ये इक चराग़ कई आधियों पे भारी है

यशवंत भाई, कृपया बधाई स्वीकार करें। किसी सेठ की इसी उपलब्धि से हमें खुशी नहीं होती। लेकिन आपके मामले में लगता है कि ये हमारे बीच के ही एक संघर्षशील साथी की हमारी अपनी उपलब्धि है। हवाई जहाज की यात्रा को भी मासूम नजरिये से लिखने वाले हमारे एक साथी ने निर्मम लोगों के बीच से जगह बनाते हुए आसमान छू लिया है, हमारे लिए यह गदगद होने की बात है।

कृपया अपनी मानवीयता को बचा कर रखिएगा। इस जमाने में यह अनमोल संपत्ति है।

आपका शुभाकांक्षी

ईशमधु तलवार

वरिष्ठ पत्रकार, जयपुर

ishmadhu14@gmail.com


प्रिय यशवंत जी,

नमस्कार,

बी४एम के करीब एक साल में ही एक लाख की रैंकिंग हासिल करने पर हार्दिक बधाई … अपनी खबरों की धार ऐसे ही बनाए रखिए और विरोधी विचारों को भी साइट पर इसी तरह स्थान देते रहिए … दरअसल ये बताता है कि बी४एम को अपने हर शब्द पर किस क़दर यक़ीन है। बशीर बद्र ने लिखा है-

“मुखालिफत से मेरी शख़्सियत संवरती है

मै दुश्मनों का बड़ा एहतेराम करता हूं”

मुझे यकीन है कि भड़ास४मीडिया के पाठक और शुभचिंतक आपके इस जज़्बे में आपके हमनवां रहेंगे और बी४एम इसी तरह तरक़्कीशुदा बना रहेगा।

ये शेर (वसीम बरेलवी साहब के शब्द हैं) बी४एम की पूरी टीम के नाम —

“मैं क़तरा हो के भी तूफ़ां से जंग लेता हूं

मुझे बचाना समंदर की ज़िम्मेदारी है

ख़ुदा करे कि सलामत रहे मेरी हि्म्मत

ये इक चराग़ कई आधियों पे भारी है”

हार्दिक बधाईयां

दुर्गानाथ स्वर्णकार

टीवी जर्नलिस्ट, दिल्ली

durgandtv@gmail.com


यशवंत भाई,

आपको बहुत बहुत बधाई. भड़ास४मीडिया दुनिया के एक लाख सबसे लोकप्रिय पोर्टल में शामिल हुआ. यह आपकी मेहनत, हिम्मत और हौसले का नतीजा है. देश के उन लोगों की आवाज बन जाना कोई मामूली काम नहीं है जो दूसरों के दुःख दर्द पर कलम चलाते हैं लेकिन अपनी पीड़ा अपने ही आंसुओं से धोने की कोशिश करते हैं. इतने कम समय में जिस ढंग से आपने इस पोर्टल को मुकाम दिया वह वाकई काबिले  तारीफ़ है. तारीफ़ इसलिए भी कि मन में एक विश्वास बना रहता है कि सच के साथ लड़ते हुए हमारे पास एक हथियार तो है. एक बात और कहूंगा कि जब भी आपको लगे कि अभियान कमजोर पड़ रहा है तो यकीन मानिए देश भर में बहुत से ऐसे लोग हैं जो आपके कदम को पीछे नहीं हटने देंगे. यह पोर्टल अब चौथे खम्भे की जरूरत है और निसंदेह यह सबको मजबूती देगा.

धन्यवाद.

आपका अपना ही

आनंद राय

वरिष्ठ पत्रकार, गोरखपुर

anandrai959@gmail.com


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *