एसपी सिंह की मां का निधन

स्वर्गीय सुरेंद्र प्रताप सिंह की मां का आज निधन होने की सूचना मिली है. हिंदी के जाने-माने पत्रकार एसपी सिंह मात्र 49 वर्ष की उम्र में ही 27 जून 1997 को चल बसे थे. एसपी सिंह के निधन से करीब 11 महीने पहले उनके पिता जगन्नाथ सिंह का देहांत हुआ था. एसपी सिंह की मां का निधन आज 92 वर्ष की उम्र में पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के गारुलिया नामक स्थान पर हुआ.

एसपी सिंह के दो भाई हैं. नरेंद्र प्रताप सिंह और सत्येंद्र प्रताप सिंह. नरेंद्र प्रताप सिंह के पुत्र चंदन प्रताप सिंह इन दिनों टोटल टीवी में हैं. चंदन को एसपी ने पुत्र के रूप में गोद ले रखा था, इसलिए चंदन एसपी के दत्तक पुत्र माने जाते हैं. चंदन के पिता और एसपी के बड़े भाई नरेंद्र प्रताप सिंह घर परिवार का सारा काम व बिजनेस देखते हैं. छोटे भाई सत्येंद्र इन दिनों पी7न्यूज के लिए वेस्ट बंगाल कवर करते हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “एसपी सिंह की मां का निधन

  • mai us ma ko sat-sat naman karta hun aur unki atma ki shanti ke liye prarthana karta hun jinohne patrakarita ko naye kalewar ke sath paroshane wale ya u kahen apne desh me electronic media ke mane jane wale SP jaise putra ko janm diya. Bhagwan se prarthna karta hun ki Is dukh bharhi gharhi ko jhelne ki chandan sahit pariwar ke anya sadasyon ko chamta dey taki is dukh bhari gharhi se ubarne me in sabo ko madad mil sake. sameer

    Reply
  • Dr Matsyendra Prabhakar says:

    Kisi maa ke jeevam men apne putra ke nidhan se bada dukh shayad aur kuchh nahin hota, kyonki apani santan hi eklauta aisa sambandhi hai jise dobara nahin hasil kiya ja sakta. Bemisal patrakar SP Singh ki maa ne karib terah varsh tak iss assem dukh ko jhela, halknki SP ji ke bad bhi unki maa ke sath bhara-poora parivar tha, lekin SP to amoolya RATNA the. Nidhan kisi ka bhi ho, dukhad hi hota hai, Iss vay men SP ji ki maa ka nidhan asamay nahin. Ek din jana sabhi ko hai, issliye VIDHATA ne suyogya putron ki maa ko ab apne pas bula kar theek hi kiya, Divangat Aatma ki shanti keliye PRARTHANA ke sath meri unke parijanon ke prati hardik samvedana hai. Eeshwar Unhen iss viyog ko sahne ka sambal pradan kare.

    Reply
  • kundan sahoo says:

    shraddhyey swargiya s.p singh ki mataji ke dukhad nidhan par dukh hua, ishwar unki aatma ko shanti de !

    sukham va yadi va dukham priyam va yadi vo priyam
    praptam praptimupasit, hridayenaparajita:

    ab we mukt hain !

    Reply
  • Rakesh Kumar says:

    उस मां की आत्मा की शांति के लिए मैं परम पिता से प्रार्थना करता हूं जिसने एसपी जैसे रत्न को जन्म दिया। कैसी होगी वह मां, एसपी के जीवन को देखकर हम कल्पना कर सकते हैं। एसपी जैसे लाल को पाला-पोषा, विधि की विडंबना कि अपनी आंखों के सामने उन्हें संसार से विदा होते भी देखा, कैसे सहा होगा यह वज्राघात…। धन्य थीं वह मां।,,,, एक बार फिर उस मां को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.