ये मेरा अंतिम संदेश है, मेरे बकाए पैसे को शोक संदेश का बिल समझ लेना

आदरणीय सुनीताजी और प्रताप रावजी सर, सादर प्रणाम,  मैं आशीष पराशर जी और आपको कई बार व्यक्तिगत रूप से दूरभाष पर निवेदन कर चुका हूँ कि मुझे फरवरी मार्च अप्रैल, मई, जून, जुलाई,  अगस्त और अब तक की तनख्वाह नहीं मिली हैं. श्रीमान जी आपको सूचित नहीं करूँगा लेकिन विनती करता हूँ कि मैंने अपनी मेहनत के बूते चैनल को कई खास खबरें दी हैं.

एचबीसी के पत्रकारों का पैसा प्रबंधन ने दबाया

एचबीसी चैनल जयपुर से जुड़े पत्रकार परेशान हैं. तमाम पत्रकारों को उनका वेतन नहीं दिया जा रहा है. वेतन मांगने पर टाल मटोल करने के साथ ही झूठ सच भी बोला जा रहा है. रिपोर्टर परेशान हैं. वे लगातार आशीष एवं प्रताप राव को मेल भेजकर अपना दुखड़ा सुना रहे हैं, कथा-व्‍यथा कह रहे हैं परन्‍तु उन लोगों की तरफ से कोई स्‍पष्‍ट बात इन लोगों को नहीं बताई जा रही है, जिसके चलते स्ट्रिंगर अब कानूनी कार्रवाई करने का मन बनाने लगे हैं.

नकुल, हेमंत और रोशन की नई पारी

एचबीवी न्‍यूज से एसाइनमेंट हेड नकुल देवर्षि ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी खबर भारती के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें यहां भी एसाइनमेंट की जिम्‍मेदारी सौंपे जाने की संभावना है. वे एचबीसी से लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे.

भड़ास पर प्रकाशित खबर से एचबीसी प्रबंधन हड़बड़ाया

: एक स्‍वंयभू चैनल का बैंड बजाने की तैयारी में : भड़ास पर एचबीसी न्यूज चैनल की हकीकत प्रकाशित होने के बाद चैनल का प्रबंधन चौकन्ना हो गया है। कई महीनों से पगार का इन्तजार कर रहे रिपोर्टरों को पहले 11 फरवरी को जयपुर बुलाया गया था। लेकिन भड़ास पर लगातार सच्चाई से अवगत कराते समाचार प्रकाशित होने के बाद प्रबंधन ने भविष्य की रणनीति बनाने के लिए अब 15 फरवरी को रिपोर्टरों को जयपुर बुलाया है।

यशवंतजी, या तो आप आलसी हो गए हो या आप पर काम का बहुत बोझ है

: कहां ईटीवी और कहां एचबीसी न्यूज, इनमें किसी रूप में भी तुलना करना गलत है : यशवंत जी नमस्‍कार, मेरा नाम जुबेर खान है और मैं जयपुर का एक पत्रकार हूं। मैं जो भी लिख रहा हूं न तो किसी पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर लिख रहा हूं और न ही द्वेषवश। आप मेरे मेल को ज्‍यों का त्‍यों पोर्टल पर मेरे नाम के साथ प्रकाशित कर सकते हैं। यह तो हुआ मेरा परिचय। अब मैं आपसे मुखातिब हूं। सबसे पहले समूचे पत्रकारिता जगत की खबर लेने-देने के लिए बहुत-बहुत धन्‍यवाद, लेकिन साथ में एक शिकायत भी। इन दिनों भड़ास फोर मीडिया को सरसरी तौर पर देखने से ही पता लग जाता है कि या तो आप पर काम का बोझ कुछ ज्‍यादा ही हो गया है या आप पहले के मुकाबले बेहद आलसी हो गए हैं।

अजीज बने एचबीसी न्‍यूज के आउटपुट हेड

 अजीजमुंसिफ टीवी के आउटपुट हेड अजीज अहमद ने इस्‍तीफा देकर नई पारी एचबीसी न्‍यूज, जयपुर के साथ शुरू की है. यहां भी उन्‍हें आउटपुट हेड बनाया गया है. किन्‍हीं कारणों से मुसिफ टीवी की लांचिंग नहीं हो पा रही थी. जिसके चलते अजीज ने मुंसिफ टीवी को अलविदा कह दिया. अजीज ईटीवी राजस्‍थान और यूपी चैनल के आउटपुट हेड रह चुके हैं. पिछले कई वर्षों से वे टीवी पत्रकारिता में सक्रिय हैं.

राजस्थान का रीजनल चैनल ‘एचबीसी न्यूज’ लांच

जयपुर से बहुप्रतीक्षित रीजनल न्यूज चैनल एचबीसी न्यूज लांच हो गया. इसकी लांचिंग राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की. मुख्यमंत्री गहलोत ने एचबीसी न्यूज चैनल के कार्यालय में बटन दबाकर चैनल को प्रदेश की जनता को समर्पित किया. उन्होंने कार्यालय परिसर में ध्वजारोहण किया और शांति के प्रतीक सफेद कबूतर भी छोड़े. गहलोत ने स्टूडियो सहित विभिन्न विभागों व क्रियाकलापों को देखा.

प्रदीप और कनिका ने एचबीसी को नमस्ते कहा

जयपुर से सूचना है कि एचबीसी चैनल की एंकर कनिका ने इस्तीफा दे दिया है. कनिका ने टीवी99, राजस्थान में बतौर एंकर ज्वाइन किया है. इससे पहले एचबीसी की नींव कहे जाने वाले रिपोर्टर प्रदीप राजपूत ने भी एचबीसी को अलविदा कह दिया था. उनके भी टीवी99 ज्वाईन करने की बाते सामने आ रही है.

वीर सक्सेना एचबीसी न्यूज के सलाहकार बने

जयपुर से खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार वीर सक्सेना एचबीसी न्यूज के न्यूज और करेन्ट अफेयर्स सेक्शन के एडवाइजर बनाए गए हैं. सक्सेना चैनल को समसामयिक विषयों के बारे में अपनी राय देंगे एवम चैनल पर दिखाए जाने वाले समाचारों पर भी नज़र रखेंगे ताकि चैनल की विश्वसनीयता शुरुआती दौर से ही बनी रहे.