” हेड महोदय पैसा नहीं मिला तो कल से काम बंद”

छोटे-छोटे चैनलों के स्ट्रिंगर किन हालातों से गुजर रहे हैं, ये शायद लाखों की सेलरी पाने वाले उनके संपादकों को पता नहीं है. बड़े मंचों पर बड़ी भाषणबाजियां करने वालों के लिए आर्यन टीवी के इन स्ट्रिंगरों का दर्द एक सबब हो सकता है. जो दिन-रात चैनल के लिए मेहनत करते हैं परन्‍तु चैनल को उनके सुख-दुख से कुछ भी लेना देना नहीं होता है. चैनल प्रबंधन के रवैये से स्ट्रिंगर परेशान हैं.

आर्यन टीवी के लिए झारखंड के नक्‍सल प्रभावित पांच जिलों में काम करने वाले स्ट्रिंगरों को तीन माह का वेतन नहीं दिया गया है. जिससे परेशान स्ट्रिंगरों ने कल यानी 13 जुलाई काम बंद करने की चेतावनी दी है.  उन्‍होंने चैनल हेड को भी अपनी कथा-व्‍यथा से अवगत करा दिया है. नीचे स्ट्रिंगरों के दर्द तथा चैनल हेड को लिखा गया पत्र….एडिटर.


यशवंत, सरजी, नीचे वो आवेदन है जो हमने अपने चैनल हेड, स्टेट हेड और इनपुट को भेजा है. सब्जबाग दिखा कर हमे चैनल में जोड़ा गया था. मैं गौतम लेनिन लोहरदगा से सहारा समय का दामन छोड़ आर्यन का साथ थामा था. उस वक्त चैनल हेड के रूप में संजय मिश्रा थे. लेकिन उनके जाने और गुंजन सिन्हा के आने के बाद हमारी स्थिति बेहद ख़राब हो गई. हमें स्टाफर से चुपचाप स्ट्रिंगर बना दिया गया. क्यों और कैसे इस कारण की सूचना आज तक नही दी गई. कमोवेश हर चैनल की यही स्थिति है पर वेतन पर बहाल कर डेली मजदूर बना देना ये कहां तक न्यायोचित है..?

हमारी स्थिति तो धोबी के कुत्ते जैसी हो गई है. परिवार का बोझ भी हमारे उपर है ऐसे में चैनल की मनमानी के हम शिकार हो गये है. इसके अलावा झारखण्ड राज्य के नक्सल प्रभावित जिले लातेहार, लोहरदगा, पलामू, गुमला और सिमडेगा में आये दिन होने वाली नक्सली घटनाओं को लेकर भाग दौड़ होता रहता है. खबरों के पीछे हम तो दौड़ते है पर चैनल हमारी समस्यों के प्रति उदासीन है. ऐसे में हम पांच जिले के स्ट्रिंगरों ऩे फैसला लिया है कि अब हम बिन वेतन काम नहीं करेंगे. इसलिए ये आवेदन हमने आज अपने विभाग को भेजा है, जिसकी एक कॉपी आपको भेज रहा हूँ. ताकि हमारे भावनाओं को आप प्रमुखता से प्रकाशित करे.

हम पांच स्टिंगर निम्न है जो कल से काम बंद करेंगे जब तक हमारी मांग पूरी नही हो जाती. इसके अलावे झारखण्ड राज्य के सभी जिले की स्थिति ऐसी ही है. रांची राज्य मुख्यालय कर्मियों को भी इस माह वेतन से वंचित कर दिया गया है. और कब तक मिलेगा ये समझ से परे हो गया है.

1. गौतम लेनिन, लोहरदगा, सहारा समय छोड़ आर्यन से जुड़ा था स्टाफर के रूप में
2. मनीष कुमार, लातेहार, स्ट्रिंगर 
3. श्रवन पाण्डे, पलामू, स्ट्रिंगर
4. धनीशरण, सिमडेगा, स्ट्रिंगर
5. सुनील कुमार चौबे, गुमला, स्ट्रिंगर

गौतम लेनिन

लोहरदगा

मो. नम्‍बर – 09334025060


सेवा में,

चैनल हेड महोदय

आर्यन न्यूज़

पटना

विषय-न्यूज़ नही भेज पाने के सम्बन्ध में

महाशय,

उपरोक्त विषय के सन्दर्भ में कहना है कि पिछले तीन माह से हमे वेतन नही मिलने के कारण हमारी स्थिति काफी दयनीय हो गई है.न्यूज़ फील्ड से लाने के अलावा भेजने और खबर निकासी में प्रतिदिन नगद पैसे खर्च होते है इस बात से आप भी वाकिफ है.हर माह हमने अपने चैनल को हर खबरों के मामले में लीड दिलाई.चैनल के प्रति हम तो गंभीर है लेकिन आप हमारे प्रति गंभीर नही लग रहे है.तीन माह पहले हमे राशि उपलब्ध कराई गई थी.अब आप खुद सोच सकते है कि इस महगाई में हम बिन बेतन के काम कैसे कर पायेंगे. हर महीने हमे वेतन भेजने की उम्मीद तो दिलाई जाती रही पर सच्चाई कुछ और ही निकला. कर्ज के बढ़ते दवाब और उम्मीद के बीच हमने हमेशा कम्पनी का हित सोचा है. लेकिन कंपनी को भी हमारे परिस्थिति के बारे में सोचना चाहिए. अब हमारी स्थिति बेहद ख़राब और दयनीय हो गई है ऐसे में हम काम कर पाने में अक्षम है.

अत: आपसे नम्र निवेदन है कि हमारे हालत पर तरस खाते हुए हमें जल्द से जल्द वेतन भुगतान करने कि कृपा करे. वेतन नही मिल पाने के स्थिति में हम पांच जिला लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, लातेहार और पलामू के रिपोर्टर कल दिनांक 13 जुलाई से किसी भी तरह के न्यूज़ भेज पाने में असमर्थ होंगे.और इसकी सारी जवाबदेही चैनल की होगी.

विश्वासभाजन

जिला रिपोर्टर

लोहरदगा, गुमला, लातेहार ,पलामू और सिमडेगा

झारखण्ड राज्य

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “” हेड महोदय पैसा नहीं मिला तो कल से काम बंद”

  • pankaj vasistha says:

    ऐसे चेनलो को तुरंत बंद करवा दिया जाना चाहिए जो अपने रिपोर्टरों को वेतन देने में आनाकानी करते हैं ये चेनल समाज में नए नए ब्लेक्मेलर्स को पैदा कर रहे हैं जब चेनेल से पैसा नहीं मिलेगा तो बंदा क्या करेगा ? छोटे मोटे चेनलो को लाइसेंस देते वक़्त भी इनकी औकात देखकर ही इन्हें न्यूज़ चेनेल के रूप में काम करने की स्वीकृति दी जनि चाहिए बरना ऐसे टटपूंजिया टी वी चेनलो के कारण हमारे कई भाई लोग भुकमरी की कगार पे हैं
    माननीय मनमोहन और अम्बिका सोनी जी सुन रहे हो क्या ?

    Reply
  • Hon’ble Govener, Uttar Pradesh Lucknow
    Hon’ble Chief Minister, Uttar Pradesh Government Lucknow
    Shri Ajay Chuhan jee,
    District Magistrate-Agra.

    Subject :- Matter about – Taking bribery , Fraud appointment of 27 persons as a Clerk
    without any order from back date 11-11-1999, Scam of Millions and big
    Corruption, in Collectrate, AGRA (U.P.).
    —————–
    Attention Please , On dated-7-12-09 Hon’ble High Court, Allahabad passed an specific order in writ no.32874/2003 Rajendra Singh and others vs State. (You can see this judgement on internet). Some of its important points with documentory evidence are as follows:-

    Please acknowledge all the relevent documents of this matter

    1- The committee’s report of dated-11-11-1999, the concerned office note dated-8-5-2002 which the former District Megistrate, Agra, sanctioned on dated- 11-5-2002 saying that Committee’s report has not been sanctioned by the former District Megistrate, Agra. For knowing this, it is important to see letter no.47/G.C. dated-11-5-2002.

    2- Letter No.129/GC/AO dated-11-11-1999 and on this Board order no.1610/12-8A/86 dated-10-2-2000.

    3- ADM (City), Agra letter no.72/GC, dated-23-5-2001 and the Board order no.7026/12-8A/86 dated-6-9-2001 on this letter on dated-23-3-2002.

    4- Office letter no.174/G.C. dated-02-2-2009 and on this the board oder no.212/12-5A/86 TC, dated-25-3-2009.

    5- Letter no. 491/G.C. dated-9-10-1995.

    6- Letter no.173/GC dated-02-02-2009.

    7- The report of Emloyeement officer..

    8- The inspection letter no. 1882/CA dated-13-2-2003 of Commissioner, Agra Division, Agra.

    9- The concerned 27 persons were never appointed according to the U.P. District office (Collectrate) Ministrial Service Rules 1980.

    10- On dated-11-11-1999 the appointment of 27 persons were made which is against the rules and regulations of law. If they were appointed, why did they go in High Court Allahabad, with writ no.32874/03.

    11- The nature of all the writs, that had presented differently by the concerned 27 persons, was different. What was their (Writs) situation on dated-11-12-09 and what were the orders of Hon’ble High Court Allahabad in it.
    How the concerned 27 persons got all the salaries, increments, medical help, and other facilities from dated-11-11-99.

    12- On dated-10-2-2000, the Board of Revenue, U.P., Lucknow passed order no.1610/12-8A/86 and order no. 212/12-6A/86 TC dated-25-3-2009. In these orders Board of Revenue, Lucknow gave instruction which were misconstrued in office letter no.51/GC dated-11-12-2009.

    13- Why did the Board Order not mention like board order no.7026/12-8A/86 dated-06-9-2001.

    14- The all above 27 persons are not a Seasonal Assistant Wasil Baqi Navis. But neglecting the orders of Hon’ble High Court, and U.P.Board Orders the Concern officers and employees took the bribery of Millions. They appointed the 27 persons from back dated-11-11-99 from office letter no. 51/GC dated-11-12-2009 and regularise them after three months from dated-11-11-2001 from letter no. 169/GC dated 23 March 2010 without any rule and regulation on the posts of the clerk in the office of District Magistrate Agra. Those 27 persons are taking salary and all incriments from 1999 to till today. There is a big racket which is working in Collectrate Agra Corruption is on the highest point there and the employees’ life are in danger.

    15. In spite of presenting this matter so many times before the high Officers they accused employees are trying to close this matter by hook or by crook and they are also trying to mislead and misguide to D.M. Agra, on the alse facts.

    16. During investigation, In the premafacie you will find that who are the culprit officers and employees and how much government/Public money have been taken by doing treachery.

    The application is totally depend on official documents and real facts.There is a big racket which is working in Collectrate Agra Corruption is on the highest point there and the employees’ life are in danger. On account of being a corrupted group in collectrate agra,

    If Hon’ble will interfare in this matter, not only the big scam of 200 Crore will open but the accused persons name will also be exposed. S

    So please do inquiry in this matter with facts and evidences through making a committee or Confidentional inquiry so that we could get justice on priority. I hope that you will take right action without any delay. This is pure loot of state exchequer. With regard.
    Prabhu Dayal Sharma
    Social worker
    Jeoni Mandi Agra

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.