भास्कर, रांची से जुड़े राजीव और अमित

रांची से शुरू होने जा रहे दैनिक भास्कर में नये लोगों की नियुक्तियों का सिलसिला जारी है. सन्मार्ग में सिटी एडिटर के पद पर काम कर रहे राजीव कुकरेजा ने अपने संस्थान से इस्तीफा देकर भास्कर ज्वाइन कर लिया है. उन्होंने पांच तारीख को भास्कर के नये दफ्तर में योगदान दिया. वे दैनिक भास्कर में वैल्यू एडिटर के रूप में काम करेंगे. राजीव कुकरेजा ने 25 वर्षों तक प्रभात खबर की सेवा की. इसके बाद विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में काम करते हुए सन्मार्ग पहुंचे थे.

उन्हें सन्मार्ग प्रबंधन ने रोकने की काफी कोशिश भी की. रांची में एक और अच्छे पत्रकार हैं अमित सिंह. वे एचRसी और एक्सक्लूसिव खबरों के माहिर माने जाते हैं. वे प्रभात खबर में पिछले आठ वर्षों से जूनियर रिपोर्टर के रूप में काम कर रहे थे. वे कम सैलरी के कारण थोड़ा अवसाद में भी रहते थे. वैसे भास्कर से जब उन्हें भारी-भरकम तन्ख्वाह का ऑफर आया, तो उन्होंने नयी नौकरी के लिए हामी भर दी, अब अमित सिंह भास्कर रांची में सीनियर रिपोर्टर के रूप में काम करेंगे.

Comments on “भास्कर, रांची से जुड़े राजीव और अमित

  • Kukreja sir sabse pahle apko badhai. Dainiak Bhaskar ke liye ye saobhagya ki bat hai ki kukreja sir jaise kartavanisth aur laborious beyakti mile. Inhone chote se chote Akhbaro ko bhi economically Daora diye hai. Inke karjo ke kayal media ke bare bare diggaj bhi hai.

    Reply
  • ek patrkar,ranchi says:

    Amit singh ne jitni exclusive khabre prabhat khabar ke lia chapi hai, utna shayad hi koi aur….prabhat khabar ke lia yah ek jhatka hai…age bhi kai log bhaskar jane ki taiyari mein hain….prabhat khabar ko ab savdhan ho jana chahiye

    Reply
  • aapki jankari ke liye bata du yaswant ji ki prabhat khabar ko 25 saal pure huei sirf ek hi saal hue hai aur rajeev kukreja ko kayi saalo pehle hata diya gaya tha. maine jab patrakarita mei kadam rakha hai tab se wo prabhat khabar se hatye ja chuke thei. aur mujhe 5 saal ho chuke hai. to kripya yashwantji aap koi khabar likhte waqt khud bhi janch kar liya kare. jaisa ki mjuhe pata hai aap khud isi madhyam se jure yani ki patrkar hai to patarkaro ko to facts sahi sahi hi dene chaiye.

    Reply
  • amit ke liye bhaut hi acha hua. wo pk mein bhaut pareshaan tha. jitna mein gya, agar wase utna milta hai, to uske liye achi baat hai. chala bhai sab thik baa, man laga kar kaam kariyaha.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *