अजय की मेहनत है डीएलए : अशोक अग्रवाल

डीएलए का चौथा स्थापना दिवस सुलहकुलनगरी आगरा में धूमधाम से मनाया गया. आगरा के सेंट पीटर्स कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में हजारों की संख्या में नागरिक उपस्थित थे. समारोह में अमर उजाला पत्र समूह के चेयरमैन अशोक अग्रवाल ने कहा कि मैं बहुत रोमांचित हूं. उन्होंने सम्मानित शख्सियतों को अंतर्मन से बधाई देते हुए कहा कि आज डोरीलाल जी का सारा परिवार यहां मौजूद है, अगर कोई एक नाम खो रहा है तो वह नाम है, मेरे छोटे भाई अनिल का. उन्होंने कहा कि सबसे छोटे भाई अजय अग्रवाल की लगन, परिश्रम, परिस्थितियों से जूझने की क्षमता का परिणाम है डीएलए.

डीएलए के कॉन्सेप्ट एडिटर अजय अग्रवाल ने सेंट पीटर्स ग्राउंड में आयोजित समारोह में पाठकों का आभार जताते हुए कहा कि डीएलए को जो प्यार आपने दिया है और जिस तरह से आपने स्वीकार किया है, उससे लगता है कि डीएलए आपकी दोपहर की जरूरत बन गया है. मैं विश्वास दिलाता हूं कि स्व. डोरीलाल जी के आदर्शों पर चलते हुए डीएलए निर्भीक, निष्पक्ष होकर अजय अग्रवालआगे बढ़ता रहेगा. उन्होंने कहा कि डीएलए के सफर का यह शुरुआती दौर है. जिस तरह से पाठकों का निरंतर सहयोग और प्यार मिला है, उनके स्रेह और आशीर्वाद से डीएलए निरंतर अपने प्रगति पथ पर आगे बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि डीएलए ने प्रयास किया है कि शहर के विद्वतजन को आपसे रूबरू कराया जा सके. कार्यक्रम में मौजूद महिला शक्ति का अभिनंदन करते हुए श्री अग्रवाल ने कहा कि श्रीमती पिंकी अग्रवाल के माध्यम से महिला जागृति के लिए प्रयास किया गया. मुझे खुशी है कि डीएलए का यह प्रयास सफल हुआ. उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में महिलाएं सामाजिक और बौद्धिक गतिविधियों में शामिल हो रही हैं. महिला आरक्षण के मामले में उन्होंने 50 फीसदी आरक्षण दिए जाने की बात कहते हुए कहा कि यह मेरी व्यक्तिगत राय है क्योंकि देश और समाज से जुड़े कई मुद्दों पर महिलाएं पुरुषों से ज्यादा चिंतित हैं और वे ज्यादा अच्छा कर सकती हैं. श्री अग्रवाल ने अपने नए प्रकाशन ‘विकासशील भारत’ के बारे में भी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि ‘विकासशील भारत’ को पुन: जीवित करते हुए उपनगरीय क्षेत्रों के विकास का प्रयास इस पाक्षिक समाचार पत्र के जरिए किया जा रहा है.

समारोह को फीरोजाबाद के सांसद राज बब्बर, आगरा के सांसद डा. रामशंकर कठेरिया ने भी संबोधित किया. समारोह की शुरुआत प्रसिद्ध गजल गायक सुधीर नारायन ने वंदेमातरम् के साथ कराई. प्रारंभ में डीएलए के कॉंसेप्ट एडिटर श्री अजय अग्रवाल, एडवाइजरी बोर्ड के सदस्य वरिष्ठ अधिवक्ता दयाल सरन, सीनियर आर्किटेक्ट एनसी जैन, प्रख्यात चिकित्सक डा. एमसी गुप्ता और प्रमुख व्यवसायी श्री प्रह्लाद अग्रवाल ने दीप प्रज्ज्वलित किया. डीएलए परिवार के अन्य सदस्य श्री अशोक अग्रवाल, श्रीमती दया अग्रवाल, श्रीमती पिंकी अग्रवाल, डीएलए के डायरेक्टर मार्केटिंग हेमंत आनंद, कनिका आनंद, हिमानी आनंद, डा. रेनू किशोर और मनू आनंद व अन्य ने स्व. डोरीलाल अग्रवाल और श्रीमती प्राग देवी को पुष्पांजलि अर्पित की. समारोह का कुशल संचालन श्री विनय पतसरिया ने किया.

इस मौके पर दो साल पहले आरंभ हुई डीएलए आनर्स अवार्ड की श्रृंखला में इस वर्ष शहर की पांच शख्सियतों को सम्मानित किया गया. जिंदगी के 70 वर्ष से अधिक समय से संघर्ष के साथ नाता रखने वाले राजकुमार सामा को डीएलए सिटीजन आफ द ईयर अवार्ड से सम्मानित किया गया. वूमन आफ द ईयर अवार्ड डा. जयदीप मल्होत्रा, आउटस्टेंडिंग प्रोफेशनल आफ द ईयर डा. आरसी मिश्रा, आंटरप्रिन्योर आफ द ईयर अवार्ड अशोक जैन ओसवाल और राइजिंग स्टार आफ द ईयर अवार्ड आकाश गुप्ता को प्रदान किया गया. पद्मश्री से नवाजे गए साहित्यकार डा. लाल बहादुर सिंह चौहान का अमर उजाला ग्रुप के चेयरमैन अशोक अग्रवाल और डीएलए के कांसेप्ट एडिटर अजय अग्रवाल ने शॉल ओढ़ाकर और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया.

डीएलए आनर्स अवार्ड्स-2010 में इस वर्ष अन्य संस्थानों का भी सहयोग रहा. नोएडा से आगरा तक 165 किमी लंबे एक्सप्रेस-वे का निर्माण कर रही जेपी इंफ्राटेक की ओर से सतीश प्रधान, ब्रिगेडियर खाती, पी. सहगल कार्यक्रम में मौजूद रहे जबकि लांसर फुटवियर के प्रतिनिधि अभय गुप्ता, सेंटर फॉर साइट से राहुल अग्रवाल और रेडियो पार्टनर बिग 92.7 एफएम से प्रोग्रामिंग हैड जितेंद्र शर्मा और रेडियो जॉकी अखलाक ने भी समारोह में भागीदारी की. इस अवसर पर जेपी इंफ्राटेक की ओर से एक्सप्रेस-वे पर बनाई जा रहीं पांच टाउनशिप्स के बारे में भी जानकारी दी गई.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “अजय की मेहनत है डीएलए : अशोक अग्रवाल

  • Dr. Vineet Singh says:

    भइ्यू जी को हार्दिक बधाई …. बधाई सिर्फ इस बात की नहीं कि उनके निजी प्रयास की सफलता का यह चौथा स्थापना दिवस था… बल्कि बधाई इस बात की भी डोरी लाल जी के परिवार को पुनः एक मंच पर ले आये…. नहीं तो तीन साल पहले लग रहा था…कि हिन्दी पट्टी का सबसे प्रतिष्ठित परिवार कुछ स्वार्थी तत्वों की वजह से बिखर गया… और बिखर गया डोरी लाल जी का वो सपना जो उन्होंने कभी स्याह रात में दिये जलाकर देखा था… बुना था.. आगरा का हर शख्स अमर उजाला को अपने ही परिवार का एक हिस्सा मानता है… क्योंकि यह उसका अपना चेहरा है… अब इस कड़ी में डीएलए भी जुड़ गया है… दो रतन है… इन दौनों को पूरे परिवार की जरूरत है… सारे गिले शिकवे दूर कर एक जुट हुइये और दिखा दीजिये कि हां व्यवसायिकता के इस दौर में भी बिना दूसरा धंधा किये … अखबार कैसे चलाया और बढ़ाया जाता है…. एक पाठक, एक पत्रकार और एक शुभचिंतक की पुनः हार्दिक शुभकामनाएं….

    Reply
  • Sanjay Kulshrestha says:

    Please correct in forth para IInd last line, the name of Chairman of Amarujala is Ashok Agarwal instead of Ashok Jain.

    Reply
  • well for the first time after so many years the two brothers of the agarwal family, once the owners of a powerful media house were seen together on a common platform at a glittering function.

    Reply
  • VIJAY ARYA 'VIDYARTHI' says:

    MANY MANY CONGRATULATIONS ! BHAYYU g,
    BECAUSE U HAVE PROVEN DLA “A DAILY LIFE ASSISTANCE” IN A SUCH MANER.

    NOW THINK BIGGER THAN BEFORE AND AGAIN PROVE YOURSELF WITH ELDER BROTHER ASHOK g AS DORILAL g SHOWS U A PATH STARTING AMAR UJALA ON 18th APRIL 1948.

    VIDYARTHI,
    MATHURA.
    9412277605

    Reply
  • UPENDRA NATH RAI says:

    Respected Sir,
    Accept my heartiest congratulation and warm wishes on the forth anniversary of your esteemed news paper.
    I hope you will countinue to expose antisociols and corrupt through it and give space to the common man’s voice.[b][/b][b][/b][i][/i]

    Reply
  • UPENDRA NATH RAI says:

    Respected Sir,
    Accept my heartiest congratulation and warm wishes on the forth anniversary of your esteemed news paper.
    I hope you will countinue to expose antisociols and corrupt through it and give space to the common man’s voice.
    YOUR
    UPENDRA RAI
    ALLAHABAD

    Reply
  • ajaiji , ashokji,aur manuji ko ek hi jagah par dekhna hum purane logon ke liye bahut hi shubh sanket hai. jarrorat hai ke yeh bhai ek ho jaen aur amar ujala ko bacha lein nahin to dorilalji ki athak mehnat ko yeh log dubo denge.

    ajaiji aur ashokji ek ho jayen to amar ujala ka uddhar ho jyega. dono bhai ko chaiye ki aab amar ujala ka prabhandan apne haath mein lellein. paschmi uttar praesh ke pathak unke saath hain.:D:D

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.