स्ट्रिंगर हूँ हुजूर

देश के चप्पे चप्पे तक

पहुचने के लिए

खबरिया चैनलों के हाथों कठपुतली हैं हुजूर

स्ट्रिंगर हूँ हुजूर

 

जब एसी वाले

हमारे राजधानी के पत्रकार

जाते हैं डर

जाने को जंगलों में

खदानों में बीहड़ो में

हमारे बाइट्स बिकते हैं

मुफ्त या कौड़ियों में हुजूर

स्ट्रिंगर हूँ हुजूर

 

देश की गहरी समझ रखने वालो को

नहीं पता है

खोरठा , संथाली , नागपुरी जैसी

कोई भाषा भी होती है हुजूर

लोग नंगे पाँव

पच्चीस पच्चीस मील जाते हैं

नदी नाले जंगल पार करके

या बिना पानी बिजली भी

इस देश में रहती है

बड़ी आबादी

देश की सही तस्वीर तो

रहती है हमारे पास हुजूर

स्ट्रिंगर हूँ हुजूर

 

 

हुजूर

हमारे फ़ोन नहीं उठाये जाते हैं

दिल्ली में

लोग मीटिंग्स में होते हैं वहां

लेकिन जब

‘किसनजी’ की बाइट्स लेनी होती है

रेल की पटरी उड़ जाती है

नजदीकी शहर से २०० किलोमीटर दूर

किस्मत खुल जाती है हमारे मोबाइल की

और घनघनाते हैं हमारे भी फ़ोन हुजूर

स्ट्रिंगर हूँ हुजूर

 

 

हुजूर

जब छिनता है

हमारा कैमरा माफिया के द्वारा

उठा कर ले जाती है पुलिस

बेबुनियाद आरोप में

जब आर्थिक परेशानी में

झूल जाता हूँ मैं पंखे या पेड़ से

नहीं बनती कोई खबर हुजूर

स्ट्रिंगर हूँ हुजूर


-दिलीप कुमार, धनबाद

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “स्ट्रिंगर हूँ हुजूर

  • mittal saurabh says:

    dilip ji aapne ek stringer ke dard ko is kavita ke madhyam se is bakhubi bataya hai ki aankhon me aasu aane lagte hai.yeh bilkul sach hai ki ek stringer ko bejor mehnat ke bad bhi kuch hasil nhi hota,keval thokare hi reh jati hai uske paas.hamesha use bde reporters ke dabab me hi kam kana padta hai……………………………………..

    Reply
  • aditya kumar says:

    VERY WELL WRITTEN, THAT IS THE TRUE STORY OF BEING A STINGER. A JOURNALIST IS A JOURNALIST WHETHER HE OR SHE LIVES IN CITIES OR VILLAGES. BUT THE IRONY OF BEING A STINGER IS ALWAYS THERE. VERY WELL WRITTEN. SIR

    Reply
  • pandey ajay says:

    bhai dilip ne jis sahajta se ek stringer ki baaton ko rakha hai vakai vah kabile tarif hai. kotishah sadhuvad. shayad ek stringer ki kahani mahaj bite lene aur aapat sthition mein visuals supply karne tak hi simat kar rah gayee hai. bhale hi vah kitna kabil kyon na ho. kabil hona bhi uske liye ek gunah hi hai. kyonki bade padon par baithe bhai logon ko aapni kursi vaise hi hilte dikhne lagati hai jaise indra ko aapna simhasan.

    Reply
  • thanks,
    for the explanation of hard core problem of stringer in such easy way, your poem is worth to say JAI HOOO.

    manav

    Reply
  • वाह दिलीप किया लिखा है तुमने, सच मे यह कविता नहीं है बल्कि बड़े बड़े चेंनलो में बेठे लोगों के मुह पर करारा तमाचा है हालाँकि यह भी सच है की चेनलों में बेठे बेशर्मो पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ेगा /यह सभी जानते है कि स्ट्रिंगर ही अपनी जान खतरे में डालकर चैनल के लिए खबर लाते है परन्तु इन चेनलों के बड़े बड़े रिपोर्टर उस खबर पर अपनी प़ीटूसी चलाकर खबर का क्रेडिट खुद ले लेते है, उतना ही नहीं जब भुगतान का टाइम आता है तो इन चेनलों वालो की माँ ही मर जाती है /
    मेरे कई दोस्त रिपोर्टर है ,इसलिए मैने देखा है कि किसी बड़ी खबर पर यदि उसके चैनल से कोई रिपोर्टर आता है तो वो अपने स्ट्रिंगर से दारू ,मीट.सिगरेट की मांग करते है . इतना ही नहीं होटल के कमरे का किराया तक स्टिंगर को चुकाना पड़ता है /स्ट्रिंगर के उत्पीडन की हद तो यह है की आईबीएन ७ जैसे चैनल तो अपने स्ट्रिंगरो को अपनी आई.डी (लोगो )तक नहीं देता है.किसी वीआईप़ी की कवरेज में इस चैनल के स्ट्रिंगर को कितनी परेशानी उठानी पड़ती होगी यह सोचा जा सकता है पर चैनल के ऐसी कमरों में बैठने वालो को स्ट्रिन्गेर कि इस समस्या से कोई सरोकार नहीं है .
    दिलीप तुमने लिखा तो सच है पर दोस्त नक्कार खाने में तुती कि आवाज सुनाई नहीं देती है

    Reply
  • JO LIKHA USME DARD SAAF DIKHAI DETA ………ek hi baat kahna chhata hun ki bina khiladiyo ki akela captain koi match nahi JEET sakta hai . usi tarah har insaan jo apne aap ko bada Patrakar kahta hai woh ho ——ya ek samanya{SIMPLE} jise electronic media ne aachut ya dalit bana KAR BEVAJAY BEKARAN JALEEL KARNE KI PARAMPARA BANA RAKHI HAI aur naam de diya STRINGER . koi bhi baccha turant bada nahi hota SAMAY LAGTA HAI EK STRINGER KAHLENE WALA BHI EK CHANNEL KO CHAL KAR BATA SAKTA HAI AGAR USME QUALITY HAI AUR KOI BHI APNE MAA KE STOMACH {JANAM LENE KE PAHELE SE } SE KUCH SIKH KAR NAHI AAYA HAI SAABH YAHI SIKHTE HAI ….AGAR KISI KI STARTING HO YA PURANA HO USE STRINGER KAHKAR NICCHA NAHI DIKHANA CHAAYEE usi tarah har woh insan jo media mein hai woh saabhi saman hai . antaar sirf soach ka hai jo jaisa dekh ta hai use waisa najar aata hai. BADA CHOTA KUCH NAHI SIRF WOH KHABHARE BADI HOTI HAI JISSSE KISI KA BHALA HO SAKE AUR JO KAAM YE KARTA WOH HI BEST PATRAKAR HO SAKTA HAI. NA SALARY SE AUR NA BADE POST SE AADMI KHUD KO SAABIT KARATA HAI SIRF AUR SIRF AAPNE KAAM SE.

    Reply
  • deepak, gorakhpur says:

    kamal likha hai bhai, channel ke kuch AC Cabin wale logon ko ye bhale thik na lage par hakikat me ab senior stringer ko apni jaagir samjhte hain aur jaisa chahte hain waisa karwate hain…

    Reply
  • parth soni says:

    [b][/b]bil kull thik likha he… yahi hal horaha he har channel ka dilhi me bethane vale agar is par dyan de to channel ki halat our kharch bhi bachh shakta he… agar stringar ka vajud nahota to chhannel keshe aage badhati…

    Reply
  • Ajay Golhani, Nagpur says:

    दिलीप जी वाकई आपने अपनी दशा को मार्मिक अंदाज़ में व्यक्त किया है. नए नए चैनल खुल रहे है लेकिन स्ट्रिंगर की हालत बदतर होती जा रही है.

    Reply
  • dev shrimali says:

    padiyeg baar baar hamein yyuob ba fenkiye ham aadmi hain shaam ke akhbaar nahi hain………….shandaar………shabas
    Dev shrimali PRESIDENT GRAMEEN PATRKARITA VIKASH SANSTHAAN GWALIOR

    Reply
  • Pradip Kumar says:

    u have not written a poem it is the real mirror shown by you to all media that who are the real heroes behind a success news channel and you all getting nothing from media.I hope your poem create some shame on Media management.

    Reply
  • dilip ji apne jo likha hai vo sach hai ek stringer jitni mehanat karta hai utna koi staffer kar le to uske ansu aajayenge.. vo to din mey ek kahbar karke channel par ehsaan jatate hai ……or upar bithe vo log bhool jaate hai ki agar channel par khabro ki anant sima hai to vo sirf stringero ki vajah se.. lekin is caturkarita me stringero ki mitti kharab ho rahi hai kyunki sallary ke naam par stringer ko ab ashvashan bhi nahi milta …..

    Reply
  • t.n.manish says:

    DILEEP JI, STRINGERS KE LIYE ME YAHI KAHNA CHAHATA HOO KI CHANNELS IS REEDH KI HADDI KE BINA ASALI BHARAT KI TASVEER APNE DARSHKO KO KABHI NAHI DIKHA SAKTE….AAPNE JO ANTRATAMA KI AAWAZ KAVITA ME DHALI HAI WOH….EASI HAKIQAT HAI….JISE EK KHATI YANI SHUDDH PATRAKAAR HI SAMAJH SAKTA HAI….ANAT ME YAHI KAHNA CHAHUNGA DELHI WALO KO KI YADI STRINGER NAAM KI JAMAAT NE YE THAAN LIYA KI
    “EEN PAHADO KO NA HO JAAYE BULANDI KA GURUR
    PATTHRO TUMME AKAL HO TO LUDHAKTE RAHANA”
    TAB KYA HOGA……. T.N.MANISH (GWALIOR)

    Reply
  • dhyanendra singh says:

    ;D>:(:(:P8):o:o:(;D;D:D;):);):D;D>:(>:(:(:o8):P:P:P:P:-*:-*:-*:-*:'(:'(:-*8)>:(;D:D;);):):):););):D;D>:(>:(:(:(:(:o:o8)8)8):P:P:P:-*:'(:'(8):o:(>:(;D;D:D:D;);):):);):D;D>:(>:(:(:o:o8)8)8):P:P:P:-*:'(:'(:'(

    Reply
  • dhyanendra singh says:

    दिलीप जी आपकी कविता के बाद स्ट्रिंगर साथियों को यही बात अपने जहन में उतर लेना की ‘”हम वो पत्ते नहीं जो शाख से टूटकर बिखरे , कहदो इन हवाओ से की अपनी ओकात में रहे “”
    व्यथित पत्रकार [b][/b]

    Reply

Leave a Reply to vipin kumar Cancel reply

Your email address will not be published.