdar swargiya Field Marshal Manekshaw ka tape chhapa tha jisme ULFA se deal ki baat kahi gayi thi. Janta jaldi bhool jaatihai.

    Reply
  • madan kumar tiwary says:

    Ratan jI i know nothing is going to happend in 2g. Corporate houses donate handsome amount to all most every political parties, though i have reservation whether communist are too in that flock. JPC will only provide platform and opportunity to other deprived, who could not encash 2g deal. Stage has been prepared, Tata moved court, Perliament adjourned, Cong dismissed demand of Jpc. The next episode is congress agree for Jpc and that will subside furore. that is the end of this game. who will fight, Yashvant ? where you will get platform. loading Page of B4M will take more time with sound reason of server slow down.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *