सहारा ने भड़ास से मांगा 5 करोड़ रुपये!

भड़ास को एक और नोटिस. इस बार सहारा की तरफ से. सहारा मीडिया ने भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित एक खबर से खफा होकर लीगल नोटिस भेजा है. इसमें 15 दिन में संबंधित खबर हटाने और माफी मांगने को कहा है. ऐसा न करने पर 5 करोड़ रुपये की मानहानि का मुकदमा झेलने के लिए तैयार रहने को कहा गया है.

जो खबर प्रकाशित की गई है, उसे पढ़ने के लिए कहीं बाइट के बहाने पर्ची न काट दे शीर्षक पर क्लिक करें. इस बारे में भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह का कहना है कि प्रकाशित खबर पूरी तरह सही है. उसके सभी प्रमाण मौजूद हैं. पंद्रह अगस्त के बहाने स्ट्रिंगरों-जर्नलिस्टों के लिए उगाही करने का जो फरमान सहारा मीडिया की तरफ से जारी किया गया है, वह पूरी तरह गलत और बेहूदा है. इस फरमान के कारण बहुत सारे अच्छे जर्नलिस्ट – शानदार स्ट्रिंगर सहारा से दुखी हैं. प्रबंधन भी उगाही न करने वाले जर्नलिस्टों को प्रताड़ित करने में जुट गया है. कुछ का ट्रांसफर किया जा रहा है तो कुछ को हटा दिया गया है. दागदार चरित्र के कई लोगों को जिसने उगाही में बढ़-चढ़कर योगदान दिया, उन्हें तरक्की दी जा रही है. इस बारे में सभी सूचनाएं, दस्तावेज, जानकारियां भड़ास4मीडिया के पास सुरक्षित है. वसूली करने की रसीदें भी भड़ास4मीडिया के पास हैं. जरूरत पड़ने पर इन सभी का कोर्ट में इस्तेमाल किया जाएगा.

यशवंत का कहना है कि ज्यादातर बड़े मीडिया हाउस, जो पत्रकारिता, सरोकार, जनपक्षधरता, प्रेस की अवधारणा को तिलांजलि देकर सिर्फ बिजनेस बढ़ाने में लगे हैं, उनके खिलाफ भड़ास निकालने का अभियान जारी रहेगा. ये कोई पहला मुकदमा या लीगल नोटिस नहीं है. इसके पहले एचटी ग्रुप, स्टार न्यूज, आईबीएन7 समेत करीब दर्जन भर लीगल नोटिस या मुकदमें भड़ास4मीडिया के पास आए हुए हैं और हम इन्हें खुशी-खुशी झेल रहे हैं.  इस नए लीगल नोटिस का भी सामना भड़ास4मीडिया टीम पूरे इत्मीनान से करेगी. वक्त अब जीने-मरने वाला है. हम जीने की जिद में जिए जा रहे हैं, वो मरने के लिए नियम-ओ-कानून बना रहे हैं.

यशवंत ने सहारा प्रबंधन को चुनौती दी कि वे पूरे मामले को कोर्ट में लेकर जाएं. भड़ास4मीडिया की तरफ से किसी लीगल नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया जाएगा. ऐसी नोटिसों से भड़ास4मीडिया का अभियान कतई रुकने वाला नहीं है. बल्कि, हम ज्यादा ज़िद और धुन के साथ अपने अभियान को आगे बढ़ाएंगे.

सहारा की तरफ से भेजा गया लीगल नोटिस इस प्रकार है…..

Comments on “सहारा ने भड़ास से मांगा 5 करोड़ रुपये!

  • यशवंत जी : सचाई कडवी होती है हमेशा सचाई की ही जीत होती है
    आप सच को दिखा रहे हो हम आप का स्वागत करते है हम आप के साथ है

    Reply
  • praween kumar says:

    yashawant sir ji… aap sahara ke notic ko unki hi kamjori kaa khula mazmoon maniye. sahara media group nam ke liye bhale hi bada ho lekin uski shoch or kaam karne kaa tareeka kisi lokal news chennal se bhi bekar hai. usase bhi bekar hai sahara tv ke reporter. sahara samay up ke ALIGARH JILE ke stringar bhi sahara tv ke prabandan teem ki tarah logo ko blak ma ugahi karane me mahir hai. esliye en bandaro ki ghudaki se aap tanik bhi chintit nahi ho.aap yoo hi sach ko ujagar karne me bhadash4media ki teem ko aapana netrattuv dete rahiye.
    aapka pathak…PRAWEEN KUMAR/ALIGARH # 9219129243/9927033272.

    Reply
  • ek journalist says:

    अबे सहारा के वकीलों… कितना घटिया अनुवाद किया है हिंदी खबर का अंग्रेजी में… डूब मरो. लग रहा है कि गूगल मशीन का इस्तेमाल किया है अनुवाद में. हिंदी में लिखा है कि पांच हजार रुपये के कूपन तो अंग्रेजी में लिखा है कि पांच गरीब स्ट्रिंगरों को हजारों कूपन….
    शर्म आनी चाहिए इस मीडिया हाउस को जिसे नोटिस भेजने की भी तमीज नहीं है। जो वकील यह काम देख रहा है उसको तत्काल बर्खास्त कर देना चाहिए सहारा को।
    एक पत्रकार

    Reply
  • K. chandrama says:

    ”These five poor Stringroan Hazari has been given many coupons the coupon book and freedom to take the ad stated….” ha ha ha ha gr8 english… gr8 hindi to english translation… gr8 sahara samuh… gr8 sahara shri and his chit fund company and his so called sahara family….

    read yaar, these line in legal notice… ”These five poor Stringroan Hazari has been given….”

    ha ha ha…

    Reply
  • banshilal choudhary says:

    yashwant ji iska nam hi sahara hai jo dusron ke share chalta hai.app apni sachai pr kayam rahe. koi notice se nahi darte hai. jaisa ki TOP MUKABIL HO TO AKHBAR NIKALO pr sahara ne pani fer diya hai. jab sachai samne aati hai tab aise hathkande apnate hai.

    Reply
  • Rishi Naagar says:

    Yashwant Bhai, sirf yahi kahna hai ke yeh chhota sa patrakaar bhi aapke ssath hai…apko kewal ek awwaz hi deni hogi!

    Reply
  • MATLAB SAHARA KI AUKAT 5 KAROD RUPAYE !

    YASHWANT , AAPKO MALUM NAHI Sahara Sri Subrat Roy KO Lucknow ME Patrakaron NE Kursi SE Bandh KAR PITA Tha.

    Reply
  • yashwant bhai hame ye nahi samjh aa raha hai ki khabar 09 aug.ko post tha,apko 16 aug.ko speed post mila to ise aap 09 sep. publish kar rahe hain.dusri baat agar log apki burai karte hain to samjhiye ki aapki parthistha uspar bhari pad raha hai,agar wah mukdma kar ke apko pareshan karna chahte hain to samjhiye ki aap apni bewak awaz ko logon tak pahuchane me kamyaab ho rahe hain…welldone…

    Reply
  • Ye taaqat sirf YASHWANT mein hi hai, jo taaqatwar ke khilaaf bhi khada hone ka maadda rakhta hai ! kabhi-kabhi hi aisa hota hai jab bhadas4media *KUCH BHI * publish kar zimmedaari se dur bhaagta hai , anyatha humesha iska andaaz juda hota hai .
    Kamzor ke khilaaf to har koi seena taane rahta hai , SHER to wo hota hai jis mein kisi se bhi bhidne ka hausala ho , aur Yashwant gar SHER nahi bhi hai par Himmati aur zazbe waala to Zaroor hai ( Gar zimmeedari shabd se gahra lagaaw ho jaaye to SHER bhi hai) .
    Raha sawaal SAHARA ka , to uski **VISHWASNEEYATA** ko lekar humeshaa hi sawaal khade hote rahe hain . Aise mein **Aam aadmi se lekar maan haani** ka paisa hi sahara ka **SAHARA** hai !
    Yashwant ! keep it up !

    Reply
  • Chandrabhan Singh says:

    Bhai Yaswant ji such kaho ge to baat to chubhegi hi. SAHARA walon ko BICHCHU katna swabhavik hai. Aapne lagta hai bachpan me school ke dino me Bunder or Baya ki kahani nahi padhi, use ab ek baar padlo aapko SAHARA walon ka vastvik sawabhav ka pata lag jayega. Aapki bebaki bayani ke liye mera pura sahayog aapke saath hai.

    Reply
  • yashwant ji sahara ka notice per etna hi bolunga,ki
    chaman ko sechane main kuch patteya zhad gaye hongi
    aye elzam laga hi aap per bevafaye ka
    aur jin logo ne rond dale hai chaman ,
    waha dawa kar rahe hai chaman ki rhanumaye ka,
    vinay pathak
    Cheif Editor
    Ahinshak Bharat
    Mumbai
    9321451036

    Reply
  • Kahte hain gidad ki jab maut ati hai to vah shahar ki or bhagta hai. kuch yahi hal sahara valon ka ho raha hai. ek ke bad ek nakami pesh hote hi sahara valon ka dimag fir gaya hai. iska namuna notice ko padhkar samjha ja sakta hai. jahan tak sahara dvara vigyapan ka katora thamane ki bat hai. to naya navela patrakar hone ke karan yah katora kabhi maine bhi thama tha. sirf isliye ki naukri bachani thi. lekin naukri bachane ke chakkar men maine patrakarita ki bali chadha di aur apna svabhiman bhi kho diya. aaj main sahara se alag hokar sukun ki patrakarita kar raha hoon. main fir ek bar kahta hoon jo media house patrakar se bhik mangvata hai, vigyapan ke nam par neta, mantri, thekedar aur afsar ko lootne ka prayas karta hai. vah media house media jagat ke liye “KODDH” hai.

    Reply
  • shravan shukla says:

    is notice se kuch nahi hone wala yashwant ji..aap aage badhte rahiye..isi prakaar sabko benaakaab kariye..janta aapke saath hai…jinme se ham bhi ek hai..beshak……..

    Reply
  • Avinash kumar says:

    ” वक्त अब जीने-मरने वाला है. हम जीने की जिद में जिए जा रहे हैं, वो मरने के लिए नियम-ओ-कानून बना रहे हैं ” well done यशवंत भाई , इन चंद लाइनों के जज्बे को बदस्तूर जारी रखियेगा , उगाही की फेहरिस्त कई लोगों के नाम शामिल है और यदि जरुरत पड़े तो बस आपके बुलावे का इंतज़ार है . आपके चाहनेवाले भाइयों की कमी नहीं है वो कोर्ट में भी तमाम सबूतों के साथ पहुंचेगे और चाहे क़ानूनी जंग हो या मैदान ए जंग खुल कर आपका साथ देंगे ! बस जज्ज़े को यूँही रखियेगा बरकरार ………….[b][/b]

    Reply
  • मयंक सक्सेना says:

    इनका अखबार कितना पढ़ा जाता है ये ही बेहतर जानते हैं…एक ढंग का साप्ताहिक निकालते थे तो वो बंद कर दिया…जबकि घटिया वाला चल रहा है….इनका राष्ट्रीय चैनल देखिए तो लगता है कि कोई लोकल केबल टीवी है…कभी भी समय लगाएं…ख़बरों के अलावा सब कुछ मिलेगा…कॉमेडी सर्कस सोनी से ज़्यादा सहारा पर दिखाया जाता है….
    अच्छे लोगों को अपने यहां काम का माहौल नहीं देते…हरामखोरों की जमात भरी पड़ी है…पहले सपा के मुखपत्र थे…अब न जाने किसके हैं….फाइनैंस के धंधे से कितनों की गाढ़ी कमाई दाबी है सबको पता है…वही काला धन चैनल और अखबार में लग रहा है….रीयल एस्टेट की पोल आउटलुक ने खोल दी…
    खैर क्या वाकई सुब्रत राय को पैसों की ऐसी कमी हो गई कि अब मानहानि वगैरह से पैसा कमाने के मूड में हैं…और एक बात और समझ में आई है कि सहारा का मान ऐसा है कि अगर किसी के पास 5 करोड़ हों तो मज़े से सहारा का अपमान कर सकता है…
    वैसे मेरे पास हैं ऐसा न समझें….लेकिन हां कर दी सो कर दी मानहानि….कर लो केस….

    Reply
  • sandeep kumar says:

    yaswant ji ! aap medan me dte rahna. ye sahara wale kuchh nahi bigad skte or kahte bhi hain ki hathi apni mast chal me uhi galiyon se nikl jate hain or kutte bhonkte rahte hain.Main “Bhadas4media” ka shukriya karta hu ki samay-samay pr aap bahut hi achhe achhe khulase karte ho.

    Reply
  • sahara ka denik sahar samay aata h bilkul bkwas. weekly sahara to kuchh achha tha. lekin inhone wo to band kr diya, or ab paise ke dhandhe k liye ye chala rkha h . jo log achha kaam kr rhe h unko ye dhamki dekr darate hain lekin “sanch ko aanch kahan”

    Reply
  • yaswant ji
    ye sahara walo ko koi chutbahiya wakil mil gaya hoga
    usese subrat rai ki jagaha ek asst. manager rank ke employee se yahe notice bhijwaya hai
    ye darpok or dalal type ke log aapka kuch nahi bigaad sakengain
    desh ke yuva aapke sath hain
    in saalo ki ite se ite baaje dengain,,..jai hind
    yaswant ji dont take tension….
    saalo ki khoob bajao in dalalo ki…hum aapke saath hain…

    Reply
  • Amalendu Upadhyaya says:

    डटे रहिये, अच्छा है मामला अदालत तक पहुंचे और जल्दी ही दूध कद दूध पानी पानी हो जाये

    Reply
  • मै भड़ास में छपी ख़बर से सहमत हूँ
    जब लोगो की फ़टती है तो कुछ ऐसा ही करते है
    मुझे लगता है भड़ास सही है

    Reply
  • sanjeev kumar singh says:

    यसवंत भाई आपका यह कदम काफी साहसी और सराहनीय है / आपके इस कदम को सलाम / और रही बात ख़बरों को हटाने और चेनल द्वारा मानहानि का मुकदमा दायर करने की तो यह गिदर भवकी के अलावा कुछ और नहीं है / आपके खबर में सच्चाई है चेनल की मजाल नहीं की इस खबर को चुनौती दे सके और अगर चेनल ऐसा करता है तो आ बैल मुझे मार वाली कहावत होगी क्योंकि ऑफिस के सीनियर द्वारा स्ट्रिंगरों से पैसा मांगने का सबूतों का अम्बार पड़ा है/ जो वक्त आने पर आप तक पहुँच जायेगा/ यसवंत भाई स्ट्रिंगरों से पैसा मांगने, स्ट्रिंगरों से जबरदस्ती पार्टी लेना और ऐसा नहीं करने पर बाहर का रास्ता दिखाने की दुःख भरी दास्ताँ कई और चेनलों की भी है / बहुत जल्द कई और चेहरे बेनकाब होंगें और सायद माध्यम आप ही होंगें /

    Reply
  • dhirendra prata singh says:

    vah bhai yashvant ji kamal h vakai maja a gaya guru.ab sahara vale maan hani ki sahara le kar apko yani sach ko dabana chahte h khair unko bhi pata lag jayega ki yashvant singh kis mitti ka bana h.lekin apka fakkad andaj pad kar maja gaya.jine ki jid ke sath jiye ja raha h.yahi housala banaye rakho dost ham sab apke sath h.1 awaj dena bus–apka hi dhirendra pratap singh

    Reply
  • khisiyaani billi khambha noche ki tarah ho gaya hai sahara media hause …. jo apni buraayi yaani sahi baato ko bardaast nahi kar sakate aise channel waale sachhayi kya dikhayenge aur samaaj ,pradesh desh aur duniya ko kya raah dikhayenge … is pure mamle se yahi saabit hota hai ki sahara house ko aaj khud maanhaani jaise baaaton ko lekar saj=haara lena pad araha hai jisase unki aukaat aur sachhayi ke bare me khud hi samajha ja saklata hai … khair yashvant ji …aap maidaan par date rahiye ..aapke bhai log apke saath rahenge ….. marna pade to kat jayenge ham… jina pade to maar jaayenge ham…..

    Reply
  • Brijesh kumar singh says:

    ;’koUr th—
    HkM+kl dks ftruk gh uksfVl fey jgk gS HkM+kl dh ys[kuh mruh gh /kkjnkj gksrh tk jgh gSA uksfVl Hkstus okys flQZ uksfVl gh Hkstrs gSa igys os vius fxjsoku esa >kd dj ns[ksaA vki yxs jfg, ge vkids ds lkFk gSaA
    ,slh uksfVlksa ls HkM+kl dk vfHk;ku vkSj T;kn ftn ,oa /kqu ds lkFk vkxs c

    Reply
  • सहारा टीवी ने अपने रिपोर्टर्स को ब्लेकमेलिंग की मशीन समझ रखा है. ”हमारे लिए ब्लेकमेलिंग करो वरना हटा दिए जाओगे” यही नारा है सुब्रत राय का. आर एस एस के सर संघ चालक की तरह तानाशाही का प्रतीक बना ये आदमी तीस साल से खून चूसने की मशीनें बना कर हजारों मज़दूरों और निवेशकों को चूना लगा रहा है. ऊपर से कहता है की हमारे यहाँ कभी भी युनियन नहीं रही ! यानि दशकों से खून चूस रहा है और बोलने या रोने भी नहीं दे रहा है ये मालिक. सहारा परिवार का नारा लगाने वाले इस परिवार में सुब्रत, जयब्रत, महारानी यानी भाभी जी स्वपना जी और दो राजकुमार सीमान्त और सुशांत है. बाकी के सभी कर्मचारी, jinako karmyogi kaha jaata है, गुलामों के समान. सर संघ चालाक जो बोल दे, वही कनून बाकी सब बकवास. देश का कोई कानून ये नहीं मानते. लखनऊ में ६०० एकड़ के राज महल में सर संघ चालक देश भक्ति का नाटक करता है और खुद को बिना नंबर की गाड़ियों में राष्ट्रपति की तरह दिखता है. (१) आप सेबी की साईट पर जाकर खुद देख लें की इस ग्रुप पर कितने टेक्स चोरी के और कितने दूसरे केसेस चल रहे हैं. (२) अम्बे वेली के नाम पर पूना के पास ३०,००० एकड़ (तीस हज़ार एकड़) ज़मीन पर पर्यावरण की कितनी बर्बादी की है, जिसके बदले में खेल मंत्री की सेवा की जा रही है. (३) भारतीय प्रेस परिषद् में ये आदमी कूपन कांड की खबर दबाना चाहता है और इसीलिये पत्रकारों को हटाया जा रहा है(४) ब्लेकमेलिंग करने वालों को यहाँ सम्मानित करने का चलन है. (५)जैसे हर गलत काम करनेवाला कोई नाटक रचता है ये आदमी देश प्रेम का नाटक करता है. —–एक पत्रकार .

    Reply
  • madan kumar tiwary says:

    [b][/b]मैं एक अधिवक्ता भी हुं तथा सेवेन डेज वीकली में लिखता भी हुं। मैने यह अनुभव कीया है कि वैसे लोग जो भ्रष्ट व्यवस्था का लाभ लेकर अरबों की अवैध कमाई कर चुके हैं और न्यायिक व्यवस्था की खामीयों से भी परिचीत हैं वही सबसे ज्यादा कानुन की धमकी देते हैं । गोरखपुर से शुरु अपने व्यवसाय के प्रारंभिक दिनों और उसमे कैसी पुंजी लगाई गई उसके याद करें सुब्रतों । आज भी उनकी नन बैंकीग का व्य्वसाय करने वाली कंपनी की जांच सी०बी०आई० से कराई जाय तो पता चलेगा की कितना घोटाला है। गरीबों की मेहनत से जमा की गई रकम की बदौलत चल रही उनकी वह कंपनी सबसे ज्यादा शोषण करती है। खता खुल्वाते समय किसी कागजात की मांग नही होती लेकिन अवधि पुरी होने पर जानबुझ कर ्कागजात के बहाने भुगतान में विलंब करती है तथा उक्त अवधि का ब्याज भी गरीबों को भुगतान नही करती। मैं अपना पता दे रहा हुं और खुलेआम कह रहा हुं की माफ़ियाओं की अवैध कमाई से सहारा के व्यवसाय की शुरुआत हुई थी और आज भी रिजर्व बैंक की आंख में धुल झोककर गरीबों का शोषण कर रहा है सुब्रतो। आर०पी० एल० का IPO के समय पैसे वापस में हुई देर के कारण अनिल अंबानी पर मुकदमा मैने किया था और न्यायालय ने F I R का आदेश दिया था । मैंने अभी तुम्हारे बारे में लिखा है हिम्म्त है तो भेजो नोटिस । रावण की लंका की तरह तुम्हारा पतन हो जाएगा सुब्र्तो और हा एक बार आई०पी०सी० की धारा ४९९ के exception को फ़ीर से पढ लो काम आएगा। जिनके अपने मकान शीशे के होते हैं वे दुसरों के मकान पर पत्थर नहीं फ़ेका करते। मदन कुमार तिवारी, समीर तकीया, पुलिस चौकी के पास , गया ( बिहार) फोन: ०६३१-२२२३२२३, ९४३१२६७०२७।

    Reply
  • sahara wale pagla gaye hai …kabhi kabro me gali likhte hai to …..jane kya kaya …are patrakarita ka kyoun nam khar kar rahe ho sahara walo sudhar jao .. yashwant ji ko darane ke liye leter beja hai …bat sahi hai to kahne ki freedam to sambhidan har aam aadmi ko deta hai ……..same same sahara same same ….

    Reply
  • Shivam Shukla says:

    Very good work. This Sahara Group is a big time fraud. Many people have committed suicide coz of Sahara Chit Fund company nd finance. Keep the good work up.

    Shivam Shukla
    M.D
    NISHPAKSH PRATIDIN

    Reply
  • यशवंत भाई मैं भी पिछले लगभग 12 सालों से मीडिया से जुडा हूं । जिसमें सवसे ज्यादा शिकायतें सहारा ग्रुप के स्ट्रिंगरों की आईं हैं । पहले मैं उन्हे दोषी मानता था लेकिन आपकी खबर ने हमें ये बता दिया कि गलत वो नहीं उनका संस्थआन है जो कि पत्रकार को मार्केट में रसीद बुक के साथ उतार कर खबरों को खुलेआम पेड करवाता घूम रहा है । अभी हाल ही में सहारा के एक स्ट्रिंगर ने मदनगीर की एक एनजीओ से रूपया उगाही के लिए गया और जब उसने उसे मना किया तो वो कथित स्ट्रिंगर धमकी देने लगा फिर क्या था उस बेचारे की पिटाई हो गई लेकिन सहारा फिर भी चुप रहा शायद इसीलिए …. । यशवंत जी आपकी की मुहीम में हम आपके साथ है ,,, लगे रहो । धन्यवाद

    Reply
  • arvind kumar singh says:

    yashwant bhai
    sahsik karyon ki rah me tamam avrodh aate hain aur dhamkiyan bhi.aap age badhte raho. ham sabhi aapke sath hain.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *