उत्‍तराखंड में डीएलए के प्रभारी बने सुभाष गुप्‍ता

देहरादून के वरिष्ठ पत्रकार प्रोफेसर सुभाष गुप्ता एक बार फिर सक्रिय पत्रकारिता से जुड़ गए। प्रोफेसर सुभाष गुप्ता ने उत्तराखंड राज्य प्रभारी के रूप में दैनिक डीएलए ज्वाइन कर लिया है। अमर उजाला के संस्थापक परिवार से जुड़े इस दैनिक ने सुभाष गुप्ता को उत्तराखंड में डीएलए को जमाने की जिम्मेदारी सौपी है। डीएलए ने नवरात्र के पहले दिन ये बड़ा कदम उठाने के साथ उत्तराखंड में अखबार के प्रसार की व्यवस्था आरम्भ कर दी है।

राष्‍ट्रपति की जगह डीएलए दे रहा पद़मश्री अंलकरण

अफसोस की बात है कि जिन अखबारों की खबरों के आधार पर बच्‍चे प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं। इसके अध्‍ययन से वह अपना सामान्‍य ज्ञान बढ़ाते हैं लेकिन अगर अखबार ही पूर्णत असत्‍य तथा अज्ञानता का परिचय दें तो भगवान ही मालिक है। जिन पद़्म पुरस्‍कारों के लिए लोगों को अपनी फाइल तैयार करनी पड़ती है। अपने लेखन और समाजसेवा का प्रमाण लेना पड़ता है।

हरि जोशी बने डीएलए, मेरठ के संपादक

मिड डे अखबार डीएलए के प्रबंधन ने मेरठ संस्‍करण के प्रबंधन व संपादन का दायित्‍व हरि जोशी को सौंपा है। डीएलए समाचार पत्र समूह के निदेशक हेमंत आनंद व कनिका आनंद के साथ मेरठ डीएलए कार्यालय पहुंचकर हरि शंकर जोशी ने कार्यभार संभाल लिया और सभी विभागों की बैठक कर संभावनाओं पर चर्चा कर पत्र की संभावित विस्‍तार योजनाओं की जानकारी दी। डीएलए के संपादकीय प्रभारी सुनील छइंया के इस्‍तीफा देने के बाद से यह पद खाली चल रहा था।

पत्रकारों ने फैलाई पेपर लीक होने की अफवाह, डीएलए ने खोली पोल

इटावा में मीडिया से जुड़े चंद लोगों की करतूत का खुलासा किया है आगरा से प्रकाशित अखबार डीएलए ने. पत्रकारों द्वारा फैलाए गए पेपर लीक के इस मामले को इटावा के जिलाधिकारी ने भी गंभीरता से लेते हुए दोषी पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है. उन्‍होंने कई मीडिया‍कर्मियों के संस्‍थानों को भी अवगत कराने का निर्देश सूचना विभाग को दिया है.

डीएलए के पांचवें स्‍थापना दिवस पर कई हस्तियां सम्‍मानित

एक अखबार का सिर्फ यही दायित्‍व नहीं कि वह देश और दुनिया में हो रहे घटनाक्रमों और खबरों से अपने पाठकों को अवगत कराए बल्कि एक मिशन के रूप में समाज में हो रहे बदलावों के प्रति आगाह करे. एक सकारात्‍मक दिशा में अपने पाठकों को अग्रसर करे. ऐसे प्रयास करे कि निरंतर उन्‍नति के पथ पर आगे बढ़ सकें. इन्‍हीं कर्तव्‍यों का निर्वहन करते हुए दैनिक डीएलए ने अपनी स्‍थापना दिवस के पांचवें वर्ष में प्रवेश किया है.

अयोध्या की चिनगारी को हवा न दें

डा. सुभाष राय: राजनीतिक दल फायदा उठाने की फिराक में : इतिहास केवल बीता हुआ भर नहीं होता, उसकी समग्रता का प्रतिफलन वर्तमान के रूप में उपस्थित होता है। वर्तमान की भी पूरी तरह स्वतंत्र सत्ता नहीं हो सकती,  उसे इतिहास के संदर्भ में ही देखा जा सकता है लेकिन वर्तमान इतनी स्वतंत्रता हमेशा देता है कि इतिहास की गलतियों को दुहराने से बचा जा सके, कतिपय स्थितियों में उन्हें दुरुस्त किया जा सके।

अजय की मेहनत है डीएलए : अशोक अग्रवाल

डीएलए का चौथा स्थापना दिवस सुलहकुलनगरी आगरा में धूमधाम से मनाया गया. आगरा के सेंट पीटर्स कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में हजारों की संख्या में नागरिक उपस्थित थे. समारोह में अमर उजाला पत्र समूह के चेयरमैन अशोक अग्रवाल ने कहा कि मैं बहुत रोमांचित हूं. उन्होंने सम्मानित शख्सियतों को अंतर्मन से बधाई देते हुए कहा कि आज डोरीलाल जी का सारा परिवार यहां मौजूद है, अगर कोई एक नाम खो रहा है तो वह नाम है, मेरे छोटे भाई अनिल का. उन्होंने कहा कि सबसे छोटे भाई अजय अग्रवाल की लगन, परिश्रम, परिस्थितियों से जूझने की क्षमता का परिणाम है डीएलए.