ईटीवी और आज के रिपोर्टरों पर हमला

ईटीवी के रिपोर्टर पूरन सिंह रावत और आज अखबार के रिपोर्टर अनुज मिश्रा पर हमले की सूचना मिली है. उत्तराखंड के उधम सिंह नगर से खबर है कि ईटीवी के पत्रकार पूरन सिंह रावत पर परसों रात उस समय २ लोगों ने हमला किया जब वो खेल कर वापस अपने घर की तरफ आ रहे थे. श्री रावत ने रुद्रपुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज करा दिया है. इधर हमले के दोषियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पत्रकारों ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मुलाक़ात की. गौरतलब है कि ईटीवी के पत्रकार श्री रावत बीती रात खेलने के बाद मोटर साइकिल से अपने घर वापिस आ रहे थे तो इन्द्रा कॉलोनी के पास मोटर साइकिल पर सवार २ युवकों ने श्री रावत की आँखों में मिर्च पाउडर झोंकने की कोशिश की. पर श्री रावत किसी तरह अपने आप को बचा कर एक घर में घुस गए. बाद में श्री रावत व अन्य पत्रकार कोतवाली पहुच गए और उन्होंने २ अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा कायम करा दिया है.

इधर आज अमर उजाला के पूर्व ब्यूरो चीएफ़ फदिन्द्र गुप्ता की अगुवाई में शहर के वरिष्ठ पत्रकारों ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय रौतेला से मुलाकात कर श्री रावत के हमलावरों को गिरफ्तार करने की मांग की. पत्रकारों ने हमलावरों की जल्द गिरफ्तारी न होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री रौतेला ने पत्रकारों को आश्वासन दिया कि मामले का शीघ्र ही खुलासा कर दिया जायेगा. पत्रकारों के प्रतिनिधि मंडल में अनुपम सिंह, मोहन राजपूत, अनिल चौहान, राजकुमार फुटेला, केवल बत्रा, राजेश तोमर, भारत शाह, विधि चंद सिंघल, सुरेन्द्र तनेजा आदि पत्रकार मौजूद थे.

एक अन्य सूचना के अनुसार आज अखबार के संवाददाता पर परसों रात जानलेवा हमला किया गया. मामला यूपी के रायबरेली जिले का है. दैनिक आज अखबार के तहसील संवाददाता अनुज मिश्रा रायबरेली के परसवीपुर इलाके से समाचार कवर करके लौट रहे थे. रात 9 बजे लौटते वक्त बाइक सवार दो व्यक्तियों ने अनुज पर हमला बोल दिया. बताया जाता है कि अनुज को काफी चोट आई है. वे देर तक सड़क पर पड़े रहे. बाद में उन्हें रायबरेली के जिला अस्पताल में इलाज के लिए दाखिल कराया गया. पत्रकारों ने पुलिस प्रशासन से हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग की है. पुलिस मामले की जांच में जुट गई है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “ईटीवी और आज के रिपोर्टरों पर हमला

  • Randheer Ojha says:

    yah bahut hi sarmnak gatna hai . yadi patarkar par hamlai honai laga to bharat kai cauthai stmbha kahai jani wala patkhar ko log kaisai bacal ga sakai ga
    ….
    sabai patrkar banduo sai anurod hai ki aisi khabaro par patrkar banu EK ho….

    Reply
  • Prem Arora says:

    मीडिया के लोगों पर लगातार हो रहे हमलों में कहीं न कहीं उन लोगो का हाथ होता है जिनको यह बर्दाशत नहीं कि उनकी काली करतूतों की खबर आखिर मीडिया में आ कैसे गई. अभी पुलिस के विरुद्ध एक खबर करने पर काशीपुर कोतवाली के एक अफसर ने मुझे भी फसा देने की धमकी देते हुए काशीपुर के एक चौराहे पर घेर लिया पर आम जनता के लिए खबर करी थी इस लिए जैसे ही यह मामला सता के गलिअरों में पहुंचा तो उक्त पुलिस अधिकारी को ऊपर से पंगा ना लेने की चेतवानी आ गई. मीडिया के लोगों का आम जनता के हित में काम करना काफी मुश्किल होता जा रहा है. देहरादून में भी मीडिया वालों पर जिस तरह से हमला हुआ लगता है कि इस चोथे खम्बे को अब कलम के साथ साथ हथियार भी रखने पड़ेंगे शायद तभी ही जनता की सची लड़ाई लड़ सकते हैं. पूरण रावत भाई बड़ा रिपोर्टर हैं और खबर के मामले में किसी की नहीं सुनते शयद इसी का खिमियाज़ा उन्हें भुगतना पड़ा है. लेकिन हम भी हार मानने वाले नहीं हैं. जब तक हमलावर हाथ नहीं आते हमें खुद ही उन्हें ढूदना होगा पुलिस के भरोसे बैठ कर काम नहीं चलने वाला. भड़ास प्लेटफोर्म का शुक्रिया है कि संकट की घडी में एक हो जाते हैं. आओ अपनी लड़ाई खुद लड़ते हुए जनता को नियाएं दिलाते रहें.
    प्रेम अरोड़ा
    9012043100

    Reply
  • Prem Arora says:

    मीडिया के लोगों पर लगातार हो रहे हमलों में कहीं न कहीं उन लोगो का हाथ होता है जिनको यह बर्दाशत नहीं कि उनकी काली करतूतों की खबर आखिर मीडिया में आ कैसे गई. अभी पुलिस के विरुद्ध एक खबर करने पर काशीपुर कोतवाली के एक अफसर ने मुझे भी फसा देने की धमकी देते हुए काशीपुर के एक चौराहे पर घेर लिया पर आम जनता के लिए खबर करी थी इस लिए जैसे ही यह मामला सता के गलिअरों में पहुंचा तो उक्त पुलिस अधिकारी को ऊपर से पंगा ना लेने की चेतवानी आ गई. मीडिया के लोगों का आम जनता के हित में काम करना काफी मुश्किल होता जा रहा है. देहरादून में भी मीडिया वालों पर जिस तरह से हमला हुआ लगता है कि इस चोथे खम्बे को अब कलम के साथ साथ हथियार भी रखने पड़ेंगे शायद तभी ही जनता की सची लड़ाई लड़ सकते हैं. पूरण रावत भाई बड़ा रिपोर्टर हैं और खबर के मामले में किसी की नहीं सुनते शयद इसी का खिमियाज़ा उन्हें भुगतना पड़ा है. लेकिन हम भी हार मानने वाले नहीं हैं. जब तक हमलावर हाथ नहीं आते हमें खुद ही उन्हें ढूदना होगा पुलिस के भरोसे बैठ कर काम नहीं चलने वाला. भड़ास प्लेटफोर्म का शुक्रिया है कि संकट की घडी में एक हो जाते हैं. आओ अपनी लड़ाई खुद लड़ते हुए जनता को नियाएं दिलाते रहें.
    प्रेम अरोड़ा
    9012043100

    Reply
  • banaras me ibn 7 ke stringer ke stringer ko ek chemical factory ke logo ne band karke peta hai. aaj ki taja ghatna hai, shivpur thane me mukadma darj hua hai aur giriftaria bhi.

    Reply
  • digvijay singh rathor says:

    pooran singh rawat patrakarita ka bahut hee bahadur sipahi hai.har kam ko josh ke sat karta hai kisi khabar ko lekar kisi ne kunash nikalane ki kosis ki hai.
    patrakaro ko ish taraha ke hamlo se gharana nahi chahiye.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.