खशोगी के दोस्त का भी है एक टीवी चैनल

आलोक तोमरजैन टीवी से पैसे देकर परिचय पत्र पाते हैं जिला संवाददाता : दिल्ली से एक टीवी चैनल चलता है जिसके मालिक अंतर्राष्ट्रीय हथियार दलाल अदनान खशोगी से मिलने महागुरु चंद्रास्वामी के साथ अमेरिका जा चुके हैं और खशोगी की भारत यात्रा के दौरान उसके सम्मान में बहुत बड़ी पार्टी भी दे चुके हैं। वे कई बैंकों का पैसा हड़पने का और कई मकानों पर कब्जा करने का मुकदमा भी झेल रहे हैं।

अब भी उनका टीवी चैनल जिस तीन एकड़ जमीन पर चलता है वह सिंधिया परिवार की संपत्ति है और हालांकि राजमाता सिंधिया अपनी वसीयत में चैनल चलते रहने की बात कह गई है। मगर इस वसीयत को ही अदालत में चुनौती दी गई है। टीवी चैनल का नाम है जैन टीवी और इसके मालिक हैं डॉक्टर जिनेंद्र कुमार जैन। डॉक्टर जैन भारतीय जनता पार्टी की ओर से राज्यसभा के सदस्य भी रह चुके हैं और इन दिनों कांग्रेस में धक्के खा रहे हैं। एनडीए सरकार के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी के सुरक्षा सलाहकार बृजेश मिश्र के खिलाफ अपने चैनल पर अभियान छेड़ा था। इस चैनल का काम अब उन्होंने अपने बेटे अंकुर को सौंप दिया है और ये देश का अकेला ऐसा टीवी चैनल है जिसके जिला संवाददाताओं को परिचय पत्र लेने के लिए बाकायदा लाख रुपए का भुगतान करना पड़ता है। संदेश साफ है- पैसा दो और जम कर कमाओ।

जैन टीवी ऐसा अकेला भारतीय टीवी चैनल है जिसने आधी रात को ब्लू फिल्में दिखाने का सिलसिला शुरू किया था। आज भी अगर आपको टीवी के पर्दे पर दिखने का शौक है तो सिर्फ पचास हजार रुपए में आधे घंटे का स्लाट खरीद सकते हैं और कैमरे के सामने कुछ भी अनाप शनाप बोल कर जैन टीवी को दे दीजिए, उसका प्रसारण हो जाएगा। यह बात अलग है कि जैन टीवी के ज्यादातर कर्मचारियों को महीनों तक पूरा वेतन नहीं मिलता। कैंटीन चलाने वाले और टैक्सी वाले भी भुगतान नहीं होने के कारण काम करने से इंकार कर देते हैं।

डॉक्टर जैन पर जिसने भरोसा किया उसने मार खाई। उन्होंने भारत सरकार की यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया को 100 करोड़ रुपए के शेयर अपने जैन स्टूडियो लिमिटेड में खरीदने के लिए तैयार कर लिया और आइडिया था कि इंटरनेट पर टीवी दिखाया जाएगा। यह तब की बात है जब ब्रांड बैंड भी नहीं आया था। इसी प्रोजेक्ट के लिए डॉक्टर जैन ने इंडस्ट्रीयल बैंक ऑफ इंडिया से 24 करोड़ निवेश की चिट्ठी भी ले ली और बाद में एक इंटरव्यू में कहा कि हमने ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स के दो करोड़ चालीस लाख रुपए चुका दिए हैं और हम पर कोई कर्जा नहीं है। ये कहानी कुछ वैसी ही हुई कि आपने रामू को मारा और श्यामू से माफी मांगी।

जैन टीवी ने ग्रेटर नोएडा में 12 एकड़ जमीन कल्याण सिंह सरकार के जमाने में ले ली थी और एक सॉफ्टवेयर टेक्नालॉजी पार्क बनाने का वादा किया था। इसके लिए शेयर बेच कर 4 करोड़ रुपए भी कमा लिए थे मगर यह सॉफ्टवेयर पार्क कहीं नहीं है। जैन टीवी ने शेयर बेचने और खरीदने वालों के सात घंटे रोज के कार्यक्रम चलाने शुरू किए। मगर देखने वाले कहां थे। थाइलैंड के एक उपग्रह से 14 लाख डॉलर प्रति वर्ष पर इंटरनेट और इंटरनेट फोन तथा ब्राड कास्टिंग के लिए अनुबंध भी कर लिया और उसका पैसा भी नहीं चुकाया।

बृजेश मिश्रा से उनका झगड़ा बहुत विचित्र लेकिन खतरनाक कारणों से शुरू हुआ था। खुद डॉक्टर जैन ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को एक पत्र लिख कर कहा था कि रॉ की एक गुप्तचर रिपोर्ट ने उन्हें आईएसआई का एजेंट कहा है और जैन टीवी को आईएसआई का संगठन बताया हैं। पत्र में कहा गया था कि यह रिपोर्ट गृह मंत्रालय से गृह मंत्री की जानकारी के बगैर सूचना और प्रसारण मंत्रालय को भेज दी गई। गृह मंत्री लाल कृष्ण आडवाणी हुआ करते थे और उन्होंने डॉक्टर जैन के इस झूठ का पर्दाफाश कर दिया।

जैन ने अपने पत्र में यह भी लिखा था कि सिंधिया विला सरोजनी नगर में करोड़ो रुपए की जो तीन एकड़ जमीन जैन टीवी के पास है उसे तब वाजपेयी सरकार में मंत्री बसुंधरा राजे सिंधिया को सौंप देने का दबाव उन पर डाला जा रहा है और पुलिस तथा नगरपालिका के अधिकारी बार बार चैनल में आ रहे हैं। पत्र में लिखा था कि मैंने बहुत सारे प्रधानमंत्री आते जाते देखे हैं और मैंने आपके प्रधान सचिव को बता दिया है कि मैं सिर्फ आपके आदेश का आदर करता हूं क्योंकि मैं आपका आदर करता हूं। उन्होंने तो यह भी लिखा था कि वे पार्टी के सच्चे सिपाही हैं।

डॉक्टर जैन तिकड़मों के बादशाह हैं और शायद अंतर्राष्ट्रीय ठग चार्ल्स शोभराज को भी एक दो तरीके सिखा सकते हैं। जैन स्टूडियो लिमिटेड का मुख्यालय ओखला में मथुरा रोड में है और एक दिन अचानक डॉक्टर जैन का अपने चैनल संपादक को फोन आया कि कॉरपोरेट ऑफिस से बहुत सारे कंप्यूटरों की चोरी हो गई है और इन कंप्यूटरों में बहुत कीमती जानकारियां थी। यह संपादक मैं यानी आलोक तोमर था। जब चोरी की जगह देखने पहुंचे तो पता चला कि खिड़की की जाली काट कर चोरी हुई बताई गई है। इस कटी हुई जाली का जब नाप लिया गया तो पता चला कि वहां से कंप्यूटर निकल ही नहीं सकता। जैन साहब अपने ही झूठ में फंस गए थे और उनके साथ राजमाता विजया राजे सिंधिया के अब दिवंगत हो चुके सचिव शंभा जी राव आंग्रे भी थे।

जैन टीवी देश के सबसे पुराने टीवी चैनलों में से एक है और यह देश के सबसे कम देखे जाने वाले टीवी चैनलों में से भी है। फिर भी जिला संवाददाताओं के जरिए बाकायदा ब्लैकमेलिंग का अधिकार देने वाला भी यह अकेला चैनल है। डॉक्टर जैन की एक करामात यह भी थी कि उन्होंने मेनका गांधी से वह सूर्या पत्रिका खरीद ली थी जो कवर पर नंगी तस्वीरे छापने के लिए कुख्यात रही है। यह पत्रिका भी कुछ दिन चला कर बंद कर दी गई। वैसे जैन साहब में कुछ बात जरूर है जो कमलेश्वर जैसे महान साहित्यकार और पत्रकार जैन टीवी के संपादक बनने को तैयार हुए। बाकी को छोड़िए, मेरे जैसा आदमी अच्छे खासे आज तक को छोड़ कर जैन टीवी का संपादक बन गया। बस कांग्रेस में उन्हें कोई घास नहीं डाल रहा है और चंद्रास्वामी से भी आज कल उनकी बोलचाल बंद है।

लेखक आलोक तोमर वरिष्ठ पत्रकार हैं.

