विशाल और रुपेश ने शुरू की नई पारी

दैनिक जागरण, वाराणसी से विशाल श्रीवास्‍तव ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे मार्केटिंग मैनेजर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी हिंदुस्‍तान भागलपुर के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी मार्केटिंग मैनेजर बनाया गया है. उन्‍हें पुरुलिया की जिम्‍मेदारी सौंपे जाने की संभावना है. विशाल कुछ दिन पहले ही अजय सिंह के अमर उजाला जाने के बाद यहां की कमान संभाली थी. वे जागरण के साथ कानपुर और बरेली में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

जमशेदपुर में 2एमबी सेंटर में कार्यरत रुपेश कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर रिपोर्टर थे. वे अपनी नई पारी आर्यन टीवी के साथ शुरू करने जा रहे हैं. इन्‍हें वहां भी रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. इसके पहले रुपेश बिहार से जुड़े हुए थे लेकिन तत्‍कालीन प्रभारी प्रवीण बागी से संबंध ठीक नहीं होने के चलते इनका तबादला जमशेदपुर के लिए कर दिया गया था. पिछले एक साल से वे जमशेदपुर में रिपोर्टिंग कर रहे थे. अब आर्यन के साथ उनके पटना लौटने की इच्‍छा पूरी हो गई है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “विशाल और रुपेश ने शुरू की नई पारी

  • ashutosh kumar pandey says:

    वैसे रुपेश को मैं मई 2004 से जानता हूं। जब वे पत्रकारिता में नए थे और उनके मन में कुछ अच्छा करने का जुनून था। सिवान के कई लोग वैसे मीडिया से जुड़े रहे। रुपेश की पहचान भी पहले से लोगों से अच्छी रही। लेकिन उसके बावजूद भी रुपेश ने कभी अपने काम में किसी की पैरैवी और पहचान नहीं झलकने दी। ईटीवी के लिए गहरा धक्का है। यदि हमारे स्पीरिचुअल चेयर मैन अच्छी पत्रकारिता की दुहाई देते तो रुपेश जैसे लोगों को ईटीवी नहीं छोड़ना पड़ता। मैंने भी ईटीवी को मजबूरी और योग्यता की अनदेखी के कारण ही छोड़ा। हालाकि इसमें ईटीवी के उस समय के वर्तमान बिहार प्रभारी प्रवीण बागी का कोई दोष नहीं। प्रवीण बागी जी वाकई लोगों की योग्यता को पहचानने का दम खम रखते हैं। यदि ऐसा नहीं होता तो एक स्ट्रींगर को लोकसभा चुनाव में आडवाणी और बाकी राष्ट्रीय नेताओं का बाईट लेने नहीं भेजा जाता। हां………..इतना तय है कि कुछ कानफोड़ू टाईप के लोगों से हर हाउस परेशान है। ईटीवी में रुपेश की पारी काफी सराहनीय मानी जाएगी। खासकर कोसी पर बनाए गए उनके सीरीज कोसी का सच का कोई जबाव नहीं………..। और उनका वह पीटीसी………..हर उत्सव के बाद उदासी होती है……….हर तबाही का मंजर ……….

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *