पैरोल पर रिहा मनु शर्मा को मीडिया ने फिर ‘पकड़ा’

मनु शर्मान्यूज चैनल ‘इंडिया न्यूज’, हिंदी दैनिक ‘आज समाज’ और हिंदी मैग्जीन ‘इंडिया न्यूज’ को संचालित करने वाली कंपनियों के चेयरमैन और कांग्रेसी नेता विनोद शर्मा के पुत्र मनु शर्मा के बारे में खबर आ रही है कि वे दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की सिफारिश और उप राज्यपाल तेजिंदर खन्ना की संस्तुति के बाद तिहाड़ जेल से पैरोल पर रिहा हो गए हैं। पहले वे एक महीने के लिए रिहा हुए थे लेकिन शीला दीक्षित की सिफारिश पर उप राज्यपाल ने उनके पैरोल अवधि को एक महीने और (22 नवंबर तक) बढ़ा दिया है। आज तक न्यूज चैनल की खबर पर भरोसा करें तो मनु शर्मा को पैरोल पर रिहा मां शक्ति रानी के बीमार होने के चलते उनकी देखभाल के उद्देश्य से किया गया लेकिन मनु शुक्रवार की देर रात दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में मौज-मस्ती करते पाए गए।

उधर, उनकी मां शक्ति रानी के बारे में बताया जा रहा है कि वे शुक्रवार को चंडीगढ़ में अंडर 19 महिला क्रिकेट टीम की घोषणा के वक्त चंडीगढ़ महिला क्रिकेट एसोसिएशन की महासचिव के बतौर एसोसिएशन की सचिव नूतन के साथ मीडिया से मुखातिब थीं। ये दोनों प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहीं थीं। जेसिका लाल मर्डर केस में दोषी पाए गए और आज तक की वेबसाइट पर प्रकाशित खबरआजीवन कारावस की सजा भुगत रहे मनु शर्मा को पैरोल पर रिहा करने के लिए सिफारिश करने वाली दिल्ली सरकार की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा है कि मनु शर्मा को नियम-कानून के तहत ही पैरोल पर रिहा किया गया।

सूत्रों के मुताबिक मनु शर्मा की पैरोल पर रिहाई के प्रकरण ने तूल पकड़ लिया है और कानून के कई जानकारों और जेसिका लाल के परिजनों ने इस पर सवाल खड़े कर दिए हैं। खासकर बीमार मां की देखभाल के उद्देश्य से पैरोल पर रिहा हुए मनु शर्मा के सम्राट होटल के एलीट नाइटक्लब ‘लैप’ में शुक्रवार-शनिवार की रात्रि देखे जाने के कारण मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की सिफारिश भी आलोचना के दायरे में आने लगी है। इंडिया टुडे की वेबसाइट पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने मनु शर्मा के पैरोल को तुरंत निरस्त करने की मांग की है तो सुप्रीम कोर्ट के एक अन्य वकील कामिनी जायसवाल ने कहा है कि जिस आधार इंडिया टुडे की वेबसाइट पर प्रकाशित खबरपर मनु शर्मा के पैरोल को बढ़ाया गया है उस आधार पर किसी हत्यारोपी का पैरोल कभी नहीं बढ़ाया गया। कामिनी के मुताबिक पैरोल पर तभी रिहा किया जाता है जब किसी की पत्नी गंभीर रूप से बीमार हों या फिर कोई नजदीकी गुजर जाए। ऐसे मामलों में भी पैरोल पंद्रह दिन या फिर ज्यादा से ज्यादा एक महीने के लिए होता है। जेसिका लाल की बहन सबरीना का कहना है कि पैरोल पर रिहा किए जाने के इस मामले में कानून का जमकर दुरुपयोग किया गया है।

ज्ञात हो कि मनु शर्मा के भाई कार्तिक शर्मा मैनेजिंग डायरेक्टर के रूप में इन दिनों इंडिया न्यूज चैनल, इंडिया न्यूज मैग्जीन और आज समाज अखबार का संचालन कर रहे हैं।  उनके पिता विनोद शर्मा केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं और हरियाणा की कांग्रेस की राजनीति के दिग्गजों में शुमार किए जाते हैं। जेसिका लाल मर्डर केस में मनु शर्मा के बरी हो जाने के बाद मीडिया ट्रायल के चलते कोर्ट ने फिर से इस मामले का संज्ञान लिया और मनु शर्मा को आजीवन कारावस की सजा सुनाई। 

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published.