Comments on “खशोगी के दोस्त का भी है एक टीवी चैनल

  • rrrrrrrrrrrrrrr says:

    [u]जैन टीवी देश के सबसे पुराने टीवी चैनलों में से एक है और यह देश के सबसे कम देखे जाने वाले टीवी चैनलों में से भी है। [/u]

    Reply
  • ASHOK CHAUDHARY says:

    शुक्रिया तोमर जी, आपने जैन साब की परतें तो खोली मगर काफी देर से जहाँ तक मेरी जानकारी है पिछले ७ साल से लोगों से पैसे लेकर पत्रकार बनाने का धंधा ये लोग कर रहे हैं, और तो और जिला ही नहीं तहसील स्तर पर भी ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं को ठगते रहे हैं /

    Reply
  • PRAWEEN KUMAR says:

    Aaj tak jain tv ke khilaf sarkar ne koyi karyvahi kyoo nahi ki hai? kyoki jain tv logo ko patrkar banane ke naam par n sirf khoob kamayi karne mai laga hai balki channel se judne bale kisi bhi reporter ko payment bhi nahi karta hai jiske chalte media me apana bhavishya banane ka sapna dekhakar channel ko hazaro rupaye dene bala shaksha barad ho jata hai. channel ki dukan kholkar baithe en chor bhaduo ko to sadak par khuleaam goli mar deni chahiye to fir sarkar koyi karyvahi kyo nahi karti? JAIN TV KO TURNT BAND KARKE LOGO SE PAISE THAGNE WALE EN CHORO KO KHILAF HAME BAGABAT KARNI CHAHIYE.———PRAWEEN KUMAR,EX REPORTER,JAIN NEWS ATROULI ALIGARH#9219129243.

    Reply
  • BIJAY SINGH says:

    DHANYAWAD ALOK BHAI.
    AISE HI JOKARO se media ki shakh girti hai.ye vyapari patrakaro ka shoshan kar ke apna ullu sidha karte hai.
    patrakar bhaiyon jara aise naumne channels se bach kar rahe.
    BIJAY SINGH
    JAMSHEDPUR

    Reply
  • tomer jee aapkae dawra jaintv ka adv. kranea ke leya thanks
    lakine ak slogan hai hati chalta hai to kutea bhughata hai
    jharkhand

    Reply
  • tomer jee aapkae dawra jaintv ka adv. kranea ke leya thanks
    lakine ak slogan hai hati chalta hai to kutea bhughata hai
    jharkhand ;

    Reply
  • alok ji…. kiya Dr. jain se mahine ke pese milne band ho gaye jo ab jakar unki pol patti khol rahe ho, ya deel karne me itne saal guzaar diye..apki wajha chahe jo bhi ho lekin aapki becheni dhekhkar afsoos ho raha he.. ab hum kiya kar sakte hen.. pehle bolna tha na…….bhagwan aapko sanyam de.. DEKH PARAYI CHUPDI MAT LALCHAWE JI, ROOKHI SOOKHI KHA OUE DHANDA PANI PEE !

    Reply
  • tomar saheb aapki bechani dekh kar bada dukh hua lekin kya baat hai ki itne dino baad aap jaintv aur s1 ke piche kyo lage hain toh maine kuch logo se pucha ki akhir me tomar saheb kya kar rahe hai toh jankari mili ki naukri ki talash me hain aur to aur tomar saheb adkachra gyan rakhte hain JAIN saheb aab Cong. me nahi BJP me saamil ho chuke hai kripya likhne ke pahle jankari durust kar liya kijiye

    AAPKA HUMDURD PATRAKAR

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *